कॉलबाय बनकर हाउस वाइफ को संतुष्ट किया

हेलो फ्रेंड्स कैसे हो? मैं विराट एक बार फिर से आपकी सेवा मे हाजिर हू. मैं नॉइदा मेी रहता हू और मेरे लंड का साइज़ 7″ है.

मेरी पहली स्टोरी कॉलेज गर्ल जनवी की चुदाई को पसंद करने के लिए आप सब दोस्तो का बहोट बहोट धन्यवाद. अब पेश करता हू अपनी अगली कहानी.

जैसा की आप जानते है मैं एक कल्लबोय हू तो अब नेक्स्ट स्टोरी पर आता हू जिसमे मैने अपनी ही बिल्डिंग मैं रहने वाली एक भाभी को कैसे छोड़ा और सॅटिस्फाइ किया.

जनवी को चुदाई की स्टोरी रेड करके उन भाभी ने मुझे म्स्ग किया उनका नाम दिव्या है. वो मुझसे मिलना चाहती थी.

सो उन्होने मुझे टाइम डटे और अड्रेस म्स्ग कर दिया वो सिर्फ़ 4 घंटे के लिए मिलना चाहती थी. तो मैने उन्हे बोला की आप हाफ पेमेंट कर देबा.

फिर मैं फिक्स टाइम पर इनके घर फोचा उन्होने गाते खोला.

उनकी हेगत 5.5 थी थोड़ी सवली और फिगर 36:32:36 था. उन्होने एक मस्त सिल्क की निघट्य पहनी थी वो थोड़ी सावली ज़रूर थी. पर देखने मैं बहोट क्यूट थी उन्होने स्माइल करते हुवे मुझे अंदर बुलाया और और पानी दिया.

विराट-भाभी केसी हो आप?

दिव्या-मैं ठीक हू आप कैसे हो और चलो फले बेडरूम मैं बाकी बाते वाहा करना.

बेडरूम मैं जाते ही उन्होने मुझे बेड पर गिरा दिया और सीधा मेरे होतो को चूसने लगी. 5 मिंट होत चूसने के बाद अलग हुई तो मैने पूछा क्या बात है माँ इतनी प्यास!

दिव्या- प्यास नही है आपकी तारीफ सुनी है बहोट इसलिए आपके लिए पागल हू. डर्सल मैने आपकी कोई स्टोरी नही पड़ी मैं जनवी के कज़िन की वाइफ हू और जनवी ने ही आपसे बात करने को बोला.

विराट-ओह अक्चा इसलिए जनवी बोल रही थी आपको एक सर्प्राइज़ मिलेगा मेरी तरफ से.

फिर मैने भाभी को ज़ोर से अपनी तरफ खिछा और उनको किस करने लगा उनके होतो को बुरी तरहा से चूसने लगा और उनकी कमर और गंद को सहलाने लगा. वो धीरे धीरे गरम होने लगी. उसकी निघट्य को तोड़ा उपर करके उसकी गंद को दोनो हाथो से दबाने लगा, उसने पनटी नही पहनी थी.

फिर उसकी गर्दन को चूसने और चाटने लगा और वो मज़े से सिसकिया लेने लगी आहा जान उम्म्महहहः अहहहहाहः.

मैने फिर भाभी की निघट्य को पूरा उतार दिया और उसके बूब्स ब्लॅक ब्रा मैं मस्त लग रहे थे जो ब्रा को फड़कर बाहर आने को मचल रहे थे. फिर मैने उसकी पूरी नेक को चूसना सुरू कर दिया.

दिव्या मज़े से पागल होने लगी और और बड़बड़ाने लगी आहा विराट आहा खा जा मुझे साले कुत्ते मसल दे मुझे.

मैने पीछे हाथ ले जाकर उसकी ब्रा खोल दी और उसके नंगी चुचि मेरे सिने से डब गयी जिससे वो एक दम पागल सी हो गयी.

दिव्या- आहा मार गयी क्या मस्त मर्द है तू मसला डाल आज मुझे और बना ले अपनी रंडी.

दोस्तो वो सेक्स के लिए कुछ जयदा ही पागल थी पता नही क्या क्या बोले जा रही थी. मैने उसकी चुचियो को मसलना सुरू कर दिया दोनो हाथो से और उसने मेरी शर्ट उतार दी और मेरे सिने को चुममे लगी और पंत के उपर से मेरे लंड को सहलाने लगी.

मैने उनके चुचियो को चूसना सुरू कर दिया और ज़ोर ज़ोर से मसालने लगा और वो मज़े से सिसकिया लेने लगी.

आहा चूसो पी जाओ सारा ढुद इनका आहा ज़ोर से…

मैं मज़े उसकी चुचि चूस्ता रहा फिर धीरे धीरे उसके पेट को चूमने लगा और एक हाथ से उसकी छूट को सहलाने लगा. उसकी छूट बिल्कुल गीली हो चुकी थी. धीरे धीरे मैं नीचे आया उसकी तिघत को चूमने लगा और वो मज़े से और जयदा पागल हो गयी.

दिव्या-आहा साले चूस मुझसे खा जा आज पूरी गर्मी निकल दे भोसड़ी के आज मेरी.

और मेरे सर पर हाथ घूमने लगी और मेरा सर्दीय पकड़कर अपनी छूट पर रख दिया.

मैने जेसे ही उसकी छूट पर जीभ घुमाई और एकदम अकड़ गयी. और ज़ोर ज़ोर से सिसकिया लेने लगी और एकदम से उसकी छूट ने पानी चूर दिया.

दिव्या-आहा विराट यार खा जा ना साले मेरी चूत को पी जा इसका सारा पानी कुत्ते साले हरामी चूस ज़ोर से आहा.

मैं ज़ोर ज़ोर से उसकी छूट को चाटने लगा जीभ अंदर तक डालकर उसकी छूट को जीभ से छोड़ने लगा. वो मज़े से पागल हो रही थी और पता नही कितनी गलिया दे रही रही और कितनी सिसकिया ले रही थी. ऐसा लग रहा था जेसे पहली बार छूट चटवा रही हो.

उसने मेरा सर बहोट ज़ोर से अपनी छूट पर दबाया हुवा था. मैं 15 मिंट तक उसकी छूट छाती जब उसका पानी निकल गया. तब उसने मेरा सर हटाया अपनी छूट से और ज़ोर ज़ोर से हफने लगी. उसकी चुचि उसके हफने से बहोट तेज़ उपर नीचे हो रही थी वो बहोट सेक्सी लग रही थी और मैं उसे देखता ही रहा.

फिर वो एक तरफ नीडाल सी होकर गिर गयी और लंबी लंबी साँसे लेने लगी. उसने मेरी तरफ देखा और लंड को पकड़कर सहलाने लगी और उसे उपर नीचे करने लगी, उसने मुझे बिल्कुल नंगा कर दिया.

दिव्या मेरे लंड को पकड़कर उसको चूमने लगी. मैं बेड से नीचे खड़ा था और वो बेड पर उल्टी लेती थी फले उन्होने मेरे लंड का अकचे से चूमा फिर धीरे धीरे उसको मूह मैं लेने लगी.

मैं मज़े मेी आँख बंद करके उनकी लंड चूसा का मज़ा लेने लगा. धीरे धीरे करके उन्होने कभी आधा और कभी पूरा लंड मूह मेी लेने लगी और मेरे मूह से आहा जान चूसो ज़ोर से आवाज़ निकालने लगी.

मैं झुक के उनकी गंद को सहलाने लगा. उसकी गंद काफ़ी मस्त थी गोल गोल और उपर की तरफ उभरी हुई. वो बहोट मज़े से लंड चूस रही थी. फिर वो बेड पर सीधे हो गयी और बोली मेरे मूह को छोड़ो.

उन्होने अपनी गर्दन बेड के बिल्कुल किनारे कर ली और नीचे की तरफ लटका दी. मैने उसके मूह मेी लंड डाला और धीरे धीरे छोड़ने लगा. मैं बिल्कुल झड़ने के करीब था तो मैं रुक गया.

दिव्या- क्या हुवा विराट रुक क्यू गये छोड़ो यार मज़ा आ रहा है. मेरे पति बहोट ही सिंपल है, नॉर्मल सा सेक्स करते है जबकि मुझे सेक्स मेी कुछ नयापन चाहिए हमएसा.

सो बाकी स्टोरी नेक्स्ट पार्ट मे बटुंगा, प्लीज़ मुझे कॉमेंट्स और मैल कर ज़रूर करना – [email protected] और हन अगर कोई देल्ही न्क्र की लड़की गर्ल कॉल बॉय सर्विस चाहती हो तो प्लीज़ मुझे मेसेज कर देना.

यह कहानी भी पड़े  व्हातसपप से बेडरूम तक-1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!