कॅनडा में लेडी ओनर की दोस्त ने ली मेरी वर्जिनिटी

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सब? उम्मेड करता हू की आचे ही होंगे. आज मैं आपको सुनने जेया रहा हू मेरी एक कहानी, जो हाल ही में मेरे साथ हुई. मैं राहुल, उमर 20 साल, और अभी अपनी पढ़ाई के लिए कॅनडा में रहता हू.

यहा मैं एक ओनर के 2भक घर में रहता हू, आस आ पेयिंग गेस्ट, आंड मुझे अब कुछ महीने हो चुके है. ओनर की बात करू तो उनका नाम मुस्कान है, और वो यहा की लोकल सिटिज़न है. वो एक कॉर्पोरेट इंडस्ट्री में मॅनेजर है. रोज़ वो फॉर्मल कपड़े पहन कर ही जाती है, जैसे फॉर्मल पॅंट्स, उसके साथ टॉप या कभी शर्ट और उपर से कोई जॅकेट.

वो है तो 40 साल की, लेकिन काफ़ी सुंदर और यंग लगती है. काफ़ी ओपन माइंडेड है वो हर बात में, और हमेशा खुश ही लगती है. उनके साथ उनका एक बेटा भी है, जो इस वक़्त हाइ स्कूल में है. मुस्कान और उनका बेटा एक कमरे में सोते है, और मुझे दूसरा कमरा दिया गया था. वो अक्सर खुद के लिए खाना बनती तो मेरे लिए भी बना दिया करती थी.

उनका बेटा दरअसल ज़्यादा मिक्स नही होता लोगों से. मुस्कान ने बताया की वो अपने पापा पर गया था बिल्कुल शांत और इंट्रोवर्ट टाइप का. उनका कुछ साल पहले डाइवोर्स हो चुका था, और तब से उन्होने अकेले ही घर संभाला था.

खैर अब मेरी बात पर आते है. तो मुस्कान जब भी शॉपिंग करने जाती, तो कभी मुझे या कभी उनके बेटे को लेकर जाती और सारे महीने का समान एक ही साथ ले आती. ऐसे ही कुछ वक़्त से मैं उनके साथ जाने लगा था उनकी हेल्प करने के लिए.

महीने में कुछ एक बार मुस्कान मुझे रिक्वेस्ट करती की मैं आधी रात को बाहर हॉल में सो जौ, और वो मेरा रूम उसे कर लेती थी. दरअसल वो रोज़ जिम या स्विम्मिंग पूल, दोनो में से एक आक्टिविटी तो ज़रूर करती थी, और इस वजह से उनकी खूबसूरती कमाल की है.

वो दरअसल लोग अकेले रहते है तो उनकी नीड्स तो होती ही है, इसलिए कभी उनके ऑफीस का कोई कोलीग, या फिर कभी वो डटे पर जाती थी, तो किसी को ले आती घर पर, और मेरे रूम में सेक्स करती थी.

अब कमरे तो दो ही थे. एक में उनका बेटा होता था, तो उसके सामने तो कर नही सकती थी. इसलिए वो मुझे रिक्वेस्ट करती थी, की मैं कुछ देर बाहर हॉल में वेट कर लू. इस वजह से वो मुझसे रेंट भी कम लिया करती थी.

हमने इस बारे में कभी ज़्यादा बात की नही. लेकिन ऐसे ही एक रात कुछ हुआ था, जिसकी वजह से मैं रात में सो नही पाया. और अगले दिन मैं उनके साथ शॉपिंग पर चला गया. लेकिन मुझे काफ़ी नींद सी आ रही थी, और मैं बस ट्रॉली लेकर पीछे-पीछे चल रहा था.

मुस्कान: अछा राहुल, वेट करो, मैं दूसरे सेक्षन में जेया कर आती हू.

राहुल: कहा जाना है बताइए, मैं भी चल लेता हू.

मुस्कान: अर्रे वो लॅडीस सेक्षन में जाना है. तू क्या करेगा?

राहुल: वैसे भी बिलिंग सेक्षन वही पर है. आपने सब समान तो ले लिया है. वही से बिलिंग सेक्षन में चले जाएँगे.

मुस्कान: आक्च्युयली मुझे पॅड्स वग़ैरा लेने है, आंड बाकी कुछ चीज़े.

राहुल: श (कुछ सेकेंड्स साइलेंट रहा). अछा तो कोई बात नही, मैं साइड में वेट कर लूँगा. यहा अकेले क्या करूँगा मैं?

मुस्कान: अछा कम. बस वो लेकर फिर हम चलते है.

हम आयेज बढ़े और मुस्कान ने कुछ 2 पॅकेट्स पॅड्स लिए, आंड हम आयेज बढ़ रहे थे. फिर वो कॉनडम्स वाले सेक्षन में रुकी, और ब्रॅंड्स आंड ऑल सब चेक करने लगी. ऐसे ही चेक करते-करते उन्होने नॉर्मली मुझसे पूछा.

मुस्कान: अछा आज कल की जेनरेशन के बच्चो का फॅवुरेट फ्लेवर कों सा है?

राहुल: वो मुझे कैसे पता होगा. आप जो देख रही है वो तो मैने कभी उसे नही किया है. आंड वैसे भी आप एक लड़के से पूच रही है फ्लेवर. इसमे हमारे टेस्ट का क्या लेना-देना?

मुस्कान: ई नो बेटा, लेकिन बता तो दे. सिर्फ़ फ्लेवर ही तो पूछा. ई आम गेटिंग कन्फ्यूज़्ड बिट्वीन चॉक्लेट आंड माँगो.

राहुल: चॉक्लेट ले लो. वैसे भी डार्क चॉक्लेट पे माँगो फ्लेवर सूट नही करेगा. (डबल मीनिंग जोक मारते हुए)

मुस्कान: इस्श बदमाश! ओके, लेट’स टके चॉक्लेट. एक काम करती हू, दोनो ले लेती हू. वैसे भी उसे होता रहता है.

राहुल: वैसे आंटी, ई डॉन’त नो अबौट तीस. बुत इसमे सिर्फ़ फ्लॅववर्स की वेराइटी होती है? या कोई और भी केटेगरी होती है?

मुस्कान: इट’स जनरली फ्लेवर आंड साइज़. यूष्यूयली लोग नॉर्मल साइज़ लेते है, विच फिट्स फॉर 5-7 इंच लोंग. बुत तेरे इस ऑल्सो आ लार्जर साइज़ जो, योउ नो जिनका होता है.

राहुल: श देन आप कों सी साइज़ लेते हो?

मुस्कान: ई टके थे नॉर्मल साइज़. बिकॉज़ आवरेज साइज़ इसके अंदर होता है मेल्स का, आंड फिट हो जाता है.

राहुल: अछा मैने पूछा नही आप से. आक्च्युयली अगर मैं किसी फ्रेंड को घर बुलाना चाहु पढ़ाई के लिए, तो बुला सकता हू?

मुस्कान: पढ़ाई के लिए? एस ऑफ कोर्स बचा. आंड योउ अरे फ्री तो कॉल युवर फ्रेंड्स एनिवन अन्य टाइम. योउ पे थे रेंट. वैसे आज इतने सवाल किस लिए?

राहुल: वो तो बस ऐसे ही. क्यूरीयासिटी से पूच लिया.

मुस्कान: ड्के योउ वॉंट तो बाइ वन पॅकेट फॉर योउ?

राहुल: नो आंटी, इट’स ओके. मुझे अभी उसकी ज़रूरत नही पड़ी. और वैसे भी ई थिंक मुझे नॉर्मल साइज़ वाला फिट नही होगा.

मुस्कान: क्या मतलब? और वैसे भी कभी ज़रूरत लगे, तो माँग लेना मुझसे. तू तो जानता है ई कीप दीज़ स्टॉक्स फॉर प्रोटेक्षन.

राहुल: वो आक्च्युयली ई हॅव बिग्गर देन आवरेज साइज़. हा शुवर. कभी ज़रूरत पड़ी तो आप से माँग लूँगा.

मुस्कान: रियली? हाउ बिग इट इस बेटा?

राहुल: इट’स ऑलमोस्ट 8 इंचस.

मुस्कान: चल झूठा, 8 सीयेम होगा. इंच आंड सीयेम में फराक होता है बेटा.

राहुल: नो आंटी. इट’स रियली 8 इंचस.

मुस्कान: वाउ, तट’स आ गुड साइज़ तुम्हारी आगे के लिए. वेल अब चले?

फिर हम आयेज बढ़े, और हम घर पहुँचे. उसके बाद कुछ दिन तो वैसे ही आंटी किसी ना किसी को बुलाती और मैं बाहर वेट करता. ऐसे ही मेरी एक बार ऑनलाइन साइट से एक लड़की से बातें होने लगी, आंड वो भी मेरे ही कॉलेज में स्टूडेंट थी. तो हम मिलने लगे.

धीरे-धीरे हमने प्लान किया सेक्स करने के लिए. अब वो उसकी फ्रेंड्स के साथ रहती थी, तो मैं उसके रूम में जेया नही सकता था. देन मैने उसे अपने घर बुलाया, बिकॉज़ अब आंटी ने पर्मिशन तो दे ही रखी थी.

तो हमने फ्राइडे रात का प्लान बनाया. वो करीब 12 बजे घर आई, और हम मेरे कमरे में गये.

वैसे तो वो खुद ही कॉंडम का पॅकेट लेकर आई थी, और उसने एक ब्लॅक टाइट जीन्स वाइट त-शर्ट टाइट और उपर जॅकेट पहन रखा था. उसका नाम ओलिविया था आंड शी वाज़ फ्रॉम ऑस्ट्रेलिया. मैने सोचा यार चलो अब वर्जिनिटी तोड़नी है और वो भी किसी फिरंगी के साथ, तो इससे अछा मौका क्या हो सकता था.

मैं और वो दोनो एग्ज़ाइटेड काफ़ी थे. हमने पहले थोड़ी बातें की, आंड कुछ देर बाद उसने अपनी जॅकेट उतार दी. वैसे दोस्तों आप कभी फॉरिनर्स को देखोगे ना तो वो अपनी बॉडी को बहुत मेनटेन रखते है. मतलब इतनी पर्फेक्ट बॉडी और ज़रा भी पेट नही.

जिम में देखो तो मस्त टाइट्स पहन कर आती है, जिसमे से उनकी गांद की शेप क्लियर्ली आप इमॅजिन कर सको ऐसा. खैर मैं बेड पे सपोर्ट लेकर बैठा था, और इतने में ओलिविया जॅकेट उतारने के बाद मेरे पास आई. फिर वो मेरी तरफ मूह करके मेरे थाइस पर बैठ गयी.

मैने अपने हाथ उसकी पीठ पर रखे, और हम स्मूच करने लगते. कभी वो मेरे होंठ चूस्टी, तो कभी मैं. हम धीरे-धीरे टंग किस भी करने लगे थे, और एक-दूसरे की जीभ भी चूसने लगे थे. मैने किस करते-करते ओलिविया की त-शर्ट उतार दी, जिसके अंदर उसने ब्लॅक कलर की ब्रा पहनी हुई थी.

उसके बूब्स मीडियम साइज़ के थे, लेकिन काफ़ी गोरे और रौंद शेप के थे. खैर फिर मैने उसको अपनी तरफ खींचा, और वो मेरे थाइस पे ही खुद की गांद रब करने लगी. फिर स्मूच करते-करते उसने मेरी भी त-शर्ट उतार दी, आंड शी स्टार्टेड किस्सिंग मी चेस्ट आंड निपल्स. वो मेरी चेस्ट पे किस करती और निपल्स चूसने लगती. मुझे बहुत अछा लग रहा था.

फिर मैने अपने हाथ उसकी पीठ पे रखे, और उसकी ब्रा का हुक खोला, जिसपे उसने तुरंत अपने हाथ निकाल दिए, और ब्रा साइड में रख दी. मैने उसके मुलायम बूब्स को पकड़ा, और कुछ देर दबाने लगा. वो अपने हाथ मेरे बालों में घूमती.

कुछ देर तक जब मैं सिर्फ़ दबा रहा था, तो वो बोली.

ओलिविया: डियर योउ नीड तो सक थे निपल्स आस वेल. अरे योउ गॉना स्टेर अट देम ओन्ली? (बूब्स खुद हाथ में पकड़ते हुए)

फिर मैं बूब्स की तरफ बढ़ा, और मैं उसके निपल्स चूसने लगा. वो काफ़ी लाइट कलर थे, और अरेवला भी छ्होटा ही था. जैसे फॉरिनर्स का यूष्यूयली होता है. लाइट कलर के निपल्स.

तो मैं बस चूस ही रहा था, की इतने में मेरे रूम का डोर खुला और हमने देखा की मुस्कान आंटी थी. हम दोनो चौक गये. एग्ज़ाइट्मेंट में याद ही नही रहा दरवाज़ा लॉक करना. हमे इस तरह देख कर मुस्कान फिर बाहर चली गयी.

मैने अपनी त-शर्ट पहनी, और ओलिविया ने भी जल्दी-जल्दी में अपनी त-शर्ट पहन ली, और मैं बाहर गया पूछने की क्या हुआ.

मुस्कान: श सॉरी बेटा, ई डिड्न’त नो तेरा भी आज प्लान था. ई वांटेड तो उसे युवर रूम टुनाइट, इसलिए आई थी.

राहुल: आक्च्युयली आज मुझे भी रूम चाहिए था. योउ नो ना इट’स मी फर्स्ट टाइम आंटी.

मुस्कान: या बच्चा, बुत मैं बाहर हॉल में नही कर सकती. मेरा बेटे ने देख लिया तो इट कॅन बे आ प्राब्लम. वाइ डॉन’त योउ गाइस कंटिन्यू इन थे हॉल?

राहुल: बुत देन बाहर ओपन में? ई मीन इट’स अनकंफर्टबल. आंड ओलिविया को पता नही कैसा लगेगा.

मुस्कान: प्लीज़ बच्चा, ई आम शुवर योउ कॅन मॅनेज.

खैर मैं उनके घर में था, तो उनकी बात तो माननी पड़ेगी ना. फिर मैं और ओलिविया बाहर आए और मुस्कान और वो कोई लड़का था जो मेरे रूम में चले गये. हम बाहर सोफा पर बैठे

ओलिविया: वॉट हॅपंड?

राहुल: ई थिंक वी हॅव तो वेट फॉर सम टाइम. टिल थे टाइम थे कंप्लीट सेक्स.

ओलिविया: नो प्राब्लम बडी. वी कॅन वेट आंड ई कुड रियली फील तट बोनेर फ्रॉम युवर पॅंट्स हनी.

उसने सीधा मेरे जीन्स पे हाथ रखा, आंड वो तो वही पे करने को भी रेडी थी. बुत मैने सोचा फर्स्ट टाइम था, तो . में . से टाइम लेकर करना अछा .. तो मैने उसे ., और हमने सोचा कुछ देर वेट कर लेते है.

करीब 1 अवर हमने वेट की, लेकिन आंटी बाहर ही नही आ रही थी. ओलिविया फुल मूड में थी और मैं भी. हमने फिर सोचा छ्चोढो यार यही कर लेते है.

इसी तरह हमने फिरसे स्मूच से शुरू किया, और मैं ओलिविया की त-शर्ट के उपर से ही उसके बूब्स दबा रहा था. मैं जैसे ही त-शर्ट उपर करने जेया रहा था, तो ओलिविया ने रोक दिया

ओलिविया: योउ ऑलरेडी सक्ड देम. योउ वाना टेस्ट पुसी? इट’स रियली वेट आंड ई वॉंट योउ तो ईट मे डियर.

राहुल: शुवर, ई वुड लोवे इट.

ये सुनते ही ओलिविया उठी, और उसने अपनी जीन्स के बटन खोले, और ज़िप नीचे करके उसने पनटी के साथ ही अपनी जीन्स घुटने तक नीचे कर दिए. मैने लाइफ में फर्स्ट टाइम एक छूट अपने आँखों से देखी, और वो बिल्कुल शेव्ड थी, जैसे उसपे कभी बाल आए ही ना हो इतनी सॉफ. वो भी किसी फॉरिनर की. अफ मैं तो वेट नही कर पा रहा था चाटने के लिए.

फिर वो सोफा के आयेज अपनी जीन्स घुटने तक उतरी थी, वैसे ही खड़ी रही, और मैं उसके सामने बैठ कर अपनी जीभ निकाल के अब छूट चाटने लगा था. वो बहुत जुवैसी थी, और मैं बस जीभ हर जगह घुमा रहा था.

ओलिविया: डियर, योउ नीड तो सक तीस टू… (अपनी क्लिट पे उंगली से मुझे दिखाते हुए)

मैने फिर क्लिट को अपने होंठो के बीच लिया और चूसने लगा. हमे कुछ 5 मिनिट ही हुए होंगे, की इतने में आंटी ने मेरे रूम का डोर खोला. वाहा से आंटी और वो लड़का बाहर आए जिसपे हम फिर रुक गये, और ओलिविया ने अपनी पनटी और जीन्स उपर कर ली.

वो लड़का भी घर से जाने लगा, और मैं सोफा पर बैठ गया. इस्पे ओलिविया आक्च्युयली नाराज़ हो गयी, और वो गुस्से में अपने कपड़े ठीक करके घर से जाने लगी.

ओलिविया: ई थॉट योउ साइड योउ हद आ रूम आंड हद प्राइवसी. बुत गुड लक वित सम अदर गर्ल ब्रो. ई आम लीविंग.

राहुल: हे ई आम सॉरी, वी हॅव आ रूम नाउ. वी कॅन कंटिन्यू तेरे.

उसपे ओलिविया ने मिड्ल फिंगर दिखाई और वो चली गयी. मैं तो ऐसे ही लटक गया. इस्पे मुस्कान आंटी भी गिल्टी फील कर रही थी, और मेरे पास आ कर बैठी.

मुस्कान: सॉरी, ई थॉट तुम लोगो का हो चुका होगा.

राहुल: दो बार शुरू किया आंड दोनो बार आपने रोक दिया. (साद टोने में)

मुस्कान: अंजाने में हुआ बच्चा, ई आम सॉरी. डॉन’त वरी, तू उसे कल बुला ले. मैं कल का कुछ प्लान नही करूँगी

राहुल: वो कैसे आएगी अब? ई हद सच आ गुड चान्स तो ब्रेक मी वर्जिनिटी तो आ फॉरिनर गर्ल. बुत अब तो वर्जिनिटी भी टूटेगी या नही ई डॉन’त नो.

इतनी मुश्किल से तो कोई सेट हुई थी.

मुस्कान: अछा मेरी वजह से हुआ ना? डॉन’त वरी मैं इसे फिक्स करती हू.

तो दोस्तों आपको यहा तक की कहानी कैसी लगी, मुझे गमाल करके ज़रूर बताए, और इसके आयेज के पार्ट्स के लिए मेरे साथ बने रहिए. शुक्रिया.

यह कहानी भी पड़े  किरायेदार और कॉल बॉय के साथ चूत ठंडी की


error: Content is protected !!