चुपके चुपके चूत चोदने का मजा

मेरा नाम प्रफुल्ल है.. अभी इंदौर में रहता हूँ। मुझे अन्तर्वासना पर लड़कियों की लिखी हुई हिन्दी सेक्स कहानी पढ़ना ज्यादा अच्छा लगता है।
मैं अन्तर्वासना का बहुत बड़ा दीवाना हूँ। मैं सेक्स कहानी पढ़ने के बाद मुठ मारे बिना नहीं रह पाता हूँ।

यह मेरी जिन्दगी की सच्ची कहानी है।

बात उन दिनों की है.. जब मैंने डिप्लोमा में एडमिशन लिया था। मेरा होमटाउन और वर्तमान शहर पास-पास ही है।

मैं अपने होम टाउन में डिप्लोमा करने चला गया.. जहाँ मेरी दादी अकेली रहती थीं.. पास ही मेरा बचपन का दोस्त रिंकू रहता था।

एक दिन हम दोनों घूमने गए.. तभी वो बोला- चल मेरी गर्लफ्रेंड से मिलाता हूँ। उसका नाम एंजेल था।
मैंने मजाक में कहा- चल..

थोड़ी देर में हम कॉलोनी पहुँच गए.. उसने अपनी गर्लफ्रेंड को फ़ोन लगाया और कुछ बोला।
फिर मैंने देखा- वो पीछे के दरवाजे से अन्दर घुस गया और मुझे भी जल्दी से अन्दर बुला लिया।
उसकी गर्लफ्रेंड एंजेल ने दरवाजा खोल रखा था.. हम दोनों अन्दर चले गए।

सेक्सी लड़की
मैं तो उसकी गर्लफ्रेंड एंजेल को देखता ही रह गया। क्या गदर माल थी। गोल-गोल गाल.. काली आँखें.. एकदम गोरी चिकनी.. ऐसा मन हो रहा था कि अभी इसे नंगी करके चोद दूँ।

उसने हमें बैठाया.. गर्मी का टाइम था तो उसने कोल्डड्रिंक पिलाई।

हम थोड़ी देर बैठे ही थे कि उसकी छोटी बहन काजल आ गई.. जो अपनी समर क्लास गई हुई थी।
मेरा मन तो उसे देख कर खुश हो गया.. वो भी एकदम कमाल की थी।
उसके बोबे भी थोड़े बड़े थे.. जो कि बहुत ही मस्त लग रहे थे।
वो भी वासना की खुली दुकान सी थी।

यह कहानी भी पड़े  दीदी अब तक कुँवारी थी जब मैने उनकी सील तोड़ी

मेरे दोस्त ने मुझे उससे मिलाया और वो अपने कमरे में चली गई।

थोड़ी देर बाद रिंकू ने एंजेल से कहा- मैं थोड़ी देर में आता हूँ और हम दोनों चले गए।

बाहर निकलते ही मैं अपने दोस्त पर टूट पड़ा- साले क्या माल फंसाया है।
वो मुस्कुराने लगा।

मैंने कहा- इसके घर में कोई नहीं रहता क्या?
वो बोला- ये लोग बाहर के हैं.. उनके पापा-मम्मी अपने गाँव वाले घर गए हैं.. वे अक्सर इन्हें यहीं छोड़ जाते हैं.. क्योंकि वो सरकारी कॉलोनी में रहते थे, तो कोई डर वाली बात नहीं थी। वहाँ गार्ड भी रहते हैं।

मैंने पूछा- इनके पेरेंट्स कब आएँगे?
वो बोला- वो 4-5 दिन बाद आएंगे और में 4-5 दिन तक दिन भर यहीं रहूँगा.. कभी-कभी तो रात को भी यहीं रहता हूँ। मुझे ऐसा मौका मिलता रहता है।

तभी मैं बोला- वो उसकी छोटी बहन.. उसका कोई बॉयफ्रेंड है क्या?
वो बोला- नहीं.. वो ऐसी नहीं है।
मैं बोला- मुझे वो चाहिए।
वो बोला- मैं अपनी गर्लफ्रेंड से बात करता हूँ।
मैंने कहा- अभी कर..

क्योंकि मेरा लंड तो चूत के लिए तड़प रहा था। उसने फ़ोन लगाया और एंजेल से बात की और उसने मेरी बात काजल से कराई।

आई लव यू
मैंने काजल से कहा- आपको देखते ही मुझे प्यार हो गया है।
वो कुछ नहीं बोली..
तो मैंने ‘आई लव यू’ बोल दिया।
वो तब भी कुछ नहीं बोली।
मैंने कहा- आपका क्या इरादा है।
वो बोली- मुझे टाइम चाहिए।
पर मैंने कहा- अभी ‘हाँ-ना’ जो है.. बोल दो.. मैं इंतज़ार नहीं कर सकता। फिर कुछ सोचते हुए उसने ‘आई लव यू टू’ बोल दिया।

यह कहानी भी पड़े  भाभी की चुदाई शादी में

मैं तो मन ही मन खुश हो रहा था। फिर रिंकू थोड़ी देर बाद एंजेल के घर जा रहा था.. उसने मुझसे कहा- नई गर्लफ्रेंड से मिलने चलना है क्या?

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!