सुंदर छोटी बहन के साथ हॉट चुदाई

ही दोस्तो, मेरा नाम रणबीर है (नाम चेंज्ड) मेरा लंड 7″ का है जो किसी भी लड़की भाभी को शांत कर सकता है.

मेरे घर मे मई और मॅमी पा रहते है. मई देल्ही मे रहता हू. स्टोरी मेरी और मेरी बेहन लव्ली के बेच की कैसे मैने उसे छोड़ा.

ये स्टोरी मेरी बेहन की है जो रियल बहें नही मेरे परोस मे रहती है. जिसका नाम लव्ली है उसका फिगर 30 28 30 है. जिसे देख के किसी का भी लंड खड़ा हो जाए.

हम बचपन से ही एक साथ खेले पड़े लिखे है. वो मेरे से 3 साल छोटी है. ओस्कि फॅमिली मे ओस्कि बेहन भाई और मम्मी पापा रहते है. मैं और उसका भाई हम दोनो एक ही स्कूल मे पड़ते थे. और उसकी बेहन मेरे से 2 साल बड़ी है. उसका फिगर भी एक दूं मस्त 32 30 32.

(मई बचपन मे लव्ली के बूब्स दबाता था और वो मेरे लंड से खेलती थी. पर ह्यूम उस टाइम कोई ज़्यादा पता नही था क्या कैसे होता है. बस तोड़ा बोट मेरे को टा था और मई मजे ले लेता था.)

अब हम ब्दे हो चुके थे. मेरा मॅन बचपन से ही लव्ली को छोड़ने का था. पर बेहन होने की नाते मेरे को दर लगता था. की कही कुछ ग़लत ना हो जाए.

मई बचपन मे बोट बरी उसके बूब्स दबाए है खेल खेल मे और वो कुछ बोलती नही थी. एक बार की बात है मेरे उसके घर आना जाना तो लगा ही रहता था. उसके घर वाले मेरे को भी अपना ही बेटा मानते थे तो कोई ग़लत नही सोचता था.

तो मई ओँके घर गया और लव्ली घर मे अकेली थी. वो मुझे देख के बोली की तुम आए हो तो थोड़ी देर बैठ जाओ, मई नहाने जेया रही हू. मैने कहा ओकक और मई टीवी देखने लग गया.

थोड़ी देर बाद जब वो न्हा के बाहर आई तो मई देखते ही रह गया. उसके शॉर्ट और टॉप पहना था और फेस से पानी गिर गया था. और मेरा द्‍यान उसके बूब्स पे गया तो उसके निपल खड़े थे. जिसे देख के मेरा लंड भी खड़ा हो गया और उसके देख लिया-

लव्ली. क्या देख रहा है?

मैं. कुछ नही बस तेरी जैसे खूबसुरब लड़की नही देखी काबी.

लव्ली. अछा अपनी ही बहन पे लाइन मार रहा है.

मैं. नही नही ऐसा कुछ नही है.

फिर हम दोनो बैठ के टीवी देखने लग गये.

लव्ली. तूने आज तक नही बताया तेरी कोई गफ़ है?

मैं. नही यार कोई मिली नही अबी तक.

लॉवले. क्यू तेरे तो कलाज मे बोट सी लरकिया होगी तो कोई गफ़ क्यू नही?

मैं. मेरे को तेरी जैसे लड़की चाहिए सुंदर और हॉट.

लव्ली. अछा ऐसा क्या अछा ल्गता है मेरे मे जो किसी और लड़की मे नही लगा?

मैं. बस तेरे को देखता हू तो पागल हो जाता. बचन से तेरे को गफ़ बनाना चाहता हू पर कभी बोलने का मौका नही मिला.

लव्ली. बस बस ज़्यादा बाते ना बना.

फिर मई चुप हो गया और बात चेंज कर दी फिर मई घर आ गया.

कुछ दिन बाद वो मेरे घर आई. ह्मारा एक दूसरे के घर आन जाना लगा रहता. मई अपने कमरे मे लॅपटॉप मे पॉर्न देख रहा था. वो अचंक से अंदर आई और मैने फटा फट लॅपटॉप बंद कर दिया.

पर वीडियो ओं थी और उसके पानी माँगा. तो मई पानी देने के लिए भर गया. उसने लेपटॉप ओपन किया और पॉर्न देख कर शॉक हो गयी और बंद कर दिया. फिर मई पानी लेकर आया और उसे दिया फिर उसने पूछा की तेरी मम्मी कहा है? कुछ काम था.

तो मैने कहा की वो कुछ काम से भर गये है. ये सुनते ही वो चले गयी.

थोड़े दिन बाद लव्ली का कॉल आया उसे कुछ शॉपिंग करने जाना था. पर उसका भाई किसी काम से भर था तो उसने मेरे को बोल दिया. मई भी फ्री था तो मई उसके साथ च्ला गया.

हमने शॉपिंग करी और त्यम बच गया था तो मैने बोला की मोविए देखने चलते है टाइम पास भी हो जाएगा. (उस दिन लव्ली ने ब्लॅक सूट पहना था और कमीज़ इतनी टाइट थी की उसके बूब्स सॉफ शेप मे दिख र्हे थे.)

हम ने टिकेट ली, दूपेर का टाइम था हॉल खाली खाली था. मोविए देखते देखते मैने लव्ली का हाथ पकड़ लिया और धीरे धीरे उसे सहलाने लग गया, वो कुछ बोली नही.

मैं ऐसे ही करता रहा, मेरी हिम्मत बदी और मैने अपना हाथ साइड से उसके बूब्स पे र्ख दिया. वो मेरे को देखने लग गयी, मई भी दर गया और हाथ हटा लिया. तो लव्ली बोली की ये क्या कर रहा है, पागल हो गया है क्या??

फिर मैने उसका हाथ पकड़ के बोला की मई तेरे से भोथ प्यार करता हू. वो बोली की नही मेरा ब्फ है और तू भाई है. फिर मैने उसे एमोशनल किया की मई बचपन से तेरे से प्यार करता हू. प्लीज़ एक बार तेरे साथ सेक्स करना है.

ये सुन के वो गुस्सा हो गयी और घर जाने को बोलने लगी. अब मई भी दर गया था तो हम भर गये और घर जाने लगे. रास्ते मे बिके पे भी पीछे को हुए बैठी थी.

मेरी गंद फट रही थी की घर पे जेया के किसी को बता दिया तो मेरे लोड लग जाएगे. तो मैने लव्ली से बोला की आज जो भी हुया उसके लिए माफ़ कर दे. पर वो कुछ बोली नही फिर हम घर आए और वो अपने घर चले गयी.

फिर 2 3 दिन तक हमारी बात नही हुई. मेरे मे थोड़ी हिम्मत आई की लगता है उसने किसी को नही बताया नही. नही तो अब तक तो पता नही क्या हो जाता.

थोड़े दिन बाद मई उनके घर गया और उसके भाई से कुछ काम था. पर मेरी गांद पूरी फट रही थी की लव्ली मेरे को देख के क्या रिक्ट करेगी.

फिर काम ख़तम करके उसकी मॅमी ने बोला की अब आया है तो डिन्नर करके जाना. तो मई रोटी खाने लगा और लव्ली मेरे को पानी देने के लिए झुकी. और मेरी नज़र उसके बूब्स पे पड़ी और उसके टॉप के नीचे ब्रा नही पहनी थी.

तो अची त्राह से उसके बूब्स के दर्शन हुए और हू हल्की सी स्माइल देके अंदर चली गयी. मेरे को कुछ साँझ नही आया की ये हो क्या गया.

रात को हम सब गली मे बैठे थे और लव्ली मेरे साथ आके बैठ गयी. पर मेरी हिम्मत नही हो रही थी उससे आँखे मिलने की. थोड़ी देर बाद उसने अपना हाथ मेरे हाथ पे रखा और दबाने लगी. और मेरे कान मे बोली की सब नीचे है मई उपर जेया रही हू मेरे पीछे उपर आ जेया.

ये सुनते ही मेरे फेस पे स्माइल आ गयी और मई उसके पीछे पीछे उपर च्ला गया. तो फिर हुँने दरवाजा बंद किया और वो बोलने लगी की उस दिन क्या बोल रहा था, अब बोल.

पर मई अब दर रहा था, मेरी हिम्मत नही थी बोलने की. फिर लव्ली ने बोला की सेक्स कर ना है मेरे साथ??

मई उसे देखने लग गया, फिर वो बोली की तेरे को शरम नही है की मई तेरी बेहन हू. मेरा दिल फिर से उदास हो गया. फिर उसने बोला की ज़्यादा शरीफ ना बन हम बचपन से फ्रेंड है इसलिए बोल रही हू. सेक्स तो नही कर सकते सिर्फ़ किस करनी है तो बोल.

मई सुनके खुश हो गया और ओस्को स्माइल दी और उसे दीवार से सता के उसके होतो पे होत रख के किस करने लगा. वो भी मेरा साथ देने लगी, हुँने करीब 15 20 मीं तक किस करी.

फिर मई धीरे धीरे उसके बूब्स पे हाथ फेर्न लगा. पर वो हाथ हटा देती फिर मैने एक दूं से उसके बूब्स पकड़ लिए और दबाने लगा. वो हटने की खोसिश करने लगी.

फिर सब बंदे घर आने लगे तो मेरे को अपना काम बेच मे छोड़ना पड़ा. पर उसके रसीले होतो को चूम के मज़ा आ गया. ऐसे किस करी उसने की मज़ा आ गया.

अब मेरे दिमाग़ मे बस लव्ली को छोड़ने का ख़याल था. की किसी त्राह बस ओसे छोड़ डू.

अगले दिन मैने उसे देखा तो वो स्माइल देके चले गयी. मेरे को टा था की रास्ता क्लियर है बस मौके का वेट है. मई भी अपने काम से जेया रहा था तो मैने देखा की लव्ली किसी लरके के साथ बिके पे जेया रही थी. ये देख के मेरे को गुस्सा आया.

फिर रात को हम सब गली मे बाते थे तो मैने उसका हाथ पकड़ा. उसके बाद उसे साइड मे गली के पीछे ले गया. और उसे बोला की आज किस लरके के साथ घूम रही थी.

वो बोली की वो मेरा ब्फ है और हाथ चुरा के चली गयी. फिर कुछ दिन बाद मूज़े मौका मिला मई उसके घर गया वाहा लव्ली अकेली थी. मई अंदर ही अंदर खुश हो गया.

मैने पूछा की सब कहा है?

वो बोली की 2 दिन के लिए मम्मी पापा और भाई किसी गोन गये है, बेहन शाम को आएगी. ये सुन के मैने उसे पकड़ा और बेड पे गिरा दिया. पर लव्ली गुस्से मे थी और बोली उस रात तूने अछा नही किया.

तो मैने बोला की मेरे को क्या टा था वो तेरा ब्फ है इसलिए तेरे से पूछा.

ये सब बोलके मई उसे किस करने लगा और उसने जीन और टॉप पहना था. मई टॉप के उपर से बूब्स दबाने लगा. आज वो मेरा फुल साथ दे रही थी. फिर मैने धीरे धीरे उसका टॉप उतार दिया.

उसने ब्लॅक कलर की ब्रा पहनी थी. फिर मई उसके पंत के उपर से ही उसकी छूट को रगड़ने लगा. और वो सिसकरणिया लेने लगी आह श आहह आऊहह…

फिर मैने उसकी ब्रा उतार दी और बचपन मे देखे थे उसके बूब्स और आज देखे. तो मई पागल हो गया देख के. पिंक कलर के निपल एकद्ूम खड़े थे, मई बस चूसे ही जेया रहा था.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट मे बतौँगा की कैसे मैने लव्ली को चोदा.

यह कहानी भी पड़े  कज़िन के साथ चुदना ओर चुदाना

थॅंक्स फ्रेंड्स. ओर भी जवान भाभी लड़किया ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.


error: Content is protected !!