बस मे मिली पूजा की चूत

मेरा नाम सुमित है और आज मैं आपको अपनी एक अच्छी और सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ. पर उससे पहले मैं आपको अपने बारे मे थोड़ा बताना चाहता हूँ जो की बेहोट ज़रूरी है.

मेरा नाम तो आप पहले ही जान चुके है. अब मैं आपको अपने बारे मे थोड़ा कुछ और बताता हूँ. मेरी उमर 26 साल है और मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ. मैं दिखने मे स्मार्ट हूँ और अभी तक कुवरा हूँ. मैं एक बिज़नेस मैन हूँ और बिज़नेस के चक्कर मे कभी इधर तो कभी उधर जाता रहता हूँ.

जैसा की मैने आपको बताया है की मैं कुवरा हूँ तो ये कामन सी बात है की मेरा लंड भी बहोत तड़प रहा होगा. पर मैने अपनी ज़िंदगी मे बहोत ही चूतो को मारा है और अपने लंड की प्यास भुज़ाई है.

वैसे मैं बहोत ही ज़्यादा चुदक्कड़ टाइप का इंसान हूँ और मुझे सेक्स करना भी बहोत पसंद है. सबसे ज़्यादा मुझे चूत को चाटने मे और चाट चाट कर उसका पानी निकालने मे मज़ा आता है. मैने कई बार लड़कियो के साथ सेक्स किया है और सबके साथ मैने ऐसे ही किया है.

सबसे ज़्यादा मैने कुवारि लड़कियो का पानी निकाल कर पिया है और फिर उनकी चूतो को अपने हथियार से ठंडा किया है.

ये सब तो मैने अपने बारे मे आपको बताया है पर असल मे जिस लंड का बार- बार जीकर हो रहा है उसके बारे मे तो कुछ बताया ही नही है. मेरे लंड का साइज़ 8 इंच है जो की चूत की प्यास को आसानी से भुजा सकता है.

तो अब मैं आपको अपनी कहानी पर ले कर चलता हूँ क्योकि मैने अपने बारे मे आपको काफ़ी कुछ बता दिया है. इसलिए अब कहानी पर चलते है. ये कहानी आज से कुछ समये पहले की है जब मैं अपने बिज़नेस के चक्कर मे लखनऊ से आगरा जा रहा था.

यह कहानी भी पड़े  लंडन मे रंडी खाना

मुझे ट्रेन मे ट्रेवल करना कम्फ़र्टेबल लगता है पर मेरा बिज़नेस का टूर अचानक ही बना था जिसकी वजह से मुझे ट्रेन मे सीट बुक नही हो पाई थी. इसलिए अब मैने बस मे जाने का सोचा और बसस्टैंड आ गया.

जब मैं बसस्टैंड पर पहुचा तो देखा की एक आगरा जाने वाली बस खड़ी थी. पर बस मे भीड़ थी और मेरा टाइम पर पहोचना भी ज़रूरी था इसलिए मैं उस बस मे चॅड गया. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

बस मे सीट सारी बुक थी इसलिए मैं खड़ा ही रहा. जहा पर मैं खड़ा था वाहा पर थ्री सीटर पर एक फैमिली बैठी हुई थी. जो की एक हस्बैंड वाइफ थे और उनकी मम्मी भी थी. जिस साइड पर मैं खड़ा था उस तरफ वो लड़का बैठा था और साथ मे उसकी मम्मी बैठी थी और विंडो वाली तरफ उसकी बीवी बैठी थी.

मैने पहले तो इतना ध्यान नही दिया पर बाद मे ध्यान दिया तो पता चला की वो लड़की मुझे देखी ही जा रही थी और उसने बुरखा भी डाल रखा था जिसकी वजह से उसका फेस पूरी तरह से ढका हुआ था.

जब वो मुझे देख रही थी तो फिर मैं भी उसकी तरफ ध्यान देने लग गया था. वो मुझे बार बार ऐसे ही देख रही थी जिसकी वजह से मेरे ध्यान भी अब उसकी तरफ था.

मैं भी उसे अब देखने लग गया था और उसको इशारे से कहने लग गया की अपना फेस दिखा दो. तो वो भी पानी पीने के बहाने से अपना फेस अपने भूरके को उप्पर किया और पानी पिया. जब उसने ऐसा किया तो मैं उसका फेस देखता ही रह गया. क्या मस्त गोरा चिकना था उसका फेस और उप्पर से उसके पतले- पतले होंठ जिसको उसने मुझे देख कर दातो से काट दिया था.

यह कहानी भी पड़े  Chudai Kahani मेरी उत्सुकता

ये देख कर मेरा लंड खुद ही खड़ा हो गया और उसको चोदने के लिए बेताब हो गया. वो भी बार बार मेरे लंड की तरफ देख रही थी तो मैने भी उसे अपना लंड हाथ से मसल कर दिखा दिया. जिससे उसे लंड के साइज़ का पता चल गया.

फिर मैं और वो तो बस मोके की तलाश कर रहे थे क्योकि मैं उसे अपना लंड चुसवाना चाहता था. मैं खड़े खड़े ही उसको फ्लाइयिंग किस दे रहा था जिसको पा कर वो बहोत खुश हो रही थी.

रात भी काफ़ी हो चुकी थी इसलिए हमे मोका मिल सकता था. फिर अचानक उस लड़की को वॉमिटिंग जैसा फील हुआ तो उसने उसे विंडो सीट से उठ कर उसकी सीट पर आने को कहा. ये सुन कर वो खुशी खुशी उठी और अपने पति की सीट पर आ कर बैठ गई. मैं भी उसके साथ वही पर खड़ा था इसलिए अब मैने लंड को उसके कंधे पर लगाना शुरू कर दिया.

हम दोनो बस एक ही चीज़ का ध्यान दे रहे थे की बस मे सब सो जाए और खास कर उसका पति और मम्मी. पहले तो मैं ऐसे ही उसके कंधे पर काफ़ी देर तक लंड को रगड़ता ही रह गया.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!