ऑनलाइन चट में लड़की ने सेक्स की तलब शांत की

मुझे एक नये शहर में जॉब मिल गयी थी. जब मैं अपना समान पॅक कर रहा था, तब मुझे लोकल लाइब्ररी की कुछ बुक्स मिली, जो मैने कभी वापस नही करी थी.

तभी मैने लाइब्ररी में फोन किया. वाहा से किसी औरत ने फोन पिक किया, और मुझे लाइब्ररी आके फाइन पे करने को बोला. फाइन काफ़ी ज़्यादा था, फिर भी मैने फाइन पे करने और बुक्स वापस करने का डिसाइड किया.

फिर मैं उसी दिन लाइब्ररी पहुँच गया. वो जगह कुछ अलग सी सुनसान टाइप जगह थी. मैने आस-पास देखा, लेकिन कोई नही था. फिर मैं आयेज बुक शेल्फ्स की तरफ गया, और स्टाफ मेंबर्ज़ को ढूँढने लग गया.

तभी मुझे बुक शेल्फ के दूसरी तरफ से कुछ आवाज़ आने लगी. तभी मैने शेल्फ से एक बुक निकली, और दूसरी तरफ देखा. दूसरी साइड एक औरत थी, जो अदुल्लट सेक्षन में बैठी मास्टरबेट कर रही थी.

मैं उसको आचे से देख पा रहा था. वो इतनी मस्त होके मास्टरबेट कर रहा थी, की उसको देख कर मेरा लंड भी हार्ड हो गया था. उसने एक लोंग स्कर्ट पहनी हुई थी, और उसकी पनटी उसके घुटनो तक नीचे थी.

उसने आँखों पर ग्लासस लगाए हुए थी, और उसकी स्किन ब्राउनिश थी. फिगर उसका अछा था, और वो बिल्कुल मेरे टाइप की थी. वो तेज़-तेज़ साँसे ले रही थी, और बुक पढ़ती जेया रही थी.

मुझे उसको और आचे से देखना था, तो मैने शेल्फ से एक और बुक निकालने की कोशिश की. ग़लती से बुक नीचे गिर गयी. वो घबरा गयी, और उसने जल्दी से अपनी पनटी उपर की.

फिर वो मेरी तरफ गुस्से से आई, और मुझ पर चिल्लाने लगी. लेकिन तभी उसकी नज़र मेरे खड़े हुए लंड पर पड़ी, और वो रुक गयी. वो लाइब्रेरियन थी, और उसने मेरे बोलने पर मेरी आवाज़ को पहचान लिया.

फिर हम एक-दूसरे की तरफ बढ़े, और मैने अपना हाथ उसकी कमर पर रख दिया. उसने अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया, और उसको हिलने लग गयी. और हम दोनो पागलों की तरह किस करने लग गये.

उसने अपनी पनटी दोबारा से नीचे कर दी, और मैने उसकी छूट को खाने का मज़ा लिया. फिर वो मेरे मूह पर ही झाड़ गयी. फिर वो अपने घूणटो पर बैठ गयी, और मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया.

मैने उसके बाल पकड़ लिए, और वो मोन करते हुए मेरा लंड चूस रही थी. फिर मैने उसके मूह में धक्के देने शुरू किए, और उसको चोक करने लगा. उसको मज़ा आ रहा था, और सॅटिस्फॅक्षन मिल रही थी. उसके बाद हमने सेक्स किया, और मैने अपना फाइन पे किया.

मैं पूरा दिन वाहा रहा, और कोई भी नही आया. फिर मैं दोबारा बुक शेल्व्स के पास गया. वाहा जाके मैने उसकी पनटी नीचे कर दी. फिर मैने उसको घुमाया, और उसको उपर से नंगा करके उसके बूब्स चूसने लग गया.

फिर मैं नीचे एक बुक कार्ट पर बैठ गया, और उसकी टांगे खोल कर उसकी डुमदार चुदाई की. हम दोनो पसीना-पसीना हो गये थे सेक्स करने की वजह से. सेक्स कार्मे की स्मेल आंड मनमोहक आवाज़े आ रही थी, और हम दोनो मोन कर रहे थे. फाइनली मेरा होने वाला था, और मैने उसके पेट पर अपना सारा माल निकाल दिया.

वापस आने से पहले हमने एक बार फिरसे सेक्स किया. आने से पहले मैने उसकी टंग को आचे से चूसा. उस दिन के बाद मैं उसको दोबारा नही देखने वाला था, क्यूंकी मैं नयी जॉब के लिए दूसरे शहर जाने वाला था.

फिर मैं नये शहर पहुँच गया. लेकिन मैं अपने आप को उसके बारे में सोचने से रोक नही पा रहा था. फिर मैं उसको ऑनलाइन सर्च करने लगा. लेकिन वो मुझे कही नही मिली, और मैं उसके लिए दीवाना होने लगा.

अब जब भी मैं किसी औरत या लड़की को उस टाइप की ड्रेस में देखता था, तो मेरा खड़ा होने लग जाता था. फिर मैं ऑनलाइन सेक्स स्टोरी साइट्स पे लाइब्रेरियन की स्टोरीस ढूँढने लग गया. ऑनलाइन साइट पर ही मैने “इंडियन सेक्स छत” की आड़ देखी.

फिर मैने लोग इन किया, और गल्ल्लेरी चेक करने लग गया. वाहा पर बहुत सारी सेक्सी लड़कियाँ और औरतें थी. तभी मेरी नज़र एक शोना नाम की लड़की की प्रोफाइल पर पड़ी. वो बाला की खूबसूरत थी, और भोपाल से थी. मैने जल्दी से साइन-इन किया, और उससे छत करने के लिए क्रेडिट्स पर्चेस कर लिए.

फिर मैने उससे बात की, और उसको लाइब्रेरियन और फ्रॉक के लिए अपने अब्सेशन के बारे मैं बताया. उसको मेरा अब्सेशन समझ नही आया, लेकिन उसको मेरा सनड्रेस का आइडिया पसंद आया. फिर उसने मुझे उसको ऑनलाइन मिलने के लिए कहा, और हमने शाम का टाइम सेट कर लिया.

मैने शाम को लोग-इन किया, और हमने वीडियो कॉल शुरू की. उसने एक क्यूट डार्क ब्लू सनड्रेस पहनी हुई थी, जैसे की मैने बोला था. और मुझे वो बहुत पसंद आई. फिर उसने पूछा-

शोना: यही था, जो तुम चाहते थे?

मैं: वाउ, तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.

शोना: अवव.. तुम बहुत स्वीट हो. क्या करना चाहते हो तुम?

मैं: तुम बेड पर बैठ जाओ, अपनी लेग्स खोलो, और तब तक अपने आप को तड़पाव, जब तक की मैं तुम्हे और कुछ करने के लिए नही कहता.

शोना: ओह! तो तुम्हे डॉमिनेट करना है मुझे. ई लीके तट. मैं थोड़ी शाइ हू (खिखलते हुए).

फिर वो बेड पर बैठ गयी. उसने अपने हाथ अपनी गर्दन से घूमने शुरू किए, और अपनी जाँघो तक ले गयी. फिर उसने अपनी टांगे खोली, और अपनी ड्रेस को उपर किया, और शरमाने लग गयी. उसने पनटी नही पहनी थी, और जब मैने उसको देखा, तो उसने ज़ोर की साँस भारी.

शोना: अब क्या तुम अपना लंड बाहर निकालने वाले हो?

मैं: क्या तुम यही चाहती हो?

शोना(खिखलते हुए): हा ऐसा ही कुछ. मैने तुम्हे अपनी दिखाई, अब तुम मुझे अपना दिखाओ.

फिर मैने अपना लंड बाहर निकाला, और उसने अपने लिप्स पर जीभ फिराई. अब उसके एक्सप्रेशन्स शरमाने से हवस वाले हो गये थे. उसने ज़ोर की साँस ली, और कॅमरा में देखने लग गयी.

शोना(हवस भारी आवाज़ में): बताओ, क्या करवाना चाहते तो तुम मेरे से?

मैं: वो डिपेंड करता है. तुम गरम हो गयी हो?

शोना: बहुत. अब प्लीज़ जल्दी से मुझसे कुछ कारवओ, क्यूकी मुझसे अब रुका नही जेया रहा. ये बहुत एग्ज़ाइटिंग है.

मैं: जाओ जाके दीवार के साथ खड़ी हो जाओ, और अपने आप को टच करो. ताकि मैं तुम्हे देख कर अपना हिला साकु.

फिर वो जाके दीवार के साथ खड़ी हो गयी. उसका चेहरा मेरी तरफ था, और वो अपनी ड्रेस उपर करने लग गयी. फिर वो अपनी छूट को रगड़ने लग गयी, और तेज़ साँसे लेने लग गयी.

उसका सिर पीछे की तरफ हो गया, और आँखें बंद हो गयी. वो पूरी तरह से उस मज़े में खो गयी. कुछ देर में उसने अपनी आँखें खोली, और मुझे लंड हिलाते और मोन करते हुए देखा. ये देख कर वो और तेज़ी से अपनी छूट मसालने लग गयी.

शोना: मैं अब अपनी टांगे खोल कर तुमसे चूड़ना चाहती हू.

मैं: आके बेड के सामने खड़ी हो जाओ.

शोना: ठीक है. और उसके बाद?

मैं: घूम जाओ, अपनी टांगे ओपन करो, और फींगेर्टिंग करना शुरू कर दो.

शोना(मोन करते हुए): तुम क्या चाहते हो मैं कैसे करू. बेड की तरफ झुक जौ? फिर फास्ट स्पीड में करू, या धीरे-धीरे करू.

मैं: शुरू धीरे से करो. और जब तुम पूरी तरह गरम हो जाओ, तो अपनी ड्रेस उतार कर वाइल्ड तरीके से करना.

शोना: ओक.

फिर शोना कॅमरा के सामने आ गयी, और बेड के सामने झुक गयी, बिल्कुल जैसे मैने कहा था. अब उसकी छूट चमकती हुई दिख रही थी, गीली होने की वजह से. उसी पोज़िशन में उसने अपनी छूट के होंठ खोले, और फिंगरिंग करने लगी.

फिर उसने अपना सिर पीछे करके मेरी तरफ देखा. मैं अपना लंड हिला रहा था, और मोन कर रहा था. ये देख कर उसने अपनी टांगे और थोड़ी खोल दी. वो धीरे-धीरे सब कर रही थी. फिर मैने उसको 2 उंगलियाँ उसकी छूट में डालने को बोला. उसने उंगलियाँ छूट में डाल ली, और स्पीड से अंदर-बाहर करने लगी.

शोना(ड्रेस उतारते और अपनी गांद पर थप्पड़ मारते हुए): ओह गोद! जस्ट फक मे?

फिर वो बेड पर लेट गयी, और अपनी टांगे पूरी खोल ली. उसने 2 उंगलिया छूट में ले रखी थी, और वो अपनी छूट को मसल कर मोन कर रही थी. छूट रगड़ने की वजह से सफेद रंग का पानी उसकी छूट से निकल रहा था, और वो मोन करती जेया रही थी. ये देख कर मैं ज़ोर-ज़ोर से लंड हिलने लग गया. मैने साइड में रखा ग्लास उठाया, और हिलने की स्पीड बधाई.

शोना: हा हिलाते रहो, और अपना माल उस ग्लास में निकाल देना, ताकि मैं उसको देख साकु.

मैं: अछा, तुम्हे मेरा माल देखना है?

शोना: मुझे तुम्हता माल अपने जिस्म पर हर जगह चाहिए. प्लीज़ डेडॉ मुझे.

मैने स्पीड बधाई, और मेरा माल ग्लास में निकल गया. फिर मैने वो ग्लास कॅमरा के सामने रख दिया ताकि वो देख सके. उसने माल देख कर अपनी फिंगरिंग की स्पीड बढ़ा दी. उसने अपनी बॅक पीछे लगा ली, और ज़ोर-ज़ोर से अपनी छूट रगड़ती रही.

साथ ही वो अपने बूब्स दबाती रही. फिर फाइनली उसकी बॉडी थोड़ी वाइब्रट करने लगी, और वो ग्लास को देखते हुए झाड़ गयी. अब वो पसीने से भारी हुई थी, और उसकी चढ़ि हुई साँसे कंट्रोल में आ रही थी.

फिर उसने अपने माल को अपनी ब्रेस्ट और जाँघो पे लगा दिया. उसके बाद वो वही उंगलिया अपने मूह में डाल कर उनको चूसने लगी, और मेरी तरफ देख कर ब्लश करने लगी.

शोना: ओह गोद! मैं कितनी गंदी हू. ई विश की ये मेरा नही तुम्हारा कम होता.

ये बोलते हुए वो अपनी छूट पर हाथ फेर रही थी. ये बहुत ही मज़ेदार एक्सपीरियेन्स था. मैने पुर महीने दोबारा-दोबारा उसके साथ ये सब किया. फिर धीरे-धीरे हम और भी चीज़े ट्राइ करने लगे. और मेरी सेक्सी लाइब्रेरियन फॅंटेसी से हमेशा के लिए पार पाने में इस चीज़ ने मेरी बहुत हेल्प की.

मैने शोना को अपनी बहुत सारी फॅंटसीस के लिए उसे किया. उसकी जुवैसी बॉडी मुझे बहुत पसंद है. यहा पर आप उसके एरॉटिक टीज़िंग स्किल्स का एक शॉर्ट ट्रेलर देख सकते है. तो एंजाय करे.

यह कहानी भी पड़े  एक भँवरे ने एक कली को फूल बना दिया

error: Content is protected !!