चाची की सहेली की बेटी चुद गई

हैलो फ्रेंडज़, मैं अभिमन्यु अपनी सेक्स स्टोरी ले कर आया हूँ, जिसमें मैंने एक लड़की के साथ ना चाहते हुए सेक्स किया. यदि ना करता तो सच में बहुत पछताता भी, सो जब उसके साथ सेक्स किया तो मज़ा भी बहुत आया.

कहानी शुरू करूँ, उससे पहले मैं आपको अपने बारे में कुछ बता दूँ. मेरी हाइट 5 फीट 5 इंच है. मेरा लिंग 6 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा है. जिस लड़की के साथ सेक्स हुआ, उसका फिगर नॉर्मल ही था. बस यूं समझ लीजिए कि उसका फिगर 28-28-30 का था, जो नॉर्मल ही होता है. आप इस फिगर से उस लड़की के बारे में जान ही गए होंगे कि वो बहुत स्लिम थी. वो गोरी तो थी, लेकिन मुझे पसंद नहीं थी. उसके चेहरे में वो बात नहीं थी कि मेरा मन हो कि मैं उसको चोदूँ. लेकिन जब सेक्स का भूत चढ़ जाए ना.. तो आप जानते ही हैं कि सामने तब कोई भी हो, काली गोरी, बूढ़ी या जवान.. आदमी खुद को रोक ही नहीं पाता है. बस वही मेरे साथ हुआ और उसको चोद बैठा.

यह बात तब की है, जब मैं यूपी में ही अपने चाचा के घर पर था गाँव में… मैं अपने रूम में सोया हुआ था. कुछ देर बाद उठा तो घर वाले नम्बर पर एक कॉल आई. मैंने वो कॉल नहीं उठाई और रिसीवर चाची को दे दिया. मैं नहाने चला गया.

जब नहा कर आया तो चाची बोलीं- तैयार हो जाओ और शहर के स्टेशन पर चले जाओ, मेरी सहेली की लड़की सिमरन आई है. उसके एग्जाम हैं, वो 20 दिन तक यहीं रह कर अपने एग्जाम देगी. अभी वो स्टेशन पर पहुंच गई है.
मैंने कहा- चाची मैं उसको पहचानूंगा कैसे?
चाची बोली- उसने ग्रीन टॉप और ब्लू जीन्स डाली हुई है.

यह कहानी भी पड़े  शादी से पहले मेरी सुहागरात

मैं घर से निकल गया और बहुत खुश था कि कोई लड़की हमारे घर आ रही है, वो भी 20 दिन तक रहेगी. मैं इतना खुश था कि उसको इमेजिन करने लगा. वो मस्त तो होगी ही, उसके बड़े बड़े बूब्स भी होंगे.. उसको कुछ ही दिन में पटा लूँगा और उसके साथ भी सेक्स करूँगा.

ये सब सोचते हुए मैं स्टेशन आ गया और उसको ढूँढने लगा. एक लड़की ग्रीन टॉप और ब्लू जीन्स में दिखाई दी, वो सिमरन ही थी. उसको देख कर मेरे सारे सपने टूट गए. क्योंकि उसके चेहरे में वो बात नहीं थी, वो गोरी तो थी लेकिन ठीक ठाक ही थी, उसके बूब्स भी छोटे छोटे थे.. नींबू जैसे.

मैं उदास हो गया और उदास होकर ही उसको बुझे मन से आवाज दे कर बुलाया. वो हंसते हुए मेरे करीब आई और हम दोनों ने हैलो हाय की. फिर हम दोनों बाहर आ गए, वो मेरी बाइक पर बैठ गई. हम दोनों घर आ गए. उसका नाम सिमरन था और निक नेम सिमी था.

घर आने के बाद मैं रूम में गया और वो फ्रेश होने मतलब नहाने चली गई. हमारा घर चूंकि गाँव में है और आप सब जानते ही हैं कि गाँव में कोई पर्मानेंट बाथरूम नहीं होता है. तो हमारे घर में पीछे एक बड़ा सा आँगन है, जहां नल लगा हुआ है. वहीं सब काम होता है. नहाना, धोना, कपड़ा धोना सब कुछ.. और सब काम वहां होने की वजह से ही वहां दरवाजा भी नहीं है.

उसका नहाना हो रहा था और मैं रूम से बाहर निकल कर मुँह धोने के लिए पीछे के आंगन के नल पर चला गया. जैसे ही मैं उधर गया, मेरे होश उड़ गए. उसकी पीठ मेरी तरफ थी. वो पूरी नंगी थी. ट्यूबलाईट की रोशनी में उसका बदन दूध जैसा चमक रहा था. मैं एकदम शॉक हो गया.

यह कहानी भी पड़े  एक्टिवा वाली लड़की की मदद के बाद चूत चुदाई

तभी उसकी नज़र मुझ पर पड़ी और उसने खुद को तौलिए से ढक लिया.

मैं आँगन से बाहर आ गया. वो नहा कर आई तो मैं भी कमरे से बाहर निकला. मैंने उससे सॉरी बोला और कहा कि मुझे नहीं पता था कि आप नहा रही हो.
वो बोली- कोई बात नहीं.. हो जाता है.. इट्स ओके.

अब उसका वो बदन मेरी आंखों के सामने घूम रहा था. अब मेरा मन उसको चोदने को कर रहा था. मैंने सोच लिया था कि अब इसको चोद कर ही रहूँगा.

कुछ देर बाद हम दोनों ने खाना खाया. फिर रात हुई सो हम दोनों सो गए. मैं उसके बारे में सोचता रहा और कब सो गया, पता ही नहीं लगा.

अगली सुबह ही उसका पहला एग्जाम था. मैं घर पर खाली बैठा रहता था और घर में बस चाचा, चाची एक बहन थे, बाकी सब लोग दिल्ली में थे. मैं यहां कुछ दिन रहने आया था. तो चाचा के कहने पर मैं उसको बाइक से ले कर एग्जाम दिलवाने निकल गया. एग्जाम सेंटर शहर में घर से दस किलोमीटर दूर था और बीच में कहीं कहीं रास्ता सही नहीं था.. मतलब बहुत स्पीड ब्रेकर थे. सो मैंने तुरंत मस्ती करने का दिमाग चलाया. वो शहर की लड़की थी, सो जैसे लड़के बाइक पर बैठते हैं, वो वैसे ही बैठ गई थी.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!