बस में मिली आंटी को चोदने की सेक्सी कहानी

हेलो मेरी प्यासी कमसिन चूत वाली भाभियों, औंतीयों, लॅडीस, फ्रेंड्स और लंड वाले दोस्तों. मैं योगु आगे 28 अभी मुंबई में जॉब कर रहा हू. मेरे लंड का साइज़ 6.7+ इंच है.

आज की कहानी मेरी और एक सेक्सी आंटी की है. जब भी मैं जॉब पर जाता था, तब वो भी जॉब पर जाते वक़्त हमेशा बस में मिलती थी.

ऐसे ही हम एक-दूसरे को देख के स्माइल पास करते. एक दिन मैं स्टॉक्स में ट्रेड कर रहा था, और मेरे पास वाली सीट पर आ कर वो बैठ गयी.

मैने एक ऑर्डर प्लेस किया, और वो भी मेरे मोबाइल में देख रही थी. अब उन्होने पूछा-

आंटी: क्या तुम भी ट्रेडिंग करते हो?

और हमारी बातें शुरू हो गयी. ऐसे ही बातों-बातों में उसने बोला-

आंटी: मुझे भी आचे स्टॉक्स बताना इनवेस्टमेंट के लिए.

तो मैने कुछ आचे-आचे स्टॉक्स बताए.

मैने उनको बोला: इस रंगे तक आप खरीद लेना.

अब हमने हमारे नंबर एक्सचेंज किए, और हमारी अब व्हातसपप पर बातें शुरू हो गयी. फिर धीरे-धीरे अब वो मुझे देर रात को भी मेसेजस करने लगी.

मैने ऐसे ही पूछा: क्या बात है, आज रात को भी याद आ रही है? लगता है आज जल्दी काम हो गया.

और नॉटी वाली स्माइल भेजी.

तब उसने बोला: अर्रे कहा यार. उंगली से काम चलना पद रहा है आज-कल.

मैने बोला: क्या हुआ? मैं कुछ हेल्प करू क्या? ताकि उंगली क्रिकेट ना खेलना पड़े.

तब उसने बोला: हा ज़रूर. मौका मिलेगा तो तेरे साथ एक मॅच खेलूँगी.

और ऐसे ही हमारी बातें होने लगी.

अब हमारी बातें स्टॉक के अलावा सेक्स, और नॉटी छत भी होने लगी. आपको बता डू मुझे मेच्यूर लॅडीस बहुत पसंद है. उसका फिगर साइज़ 38-34-36 के आस-पास होगा.

एक दिन रात को उन्होने बोला: तेरे लंड की पिक्स भेजो, मुझे देखना है.

तो मैने पिक्स भेज दी. आपको बता डू मेरा लंड मस्त है, और चोकॉलती सूपड़ा है. आपको देखना होगा तो मैल करना, आपको दिखा दूँगा.

जैसे ही मैने मेरे लंड की पिक्स भेजी, उन्होने किस वाली एमोजी भेजी.

तो मैं बोला: किस कहा पर लिया?

तब उन्होने बोला: तेरा लंड मुझे बहुत पसंद आया . इसको मूह में लेकर चूसने का मॅन कर रहा है.

मैने भी बोला: चाहो तो सॅटर्डे-सनडे मिल कर रियल में चूस लेना. तब उसने हा बोला और उसने फ्राइडे को ऑफीस के बाद मिलने को बोला. हम मस्त मराइन ड्राइव पे जाके बैठे, और हम वाहा एक-दूसरे को चिपक कर बैठे रहे.

मैं हल्के-हल्के उसके बूब्स दबा देता. तो वो भी मेरे कंधे पर सर रख कर मस्त मेरे हाथ में हाथ डाल कर सहला रही थी.

अब उसने नेक्स्ट दे को प्लान बनाया और उसकी एक फ्रेंड के फ्लॅट में हम मिले. जाते ही मैने उनको मस्त हग किया, और उसके मस्त रेशमी बालों की महक सूंघते हुए, उसकी नेक पर किस करते हुए लोवे बाइट्स करने लगा.

उनकी गड्राई गांद को पंजो में लेकर मसालते-मसालते उनके गालों पर चूमा. अब गांद थपथपाते हुए मैं स्मूच करने लगा. वो भी स्मूच करते हुए मेरे मूह में जीभ डाल कर चूसने लगी.

फिर वो झट से नीचे बैठ कर मेरी पंत को उतारने लगी. जैसे ही मैने पंत खोली, वो भूखी शेरनी की तरह मेरे लंड पर टूट पड़ी. वो हल्के-हल्के मेरे लंड को सहला कर हिलने लगी. मेरा सूपड़ा देख कर उनकी आँखों में एक अलग सा नशा दिख रहा था.

अब वो अपने हाथ से लंड को छानते लगते हूर बोली: कितना सताया है तेरे इस लंड ने.

ये कह कर वो एक झटके में पूरा लंड मूह में लेकर चूसने लगी. वो मेरे सूपदे पर जैसे ही अपने रसीली जीभ फड़फदती, मेरे रोम-रोम में एक अलग सा नशा चढ़ने लगता.

उनके रेशमी बाल जैसे मेरी गोटियों पर सरसरते, तब मुझे गुदगुदी होने लगती. अब मैने भी उनके कपड़े निकाल दिए. क्या बतौ दोस्तों, भरा हुआ बदन, गड्राई जांघे, और मस्त गहरे भरे हुए पेट के बीच गहरी नाभि.

मैं तो बस नाभि और पेट को चाट-ते हुए मस्त चूसने लगा उसकी गांद को मसालते-मसालते. उनके बड़े-बड़े बूब्स को मैं चाटने लगा मूह में लेकर, और चूसने लगा. मैं निपल को दांतो में लेकर काटने लगा.

आन वो भी कसमसाते हुए ज़ोर-ज़ोर से आहें भरने लगी. फिर मैने उनको बेड पर लिटा के, उनके उपर लेट कर, मस्त बदन पर घिसना रगड़ना शुरू किया. उनके बूब्स को चूस्टे हुए मैने पेट को पंजो में लेकर मसला.

गड्राई जांघों पर जांघे घिसते हुए मैने वेनीला फ्लेवर वाला कॉंडम लगाया. फिर उनकी छूट पर लंड घिसते हुए कस्स कर स्मूच करने लगा. किस करते हुए नीचे से लंड छूट में घुसा दिया. फिर मैने उसको गांद उठा-उठा कर छोड़ना शुरू किया.

जैसे ही मेरा लंड छूट में घुसा. उनकी छूट की नाज़ुक पंखुड़ियों को चीरने का गरमा-गरम एहसास, और लंड पर फड़फदती छूट की पकड़ कमाल की थी. इस सब में तो मानो मैं सातवे आसमान में सैर करने लगा.

हमारे बदन अब हर एक झटके के साथ ठप ठप छाप छाप फट फट की आवाज़ करते. फिर हम मिशनरी पोज़िशन में आ गये. एक-दूसरे को बाहों में जाकड़ कर फट फट पच पच आह आ की आवाज़े करते, स्मूच करते. हम पूरी तरह से चुदाई का मज़ा लेने लगे.

अब हम कभी एक साइड होते, और स्मूच करते-करते मैं उनकी एक टाँग उठा के छोड़ता. तो कभी वो मेरे उपर आ कर अपनी गांद उठा-उठा कर मेरे उपर होके चुदाई करती.

हम दोनो पागलों की तरह पुर बेड पर घूम रहे थे, कभी मैं उपर तो कभी नीचे. कभी लेफ्ट साइड तो कभी रिघ्त साइड. हम पूरा मज़ा लेते हुए बदन से बदन घिस कर छोड़ने लगे.

क्या मस्त बदन से बदन रग़ाद रहे थे हमारे. मानो हम बदन से मसाज कर रहे हो. और नीचे लंड छूट का मसाज एक साथ चल रहा हो, ऐसा लग रहा था.

अब हम दोनो कस्स-कस्स कर एक-दूसरे को स्मूच करते और जकड़ते. हम दोनो के बदन सिहारने लगे थे, और काँपने लगे. फिर उन्होने कस्स कर बाहों में जकड़ा, और पानी छ्चोढना शुरू किया.

उनकी गरमा-गरम छूट के काम-रस्स ने मेरे लंड को नहलाया. और मेरा भी बदन थरथरने लगा. मेरा लंड पूरा अंदर था, और छूट की जकड़न से मेरा भी पानी नियकाल गया.

हमारे बदन एक-दूसरे से चिपके हुए थे. हम ऐसे ही मस्त एक-दूसरे की बाहों में स्मूच करते लेते रहे.

तो कैसे लगी हमारी चुदाई ज़रूर बताना. अभी मैं मुंबई में आस आ सॉफ्टवेर इंजिनियर जॉब कर रहा हू. और किसी लॅडीस को सीक्रेट्ली एंजाय या छत करना होगा, तो पर मुझे मैल करना.

आपके मेसेज का इंतेज़ार कर रहा हू. अगर आपकी कोई फॅंटेसी होगी तो ज़रूर बताना. गूगले छत पर भी बातें कर सकते है. मेरी ए-मैल ईद है योमरयओ69@गमाल.कॉम

ज़रूर बताना आपको कैसी लगी हमारी चुदाई.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन भाभी ने दी चूत और गांद


error: Content is protected !!