बीवी मज़े से दूसरे आदमी से चुदी

ही फ्रेंड्स, एक बार फिर आपका दोस्त राहुल, और आपकी हॉट भाभी काव्या अपनी आयेज की स्टोरी लेकर आपके सामने है. जैसा की आपने पढ़ा लास्ट स्टोरी में, की हमने कैसे एक नया एंजाय करा, एक नयी स्टेट में जाके नये लड़के से फ़ेसबुक पे दोस्त बना के. अब आयेज…

हम लोग अपनी सिटी वापस आ गये थे. कुछ टाइम रुक के हमने और बंदे सर्च करे और मिले. बुत उनके बारे में कभी और बात करेंगे. अभी इसी स्टोरी के आयेज के पार्ट पे आते है.

कुछ टाइम बाद कम से कम 6 मंत बाद, विशाल की कॉल आती है की वो हमारी सिटी में आ रहा था किसी काम से. और अगर हम फ्री हो तो मिले उसको. मैने काव्या से पूछा-

मैं: विशाल आ रहा है. मिलॉगी तो करे प्लान?

काव्या ना भी ओक कर दिया. फिर मैने विशाल को कॉल करके बोल दिया-

मैं: आप जहा रोकूगे बता देना. हम आ जाएगे मिलने.

2 वीक्स बाद विशाल हमारी सिटी आ गया 2 दिन के लिए.

1 दे तो ना हम फ्री हुए ना वो. नेक्स्ट दे को प्लान बना की दे में मिलते है. जैसा की आप जानते है मैं जॉइंट फॅमिली में रहता हू, तो घर से निकलना ईज़ी नही होता. हम घर से बहाना करके नेक्स्ट दे निकल गये. आफ्टरनून का टाइम फिक्स करा था हमने मीटिंग का.

हम उसके बताए होटेल में पहुँच गये. फिर रूम पे जाके बेल रिंग कर दी. विशाल ने गाते खोला, और हम लोग अंदर आ गये. अंदर आने के बाद गाते मैने बंद करा, जब तक विशाल और काव्या हग कर चुके थे. मैने भी हॅंड शेक करा भाई के साथ.

फिर हम लिविंग एरिया में बैठ गये, और बात करने लगे. थोड़ी देर बात करने के बाद मैने काव्या को बोला-

मैं: साथ बैठ जाओ.

काव्या विशाल के पास जाके बैठ गयी. मेरी वाइफ ने सारी डाल रखी थी, और वो बहुत प्यारी लग रही थी. लग क्या रही थी, है ही प्यारी. वैसे तो और इंडियन ड्रेस में तो और कमाल की लगती है. फिर विशाल ने लंच ऑर्डर करा. हमने हल्का सा लिया क्यूंकी ऑलरेडी लेके आए थे घर से. कुछ टाइम और बात करने के बाद मैने बोला-

मैं: अब आप लोग एंजाय करो. घर भी जाना होगा, नही तो लाते हो जाएगे.

विशाल ने मेरे से बोला: भाई अगर आपकी और भाभी की मर्ज़ी हो तो मैं क्या थोड़ी टर भाभी के साथ अकेले में रूम में मिल सकता हू? आप थोड़ी देर बाद आ जाना.

मेरी तरफ से ओक था. मैने काव्या को पूछा. काव्या पहले तो तोड़ा सोच रही थी. फिर मैने बोला-

मैं: कोई बात नही, यही तो हू रूम में ही. बस तुम बेडरूम में, मैं लिविंग एरिया में (आक्च्युयली वो होटेल का सूयीट रूम था).

काव्या ने ठीक है में जवाब दिया. दोनो रूम में चले गये, और गाते लगा दिया. लॉक नही करा, बस लगा दिया.

मैं भी गाते के पास खड़ा होके सुन रहा था, की क्या करेंगे दोनो. सही बतौ बहुत चुल्ल होती है ऐसे टाइम में, की वाइफ क्या कर रही होगी. सामने वाला क्या कर रहा होगा. फिर अंदर से पहले थोड़ी बात करने की आवाज़ आ रही थी.

काव्या: आपने उनको क्यूँ माना करा आने से? आप तो पहले भी सामने मिल चुके हो,

विशाल: माना नही करा, बस तोड़ा टाइम आपके साथ अकेले रोमॅन्स करना चाहता था.

काव्या: वो तो आप उनके सामने भी कर लेते, वो माना थोड़ी ना करते.

विशाल: वो मैं जानता हू, बुत सच बोलू आपसे. जब आपसे सिटी में मिला था, आप मुझे बहुत पसंद आई. मैं कुछ टाइम अकेले आपके साथ चाहता था. अगर बुरा लगा हो तो सॉरी आंड उनको बोल देता हू अंदर आ जाए.

काव्या: बुरा नही, बुत मैं इनके सामने ही करती हू. जब इनकी तरफ से सब ओक है, तो मैं क्यूँ पीछे से करू.

विशाल: ठीक है, मैं बुला लेता हू.

काव्या: अब कोई नही अंदर आ आ गये है तो. और जब उन्होने बोला है तो थोड़ी देर बाद बोलना, नही तो वो समझ जाएगे.

और दोनो हासणे लगे.

फिर मुझे किस्सिंग की आवाज़ सी आने लगी. थोड़ी देर बाद दोनो किस कर रहे थे. अंदर क्या चल रहा था, पता नही. मैं सिर्फ़ सुन रहा था. वैसे इससे आयेज अंदर क्या हो रहा था, जो मेरी वाइफ से मैने घर आके पूछा था, वो बता देता हू.

किस्सिंग करते-करते वो काव्या को अपनी बाहों में उठा लेता है, और दोनो बढ़िया वाला किस कर रहे थे. आपको शायद याद हो तो फर्स्ट मीट में दोनो की किस नही हुई थी.

बुत इस बार हो गयी, और वो भी बढ़िया वाली. कम से कम दोनो ने 5 मिनिट से उपर लिप्स किस करा.

विशाल का फुल खड़ा हो गया था, जो वाइफ को फील हो गया था. आक्च्युयली विशाल ना लोवर डाल रखा था आंड त-शर्ट सिर्फ़.

फिर विशाल ने बोला: भाभी आक्च्युयली इसलिए ही अकेले में मिलना छा रहा था. उस दिन आपने किस्सिंग नही करी, और आज दोनो ने करी तो मज़ा आया.

काव्या: ऐसा कुछ नही है की पीछे से कर रही हू तो कर रही हू. मुझे जो अछा लगता है पसंद आता है, सिर्फ़ उसके साथ करती हू. फर्स्ट मीट में पता नही चलता, बुत हम 1 बार मिल चुके थे. आपका नेचर पता था इसलिए करा. वो होते तो उनके सामने भी करती.

फिर दोनो किस करने लग गये, और विशाल सारी का पल्लू साइड करके ब्लाउस के उपर से काव्या के बूब्स दबाने लगा, और रब करने लगा. फिर कुछ देर बाद काव्या के ब्लाउस में हाथ डालने की कोशिश करने लगा.

काव्या: ब्लाउस फटत जाएगा, उतार लो.

विशाल ने हुक खोल के ब्लाउस उतार दिया, और वाइफ को गर्दन पे, बूब्स के आस-पास के हिस्से में किस करने लगा, और लिकिंग करने लगा. काव्या भी मदहोश होके मज़े ले रही थी आँखें बंद करके.

विशाल नीचे बैठ के, नाभि के पास आके किस करने लगा, और नाभि में जीभ डाल के लीक करने लगा.

काव्या उसके सर पे हाथ घुमा रही थी. विशाल ना नाभि को किस करते-करते काव्या की सारी निकाल दी, और साइड में रख दी. अब काव्या सिर्फ़ ब्रा और पेटिकोट में थी. विशाल मस्ती में बॉडी प्ले कर रहा था. फिर विशाल उठा, और काव्या की ब्रा भी निकाल दी. मेरी वाइफ के छ्होटे से बूब्स विशाल के सामने फिरसे आ गये थे. पहले से तोड़ा बढ़ गये थे.

विशाल: भाभी पहले से थोड़े और खिल गये है.

काव्या: बीच में और लोगों से भी मिले है. और ये भी मेहनत करते है, तो होगा ही ना.

विशाल ने बूब्स को मूह में ले लिया, और चूसने लगा. और दूसरे वाले को एक हाथ से दबाने लगा. दोनो मस्त प्ले कर रहे थे. विशाल कभी बूब्स सक करता, कभी किस करता लिप्स पे, कभी बॉडी पे. थोड़ी देर तक यही चलता रहा. फिर विशाल ने काव्या का पेटिकोट भी निकाल दिया. अब सिर्फ़ पनटी में थी काव्या.

विशाल ने काव्या का एक पैर बेड पे रखवा दिया, और पैरों पे लिकिंग करने लगा. वो जाँघ तक जाके कभी पनटी के उपर से ही छूट पे किस करता. साइड से हाथ डाल के छूट को रब करता. फिर खड़ा होके वाइफ को घुमा के उसके पीछे आ गया.

काव्या: विशाल आपने मेरे को तो नंगा कर दिया. आपने तो कोई कपड़े नही उतारे.

विशाल: भाभी आप उतार दो ना, आपके हाथ से और मज़ा आएगा.

काव्या घूम के उसकी तरफ होती है, और त-शर्ट उतार देती है, और लोवर भी. वो अब सिर्फ़ अंडरवेर में होता है.

काव्या: अब ये आपको खुद निकालना होगा.

और वो स्माइल देती है.

विशाल: कोई नही मैं निकाल दूँगा.

और फिरसे घूम के वापस काव्या को पीछे से पकड़ लेता है. वो उसको नेक पे किस करता है. पीछे से उसका लंड अंडरवेर के अंदर से खड़ा था, जिससे अछा फील हो रहा था काव्या को. वो लंड को काव्या की बॅक पे रब कर रहा था.

थोड़ी देर बाद विशाल ने काव्या की पनटी उतार दी, और काव्या की छूट को रब करने लगा, और बूब्स दबाने लगा. फिर अपना अंडरवेर उतार दिया, और दोनो अब फुल न्यूड हो चुके थे. वो अब अपना लंड काव्या की बॅक में दबाने लगा. विशाल फुल मूड में बॉडी पे किस, पुसी रब, बूब्स को दबा रहा था, और काव्या पूरी गरम हो रही थी.

मुझे तो ऐसा लग रहा था, की अगर काव्या उसको बोलती की बॅक में डाल दो, तो वो डाल देता. बुत काव्या को अनल पसंद नही.

विशाल: भाभी एक बात बोलू?

काव्या: हा बोलो ना.

विशाल: आप क्या मेरा ये एक बार हाथ से पकड़ सकती है क्या?

काव्या ने पीछे हाथ करके हाथ में ले लिया, और तोड़ा सा रब करना स्टार्ट कर दिया. विशाल फुल बॉडी पे किस्सिंग और लिकिंग में लगा था.

विशाल ने काव्या से बोला: करे?

काव्या: अभी तक नही कर रहे थे क्या?

विशाल: अर्रे मतलब अब कंट्रोल नही हो रहा है. आपके हाथ लगने से और उतावला हो रहा है ये (लंड की तरफ इशारा करते हुए बोला).

काव्या: मैने तो माना नही करा, आपकी मर्ज़ी है.

फिर विशाल ने काव्या को उठा के बेड पे लिटा दिया, और वो काव्या के उपर आ गया. फिर छूट में मूह लगा के सकिंग करने लगा. काव्या आराम से एंजाय कर रही थी. 10 मिनिट की सकिंग के बाद विशाल ने लंड पे कॉंडम लगा के सेट करा, और अंदर डाल दिया. दोनो फुल मूड में थे. काव्या और मैं और भी लोगों से मिले थे विशाल से मिलने के बाद, तो इस बार आराम से ही चला गया अंदर.

विशाल आराम-आराम से आयेज-पीछे करके मज़े कर आंड करा रहा था. बीच-बीच में किस्सिंग करना, बूब्स सक करना भी चालू था. मैं अभी तक बाहर ही था, और दोनो भूल गये की मेरे को भी बोलना था.

थोड़ी देर में विशाल ना बोला: भाभी उपर आओगे आप?

काव्या: ट्राइ करती हू, कभी करा नही है.

मुझसे भी अब रुका नही जेया रहा था ये सुन के. मैं 2 मिनिट और रुका. काव्या उठ जाती है, विशाल नीचे लेट जाता है. फिर काव्या उसके उपर आ जाती है. काव्या विशाल का लंड पकड़ के सेट करती है, और फिर उसपे बैठ जाती है. आक्चुयल काव्या ना मेरे साथ तो काई बार करा था, बाहर किसी के साथ नही.

मेरे से रुका नही गया, तो मैं आराम से गाते खोल के अंदर आ जाता हू. अंदर का सीन देख के मैं बता नही सकता क्या सीन था यार.

विशाल नीचे, मेरी वाइफ उसके उपर बैठी थी, और लंड पूरा अंदर जेया रहा था. विशाल नीचे से अपना फोर्स लगा रहा था, और काव्या उपर से नीचे-उपर हो रही थी. मेरी तरफ काव्या की बॅक थी, और फेस दूसरी तरफ था. मैं अंदर आके बैठ गया. दोनो ने मेरे को देख लिया, और दोनो ने स्माइल करी.

मैं: भाई बाहर कब तक वेट करता? आप लोग तो बोलना भूल गये (स्माइल देते हुए).

काव्या और विशाल भी स्माइल कर रहे थे.

फिर विशाल ना बोला: भाई हम फन में इतने खो गये थे, की दिमाग़ से निकल गया.

काव्या तोड़ा सा डाउन हो गयी. उसे लगा ग़लत कर दिया हमने.

फिर मैने बोला: कोई नही, मैं मज़ाक कर रहा था. तुम दोनो एंजाय करो, अब तो मैं रुक सकता हू. विशाल के बोलने से पहले काव्या ने बोल दिया-

काव्या: हा आप यही रूको, और देखो एंजाय आप भी करो.

फिर दोनो चालू हो गये. विशाल का हाथ बॉडी पे घूम रहा था काव्या की. बीच-बीच में वो उसके बूब्स दबा रहा था. कभी काव्या का फेस अपनी तरफ करके किस्सिंग भी चल रही थी. बूब्स सकिंग भी हो रही थी बीच-बीच में.

फिर काव्या ने बोला: मैं तक गयी, आप उपर आ जाओ.

काव्या उठ जाती है उसके उपर से. विशाल भी उठ जाता है. फिर काव्या लेट जाती है. विशाल फिरसे लंड सेट करके अंदर कर देता है. मैं पहली बार छूट में इतना क्लियर लंड जाता देख रहा था. क्यूंकी मैं उनकी बॅक में था. दोनो अछा वाला एंजाय कर रहे थे. किस्सिंग, बूब्स सकिंग, सब चालू था.

करीब 10 मिनिट बाद विशाल लूस होके काव्या के उपर लेट जाता है, और काव्या उसके सर पे हाथ फेर रही होती है. चिपक के दोनो लेते थे. फिर दोनो उठ के वॉशरूम जाते है.

विशाल बोलता है: साथ में चले?

काव्या मेरी तरफ देखती है, और मैं हा में सर हिला देता हू. अंदर जाके दोनो ना क्लीन करा, और विशाल ना वाहा भी काव्या को किस करा, और खुद अपने हाथ से क्लीन करा काव्या को. फिर दोनो बाहर आ गये. विशाल ने लोवर डाला और त-शर्ट, और हम दोनो बाहर आ गये.

काव्या ना अपना बाग माँगा मैने लाके दे दिया. फिर काव्या 20 मिनिट बाद तैयार होके बाहर आई. हमने थोड़ी देर बैठ के बात करी और फिर हम वाहा से निकल गये अपने घर के लिए.

होप आपको ये स्टोरी अची लगी हो. दोस्तों आपको कैसी लगी ये स्टोरी मुझे मैल करके रिप्लाइ करे. आंड प्लीज़ उल्टा सोचने वाले और उल्टा बोलने वाले डोर रहे. आयेज क्या हुआ, आपको नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा.

यह कहानी भी पड़े  सौतेली मा से नफ़रत से प्यार तक

error: Content is protected !!