दो लंडो का स्वाद अपनी ही चुत मे

दोस्तों आपका स्वागत है फिर से एक नयी कहानी के साथ, जिसमे में आपको अपने बारे में बताती हूँ
मेरा नाम सपना है | मैं आपको अपनी सची कहानी सुनाने जा रही हूँ | मैं बी. ऐ की स्टूडेंट हूँ, जब मैंने नया नया कालेज जाना शुरू किया था, इतनी आजादी और लडको साथ और लडकियो को घूमते देख कर मेरा मन भी मचलने लगा, और मैंने भी किसी लड़के के साथ दोस्ती करनी की थान ली, कुछ ही दिनों में सबी स्टूडेंट अपनी क्लास लगाने लगे, और मेरी दोस्ती एक श्लोक नाम के लड़के के साथ होई, मेरे लिए तो बॉय फ्रेंड बनाना सिर्फ आज़ादी से घूमना और बातें करना ही था, मगर मुझे क्या पता था कि बॉय फ्रेंड ऐसा गजब है जो जिन्दगी को खुशियो से भर देता है | जिसे पाकर कोई भी लड़की यही कहेगी कि बॉय फ्रेंड बिना जिन्दगी अधूरी सी है |

अब्ब मैं आपको हमारी इस दोस्ती के बारे में बताती हूँ | मैं और श्लोक एक ही क्लास में थे, धीरे धीरे हम में बात चीत होने लगी, मैं उसके सेक्सी बदन की दीवानी थी | वो भी मेरे सेक्सी बदन का दीवाना था, और उसने एक दिन मुझे अपनी गर्ल फ्रेंड बन्ने के लिए बोला, और मैंने भी झट से हाँ कर दी, हम फ़ोन पर बात करने लगे ऐसे ही कुछ दिन बीत गये फ़ोन पर सेक्सी बातें करने लगे, और फिर एक दुसरे को मिलने के लिए बेताब होने लगे | फिर हमने मिलने की योजना बनाई, जिसके लिए श्लोक ने अपने किसी फ्रेंड को बोला कि हम शिमले घुमने चलते हैं अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ घुमने, उसके दोस्त ने भी हाँ में हाँ मिला दी | कालेज से छुट्टिया हो गयी थी | तो अगले ही दिन हम शिमला की और निकल पड़े, श्लोक रेड टी शर्ट में बहुत ही सेक्सी लग रहा था, उन्होनों ने मुझे कार में बैठाया और हम सबी शिमला की और निकल पड़े, फिर हमने एक होटल से कुछ खाने पीने का समान लिया, कार में श्लोक, मैं और उसका दोस्त अबे और उसकी गर्ल फ्रेंड थे, सबी खूब मजे ले रहे थे और मस्ती रहे थे, मैं और श्लोक पिछली सीट पर बैठे हुए थे, श्लोक से अब रहा नही जा रहा था, उसने मेरे होंटो पर किस करना शुरू कर दिया |

यह कहानी भी पड़े  मम्मी पापा, जवान कामवाली और ड्राईवर का ग्रुपसेक्स

मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था यह हमारी पहली किस थी, जिसने शरीर में आग सी लगा दी | अब्ब मैं भी उसको चूमने लगी | अबे शीशे से यह सब देख रहा था, उसने भी अपनी गर्ल फ्रेंड को किस की, और सबी आपस में सेक्सी बातें करने लगे मगर मुझे को अजीब लगा कि किस तरह एक दुसरे से खुलेआम बात कर रहे हैं मगर मुझे क्या पता था आगे क्या होना वाला है, हम सब कुछ टाइम के लिए चुप हो गये, हम शिमले पहुंच चुके थे, सफ़र काफी होने के कारण सबी थक चुके थे, हम एक होटल मैं दाखिल हुए और श्लोक ने रूम बुक करवाया, तब तक अबे भी कार पार्किंग में लगा आया था | सबी रूम में दाखिल हुए हाथ मुह पानी से साफ किया,मैं कुछ आराम करना चाहती थी मगर श्लोक साहिब कहा टिकने वाले थे | मौका देखते ही उन्होनों ने मुझे बेड पर लिटा दिया और होंटो को चूसने लगा, जान में तुम बिन नहीं रह सकता, में तुम्हे जिन्दगी की हर ख़ुशी दूंगा फिर श्लोक ने मेरे गालो पर किस किया और मैं भी उसको किस करने लगी | देखते ही देखते श्लोक ने मेरे शरीर से मेरा टॉप अलग कर दिया, अब मरे शरीर पर बरा और पेंट थी मैं शर्माती होई उसको खुद से अलग कर दिया, मुझे अबे और उसकी गर्ल फ्रेंड से शर्म आ रही थी | तभी अबे ने अपनी गर्ल फ्रेंड को बेड पर धकेल दिया और उसको दांतों से कांटने लगा यह सब देख कर मैं दंग रह गयी |

यह कहानी भी पड़े  तीन मर्दों ने की ठुकाई

तभी श्लोक ने अपने कपडे उतार दिए, उसने सिर्फ एक अंडरविउर पहनी हुई थी उसने मुझे दीवार के साथ लगा लिया मेरी एक बाजु को उपर उठाकर मेरे चेहरे पर किस करने लगा | जान कैसा लग रहा है मेरे साथ किस करके में शर्माते हुए बोली अप पास हो और क्या चाहिए, कुछ ही देर में उसने मेरी बरा भी उतार दी, और बोला जान आज मत रोकना क्योकि अब तुम पर सिर्फ मेरा हक्क है और मेरी नैक पर किस करने लगा, जिससे मेरे जिस्म में हलचल सी होने लगी, श्लोक धीरे धीरे से किस कर रहा था और वो मेरे बूब्स को अपनी जीब से सहला रहा था, जान बूब्स तो एकदम संग्तरे जैसे है आज इनको खा कर ही रहुगा, में शर्मा कर बोली अब सबी कुछ आपका है जो दिल चाहे कर सकते हो, श्लोक ने मेरे बूब्स को दबाना शुरू किया , मेरा शरीर कुछ तडप पकड़ने लगा, श्लोक ने मेरे बूब्स को अपनी जीब से चूमना शुरू किया और कभी होंटो पर किस करता, फिर से बूब्स को अपने हाथ से सहला रहा था मुझे भी बहुत मजा आ रहा था दूसरी और अबे ने रितिका को नंगा कर डाला था और एक दुसरे को चाट रहे थे |

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!