कस्टमर की चूत से खून निकाला

हेलो दोस्तो, मैं रोहित कल्लबोय हू, आगे 24, राजस्थान से हू. लंड का साइज़ 7.5इंच है. मे एक सेक्यूर कॉल बॉय हू. सब कस्टमर की सेफ्टी का ख़याल र्खहता हू.

अब तक मैं बहोट सी गर्ल्स, भाभी, आंटी को छोड़ के उनकी छूट को फाड़ चुका हू. आज भी मे अपनी एक न्यू स्टोरी लिख रहा हू जिसमे मैने एक हाउसवाइफ को खूब छोड़ा.

मेरे यह स्टोरी पड़ने के बाद अपना फीडबॅक ज़रूर दे और मुझे मैल ज़रूर करे.

अब मैं अपनी स्टोरी पर आता हू.

मुझे अभी कुछ दिन पहले एक मैल आया और उसमे बताया की मुझे सेक्स की चाहत है. मुझे सॅटिस्फॅक्षन और खूब चुदाई चाहिए. यूयेसेस कस्टमर ने अपना नामे प्रीति बताया और उसकी आगे 34 थी और गुजरात की रहने वाली थी.

मैने रिप्लाइ मे उससे बोल दिया, आप आ जाओ मेरे पास आपको मस्त चुदाई का मज़ा दूँगा खुश करके भेजूँगा.

प्रीति ने मुझे कहा की मैं नेक्स्ट सनडे को आ रही हू. उसने होटेल बुक कर लिया था और मैने उससे अपना नंबर दे दिया.

फिर उसने मुझे होटेल पहुँच के कॉल किया और उसने बोला की मे आ गयी हू आप भी आ जाओ.

मैं भी थोड़ी देर बाद उसके होटेल रूम मे आ गया. उसने डोर ओपन किया और मुझे अंदर बुला लिया. उसने रेड गुजराती सारी और मस्त ब्लाउस पहन रखा था. एकद्ूम पटाखा लग रही थी, उसकी बॉडी बिल्कुल मस्त थी और गांद उभरी हुई थी और बूब्स भी मोटे थे.

प्रीति का बदन एकद्ूम गोरा था. उसको मैने कमर से पकड़ के खिच लिया और एक सेक्सी वाला स्मूच दिया. वो खुश हो गयी. मेरे इश्स अंदाज को देख कर. प्रीति तोड़ा मुझसे शरमाने भी लगी थी. वो एकद्ूम घर परिवार वाली औरत थी, शर्मीली टाइप की लेडी थी.

मेरे किस से उसने अपना फेस नीचे कर लिया था. मैं उससे पूछा की सेक्स किए हुए कितना टाइम हो गया है?

प्रीति: 6 मंत, पति जयदा नही करते है. बिज़्नेस मे ही उनका माइंड रहता है और बीवी पर ध्यान नही देते.

मई: आप तो बहोट अची देखती हो. फिर बिज़्नेस मे कैसे ध्यान देता है वो?

प्रीति शरमाने लगी और बेड पर बेत गयी. उसने मुझे पानी सर्व किया. वो अपना फेस नीचे करते हुए मुझसे बोली-

प्रीति: जो प्यार मेरे पति ने दिया वो प्यार और सॅटिस्फॅक्षन आपको देना है रोहित.

मई: मेरे जान मे आया ही आपको खुश करने के लिए हू.

मैं उसके सामने चेर पर बेत गया और वो मेरे सामने बेती थी और शरमाने लग रही थी. मैने उसका हाथ पकड़ा और अपनी तरफ खींच लिया. वो झटके से मेरे सिने से लग गयी और अपना सिर मेरे चेस्ट मे रख दिया.

वो बोली: मैं पहली बार किसी अंजन से यह सब कर रही हू. प्लीज़ आप मेरा ध्यान रखना, किसी को पता ना चले.

प्रीति: अगेर किसी को पता चला तो मे बर्बाद हो जौंगी, बड़ी मुस्किल से मैने यह कदम उठाया है.

मई: मेरे जान तुम तेनतीओं मत लो, तुम्हे कोई प्राब्लम नही होने दूँगा.

मई: तुम्हे खुश करने आया हू. प्यार करके चला जौगा और आप अपने घर चली जाना. किसी को कुछ पता नही चलेगा.

प्रीति: थॅंक्स रोहित सपोर्ट करने के लिए.

उसके बाद मैने उसका मासूम सा फेस उपर किया और उसके होतो पर, मैने अपने होत रख दिए. प्रीति के बदन मे एक करेंट सा दौड़ गया और उसने अपनी आँखे बंद कर ली. उसने मुझे अपना जिस्म सूप दिया.

प्रीति: अववव रोहित. आज आप मेरे पति हो और अपनी प्रीति को कैसे प्यार करना है, सब आपके हाथ मे है.

मई: मेरे रानी तू आज बहोट जोरदार तरीके से चूड़ेगी.

मे उसे फिर से किस करता गया. वो बस आँख बंद करके मज़े ले रही थी और वो मेरा साथ देने लगी. मेरे लिप्स को वो खूब चूस रही थी. मैने उसकी सारी का पल्लू एक हाथ से हटा दिया और बूब्स उपर से कस के दबा दिया.

प्रीति: अऔच ओउू बेबी…

मैं उससे स्मूच करता रहा. वो मेरा पूरा साथ दे रही थी. मैने उसके बालो वाला जुड़ा खोल दिया. प्रीति अब मस्त सेक्सी लग रही थी.

15 मीं किस करने के बाद हम दोनो फुल गरम हो गये. मैने उससे बेड पर सुला दिया. अब मे उसके बदन पर चाड गया. उसने अपने दोनो हाथो से मुझे पकड़ के मेरे होतो को चूसने लगी. मैं भी ज़ोर ज़ोर से उसके लिप्स चूसने और काटने लगा.

उसको अब बहोट मज़ा आने लगा और वो बेड पर मचल रही थी. मे उससे गले पर काटा और चाटने लगा.

प्रीति: ओउूउ रोहित आप बहोट आचे पति हो. ऐसे ही करते रहो.

अब मैने उसकी सारी निकल फेकि. वो अब पेटीकोत मे थी. पेटीकोत छूट पर से गीला था. वो मुझे देख कर शरमाने लगी.

मैने पेरिदोत के उपर से ही छूट पर हाथ रखा. तो वो मचल उठी.

प्रीति: उम्मा रोहित क्या करते हो आप भी.

प्रीति: रोहित आप बहोट नॉटी हो.

अब मैने उसका ब्लाउस फाड़ दिया. वो मुझे देख कर डरने लगी और बोली डरते हुए.

प्रीति: आपने ऐसे क्यू किया जान. मुझे आपसे दर लग रहा है, प्लीज़ बेबी प्यार से करो ना.

मई: जान तू दर मत मज़ा आएगा टुजे, मेरे लंड पर डॅन्स करना है.

वो शरमाने लगी. मई वापस से उसको किस करने लगा. प्रीति का बदन दोस्तो बहोट सॉफ्ट था. मई उसके बदन की स्किन को उधेड़ रहा था.

प्रीति: अम्म्म रोहित आह…

फिर मैने उसकी ब्रा निकल दी और उसके मोटे मोटे बूब्स को पकड़ के चूसने लगा और एक निपल को काटने लगा. निपल से ब्लड आ रहा था और बूब्स मेरे चूसने से और काटने से लाल हो गये. उसको भी बहोट मज़ा आ रहा था.

प्रीति: बेबी आप दर्द और मज़ा एक साथ देते हो क्या? अभी इतना दर्द दिया है, आयेज कितना दर्द दोगे..

मई: टुजे मज़ा आ रहा है ना जान.

प्रीति: आप इतना दबा के मज़ा दे रही हो, मेरे नीचे से पानी निकल गया.

प्रीति: मेरे छूट मे बहोट आग लगी हुई है, प्लीज़ आप शांत करो.

मई: टुजे आज बहोट मत चुदाई मिलेगी, तू बहोट सेक्सी है.

अब वो भी गरम हो गयी और मुझे अपने नीचे लेके मेरे कपड़े उतरने लगी. मेरे सारे कपड़े उतार दिए. मेरा शॉर्ट नही उतरा, मेरा लंड शॉर्ट्स मे देखकेर शरमाने लगी..

वो मेरे चेस्ट को चाटने लगी. वो मुझे अपने गरम होतो से और गरम कर रही थी.

मई: एस, मेरे जान प्रीति, तू बहोट मस्त रांड़ है.

प्रीति: आपको मज़ा आ रहा है ना? मुझे तो आपको चूस कर बहोट मज़ा आ रहा है.

मई: हन जान अब तू मेरा लंड भी चूस और इससे मज़ा दे.

प्रीति: पातिदेव आपका शॉर्ट मे बहोट बड़ा लग रहा है, मेरे मूह मे नही जाएगा मैने कभी लिया नही है जान.

मई: सब जाएगा तू ले मूह मे, दर मत.

प्रीति: मुझे बहोट दर लग रहा आपका लंड देख कर, मेरे पति से बड़ा है आपका यह शेर.

मैने अपना शॉर्ट उतरा और लंड भर आ गया. फिर मैने उसके बाल पकड़ के मूह को लंड के उपर लाया. 7इंच के लंड को उसके मूह मे घुसा दिया. पूरा लंड एक बार मे ही अंदर चला गया.

उसका फेस देखने लायक था क्यूकी उसकी आँखे निकालने लगी और उसके मूह से आवाज़ आने लगी.

प्रीति: घुऊऊ घुऊ…

5 मीं मैने लंड उसके मूह मे रोक के रखा. लंड पर उसके मूह मे से लार निकालने लगी. फिर मैने उसका मूह लंड से निकल दिया. और वो ज़ोर ज़ोर से साँस ले रही थी, रोते हुए बोली.

प्रीति: आप बहोट गंदे हो, मुझे प्यार कर रही हो या मेरा रेप..

प्रीति: आपको पता भी मेरा गला और मूह दर्द कर रहा है.

मई: क्या करू एक तू इतनी सेक्सी है, दूसरा तू मूह मे नही ले रही है.

मई: तू लंड नही चुसेगी, तो मज़ा कैसे आएगा मेरे रानी.

फिर मैने कहा की अब तू रो मत, लंड को चूस और मज़ा दे अपने पति को.

वो बोली की आप मुझे हाथ मत लगाना मैं अपने आप चूस लूँगी आप बहोट बड़े शैतान हो.

अब उसने लंड को पकड़ा और मूह मे लेके चाटने लगी. प्रीति ने बड़े प्यार से लंड को चूसा. करीब 40मीं तक लंड चूसा उसके बाद मैने उसे बेड पर पटक दिया. वो तोड़ा डारी की क्या करने वाला हू मई, वो बोली-

प्रीति: आप क्या करने वेल हो अब, प्लीज़ जान आराम से करो मुझे बहोट दर लग रहा है आप से.

मैने उसकी एक नही सुनी, मैने अब उसके टॅंगो को पकड़ के अपने कंडे पर रखा और छूट चाटने लगा. दोस्तो उसकी छूट पर हल्के बाल थे. मैं ज़ोर ज़ोर से छूट को चाटने लगा जिससे वो तड़पने लगी और बोली-

प्रीति: आह उउउइमा… प्लीज़ जान मुझे छोड़ो अब..!

अब मैने अपना लंड उसकी छूट पर रखा और टाँगे मैने मोड़ दी. उसको भी पता लग गया की, अब लंड अंदर जाएगा. वो मुझे डरते हुए बोली-

प्रीति: रोहित मुझे आपसे और आपके इश्स लंड से दर लग रहा है.

प्रीति: प्लीज़, जान धीरे धीरे करना. मई आपकी जान हू.

मैने एक ज़ोर का धक्का कस मारा, और पूरा लंड अंदर छूट मे फिट हो गया. उसके बाद प्रीति ने चीखना और रोना शुरू कर दिया.

प्रीति: आआहह मुंम्म्मी उहह… आपने मेरे बात नही मानी, आपको मेरे बात नही ना..

प्रीति: अब मे आपको नही रोकूगी आपको जो करना है करो आप बहोट बुरे हो.

उसके बाद मैने उसकी बात मानी और उसको धीरे धीरे छोड़ने लगा. फिर वो बोली आप बहोट आचे हो. 15मीं ऐसे आराम से छोड़ा और उसको किस करने लगा.

मई: जान केसा लग रहा है?

वो बोली: बहोट मज़ा आ रहा है जान आपसे चूड़ने मे.

यह बोलके वो शरमाने लगी और अपना मूह मेरे सीने मे छुपा लिया.

मैने अब अपनी स्पीड बड़ाई और अब मे लंड को प्यारा बाहर लता एक बार मे ही घुसा देता छूट मे पूरा अंदर तक. उसके मूह से ह मम्मी निकल जाता.

25 मीं ऐसे ही ज़ोर से छोड़ा फिर मैने पोज़िशन चेंज की. प्रीति को मैने जल्दी से घोड़ी बनाया और लंड एक ही बार मे छूट मे घुसा दिया.

प्रीति: आह रोहित आपको रहम नही आता ना मुझ पर. अब मे आपको कुछ नही बोलुगी आप छोड़ो जैसे छोड़ना है.

20 मीं मैने खूब छोड़ा. छूट से खून और उसका वीर्या निकालने लगा, उसके आँखो से आँसू आने लगे. मैने उससे पूछा जान केसा लग रहा है?

वो बोली: बहोट मज़ा आ रहा है आहह अपने आज रुला दिया और छूट फाड़ दी मेरे.

अब मेरा भी होने वाला था तो मैने स्पीड बड़ाई और 10 मीं बाद मैने अपना लंड छूट से निकाला और प्रीति के मूह मे दे दिया. वो मस्ती से चूसने लगी और मेरा वीर्या निकल गया जिसे वो पूरा पिई गयी.

प्रीति और मैं लिपट कर बेड पर 5 मीं लेते रहे. फिर वो बातरूम जाने को उठी और चलते हुए गिर गयी फिर मुझे छूट देखते हुए बोली-

प्रीति: देखो, यह आपने क्या हाल किया है.

मैने हेस्ट हुए कहा की टुजे मज़ा नही आया क्या?

वो भी शरमाते हुए बोली हा आया ना मज़ा.

दोस्तो उसके बाद मैने उससे 2 बार और छोड़ा. उसकी छूट से खून निकाला और वीर्या छूट मे डाल के सो गये. फिर नेक्स्ट दे वो खुश होके मुझे पैसे दिए और वापस आएगी बोलके चली गयी.

दोस्तो कैसे लगी मेरे स्टोरी मुझे मैल करके बताओ

यह कहानी भी पड़े  वासना के वशीभूत होकर चुद गयी

error: Content is protected !!