कॉलेज स्टूडेंट्स के बीच ग्रूप सेक्स की कहानी

ही, मेरा नाम इशान, आगे 23 है. डाइरेक्ट्ली स्टोरी पर आता हू. मैं हॉस्टिल में रहता हू. ये बात 3 मंत पुरानी है. होली का दिन था. मैं और मेरे रूमेट ने ड्रिंक करने का प्लान किया, और हम वोड्का लेकर आ गये.

मेरे रूमेट की गफ़ को भी ड्रिंक करनी थी. तो वो भी हमारे साथ जाय्न हुई. दोस्त की गफ़ अपनी 2 फ्रेंड्स के साथ आई थी. इशान, राहुल, राज, प्रीति ( राज की गफ़ 34-28-36 ), वैशाली ( 34-26-34), कुसुम ( 36-30-38), ये सब कहानी के मैं कॅरेक्टर्स है.

ज़्यादा टाइम वेस्ट नही करते हुए डाइरेक्ट्ली स्टोरी पर आता हू. मैने सब के लिए पेग बनाया. सब इधर-उधर की बातें करने लगे. फिर 3-3 पेग के बाद.

इशान: क्या यार, ये होली इतनी सूखी-सूखी है. सिर्फ़ दारू में मज़ा नही आ रहा है?

वैशाली: तुम्हारे मज़े के लिए मुज़रा चाहिए क्या तुमको?

इशान: मुज़रे में इतना मज़ा कहा. स्ट्रीप डॅन्स करोगी तो बताओ ( वैशाली के बूब्स की और देखते हुए).

प्रीति (हेस्ट हुए): डॅन्स तो बहुत अछा करती है वैशाली.

राज: ये टॅलेंट भी है इसमे, ये तो पता ही नही था. मौका मिलेगा क्या लिव देखने का?

राहुल: वैसे भी 3-3 इतनी सुंदर लड़कियाँ सामने डॅन्स करे तो मज़ा ही आ जाएगा होली का?

कुसुम: क्यूँ, लड़के नही कर सकते क्या डॅन्स? हमे भी तो एंजाय करना है. तुम करो डॅन्स, हम देखेगे?

इशान: अगर हम लड़के करेंगे तो कोई लिमिट नही होगी. फिर तुमको भी करना पड़ेगा?

कुसुम: डरते है क्या हम?

प्रीति: हा हम भी करेंगे. पहले तुम स्टार्ट करो.

वैशाली प्रीति को देखते हुए बोली: नही यार.

इशान: क्यूँ क्या हुआ? हम कोई भूत है क्या?

सब हासणे लगे, और लड़के रेडी हो गये. सब सुरूर में थे.

(फिर राहुल और इशान आपस में प्लान करते है आज छोड़ने का लड़कियों को. और राज को भी हिंट दे देते है )

लड़कियाँ अपने-अपने ग्लास के साथ सॉंग स्टार्ट करती है. पहले राहुल स्टार्ट करता है. वो डॅन्स करते-करते स्ट्रीप करने लगता है. पहले वो अपनी त-शर्ट उतारता है. फिर अपनी जीन्स. अब वो सिर्फ़ अपने अंडरवेर में था. सब लड़कियाँ चियर करती है राहुल को.

फिर मैं भी अपने कपड़े उतारता हू. राहुल मेरे पीछे ही डॅन्स करता है. फिर राज भी आता है. अब हम तीनो लड़के सिर्फ़ अंडरवेर में डॅन्स कर रहे होते है. सब लड़कियाँ एग्ज़ाइटेड हो जाती है, और गरम भी होने लगती है. प्रीति उठ कर राज के पास आती है, और लीप किस करना स्टार्ट कर देती है.

राज भी पूरा सपोर्ट देता है, और सब चियर करने लगते है. फिर किस करते-करते राज प्रीति का टॉप उतार देता है, और पूरी बॉडी के साथ खेलने लगता है. इतने में राहुल भी धीरे से कुसुम के पास चला जाता है, और उसको किस करने लगता है.

वो दोनो भी किस में बिज़ी हो जाते है. मैं भी हिम्मत करके वैशाली के पास जेया कर उसको किस करने लगता हू. और उसको फ्लोर पर ही लिटा कर किस करने लगता हू.

मैं वैशाली को किस करते-करते उसका टॉप और जीन निकाल लेता हू. रेड ब्रा और पनटी में फ्लोर पर लेती हुई कमाल लग रही थी वो. फिर मैं देखता हू राज और प्रीति दोनो नंगे हो गये थे, और राज प्रीति को वॉल के पास करके उसकी पूरी बॉडी के साथ खेल रहा था.

राहुल और कुसुम दोनो चुदाई करने लगे थे, और कुसुम ज़ोर-ज़ोर से आ आ श ह्म की आवाज़े निकाल रही थी. ये देख कर मैं जोश में आ गया. मैं भी वैशाली को नंगा करके उस पर टूट पड़ा.

मैं उसके मुलायम बूब्स एक हाथ से प्रेस कर रहा था, और दूसरे से उसकी छूट को रग़ाद रहा था.

वैशाली: बर्दाश्त नही हो रहा. अब छोड़ दो मुझे. बहुत ज़्यादा मॅन कर रहा है.

मैं: अभी कहा मेरी जान. अभी तो मुझे तेरे शरीर के मज़े लेने दे.

और मैं फिरसे उसके बूब्स के साथ खेलने लगा. फिर मैने अपना लंड उसके मूह में दे दिया. मस्त लॉलिपोप की तरह चूसने लगी. मज़ा आ रहा था. 5 मिनिट लंड चूसने के बाद मैंस उसको अपनी और किया, और छूट में लंड डाल दिया. पहली बार में 2 इंच ही गया, और ज़ोर-ज़ोर से आहें भरने लगी.

मैने पूछा: वर्जिन हो?

उसने हा कहा. मैं तो वही खुश हो गया, की वर्जिन छूट मिल रही थी. 5 मिनिट मैं उसको किस करता रहा, और रुका रहा. जब उसको बेटर लगने लगा. फिर धीरे-धीरे पूरा लंड उसके अंदर डाल दिया.

20 मिनिट चुदाई करते रहे हम. उसके बाद मैं झाड़ गया उसकी छूट में ही. वो 3 बार झाड़ चुकी थी. मैने देखा तो राज और राहुल दोनो ने स्वाप कर दिया था. राज डॉगी स्टाइल में कुसुम को छोड़ रहा था, और राहुल प्रीति को. मैं राहुल और प्रीति के पास गया, और राहुल को इशारा किया.

राहुल समझ गया, और प्रीति को अपने उपर ले आया. मैने पहले प्रीति को अपना लंड चुस्वाया. फिर जब वो दोबारा खड़ा हो गया, मैने पीछे जेया कर प्रीति की गांद में डाल दिया. प्रीति दर्द की वजह से बहुत तेज़ चिल्लाई. राज और कुसुम दोनो अपनी चुदाई छोढ़ कर हमारे पास आ गये.

कुसुम फिर प्रीति को किस करने लगी, की आवाज़ बाहर ना जाए. उधर राज वैशाली के पास जाता है, जो मछली की तरह फ्लोर पर लेती होती है, और उसकी चुदाई करने लगता है. प्रीति का दर्द के वजह से बुरा हाल था. मुझे और राहुल को कोई फराक नही पद रहा था. हम दोनो बस चुदाई में लगे थे.

राहुल झड़ने के बाद उठता है. मैं अभी भी प्रीति की गांद मारता रहता हू. राहुल वॉशरूम से आता है, और कुसुम को फिर अपना लंड चुस्वा कर खड़ा कर देता है. फिर वो राज और वैशाली के पास जेया कर राज को हिंट देता है.

राज भी समझ जाता है, और वैशाली को अपने उपर कर लेता है. वैशाली दर्र जाती है, और माना करने लगती है की वो एक बार में दो नही ले पाएगी. बुत राज उसको अपनी और खींच लेता है, और पकड़ लेता है. राहुल ये बात का फ़ायदा उठा कर उसकी गांद में एक ही बार में ही लंड डाल देता है.

वैशाली बेहोश सी हो जाती है. फिर भी दोनो नही रुकते है, और चुदाई करते रहते है. कुसुम मेरे पास आ कर मुझे किस करने लगती है. मैं कुसुम को बीतता हू, और उसके मूह में अपना लंड दे कर चढ़ जाता हू.

कंटिन्यू करेंगे नेक्स्ट पार्ट में. कैसे कुसुम को तीनो ने एक साथ छोड़ा, और वैशाली और प्रीति को लेज़्बीयन करवाया. किसी लड़की या भाभी को सेक्स टेक्स्ट करना हो तो मैल करे और अपना फीडबॅक ज़रूर लिखे.

यह कहानी भी पड़े  मेरी मम्मी को चोदा पापा के दोस्त ने


error: Content is protected !!