कज़िन प्रीति की कुँवारी चूत चोदी

सॉरी गाइस 1स्ट्रीट पार्ट आंड 2न्ड तोड़ा लोंग हो गया आंड उसमे कुछ काश आक्षन नही था. बुत स्टोरी को डेप्त देने के लिया लोंग कर के लिखना पड़ा. आब इश्स पार्ट से फुल आक्षन स्टार्ट होगा. आशा करता हूँ आप लोगो को आयेज की स्टोरी पसंद आएगा. इश्स स्टोरी का मिनिमम 10 पार्ट्स लिख के रेडी है बस एक दिन का गॅप दे के उपलोआड करूँगा.

आयेज की स्टोरी साँझ ने के लिए आक्सिडेंटल सेक्स वित कज़िन-2 ज़रूर पढ़े ताकि आयेज की स्टोरी साँझ आए आप लोगो को धन्यवाद.

पिछली पार्टी मे आप लोगो ने पढ़ा की कैसे प्रीति आंड मैने फोरप्ले किया. फोरप्ले के बाद मेरे भी मान हुआ की मे प्रीति को छोड़ है डू बुत मे तोड़ा अछा बान रहा था उसके सामने ताकि मे उसका बिसवास पूरी तरह से जीत पाऔ. आब आयेज..

प्रीति: तुम मुझे इतना प्यार करते हो. मेरे लिए खुद को डोस मत दो. ई लोवे योउ आंड उसने मुझे हग कर लिया.

मेरा लॅंड उसकी छूट मे रग़ाद रहा था उसे गले लगते टाइम क्यूँ की हम नेकेड है थे.

प्रीति: आशीष नाउ प्लीज़ लोवे मे, मुझे और प्यार करो.

मे: ठीक है प्रीति बुत मे तुम्हारी वर्जिनिटी नही तोड़ने वाला.

(मे प्रीति के नज़र मे और भी अछा बने के लिए ये सब बोल रहा था आंड मे कोई भी झलबाज़ी नही करना चाहता था.)

प्रीति थोड़ी साद हुई आंड अपने कपड़े पहनने लगी.

मेरे दिमाग़ मे एक प्लान आया फाइनली प्रीति को चोने का. मैने भी अपना कपड़ा पहें लिया.

प्रीति किचन के और जाने लगी मैने कहा उधर कहा जेया रही हो?

प्रीति: किचन मे लंच रेडी करने.

मे: मुझे अवी दूसरा लंच करना है.

और प्रीति का हाथ पकड़ के अपने और किक्न्ह लिया और उसे किस करने लगा और उसे गोद मे उठा लिया.

प्रीति: गिरा मॅट देना मुझे.

मे: इतना कमज़ोर सोचा है क्या? चलो आज तुम्हे अपना सकती दिखता हूँ.

प्रीति: कहा ले जेया रहे हो?

मे: तुमने है तो कहा की मुझे और प्यार करो, प्यार करने ले जेया रहा हूँ.

और प्रीति को उठा के आंटी के रूम मे ले गया और उसे बेड पे लेता दिया.

प्रीति: काफ़ी वाइल्ड मूड मे लग रहे हो.

मे: आज मे वाइल्डेस्ट मूड मे हूँ.

और प्रीति का कपड़ा उतरने लगा और एक एक कर के सारा कपड़ा उतार दिया. आंटी के रूम मे एक दुपट्टा पड़ा था मैने दुपट्टा उठाया और प्रीति का दोनो हाट बेड से बाँध दिया, प्रीति की टशहिर्त से उसका आँखो को भी बाँध दिया और कहा-

मे: मेरे स्टार्ट होने के बाद तुम अपना आँख का पट्टी खोलने की कोसिस की तो मे वोही पे रुक जौंगा और आगे कुछ भी नही करूँगा.

प्रीति: आख़िर तुम करने क्या वाले हो?

मे: तुम्हे खुद पता चल जाएगा, एक मिनिट रूको मे अवी आया.

फिर मे जल्दी से किचन से आइस क्यूब्स ले आया और एक क्यूब लिया और प्रीति की निपल्स मे रगड़ने लगा प्रीति एक दान से उछाल गयी.

मे: क्लॅम डाउन बेबी अवी तो मैने स्टार्ट किया है.

मे आइस क्यूब को प्रीति की बूब्स से रगड़ने लगा. प्रीति की निपल्स एकदम खड़ा हो गया और मे उसकी रिघ्त निपल को अपने मूह मे ले के चूसने आंड काटने लगा आंड एक हाट से उसकी लेफ्ट बूब्स को दबाने लगा. मे प्रीति की निपल को अपने डाट से पकड़ के किचने लगा और उसकी बूब्स मे बीते करने लगा. आइस क्यूब आंड मेरे थूक से प्रीति की बूब्स एकदम चमक उठा.

प्रीति: आआहह आराम से उउफ़फ्फ़ माआ आआहह अया फक अया मार गयी.

मे: इतने मे है तुम्हारा हॉल्ट खराब हो रहा है आगे देखो और क्या क्या करता हूँ.

फिर मे आइस क्यूब को अपने मूह मे लेके नीचे की तरफ उसकी बूब्स से लेके पेट से होते हुए नवी के गढ़े मे रख दिया और प्रीति की नवी को चाटने लगा. प्रीति ज़ोर ज़ोर से सिसकारियाँ ले रही थी.

फिर मे उठा प्रीति को किस करते करते उसकी बूब्स को दबाने लगा और फिर से दूसरा आइस क्यूब लेके उसे प्रीति की छूट मे रगड़ने लगा. प्रीति मुझे किस कर रही थी और मोन कर रही थी

प्रीति: आज तो तुम मुझे पागल कर के मे मनोग अयाया आअहह फक एस्स आअहह..

मे प्रीति के कन मे बोला:- थे ग़मे इस नोट ओवर एट बेबी, इट इस जस्ट थे बिगिनिंग.

फिर मैने और एक आइस क्यूब लिया और उसे प्रीति की गंद की चेँड मे रब करने लगा और साथ है उसकी छूट को चाटने लगा एक आइस क्यूब अपने मूह मे लेके.

प्रीति: अया अया ठंडा ठंडा बहुत अछा लग रहा है, प्लीज़ कीप डूयिंग इट अया ऊऊहह माआ…

फिर मे वो आइस क्यूब प्रीति की गंद के चेँड के अंदर दल दिया प्रीति एक दम से उछाल पड़ी और अपना हाट खोलना छाती थी.

मे: हाट खोने के ग़लती मॅट करना. शांति से लेती रहो और एंजाय करो.

प्रीति: शांत रहने दे कहा रहे हो अया मे फील कर पा रही हूँ अपने गंद के अंदर आइस क्यूब को आअहह बहुत है ठंडा फील हो रहा है.

फिर मैने दो आइस क्यूब उठाया वो गाल के तोड़ा छोटे हो गया था उससे मैने प्रीति की छूट मे दल दिया और उसकी छूट की अपने दोनो उंगलियों से फेला के चाटने लगा. प्रीति की छूट का रश आइस क्यूब के साथ मिक्स हो के मेरे मूह मे आ रहा था उसका टेस्ट आज भी मुझे याद है.

प्रीति: अया अया तुम्हारा ग़मे तो और भी वाइल्ड होता जेया रहा है अया ऊओ एस आअहह…

मे: नो बेबी अवी भी ग़मे का फाइनल आक्ट बाकी है.

फिर मे उठ के प्रीति को अपना लॅंड चूसने लगा. मे अपना लॅंड प्रीति की होंठों मे रब करता और उसकी मूह मे दल देता. प्रीति मेरे लॅंड को गले तक लेके चूस रही थी.

मैने आब प्रीति की मूह को चोना स्टार्ट कर दिया. प्रीति मज़्ज़े से मेरे लॅंड को गले तक ले रही थी. कुछ देर चूसने के बाद मे उठ के खड़ा हो गया.

प्रीति: उठ क्यूँ गयी मुझे और चूसना है.

मे: नही बेबी इतना है काफ़ी है आब ग़मे का फाइनल आक्ट सुरू होने वाला है.

और मे उठ के प्रीति के परो के बीच आ गया और और उसकी पेर को अपने शोल्डर पर रख दिया और उसकी छूट मे अपना लॅंड रगड़ने लगा.

प्रीति: अया अया ऐसे के करते रहो आहह उफ़फ्फ़..

मे: तुम चुप छाप इश्स पल का मज़्ज़ा लो बेबी तुम आज का दिन कवि नही उल पावगी.

फिर मैने जो बचा हुआ आइस क्यूब का टुकड़ा था प्रीति की छूट मे दल दिया और उसकी छूट को अपने लॅंड से रगड़ने लगा. मुझे भी बहुत मस्त फील हो रहा था ठंडा ठंडा अपने लॅंड मे.

प्रीति: एस्स बेबी ऐसे है करते रहो अया रुक ना मत आ..

मे आब अपना लॅंड पकड़ के प्रीति की छूट मे तोड़ा दबा दबा के रगड़ने लगा.

प्रीति: अया ऐसे है करते रहो अया अया…

प्रीति की छूट पूरी गीली हो चुकी थी आब सही टाइम आ गया था उसकी चूत को फाड़ने का. फिर मैने अपना लॅंड प्रीति की छूट का दरवाज़ा के उप्र रख के तोड़ा देर रुक गया.

प्रीति: रुक क्यूँ गयी, रब करते रहो..

जैसे है प्रीति ने अपना सेंटेन्स कंप्लीट किया मैने के ढाका लगाया और मेरे लॅंड प्रीति की छूट को चीरते हुए आधा अंदर चला गया. प्रीति ने एक ज़ोर का मोन किया उसकी तो साँस है अटक गया.

प्रीति: आहह माआ उफफफफफफफफ्फ़ फुक्ककककककक आअहह एसस्सस्स…

फिर मैने दूसरा धक्का लगाया और मेरा पूरा लॅंड प्रीति की छूट मे चला गया. मे जो नही चटा था वो कर दिया.

जैसे है मैने दूसरा धक्का लगाया प्रीति ने फिर एक बार मोन किया.

प्रीति: आहह आशीष म्‍म्म्मम बहुत बड़ा है तुम्हारे लंड अया दर्द हो रहा है आअहह..

प्रीति एकदाम मचल उठी आंड उसकी छूट से तोड़ा तोड़ा खून निकलने लगा.

मे तोड़ा देर रुक के प्रीति की चूत की दीवारो को अपने लॅंड मे फील कर रहा था और फिर स्लोली स्लोली धक्का लगाने लगा. प्रीति लगातार सिसकारियाँ भर रही थी. अब प्रीति का दर्द आब मज़्ज़ा मे बदल गया था. प्रीति अब अपनी कमर उठा उठा के मेरे लॅंड को ले रही थी.

प्रीति: आअहह फक मे हार्डर अया और ज़ोर से छोड़ो फाड़ दो मेरी चूत अयाया आअहह..

फिर मैने धीरे धीरे अपना सीड बड़ाने लगा और लंबी लंबी शॉट लगाने लगा प्रीति की छूट मे. मैने नीचे से जोरदार झटको से प्रीतीई की छूट मरने लगा ओर काबीह प्रीतीई के होंठ चूस्ता तो कभी प्रीति के दोनो निपल्स को एक एक कर अपने होंठो में दबा के चूसने लगता.

प्रीति: आ आज मार लो आचे से एम्म्म मेरी चूत आज से ये चूत तरी हुए आहह एम्म्म ओह एसस्स.

लगातार 10 मीं की चुदाई के बाद प्रीति की साँसें फूलने लगी ओर उसका बदन काँपने लगा, में समझ गया था प्रीति झड़ने वाली है. उसकी छूट में अपने स्ट्रोक्स की स्पीड बढ़ा दी ओर उसके एक निपल को होंठो के बीच में दबा के चूसने लगा.

प्रीति: आहह प्लीज़ फक मे हार्दड़ आहह एस्स में झड़ने वाली हू आशीष म्‍म्म्मम आ एससस्स रूको मत प्लेआस्ीई..

में लगातार प्रीति की चूत में अपने लंड के जोरदार स्ट्रोक्स लगा रहा था, घमासान 10-15 धक्को के बाद प्रीति बोली.

प्रीति: आहह में झाड़ रही हू उफ़फ्फ़ आहह म्मुम्मय्यययया आ एससस्स ओह मी गोद्ड़द्ड ई आम कुम्मींगगग…

और फिर प्रीति का बॉडी ढीला पद गया प्रीति पूरा पसीना से विग गयी थी आंड मे भी मे भी. और 15-20 धक्को के बाद झड़ने वाला था. मैने अपना लॅंड प्रीति की चूत से निकाला और उसकी पेट मे आपना सारा माल गिरा दिया.

मैने जाब अपना लंड प्रीति की चूत से बरा निकाला तो वो खून से साना हुआ था. फिर मैने प्रीति की हाट खोला प्रीति ने सीधे मुझे गले लगा लिया और बोला.

प्रीति: थॅंक्स आशीष थॅंकआइयू सो मच. ये आज तक का सबसे बेस्ट एक्सपीरियेन्स था ई लोवे योउ.

फिर प्रीति मेरे चेस्ट मे, गाल मे, नेक मे, फोर्हेड मे किस करने लगी और ई लोवे योउ लोवे योउ बोल रही थी. फिर हम दोनो ने कुछ देर किस किया और आंटी का रूम ठीक करा और कपड़ा पहेने के ग्राउंड फ्लोर मे आ गये.

यह कहानी भी पड़े  लोडू़ भाई की रंडी बहन की सेक्सी हिंदी कहानी


error: Content is protected !!