बुड्ढे लंड से बहन की जवान चूत की चुदाई

ही गाइस, मैं आज स्टोरी के नेक्स्ट पार्ट के साथ हाज़िर हुआ हू. लास्ट पारट में आपने पढ़ा था की किस तरह से मैं दीदी और जड्ज साब को एक-दूसरे के करीब लाया था.

जड्ज साब की आँखें दीदी को इस तरह की ड्रेस में देख कर चमक गयी. उन्होने दीदी को वॉशरूम में भेजा और बोले-

जड्ज साब: तुम नहा लो, मैं कोई कपड़े ले कर आता हू.

फिर जड्ज साब ने लड़की को कॉल की और बोले-

जड्ज साब: आज तो वो क़यामत लग रही है बारिश में भीग कर. अब उसको कोई ड्रेस देना है चेंज करने के लिए. क्या ड्रेस डू?

लड़की (विकी): कोई लॅडीस ड्रेस है तुम्हारे पास?

जड्ज साब: नही, इधर लॅडीस ड्रेस का क्या काम?

लड़की (विकी): फिर तुमने सोचा है कों सी ड्रेस दोगे?

जड्ज साब: कोई अपना सूट दे देता हू.

लड़की (विकी): तुम ऐसा करो, सिर्फ़ अपनी वाइट शर्ट देना. और उसके साथ अपना कोई शॉर्ट कक्चा दे दो.

जड्ज साब: ओक.

फिर जड्ज साब ने दीदी को अपनी शर्ट और कक्चा दे दिए. दीदी ने जब वो शर्ट और कक्चा पहना, तो दीदी बहुत हॉट लग रही थी. शर्ट का कपड़ा काफ़ी पतला था. उसमे से दीदी का पूरा जिस्म नज़र आ रहा था.

दीदी ने ब्रा नही पहनी थी, इसलिए उनके बूब्स सॉफ दिख रहे थे. और कक्चा भी सिर्फ़ आधी टाँगो पर आ रहा था. दीदी ने वो ड्रेस पहन कर अंजलि को मेसेज किया, और सारी बात बताई.

दीदी: अब मुझको काफ़ी शरम आ रही है इस ड्रेस में. मेरा सब कुछ नज़र आ रहा है.

अंजलि (विकी): शरम छ्चोढो, और उस बुड्ढे को जेया कर अपने जिस्म के डरसन काराव.

दीदी: और अगर वो मुझको देख कर अपने होश खो बैठे, फिर क्या करू?

अंजलि (विकी): फिर तुमने कुछ नही करना, जो करेगा वो खुद करेगा.

दीदी: बहुत शरारती हो गयी है तू. इसमे मेरे बूब्स सॉफ नज़र आ रहे है. इनको कैसे छुपौ?

अंजलि (विकी): अपने बालों को आयेज करके बूब्स कवर कर ले.

दीदी: ओक.

फिर दीदी रूम से बाहर आ गयी, और जड्ज साब के पास बैठ गयी. दीदी ने अपने बालों से अपने बूब्स कवर किए हुए थे.

जड्ज साब की नज़र दीदी के जिस्म पर थी, और दीदी ने भी ये बात नोट कर ली थी.

जड्ज साब: तुम छाई पी लो.

दीदी: आप की बात ठीक है. मैं बना कर लाती हू छाई.

फिर दीदी किचन की तरफ चली गयी, तो जड्ज साब की नज़र दीदी की गांद पर थी. जड्ज साब ने लड़की को कॉल मिलाई.

जड्ज साब: बड़ी क़यामत लग रही है वो उस शर्ट में. उसके सारे बूब्स नज़र आ रहे है.

लड़की (विकी): अब किधर है वो?

जड्ज साब: वो किचन में छाई बना रही है.

लड़की (विकी): ओक अब कुछ करो उसके साथ.

जड्ज साब: ठीक है.

5 मिनिट के बाद दीदी छाई लेकर आई, तो दीदी जड्ज साब के पास बैठ कर छाई पीने लगी. छाई पी कर जड्ज साब ने दीदी के जांघों पर हाथ रख दिया, और सहलाने लगे. दीदी को शरम महसूस हो रही थी, क्यूंकी पहली बार दीदी किसी गैर मर्द के पास बैठी हुई थी.

लेकिन दीदी जड्ज साब को माना नही कर रही थी. बल्कि दीदी ने अपनी आँखें बंद कर ली थी. फिर जड्ज साब ने दीदी का गाल पकड़ लिया, और दीदी के लिप्स को अपने लिप्स में लेकर चूसने लगे. जड्ज साब दीदी के होंठ चाट रहे थे. दीदी ने जड्ज साब के गले को पकड़ लिया, और वो भी जड्ज साब का साथ देने लगी.

जड्ज साब दीदी के गले पर किस करने लगे. दीदी को भी बहुत मज़ा आ रहा था. उन्होने जड्ज साब के बाल पकड़ लिए. अब जड्ज साब ने दीदी को खड़ा करके दीवार से चिपका दिया, और दीदी के गले पर किस करने लगे. दीदी आ एयेए हह कर रही थी, और जड्ज साब जानवरो की तरह दीदी को चूम रहे थे.

थोड़ी देर तक ऐसे ही दीदी को किस करने के बाद जड्ज साब अपने दोनो हाथो को पीछे करके दीदी की गांद मसालने लगे. 2 मिनिट बाद जड्ज साब दीदी को अपने बेडरूम में लेकर चले गये. जड्ज साब ने दीदी को बेड पर गिरा दिया. बेड पर गिरते ही दीदी के बूब्स हिलने लगे.

अब जड्ज साब ने अपने सारे कपड़े उतार लिए और दीदी के सामने बिकुल नंगे हो गये. जड्ज साब का लंड 9 इंच लंबा था, और बिल्कुल काले रंग का था. दीदी जड्ज साब का लंड देख कर दर्र गयी. जड्ज साब दीदी के पास गये, और दीदी के बूब्स को शर्ट के उपर से ही मसालने लगे.

अब जड्ज साब ने दीदी की शर्ट उतार दी, और दीदी कमर के उपर से बिल्कुल नंगी हो गयी. दीदी के निपल्स बिल्कुल ब्राउन कलर के थे. जड्ज साब तो दीदी के बूब्स को देखते ही रह गये. दीदी के बूब्स बिल्कुल गोल-गोल थे. जड्ज साब ने दीदी को लिटा दिया, और दीदी की पीठ के नीचे तकिया लगा दिया, जिससे दीदी के बूब्स और तंन गये.

दीदी ने अपने हाथ पीछे करके बेड को पकड़ लिया. फिर जड्ज साब दीदी के बगल मे लेट गये और दीदी के एक बूब को चूसने लगे. जड्ज साब बड़े मज़े से दीदी के बूब को चूस रहे थे. वो दीदी के एक बूब को चूस रहे थे, और दूसरे बूब को अपने हाथ से मसल रहे थे. दीदी आआ आ अयाया कर रही थी.

जड्ज साब समझ गये थे, की दीदी को भी बहुत मज़ा आ रहा था. वो ज़ोर-ज़ोर से दीदी के बूब्स को चूसने लगे. अब जड्ज साब अपने एक हाथ से ककचे के उपर से दीदी की छूट को सहलाने लगे. दीदी आहह आ अफ कर रही थी.

थोड़ी देर तक ऐसा की करने के बाद जड्ज साब ने दीदी का कक्चा खींच कर निकाल दिया, और अब दीदी बिल्कुल नंगी हो चुकी थी. अब जड्ज साब ने दीदी की छूट की तरफ देखा. दीदी की छूट पर एक भी बाल नही था. फिर जड्ज साब ने दीदी की नंगी छूट पर अपना हाथ रख दिया. दीदी शर्मा गयी.

फिर जड्ज साब ने दीदी से पूछा: अदिति तेरी छूट तो बहुत टाइट है. कब से नही चूड़ी?

दीदी: बहुत दिन हो गये है.

जड्ज साब: कोई बात नही, मैं आज से रोज़ तुम्हे छोड़ूँगा.

अब जड्ज साब दीदी की छूट को चाटने लगे. दीदी की मूह से आ आ की आवाज़े निकालने लगी. उन्होने अपने हाथ से जड्ज साब के बाल पकड़ रखे थे, और सिसकारियाँ ले रही थी. थोड़ी देर तक जड्ज साब ऐसे ही दीदी की छूट को चाट-ते रहे. दीदी की छूट से पानी गिरने लगा.

अब जड्ज साब घुटनो के बाल बैठ गये. जड्ज साब ने एक हाथ से अपने लंड को पकड़ा, और अपने लंड को दीदी की छूट पर रगड़ने लगे. दीदी ने अपने दोनो हाथ पीछे करके तकिये को पकड़ लिया. जड्ज साब ने एक झटका मारा, और दीदी चीख निकल पड़ी.

दीदी के छूट से खून निकालने लगा. दीदी की छूट बहुत टाइट थी, जिसकी वजह से जड्ज साब का मोटा लंड दीदी की छूट में नही गया. फिर जड्ज साब किचन से तेल लेकर आए, और उन्होने तोड़ा सा तेल अपने लंड पर लगाया, और तोड़ा मेरी दीदी की छूट पर लगाया.

अब उन्होने फिरसे एक झटका दिया. जड्ज साब के लंड का टोपा दीदी की छूट के अंदर चला गया था. अब जड्ज साब ने धीरे-धीरे अपनी कमर हिलनी शुरू कर दी. जड्ज साब का आधा लंड मेरी दीदी की छूट के अंदर-बाहर हो रहा था, और दीदी धीरे-धीरे आ आ अफ कर रही थी. वो जड्ज साब को धीरे करने को बोल रही थी.

दीदी के ऐसे आवाज़े सुन कर जड्ज साब ने पूरी ताक़त से झटका मारा. जड्ज साब का पूरा लंड दीदी की छूट में चला गया. अब जड्ज साब आयेज की तरफ झुक गये, और अपना हाथ बेड पर रख कर दीदी को छोड़ने लगे. जड्ज साब का पूरा लंड दीदी की छूट के अंदर-बाहर हो रहा था.

वो दीदी के उपर लेट गये. उन्होने अपने दोनो हाथो से दीदी के बूब्स पकड़ लिए, और मसालने लगे. अब जड्ज साब ने पूरी ताक़त से दीदी को छोड़ना शुरू कर दिया. पुर रूम में दीदी की सिसकारियों की आवाज़ गूँज रही थी. थोड़ी देर बाद जड्ज साब ने एक ज़ोर का झटका मारा, और दीदी के उपर ही लेट गये.

जड्ज साब ने अपना पानी दीदी की छूट में ही गिरा दिया. अब वो दीदी को चूमने लगे. 5 मिनिट बाद जड्ज साब दीदी के उपर से हॅट गये, और वही बगल में लेट गये. 5 मिनिट के बाद जड्ज साब ने दीदी को अपनी तरफ खींचा, और अपने सीने से लगा लिया, और दीदी के गाल चूम कर बोले-

जड्ज साब: 5 साल बाद आज किसी लड़की को छोड़ा है. बहुत मज़ा दिया तुमने.

दीदी: मैं भी 2 साल बाद किसी से चूड़ी हू.

जड्ज साब: अब मैं तुमको अपना बनाना चाहता हू. तुम मुझसे शादी कर लो.

दीदी: हाहः.

यह कहानी भी पड़े  हज़्बेंड के सामने वाइफ के साथ चुदाई की कहानी


error: Content is protected !!