देवर और भाभियों का थ्रीसम

मेरा नाम गर्व है. मेरी उमर 19 साल है. मैं जिम जाता हू, तो मेरी बॉडी मस्क्युलर है. कोई देख कर बोल नही सकता की मैं सिर्फ़ 19 का हू. कॉलेज में दो-टीन लड़कियों को नंगा देख चुका हू, और एक लड़की की चुदाई कर चुका हू. पर मॅन शांत नही होता है.

मेरे घर में दो बड़े भाई और उनकी वाइव्स है. मा और पिता जी गाओं में रहते है, और भाई भाभी शहर में. मैं भी उन चारो के साथ रहता हू. दोनो भाभियाँ मुझसे बहुत प्यार करती है. दोनो मेरा बिल्कुल छ्होटे बच्चे जैसे ख़याल रखती है. और मैं भी उनके साथ कभी-कभी नॉटी हो जाता हू.

मा पिता जी इस बार घर आ गये थे. उन्हे पता चला की दोनो भैया के कुछ मेडिकल रीज़न्स के चलते वो बच्चा नही पैदा कर सकते. तो भाई ने सोचा की बच्चे अडॉप्ट कर लेते है. पर मा नही मानी, और उन्होने भैया भाभी को मनाया की मैं जवान हो गया था, तो एक रात दोनो भाभियाँ मेरे साथ बिताएँगी. इससे मैं उन्हे प्रेग्नेंट कर सकता था.

आख़िर खून घर का रहेगा, और मैं अभी-अभी जवान हुआ था, तो मेरी तरफ से भाभियों को भी कोई परेशानी नही रहेगी. पिता जी ने मुझे भी माना लिया, और सब मान गये. मा पिता जी के साथ हम सब घर गाओं आ गे. और फिर सब लोग निचले फ्लोर पर रात को सो गये.

मैं और मेरी दोनो भाभियाँ मेरे साथ उपर के फ्लोर पर आ गयी. मुझे कुछ समझ नही रहा था, और बहुत शरम आ रही थी. भाभियों ने मेरी शरम को भाँप लिया, और माहौल हल्का करने के लिए मेरे हाथ हस्सी-मज़ाक करने लगी. मैं भी कुछ वक़्त में घुल-मिल गया.

फिर बड़ी भाभी ने कहा: तीनो मिल कर होली खेलते है.

होली दो दिन बाद थी तो राँग घर पर थे ही. हम तीनो ने रंग लगाना स्टार्ट किया. बड़ी भाभी ने मेरे चेहरे से होते हुआ मेरी त-शर्ट के अंदर हाथ डालना शुरू किया. तो छ्होटी भाभी ने मेरी शॉर्ट्स के अंदर हाथ डाला. पहली बार पुर शरीर में करेंट दौड़ गया. मैने भी मौके का फ़ायदा उठाया.

मैने भी राँग लेके बड़ी भाभी के गर्दन से होते हुए उनके बूब्स पर रंग लगाया, और छ्होटी भाभी की कमर को पकड़ा और जकड़ा. दोनो ने मिल कर मेरे कपड़े उतरे, और मुझे नंगा कर दिया. मैं दोनो के बीच नंगा खड़ा था, और मेरा लंड 8.5 इंच लंबा और 3 इंच मोटा देख कर दोनो चौंक गयी. वो बिल्कुल टॉप की तरह सलामी दे रहा था.

मैने भी दोनो भाभियों के साथ चुम्मा-छाती की, और दोनो के बूब्स को ब्लाउस से आज़ाद किए. मैं दोनो के बूब्स चाटने लगा, और देखते ही देखते दोनो को नंगा कर दिया. बड़ी भाभी को लिटाया, और उनके उपर चढ़ गया. फिर दोनो बूब्स को दबाने और चूसने लगा.

उतने में छ्होटी भाभी ने मेरा लंड मूह में लिया. ये हमारा पहला थ्रीसम था.

कुछ देर बाद मैं लेट गया. इस बार बड़ी भाभी ने मेरा लंड मूह में लिया, और छ्होटी भाभी मेरे चेहरे पर आके बैठ गयी. उनकी छूट मैं पागलों तरह चाटने लगा.

कुछ देर बाद मैं अपने आप को नही रोक पाया, और बोल पड़ा की मुझे चुदाई करनी थी. दोनो भाभियाँ मेरे सामने डॉगी बन गयी. दोनो की गोल-गोल मोटी गांद देख कर मैं बावरा हो गया.

पहले दोनो की गांद पर मस्त छानते मारे और तबला बजाया. फिर दोनो हाथो से दोनो की छूट में एक साथ उंगलियों से मस्ती की. पहले मैने बड़ी भाभी की गांद पकड़ी, और लंड डालने लगा. लंड एक झटके में अंदर चला गया. मैं समझ गया की मेरे बड़े भाई ने जाम कर भाभी के मज़े लिए थे. कुछ वक़्त चुदाई चली, फिर छ्होटी भाभी की बारी आई.

उनको भी डॉगी वाले पोज़ में छोड़ा. मैने अपना कम उनकी गांद के बाहर निकाल दिया. मैं इतनी जल्दी इन दोनो को प्रेग्नेंट नही करवाना चाहता था. अभी तो और मज़े करने थे. ये बात भाभियाँ भी समझ गयी. फिर दोनो ने मिल कर मुझे पुर शरीर पर चूमा, और मेरी बहुत ज़्यादा खीचाई और मस्ती की.

नॉटी-नॉटी बातें हुई. फिर एक और बार मैं शिकार के लिए तैयार था. इस बार छ्होटी भाभी से शुरुवत हुई. उन्हे टेबल पर बिताया, और छूट में लंड घुसेध कर खूब छोड़ा. बड़ी भाभी को शवर के अंदर नंगा उल्टा करके पीछे से लंड डाला.

भाभी चिल्लाई पर आज मैं कहा सुनने वाला था. मैने भी जाम कर भाभी की छूट का मज़ा लिया. मैने दोनो भाभियों को जाम कर पेला, और हम तीनो नंगे सो गये. एक दो महीने हमने एक-दूसरे के साथ बहुत बार सेक्स किया.

पर घर वालो को शक ना हो इसलिए मुझे उनकी छूट में अपना माल निकालना पड़ा. फिर दोनो को एक साथ प्रेग्नेंट करके मैं अपने आप को लंड का राजा समझने लगा था. आने वाले 3-4 महीने फिर भी दोनो भाभियों की चुदाई की.

फिर जब भाभी पेट से थी, तो वो मेरे साथ सेक्स नही कर पाती थी. तो मैं सेक्स के लिए तरसता था. फिर मैने शादी करने की ठानी. शादी की रात अपनी पत्नी को खूब छोड़ा, और पहले महीने में ही अपनी दोनो सालियों को अपनी हवस का शिकार बनाया. मेरी सालियों को नंगा देख कर मैं उनको छोड़े बगैर नही रह पाता.

और तो और मैने अपनी बीवी को भी माना लिया था एक बार, की हम सब साथ में चुदाई करेंगे. तो तीनो को नंगा करके डॉगी बना कर जो मज़ा आया, वो आज तक किसी में नही आया.

सिर्फ़ इतना ही नही, जब भैया को मेरी शरारत के बारे में पता चला, की कैसे मैने दोनो भाभियों को जान-बूझ कर प्रेग्नेंट नही किया था, और उनसे चुदाई करता रहा. तो बदले में दोनो भाइयों ने मेरे बीवी के साथ थ्रीसम किया, और मुझे भी साथ में सेक्स करने लगाया.

मेरी बीवी बहुत खुश है क्यूंकी उसकी सेक्षुयल लाइफ में मज़े दिलाने वाले बहुत लोग है.

अगर उपर वाली कहानी पसंद आई तो [email protected] पर प्रतिक्रिया भेजे. ताकि और एक्सपीरियेन्स शेर कर साकु. आपकी आइडेंटिटी सेफ रहेगी डॉन’त वरी. आज भी मेरा लंड एक औरत को छोड़ने से नही भरता है. कम से कम दो लड़कियाँ तो नंगी छाईए ही.

यह कहानी भी पड़े  साहिब जिगलो वित कोमल आंड सुमन


error: Content is protected !!