दारू पीक भाभी संग रोमॅन्स की स्टोरी

हेलो ड्के रीडर्स, मेरा नाम विकी है, और मैं आमेडबॅड गुजरात से हू. हम लोग पूरी फॅमिली आमेडबॅड में ही रहते है. ये कहानी मेरी और मेरे बड़े पापा के बेटे की वाइफ की है, जो की मेरी भाभी लगती है.

बात उन दीनो की है, जब मैं कॉलेज के फर्स्ट एअर में था, और मेरे बड़े पापा के लड़के की शादी हुई. तब पहली बार मैने मेरी भाभी को देखा था. पहले तो मैने कभी भी ये सोचा तक नही था की हमारे दोनो के बीच ऐसा भी कुछ होगा.

मैं ये बताना भूल गया की मेरे बड़े पापा का लड़का बस ड्राइवर है, तो वो एक दिन छ्चोढ़ के एक दिन बाहर ही रहता है. और मैं ये बताना भी भूल गया, की वो लोग आमेडबॅड में ही रहते है. पर हमसे 4 किलोमीटर्स डोर अलग एरिया में रहते है.

एक दिन की बात है, जब मेरे बड़े पापा के छ्होटे लड़के की शादी थी. तो हम सब को गाओं जाना था. हम सब गाओं चले गये. सब तैयारिया हो गयी थी. सब गेस्ट्स आ चुके थे, और खाना हो गया था सब का. फिर रात को रास गरबा रखे थे.

मुझे खाना खाने से पहले जो की मेरा एक भाई दारू लाया था, उसका कॉल आया, की तू सब काम छ्चोढ़ कर आजा इधर. वो बोला की दारू पी कर साथ में हम सब खाना खाते है. मैं फिर चला गया दारू पीने, और दारू पी कर आए हम लोग और खाना खा लिए.

सब कुछ सही चल रहा था. पर मुझे बहुत दारू चढ़ गयी थी, और मेरा तो सर घूमने लगा था. फिर जैसे-तैसे 2 अवर्स के बाद नशा कम हुआ. गरबा चालू हो गया था, और मैने भी तोड़ा गाया. लाते नाइट तक गरबा चालू रहा. फिर 4 बजे बंद किया सब. बंद होते ही सब सोने चले गये, और सब ने अपनी अपनी जगह ढूँढ ली.

मैं भी सोने के लिए गया. हमारे घर के अंदर वाले रूम में सब लोग अंदर इधर-उधर सोए थे. वाहा पर मेरी भाभी भी सोई थी, और मैं भी वाहा जेया कर सो गया. मेरी भाभी के पैर जहा थे, वाहा पर मैं कॉर्नर में सो गया. सब तक चुके थे, और सब गहरी नींद में सो रहे थे.

मैं भी तोड़ा नशे मैं था. 30 मिनिट्स हुए होंगे, और मुझे लगा की मेरे पैर भाभी के पैर से टच हो रहे थे. मैं तो नशे में था, और गरम हो गया पूरा. मैने थोड़े टाइम ऐसे ही रखा, और फिर मैने पैर की उंगली से उनका पैर तोड़ा सहलाया. उनका कुछ रिप्लाइ नही था, पर दो मिनिट के बाद उनके पैरों ने मुझे तोड़ा सहलाया.

मैं तो पूरा गरम हो गया था, और मेरा लंड भी टाइट हो गया था. मैने तोड़ा इधर-उधर देखा, की कोई जाग तो नही रहा. सब सो रहे थे, और फिर मैने हरकत की, और पैर सहलाया. इस बार तो उन्होने भी रेस्पॉन्स दिया. मैने लगातार सहलाया और वो भी अब साथ दे रही थी.

वो कभी पैर सहलाती, तो कभी उंगलियों को दबाती. वो भी पूरी गरम हो गयी थी, पर तब तो चड़ाई का मौका मिलने वाला नही था. थोड़ी देर ऐसे ही चलता रहा, और फिर मैने इधर-उधर देखा. सब सो रहे थे.

मैने उनकी साइड देखा, तो वो भी सोने का नाटक कर रही थी. मैने देखा की उनकी बाजू में थोड़ी जगह थी सोने के लिए, और मैं धीरे से वाहा जेया कर सो गया. उनको भी पता था. थोड़ी देर ऐसे ही सोया रहा आँखें बाँध करके, और फिर मैने मेरा एक हाथ उनके बूब्स पर रख दिए.

मैने जैसे ही हाथ रखा, तो मेरी धड़कन तेज़ हो गयी थी. फिर मैने तोड़ा सा प्रेस किया. आह क्या बूब्स थे बड़े-बड़े, बाहर आ रहे थे. वो भी पूरी गरम हो गयी थी. तो वो उनका एक हाथ मेरे हाथ पर रख कर ज़ोर से बूब्स दबाने गली. बहुत बूब्स दबाए मैने.

बाद में मैं उनकी साइड घूम, गया और और वो भी मेरी साइड घूम गयी. फिर मैने लीप किस करी, और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. वो धीरे-धीरे अहह आ ह की आवाज़े निकाल रही थी. बहुत किस की और बहुत बूब्स दबाए उनके. उस रात बस इतना ही हुआ.

फिर हम सब सो गये. सुबह जब हम उठे, तो मैं उनसे नज़रें नही मिला पा रहा था. वो भी मुझे देख कर धीमी स्माइल करी एक बार. फिर धीरे-धीरे शादी ख़तम हो गयी, और सब अपने-अपने घर चले गये. हम भी चले गये.

मेरा पूरा ध्यान भाभी पर ही था, की अब कैसे मैं मेरी भाभी को छोड़ू. एक दिन मैं फ्री था, और मैने सोचा की आज तो भैया के घर जाता हू. अगर मौका मिलेगा तो हो जाएगा कुछ.

फिर मैं गया बिके लेके उनके घर. मेरे तो दिल की धड़कन बढ़ गयी थी. मैं उनके घर पहुँचा, और उनके दरवाज़े की बेल बजाई. मेरी तो धड़कन तेज़ हो गयी थी, की अब क्या होगा. दरवाज़ा खोला मेरे भाई की छ्होटी लड़की ने. और फिर मैं अंदर जेया कर बैठ गया. भाभी भी मुझे देख कर खुश हो गयी, और मुझे देख कर मस्त स्माइल करी.

मैने पूछा: भाई कहा है?

तो उन्होने बोला: वो तो जॉब पर है, और वो नाइट में गये है, तो कल मॉर्निंग में आएँगे.

मैं तो खुश हो गया. उन्होने पूछा सब का हाल-चाल, और मैने उनके सब के हाल चाल पूछे. सब सही था. घर पर खाली मैं भाभी और उनकी छ्होटी लड़की ही थी.

मैं तो बड़ा खुश हो गया. मुझे भाभी ने बोला की खाना बना देती हू. मैने बोला हा बना दो. फिर मैने खाना खाया. वो भी मुझे देख कर शर्मा रही थी. खाना खाने के बाद मैं बैठा, और उनसे इधर-उधर की बातें करने लगा.

फिर थोड़ी देर बाद उनकी लड़की भी सो गयी. दोपहर का टाइम था. लड़की बेड पे सोई थी, और मेरी भाभी सोफे पे बैठी थी. मैं भी सोफे पे बैठा था. जैसे ही वो सोई, मैं उनके पास सरक गया, और उनके कंधो पे हाथ लगा दिया.

फिर उनको मैं हवस की नज़र से देखने लगा, और वो भी मुझे हवस की नज़र से ही देख रही थी. मैं तोड़ा उनकी और खिसका, और उनको लीप किस किया. वो भी पूरी गरम हो गयी थी, और मुझे पूरा साथ दे रही थी. वो मुझे प्रेस कर रही थी. उन्होने मुझे इशारा किया की लड़की जाग ना जाए, और उन्होने इशारा किया की अंदर वाले रूम में चलो. फिर हम दोनो अंदर के कमरे में चले गये.

इससे आयेज क्या हुआ वो मैं आयेज के पार्ट्स में बतौँगा. मेरी ये पहली स्टोरी है. अगर आप लोगों को पसंद आई हो, तो मुझे एमाइल पर फीडबॅक ज़रूर देना. मेरी एमाइल ईद है-

यह कहानी भी पड़े  सेठी साब की दमदार चुदाई


error: Content is protected !!