चाचा ने पता के चोदा मेरी मा को

काफ़ी लोगो को स्टोरी पसंद आई उन्होने एमाइल भी किए उनके लिए थॅंक्स. भाभी या आंटी इंट्रेस्टेड है तो बिना झिहक के मैल करे 24 अवर अवेलबल हू.

पीछे पार्ट मे आप सबने पढ़ा कैसे चाचा नींद की गोली मिला देते है और मुझे पता चल जाता है. फिर रात को चाचा हमारे रूम मे आ जाते है और मा को मानने की कॉसिश करते है.

अब आयेज…

चाचा उन्हे बेड पर बिता पर समझते है पर मा नही सुनती है. चाचा उनका हाथ अपने हाथ मे रखते हैं.

फिर मेरी मम्मी से बोलते हैं.. सुनो सोनिया भाभी किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. प्लीज़ आज रात करने दो फिर मैं कभी आपको परेशन नहीं करूँगा. जो खुशी आपके हज़्बेंड यानी मेरे भैया नहीं दे पाते वो मैं आज आपको देना चाहता हूँ.

मा कुच्छ नहीं बोलती है वो अपना सर झुका के रहती है और अपना हाथ छुड़ाने की कोशिश करती है. पेर चाचा उनका हाथ नहीं छ्चोड़ते.

फिर चाचा उनसे बोलते.. क्या जब मैं तुम्हें स्मूच कर रहा था तो तुम्हे अछा नहीं लग रहा था? तुमने भी मेरा साथ दिया था.

मा कुछ नहीं बोलती, सर झुका के रहती है. फिर चाचा उनको अपनी तरफ खींचते हैं उन्हे अपने बाहों में लेते हैं. अपने हाथ से उनका फेस को अपने मूह की तरफ करते हैं. फिर अपने होंठ को उनके होंठ में रखने जाते हैं लेकिन तभी मा दूर हो जाती हैं.

पेर चाचा उन्हे अपने फेस की तरफ करते है और उनके होंठ मे अपना होत रख देते हैं. इस बार मम्मी भी कुछ नहीं बोलती है. चाचा किस करते उनके बूब्स पर हाथ फेरते हैं. मा उनका हाथ हटाने की कोशिश करती हैं पेर चाचा नहीं मानते और स्मूच करते रहते हैं.

चाचा मम्मी को खड़ा कर देते हैं. एक हाथ पिच्छवाड़े पर होता है और दूसरा उनके बूब्स को सहला रहे होते हैं. और स्मूच करते करते मम्मी की मॅक्सी खोलते हैं.

मम्मी अंदर से नंगी होती है, बस पनटी मे रहती है. चाचा के सामने मा बिल्कुल नंगी हो जाती है बस पनटी पहनी होती है. चाचा मा को अपनी बाहों में भर कर मा को होंठ पेर किस करते रहते हैं. और दोनों हाथों से नंगे बूब्स दबाते है.

मा के मूह सी आहह की शिसकारिया भारती है. चाचा अपना एक हाथ पनटी अंदर डालते हैं और छूट को सहलाने लगते हैं. मा पूरी मधोंश होने लगती है और मा अपने आपको चाचा को सोपने लगती है.

चाचा अपने कपड़े उतरने लगते और पूरे नंगे हो जाते हैं. अब अपने मूह से मम्मी के बूब्स को चूस्ते रहते हैं, बुरी तरह चूस्ते है.

मा अपनी मुहह से अहह उम्मह करती है और चाचा के बलों को पकड़ कर अपने बूब्स मे दबाती है. चाचा समझ जाते हैं की मा को नशा चढ़ चुका हैं. वो बूब्स को चूस्ते चूस्ते मा की छूट से खेलते हैं. और मम्मी का हाथ पकड़ कर अपने लौदे पेर रखते हैं.

फिर मम्मी अपने हाथों से उनका लंड सहलाने लगती है. अब चाचा मा को बेड पेर बिता देते हैं और अपना लोड्‍ा मा के मूह के सामने रखते हैं.

बोलते हैं – सोनिया भाभी अब तुम्हारी बारी छत कर सॉफ कर दो.

मा मूह मे लेने से माना करती है पेर चाचा नहीं सुनते. चाचा मम्मी का सर पकड़ कर अपना लोड्‍ा मम्मी के होंठ से टच करते हैं. मम्मी को ना चाहते हुए भी लॉडा मूह के अंदर लेना पड़ता है.

चाचा मम्मी को बोलते हैं – चूसो मेरी जान चूसो आह सोनिया भाभी ऐसे ही चूसो.. पूरा लो मेरी जान..

चाचा अपना लंड मम्मी के मूह मे पूरा घुसने की कोशिश करते हैं ज़बरदस्ती. तभी मम्मी उल्टी कर देती है और चाचा अपना लॉडा बाहर निकल लेते हैं.

मम्मी से बोलते हैं – कुछ नही हुआ मेरी जान, ये तो शुरुआत है..

मम्मी अपना मूह सॉफ करके आती है बातरूम से. चाचा दुबारा मम्मी को दबोच लेते हैं और अपनी बाहों में लेते हैं. फिर मा को बेड पेर लेता देते और मा की पनटी निकल के फेक देते है.

फिर चाचा मम्मी के उपर लेट जाते है और अपना लंड छूट में सेट करके छूट के उपर से अपना लोड्‍ा टच करके तोड़ा खेलते हैं.

मम्मी आहे भर रही होती. फिर चाचा छूट को तोड़ा सहलाते हैं और अपना लंड घुसने की कोशिश कर एक ही झटके में अपना आधा लंड घुसा देते हैं.

मम्मी के मूह से चीख निकल जाती है दर्द के कारण. चाचा मम्मी के उपर लेते हुए अपने होंठ उनके होंठ के उपर रख देते और मा की चीख दबा देते है. और चाचा अपने लंड से मा की छूट मे लंड आराम से आयेज पीछे करने लग जाते है.

फिर मम्मी से बोलते हैं – तुम्हारी छूट तो बिल्कुल कुमारी की छूट जैसे बिल्कुल टाइट है. तुम्हारा पति का लंड छ्होटा है क्या..

मम्मी कुछ नहीं बोलती और चाचा अपना लंड बाहर निकल लेते है छूट से. मम्मी नशे में होती है और जोश में रहती है. उन्हे चुदाई का भूत चढ़ जाता है और उन्हे लंड छाईए होता है. पर चाचा दूर हो जाते है फिर चाचा बोलते हैं.. बोलो सोनिया जान तुम्हारा पति का छोटा है.

मा बोलती है – हाआंह..

चाचा बोलते हैं कैसा लगा मेरा लंड?

मम्मी कुछ नहीं बोलती है तो चाचा मम्मी की छूट को अपनी उंगली से सहलाते हैं. जिससे मम्मी की आँखें चढ़ जाती तो चाचा बोलते है बोल मेरी जान कैसा लगा मेरा लंड?

मम्मी आहह बहोट अक्चा छोड़ो मुझे प्लीज़ बोहुत बहोट दिन बाद इतना सुख मिला है छोड़ो प्लीज़ प्लीज़…

चाचा जोश मे आ जाते है और लंड को छूट मे डालते है और तेज़ी से आयेज पीछे करते है. मा दर्द से आअहह ह ह.. तुमने मुझे हरा दिया आख़िर्र्रर.. आह आह मुझे आज से पहले ऐसा आनद कभी नही मिला… चाचा अपनी रफ़्तार तेज करते है और बोलते.. बोल मेरी जान कैसा लग रहा है?

मा – बहहोतत्त अक्चाअ…

चाचा – आज से तू मेरी बीवी है है ना..?

मा – हाआंनह जितनी मर्ज़ी उतना छोड़ो ह ह..

चाचा – बोल जान मे तेरी रंडी हू.

मा – मे टेरि रनडिीई हू उम्मह..

फिर चाचा स्मूच करते हैं छोड़ते छोड़ते स्मूच की आवाज़ आ रही होती है. और पूरे घर में पच पच की आवाज़ घूँजती है. मा झार जाती है पर चाचा नही जाधते, मा होश खो बैठती है.

चाचा कंटिन्यू चुदाई करते है और मा आह उनम्म्म अया.. की आवाज़ निकालती है और चाचा को अपने पेर से और हाथ से जाकड़ लेती है. चाचा जी रफ़्तार और तेज होती है क्यूकी चाचा अब जाधने वाला होता है, चाचा पूछते है सोनिया जान कहा निकालु अपना प्यार?

मा नशे मे बोलती है अंदर ही निकाल दो, पर कल मुझे गोली खरीद देना..

अब चाचा लंड तेज़ी से आयेज पीछे करते और स्मोच करते है और मा की छूट मे जाध जाते है. चाचा मा को स्मूच करते रहते है और मा भी. फिर चाचा साइड हो कर लेट जाते है और मा को अपने बहो मे भर लेते है और बोलते है लोवे योउ मेरी जान.

मा – लोवे योउ टू.

और चाचा को पूरे फेस प्र प्यार से किस करते है. सुबा के 4 भाज रहे होते है.

तभी अचानक चाचा का फोन बजता है और चाचा देखते है की उनकी वाइफ का कॉल है. फिर कॉल उठाते है, शायद चाची के दवाई का असर कम हो जाता है.

चाची- कहा हो तुम?

चाचा (हरबादते हुए) – कही नींद नही आ थी थी होटेल के गार्डेन मे तहेलने आ गया.

चाची- ठीक है जल्दी मेरा सिर बहोट तेज दुख रहा.

चाचा- आ रहा हू ब्स.

बोल कर फोन रख देते है. मम्मी पूछती है किया हुआ? चाचा बोलते कुछ नही मेरी जान बुला रही मेरी बीवी. फिर एक मम्मी को डीप स्मूच करते है 5 मीं तक फिर दोनो कपड़े पहेनटे है. चाचा बोलते है इसका कॉल नही आता और भी चुदाई करता तुम्हारी.

मम्मी बोलती है आज के बाद ऐसा कभी नही होगा. चाचा उनको कीच कर अपनी बहो मे भरते है और दुबारा से मस्त स्मूच करते. बोलते है होगा मेरी जान तुम खुद आओगी. ऐसा बोल कर चले जाते है.

मा भी नहाने चली जाती है और तोड़ा लंगरा कर चलती है. आज की चुदाई से उनकी छूट का हाल बहाल हो गया होगा. मा की पनटी पड़ी होती उसे सुंग कर मे भी मुत्ती मार कर अपने 7 इंच लोड को संत करके सो जाता हू..

बस आज के लिए इतना ही, बाकी अगली पार्ट मे बतौँगा. कैसी लगी स्टोरी कॉमेंट या मैल करके ज़रूर बताना प्लीज़

यह कहानी भी पड़े  मा के मादक जिस्म का भरपूर मज़ा लिया

error: Content is protected !!