दोनो नौकरानियो को चोदा

Dono Naukrani ki Choda मैं एक सरकारी दफ़्तर मे काम करता हूँ और राँची मे अकेला रहा ता हूँ.
मैने मेरे घर पर सॉफ सफाई और खाना बनाने के लिए एक 25 वर्सिय पुष्पा नाम
की नौकरानी को रखा था वो बहुत ही सेक्सी लगती थी., रंग सांवला था पर फेस
काफ़ी सेक्सी लगता था, उसका बदन बहुत ही सुडोल था. वो सुबह 8 बजे आती थी
और रात 9 बजे चली जाती थी. वो हमेशा घगरा और चोली पहन ती थी उसने घगरा और
चोली पहनी हुई थी तो उसकी मोटी मोटी चुचियाँ एक दम सॉफ पता चल रही थी
पीछे से उसके चुतड़ों का साइज़ भी समझ मे आ रहा था देखने से लगता था कि
बहुत मोटे मोटे होंगे पर साइज़ का आइडिया नहीं लग पा रहा था. जब उसकी
तबीयत खराब होती तो उसकी जगह उसकी मौसी चंदा घर पर काम करती थी चंदा 32
साल की उसकी तरह साँवली और सुडोल महिला थी. उसके भी बड़े बड़े चूतड़ और
चुचियाँ थी. कभी कभी दोनो एक साथ काम करने मेरे घर आती थी.

यह घटना सनिवार की है उस दिन मेरे दफ़्तर की छुट्टी रहती है पुष्पा सुबह
करीब 8 बजे घर आई और मेरे लिए चाइ बनाकर लाई आज वो काफ़ी सेक्सी दिख रही
थी मैं फ्रेश होकर नाश्ता करके टीवी देखने लगा वो खाना बना रही थी करीब
12:30 मैने विश्की का पेग बना कर पीने लगा इतने मे पुष्पा ने कमरे मे आकर
मुझे खाना खाने के लिए बुलाया. मैं खाना खा कर टीवी देखने लगा वो बर्तन
सॉफ करने लगी फिर वो कमरे मे आकर बैठ गयी और टीवी देखने लगी. जब टीवी पर
एड आरहा था तब मैने उसके परिवार के बारे मे पुछा तो उसने बताया कि उसका
घर गाओं मे है उसके पिता गाओं के मुखिया के यहाँ घरलू नौकर है 7 साल पहले
ही उसका पति मर गया था. उसके सिर्फ़ एक ही लड़का है और वो उसके पिता के
पास गाओं मे है और वो यहाँ काम करती है. फिर उसने पूछा साहब आप ने शादी
नही की ?

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन मुस्लिम लड़की को पोर्न दिखा के चोदा

मैने कहा नहीं तो वो हल्के से मुस्करा कर बोली मंन नहीं करता शादी करने
का मेने कहा करता तो है पर अभी तो मुझे घर को अच्छी तरह से बसाना है उसके
बाद सोचूँगा तो उसने पूछा कि कोई लड़की है क्या जिस से शादी करना चाहते
हो मेने कहा नहीं अभी तो कोई नहीं है. तो वो हैरान हो कर बोली कि
तुम्हारी उमर मे तो यहाँ शहर मे सब लड़के लड़कियों के साथ घूमते हैं और
तुम्हारी कोई दोस्त नहीं है. मेने कहा हाँ सच मे कोई नहीं है. मैं बात
करते हुए उसके बदन को भी देख लेता था स्पेशली उसकी चुचियों को ध्यान से
देख रहा था. एक बार उसने मुझे उसकी चुचियों को देखते हुए देख लिया पर वो
कुछ नहीं बोली. फिर वो वहीं ज़मीन पर बैठे बैठे टीवी देख रही थी टीवी
देखते देखते मुझे कब नींद लगी पता नहीं चला.

जब नींद खुली तो 4 बज रहे थे मैने देखा कि वो भी पेट के बल लेट कर सो रही
थी और गहरी नींद मे थी उसका घगरा उसके चुतड़ों से उपर सरक गया था मैने
ध्यान से उसके चूतड़ को देखा क्या गजब के मोटे थे उसने पॅंटी नहीं पहनी
थी बहुत ही मस्त चुदास लग रहे थे उसके चूतड़ देखते ही मेरे लंड ने कस कर
झटका मारा और तन गया. खेर हिम्मत करके मैने उसके चूतड़ पर हाथ रखा वो कोई
भी हरकत किए बिने पड़ी रही मेरी और हिम्मत बड़ी मैं उसके चुतड़ों को
मसल्ने लगा और उसकी गंद की दरार मे बीच की उंगली से सहलाने लगा तो उसने
अपनी गांद सिकुड ली मैं समझ गया कि वो जाग चुकी है और सोने का नाटक कर
रही है उसकी साँसे लंबी चल ने लगी अब मैं समझ गया था आज यह अच्छे से
मुझसे चुदवायेगि मैं भी अब खूब ज़ोर ज़ोर से मसल्ने और सहलाने लगा वो
ज़ोर ज़ोर से सिसकने लगी.

यह कहानी भी पड़े  मुन्नू की बहन नीलू की चुदाई कहानी

उसके सिसकने की आवाज़ सुन कर मुझे और भी जोश आ रहा था मैने उसके बाए हाथ
की हथेली को लूंघी के उपर से लंड पर महसूस किया मैने झट से अपना लंड
निकाल कर उसकी मुठ्ठी मे पकड़ा दिया और उसके कान के पास धीमी आवाज़ से
बोला पुष्पा कितनी अच्छी गंद है तुम्हारी वो भी धीमी आवाज़ मे बोली साहब
आप का भी बहुत बड़ा और लंबा है मैं बोला तो मज़ा ले इस मोटे और लंबे लंड
से तो वो बोली हां साहब बस ऐसे ही बातें करते हुए मुझे चोद दो कब से तरस
रही हूँ मेरा मर्द भी जल्दी मर गया और मैं ठीक से मज़े भी नहीं ले पाई अब
तुम ही मेरी प्यास मिटा दो बना दो मुझे रंडी और ले लो इस चूत और गांद का
मज़ा शियीयियीयियी काश मैं सच मे रंडी होती तो रोज जम के चुदती नये
लुंडों से खूब मज़े ले ले कर सीईईईईईई उईईईईईई माआआआअ और कस के मस्लो
मेरे चूतद्द्द्द्द्द्द्दद्ड को ही ले लो मज़ा मेरे बदन का.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4 5 6

error: Content is protected !!