दीपाली मामी के बाद सोनाली मामी की चुदाई

नेक्स्ट डे सुबह मैं बहुत खुश था क्यों के आज सोनाली मामी आने वाली थी. मेरी जितना खुश था उससे कई ज्यादा मेरा लुंड सुबह से सख्त हो चूका था.

मैं सुबह फ्रेश हो चूका था तभी मुझे सोनाली मामी का कॉल आया और उन्होंने मुझे पिचकूप करने के लिए आने को बोलै. उनकी कॉल से मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा. मैंने वो बात दीपाली मामी को बताई.

दीपाली: क्या बात है? तुम्हारे तो मजे है आज कल

निल: हाँ… उन्हें लेकर आऊंगा तब हम दोनों ही होंगे इसलिए और टाइम मिलेगा हमे साथ में

दीपाली: हाँ… और सुनो तुम थोड़ा सा नॉटी बात करना उसके साथ. उसे भी थोड़ा लग्न चाहिए के तुम इंटरेस्टेड हो

निल: ठीक है

मैंने मामी को हुग करके एक डीप किश किया और बाई बोलकर निकल गया. कुछ देर बाद मैं सोनाली के घर पहुंचा. मामी वहां पहले से ही जीन्स टॉप डालकर रेडी थी. मैं उन्हें पहली बार जीन्स टॉप में देख रहा था और वो बहुत हॉट लग रही थी. मामी ने ब्लैक जीन्स डाली थी जो स्किन टाइट थी और येलो कलर का टॉप डाला हुआ था जो डीप नैक वाला था. उन्हें इस अवतार में देखकर मेरा लुंड पूरी तरह से खड़ा हो चूका था. मैं उन्हें ऊपर से निचे तक घर रहा था इसलिए मामी ने पूछा

सोनाली: क्या हुआ निल? मैं अच्छी नहीं लग रही क्या जीन्स टॉप में?

निल: अच्छी नहीं बहुत अच्छी लग रही हो आप

सोनाली (खुश होकर): सच्ची?

निल: हाँ… वो तो मैं आपको पहली बार ऐसे देख रहा हूँ न इसलिए

सोनाली: हाँ वो मैं घर में ज्यादातर साड़ी ड्रेस और ओने पीेछे पहनती हूँ न तो सोचा आज दीदी के घर जा रही हूँ इसलिए जीन्स टॉप दाल लू

निल: बहुत सही किया आपने

मामी के साथ बैठकर मैंने उनसे बातें की और जूस पीकर हम वहां से निकल गए. गाड़ी में मामी मेरे साइड में ही बैठी हुई थी इसलिए मेरा मूड भी बहुत बढ़िया था. हमारी बातें ख़तम ही नहीं हो रही थी. मैं भी उन्हें किसी न किसी बहाने से टच करता था. मामी को भी बड़ा अच्छा लग रहा था ये सब. जैसे तैसे करके हम घर पहुँच गए.

सोनाली के घर आने के बाद हमने बहुत एन्जॉय किया. वो दोनों बहने मिलकर मुझे चिढ़ाती थी और कभी फ़्लर्ट भी करती थी. जब लंच करने के बाद हम तीनो साथ में बैठकर कुछ बातें करने लगे तब उन दोनों ने अपने कॉलेज के दिनों की बातें शुरू की. वो दोनों ही अपने कॉलेज के दोस्त और अपने अपने क्रश के बारे में बताने लगी जिसे मैं बहुत मजे से सुनने लगा.

दीपाली मामी ने बताया के उनका किसी लड़के पर क्रश तो था लेकिन उन्होंने कभी हिम्मत नहीं की इसलिए उनका कोई बॉयफ्रेंड नहीं बन सका. इसलिए शादी के बाद ही वो पहली बार चूड़ी थी. सोनाली मामी का बिलकुल इसके उल्टा था. वो बहुत ज्यादा चुड़क्कड़ थी इसलिए उन्हें एक लड़के ने प्रोपोज़ किया था जिसे मामी ने एक्सेप्ट करके अपना बॉयफ्रेंड बना लिया था. कॉलेज ख़तम होने तक उनका अफेयर चलता रहा और वो उस लड़के से खूब चुदवाती थी.

मामी की बातें सुनकर तो मेरा लुंड बिलकुल लोहे की तरह सख्त हो गया था इसलिए मैंने कुछ बहाना बनाकर बाथरूम चला गया. पर सोनाली मामी ने शायद मेरे खड़े को देख लिया था. मैं झट से बाथरूम में चला गया. सोनाली मामी की कहानी सुनकर मैं उन्हें छोड़ने के लिए बहुत उत्तेजित हो गया था इसलिए मैंने अंदर जाते ही अपनी शॉर्ट्स उतार दी. मेरा लुंड उछाल के बहार आया जिसे मैंने अपने हाथ में पकड़ा और आँखें बंद करके उसे हिलने लगा.

मैं अपनी कामवासना को शांत करने में इतना मग्न था के मैंने बाथरूम का दरवाजा खुला ही छोड़ दिया था. मैं दरवाजे की तरफ फेस करके खड़ा था. मेरी आँखों के सामने सिर्फ सोनाली मामी का चेहरा दिखाई दे रहा था. उनका गठीला बदन खूबसूरत सा चेहरा बड़े और मुलायम बूब्स गोरा चिट्टा पेट चिकनी टाँगे और मादक गांड को इमेजिन करते हुए मैं मुठ मार रहा था.

मुठ मरते हुए मैं जोर जोर से सोनाली मामी का नाम ले रहा था. इसलिए शायद मेरी आवाज सुनकर सोनाली बाथरूम की तरफ आने लगी थी. मैं पुरे जोश में था और उस वक़्त मैं जन्नत के मजे ले रहा था. सोनाली मामी को छोड़ना मतलब मेरे लिए वो जन्नत की सैर करने जैसा था. उनकी नाजुक सी छूट में मैं अपना सख्त लुंड डालकर उन्हें खूब छोड़ना चाहता था.

सोनाली मामी बाथरूम के सामने आकर कड़ी हो गयी और दरवाजा खुला होने के कारन उन्होंने मुझे उस हालत में देख लिया. मैं जोर जोर से अपने लुंड को हिला रहा था और साथ में सोनाली मामी का नाम भी ले रहा था. मैं झड़ने के बिलकुल करीब था. सोनाली मामी मेरे इस अवतार को देखकर दांग रह गयी और मुझे ऊपर से निचे तक घूरने लगी. उन्होंने सपने में भी नहीं देखा था के वो मुझे इस हालत में कभी देख सकेगी.

मेरा लम्बा लुंड देखकर उनकी आँखें बड़ी बड़ी हो चुकी थी. उनके चेहरे पर प्यारी सी मुस्कराहट थी. शायद उनका नाम लेकर उस तरह से मेरा मुठ मरना उन्हें पसंद आ गया था. मैं बिलकुल झड़ने के करीब था. कुछ ही देर में मेरे लुंड ने अपना कामर्स पिचकारी की तरह बहार फेक दिया और मैं झाड़ गया. जब मैंने आँखें खोली तो देखा के सोनाली मामी बिलकुल मेरे सामने कड़ी थी जो ख़ुशी से मुझे देख रही थी.

उन्हें देखकर मेरी दुनिया ही हिल गयी थी. मुझे समझ नहीं आ रहा था के अब मैं क्या रियेक्ट करू. जब हम दोनों की नजरे मिली तो वो शरमाते हुए वहां से चली गयी. मैंने भी खुद को साफ़ किया और कपडे पेहेन लिए. अब मुझे थोड़ा दर लग रहा था के क्या अब वो मुझसे बात करेगी? फ़्लर्ट और हुग तक तो ठीक था लेकिन डायरेक्ट उनके सामने उनका ही नाम लेकर मैंने मुठ मारी थी. प्लान पूरा होने से पहले कही मेरी इस नादाँ सी गलती की वजह से वो मेरे हाथ से न चली जाए इस बात का मुझे दर लग रहा था.

जैसे तैसे हिम्मत बनाकर मैं हॉल में गया. सोनाली मामी सोफे पर बैठी हुई थी और मैं उन्हें देखकर डरते हुए उनसे थोड़ी दूर वाले सोफे पर बैठ गया. हम दोनों टीवी देख रहे थे जहाँ एक रोमांटिक टीवी सीरियल चल रहा था जिसे देखकर मेरी हालत और ख़राब हो गयी थी. क्यों की वहां एक लड़का अपनी गर्लफ्रेंड को सडके करते हुए उसके साथ रोमांस कर रहा था.

मेरी हालत पहले से ही ख़राब थी और वहां सोनाली मामी के सामने ये सन देखना पद रहा था. मैं बहुत नर्वस हो चूका था इसलिए अपना फ़ोन लेकर बैठ गया. जैसे तैसे करके वो वक़्त बीत गया. रात होने तक मैंने सोनाली मामी को देखा भी नहीं और उनसे नजरे चुराते हुए घूम रहा था. वो जब भी मेरे पास आती थी मैं कुछ बहाना बना कर वहां से निकल जाता था. मुझे दर था के कही मुझे डाट न पड़े.

रात को डिनर के बाद कुछ देर तक हमने मूवीज देखि और जब १०:३० बजे तब दीपाली मामी ने कहा उन्हें नींद आ रही है इसलिए वो अपने बैडरूम में जाकर सो गयी. अब हॉल में सिर्फ मैं और सोनाली मामी ही थे. कुछ मिनट्स तक ावक्वार्डली बैठने के बाद मैं सीधा बालकनी में चला गया. मेरी आँखों के सामने अभी तक वही बाथरूम वाला सन घूम रहा था. मैं सोच रहा था के इतना अच्छा मौका था सोनाली मामी को पटाने का लेकिन मेरी एक गलती की वजह से शायद वो चला गया.

रात के करीब ११ बज चुके थे. अंदर बैडरूम में जाने का मेरा तो बहुत हो रहा था लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी. जिसके साथ सोने के मैं सपने देख रहा था आज उसका सामना कैसे करूँगा इसका जवाब मेरे पास नहीं था.

तभी अचानक से एक आवाज आयी…

सोनाली मामी: आज रात बालकनी में ही सोने का इरादा है क्या?

मुझे थोड़ा दर लग रहा था लेकिन मैंने कोई जवाब नहीं दिया.

कुछ पल का इंतज़ार करने के बाद सोनाली मामी बालकनी में आयी और मेरे साइड में आकर कड़ी हो गयी.

सोनाली मामी: मैंने तुमसे कुछ पूछा है…

मैंने उनकी तरफ देखा भी नहीं और न ही उनकी बात का जवाब दिया. मेरी बेचैनी को सोनाली मामी ने पकड़ लिया शायद उन्हें पता चल गया था के मैं अंदर से क्या फील कर रहा था. उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और सहलाते हुए कहा

सोनाली मामी: इतस ोकय. इतना मत सोचो तुम…

उनकी बात सुनकर मेरे अंदर का दर थोड़ा सा काम हुआ.

सोनाली: कोई बात नहीं… ऐसा कभी हो गया तो तुम्हारी ये मामी तुमपर कभी गुस्सा नहीं हो जाएगी

निल: सच में?

सोनाली (हस्ते हुए): अरे हाँ बाबा. तुम मुझसे इतना डरते हो ये मैंने कभी सोचा नहीं था.

उनकी बात सुनकर मैं नार्मल हो रहा था.

निल: डरता नहीं हूँ… बस मुझे बहुत गिलटी फील हो रहा है…

सोनाली: इसमें गिलटी फील करने जैसा क्या है?

निल: मतलब? मैंने जो किया उससे आपको बुरा नहीं लगा?

सोनाली: लेकिन उसमे बुरा लगने जैसा क्या था वो बताओगे जरा?

निल: मैं आपको इमेजिन करके…

सोनाली: एक बात कहु? तुमने जो किया न वो मुझे बहुत पसंद आया

मामी की बात सुनकर मैं दांग रह गया. अब मैं रिलैक्स फील कर रहा था. मैं उनकी तरफ देखकर बात करने लगा और मामी ने मेरा हाथ फिर से पकड़ लिया जो मुझे पसंद आया.

निल: इसमें पसंद आने वाली क्या बात है?

सोनाली: अरे बाबा ये सब मेरे साथ बहुत सालो पहले हुआ करता था. जैसे मेरा बॉयफ्रेंड और कॉलेज के लड़के मुझे इमेजिन करके हिलाते थे. तब मुझे बहुत बुरा लगता था के वो मुझे गन्दी नजर से देख रहे है ऐसा मैं सोचती थी

निल: अच्छा

सोनाली: लेकिन आज बिलकुल इसका उल्टा है. अब मैं पहले जैसी जवान नहीं रही और मातुरे हो गयी हूँ मेरी शादी भी हो चुकी है. तुम्हारे मां के साथ शादी हो जाने के बाद एक वक़्त तक बहुत अच्छा रोमांस किया हमने. उसके बाद धीरे धीरे करके वो रोमांस कही गायब हो गया. फिर वो अपने बिज़नेस में बिजी हो गए और मैं घर सँभालने में

निल: ओह

सोनाली: लड़की को उसकी जवानी में जब लड़के घूरते है उन्हें प्रोपोज़ करते है या उन्हें छुड़वाने के लिए ऑफर्स आते है तब वो बुरा मान जाती है. और जब शादी के बाद रोमांस गायब हो जाता है तब लगता है के काश वो सब कोई फिर से उनके साथ करे

निल: बिलकुल सही कहा आपने

सोनाली: इसलिए मैं कहती हूँ के जिस उम्र में जो करना चाहिए हम उसका खुल के मजा करना चाहिए. मैं कॉलेज में थी तो लड़को से मैंने अपने बारे में बहुत साड़ी बातें सुनी थी.

निल (खुश होकर): जैसे के?

सोनाली: जैसे के लड़के आपस में बात करते हुए मैंने कई बार सुना था के वो मुझे इमेजिन करके हिलाते थे और अपनी गिर्ल्फ्रेंड्स को छोड़ते वक़्त वो मुझे इमेजिन करते थे. आज वो सब सोचती हूँ न तो मेरे अंदर करंट दौड़ने लगता है.

निल: अच्छा

ये सब बातें करते वक़्त मामी के चेहरे पर एक अलग सी ख़ुशी मैंने देखि जो आज से पहले कभी नहीं थी.

सोनाली: मैंने अपने बॉयफ्रेंड से और तुम्हारे मां से कई बार छुड़वाया है. मेरे बर्फ ने तो कहा था के वो मुझे इमेजिन करके हिलता था और उसमे उसे बहुत मजा आता था. एक्चुअली मुझे वो देखना था के लड़के जब मुझे इमेजिन करके हिलाते है तब उन्हें कितना मजा आता है. और आज तुम्हारी वजह से मेरी वो सालो पुराणी विश पूरी हो गयी.

मामी की बात सुनकर मैं शर्मा गया

सोनाली: उफ़ निल जब तुम आँखें बंद करके मेरा नाम लेकर हिला रहे थे न तो तुम्हारे एक्सप्रेशंस देखकर मैं कितनी खुश हो गयी वो तुम्हे बता नहीं सकती. तुम कितने खुश थे तब. सच में तुम्हे इतना मजा आया मुझे इमेजिन करने में?

निल: हाँ… बहुत ज्यादा. आपने इतना कुछ बता दिया के मुझसे कण्ट्रोल ही नहीं हुआ

सोनाली: ॉव सो क्यूट हां. अभी मैं ३० हो गयी हूँ फिर भी तुम्हे मैं ही क्यों पसंद हूँ? तुम्हारे उम्र की लड़कियां क्यों पसंद नहीं?

निल: मुझे लड़कियां भी पसंद है लेकिन मैरिड विमेंस की बात ही अलग होती है. उनकी ाड़ाः ही कुछ ऐसी होती है के मैं खींचा चला आता हूँ. और आज कल की लड़कियां बहुत भाव कहती है.

सोनाली: बड़े अजीब हो तुम… बाकि लड़को को जवान लड़कियां पसंद है और तुम्हे मातुरे औरते पसंद है

निल: हाँ

सोनाली: ऐसा क्यों?

निल: आप बुरा न मनो तो खुल के बात करू?

सोनाली: हाँ हाँ… मुझे तुम अपनी बेस्ट फ्रेंड ही समझो

निल: थैंक्स… मैरिड औरते मातुरे होने के बाद और हॉट लगती है. सच कहु तो उनकी फिगर इतनी सेक्सी होती है के मेरा लुंड उन्हें छोड़ने के लिए बेचैन हो जाता है

सोनाली: उफ्फ्फ क्या बात है… वैसे तुम्हारे लुंड काफी अच्छा है. मैंने देखा उसे जब तुम हिला रहे थे. साइज देखकर तो मैं तुमसे काफी इम्प्रेस हो गयी हूँ

निल: थैंक यू मामी

सोनाली: मैंने आज तक इतना बड़ा सिर्फ पोर्न में देखा था. तुम्हारी गिर्ल्फ्रेंड्स के तो मजे है. बहुत चुदवाती होंगी न वो तुमसे?

निल: हाँ मेरा लुंड काफी पसंद आता है उन्हें

सोनाली: तुम बुरा न मनो तो एक रिक्वेस्ट थी तुमसे. मुझे तुम्हारा लुंड फील करना चाहती हूँ

मामी का जवाब सुनकर मेरी खुशियों का ठिकाना नहीं था. ऐसा लग रहा था के उनकी निघ्त्य उतर कर उन्हें बालकनी में ही छोड़ू. लेकिन फिर मैंने कुछ सोचा और थोड़ा सीरियस होकर कहा

निल: मुझे बहुत नींद आ रही है

इतना बोल के मैं वहां से बैडरूम में चला गया. मामी मेरी बात से काफी उदास हो गयी थी. कुछ देर बाद वो बैडरूम में आ गयी जहाँ मैं पहले से ही बीएड पर सोया हुआ था. दीपाली मामी अपने बैडरूम में सोई थी इसलिए हम दोनों दूसरे बैडरूम में थे.

सोनाली ने मुझे देखा उन्हें आशा थी के वो मेरे लुंड को अभी फील कर पायेगी लेकिन जब उन्होंने देखा के मैं सो गया था तो उन्होंने दूसरे तरफ फेस करके वो भी सो गयी.

मैं सोनाली मामी की विश को पूरी करूँगा या कुछ और होगा ये नेक्स्ट पार्ट में पढ़िए.

इस पार्ट में आपको क्या पसंद आया वो मुझे मेल करके जरूर बताना.

लड़कियां और मैरिड लेडीज भी नॉटी चैट्स के लिए मुझे मेल करे आपकी प्राइवेसी का ख्याल रखा जायेगा.

यह कहानी भी पड़े  आंटी जी का चुदाई का ज्ञान-4

error: Content is protected !!