बीवी की हज़्बेंड के सामने ग्रूप चुदाई की कहानी

ही, मेरा नाम महेश देसाई है. मैं मुंबई का रहने वाला हू. मेरी आगे 32 है, और मेरी वाइफ शीतल 26 की है. ये कहानी मेरी क्यूक्कल्ड सक्सेस की है. मेरी वाइफ ने मेरा क्यूक्कल्ड का सपना पूरा करने के लिए 4 बुल्ल्स से के साथ

चुडवाया, मेरे बर्तडे के गिफ्ट तौर पर.

पहले मैं अपनी वाइफ शीतल के बारे में बता डू. वो 26 की है. स्लिम टाइट फिगर है उसका, 5’3″ की हाइट है, और गोरी चिकनी है. टाइट बॉडी है उसकी, गोल टाइट बूब्स पर्फेक्ट है. बूब्स 32″ के है, और गांद 36″ की है.

मेरा बर्तडे था उस दिन, और शीतल ने अपने 4 दोस्तों को बुलाया था. फिर बर्तडे ख़तम होने के बाद शीतल बोली उन लोगो को-

शीतल: खाना खा कर जाना.

तब वो सब लोग मान गये, और बर्तडे और खाना होते-होते रात के 12:30 हो गये. फिर सब लोग चले गये. मैं भी तक चुका था. मुझे लगा अब शीतल के 4 दोस्त जाएँगे तो मैं सो लेता हू. लेकिन 1:20 हो रहे थे रात के, फिर भी शीतल के 4 दोस्त जा नही रहे थे.

मैने शीतल को आवाज़ दी और पूछा: कब जाने वाले है तेरे दोस्त?

तो वो बोली: ये 4 लोग तुम्हे आज लाइफ का सबसे बड़ा सर्प्राइज़ गिफ्ट देने वाले है.

मैने बोला: ऐसा क्या देने वाले है?

तो वो बोली: बस देखते जाओ.

और फिर उसमे से एक ने शीतल को एक बाग दिया.

शीतल बोली: तुम रूको, मैं 10 मिनिट में आई.

10 मिनिट बाद शीतल आई तो देखा, की शीतल टाइट फिट ड्रेस में थी नेट टाइप की, और अंदर कुछ भी पहना नही था. वो सब के सामने वैसे ही आई. ये देख मैं दर्र गया, की शीतल को क्या हुआ. ऐसे कों से कपड़े पहन कर उसके दोस्तों के सामने आई थी वो.

फिर मैने शीतल को गुस्से में पूछा: ये क्या है? ऐसे कपड़े क्यू पहनी हो? कों दिया है तुमको ये?

तब जिसने शीतल को बाग दिया था, वो बोला: मैने दिए है.

तो मैं उसको गुस्से में बोला: तू कों है मेरी बीवी को ऐसे कपड़े देने वाला?

तो सब हासणे लगे. ये देख मैं और गुस्से में आ गया.

तब शीतल बोली: डार्लिंग आज तुम्हे लाइफ का सबसे बड़ा गिफ्ट दूँगी. तुम बस शांत रहो, गुस्सा मत हो. बस देखो.

और शीतल उन 4 लोगों के बीच में गयी. फिर 1 ने उसको किस करना शुरू कर दिया, और एक ने छूट रगड़ना, और एक गांद में लंड रग़ाद रहा था, एक बूब्स मसल रहा था.

फिर मैने गुस्से में बोला: निकल जाओ यहा से.

और शीतल को मैने मेरी तरफ खींचा.

तो शीतल बोली: मैं तुम्हारा सपना पूरा कर रही हू. ये मेरे दोस्त नही, बुल्ल्स है.

और बुल्ल्स सुनते ही पता नही मुझे क्यूक्कल्ड फीलिंग आनी शुरू हो गयी, और मैं चुप रहा. फिर शीतल ने नीचे बैठ कर सब की ज़िप्स ओपन करके लंड चूसने शुरू कर दिए. उनके लंड मेरे से डबल साइज़ के थे.

फिर उन्होने शीतल के कपड़े फाड़ दिए. नेट के कपड़े थे, तो ईज़िली फटत गये. फिर एक नीचे बैठ गया, और शीतल उसके लंड पे बैठ गयी. दूसरे ने लंड उसकी गांद में डाल दिया.

मुझे लगा अब शीतल को बहुत दर्द होगा, और वो चिल्ला उठेगी. लेकिन उसको सिर्फ़ हल्का सा दर्द हो रहा था. 2 लोग बारी-बारी उसका सर पकड़ कर लंड से मूह छोड़ रहे थे. फिर एक का पानी शीतल के मूह में ही निकल गया.

शीतल उसको पूरा पी गयी. फिर जो गांद मार था, उसका भी शीतल की गांद में पानी निकल गया. अब 2 लोग बचे थे. उन लोगों ने शीतल को गोद में उठा लिया. सामने से एक ने छूट में लंड डाला, और पीछे से दूसरे ने गांद में.

फिर वो बहुत देर तक उसकी छूट और गांद मार रहे थे. अब शीतल को दर्द हो रहा था, क्यूंकी जो गांद मार रहा था, उसका उन लोगों में सबसे बड़ा था, और थिक भी.

वो पूरा लंड गांद के होल तक निकालता था, और एक ही झटके में पूरा का पूरा गांद में घुसा देता था. इससे शीतल से दर्द सहा नही जाता था. लेकिन अब वो कुछ नही कर सकती थी.

जो उसकी छूट मार रहा था, वो भी सेम पूरा बाहर निकालता, और एक ही झटके से पूरा छूट के अंदर तक घुसा देता था. शीतल बुरी तरह से तक गयी थी.

शीतल का गोरा जिस्म लाल हो गया था, और पसीने से भर चुका था. वो रिक्वेस्ट करने लगी दर्द भारी आवाज़ में-

शीतल: प्लीज़ थोड़ी देर रुक जाओ.

लेकिन वो और स्पीड से शीतल की चुदाई करने लगते जब भी वो बोलती. अब जो छूट छोड़ रहा था शीतल की, उसका भी पानी आने वाला था. उसने लंड निकाल कर, शीतल के बाल पकड़ कर, लंड मूह में पूरा घुसा कर रखा, जब तक उसके लंड का पूरा पानी निकला नही.

शीतल इस चीज़ से तड़प रही थी, क्यूंकी उसका पूरा लंड उसके मूह अंदर फ़ससा हुआ था, और शीतल साँस नही ले पा रही थी. फिर जैसे ही उसने अपना लंड निकाला, जो गांद मार रहा था शीतल की, उसने अपना मोटा लंड शीतल के बाल पकड़ कर उसके मूह में डाल दिया. अब वो उसका मूह छोड़ने लगा, और शीतल उसको हाथो से डोर कर रही थी.

लेकिन वो शीतल के बाल इतने ज़ोरो से पकड़ कर, इतनी स्पीड से मूह छोड़ रहा था, जैसे की छूट हो. फिर लगातार 2-3 मिनिट छोड़ने के बाद उसका भी पानी निकल गया. उसका पानी इतना था, की शीतल के मूह से बाहर आ कर उसके बूब्स पर गिरने लगा.

इतना सब हुआ ही था की स्टार्ट के 2 बुल्ल्स जिनका सबसे पहले पानी निकला था, उन लोगों ने शीतल की छूट और मूह छोड़ने शुरू कर दिए. शीतल का जिस्म बुरी तरह से पसीने से भीग चुका था. अब उसमे पवर नही बची थी, की और लंड ले सके.

उन लोगों ने स्पीड से चुदाई की शीतल की. कभी वो छूट, कभी मूह एक्सचेंज

करके छोड़ रहे थे वो. फिर वो दोनो भी अपना पानी शीतल के फेस पे निकाल दिए. ये सब देख कर मेरा हिला-हिला कर बुरा हाल हो गया था. मेरा 4 बार निकल गया था. शीतल नों स्टॉप 3:30 घंटे तक, बिना 1 मिनिट रुके चुड्ती रही. 5 मिनिट बाद शीतल बोली-

शीतल: कैसा लगा आपको ये गिफ्ट?

दोस्तों ऐसा लग रहा था, की स्वर्ग आ गया था मैं. मेरी लाइफ का सबसे बड़ा ड्रीम पूरा कर दिया मेरी वाइफ शीतल ने. फिर मैने शीतल से पूछा-

मैं: तुम्हे कैसा पता मैं क्यूक्कल्ड हू?

फिर उसने बताया, की एक दिन मैं नहा रहा था. तब एक बुल्ल्स ने मेसेज किया था. तब उसने सब मेसेजस देख लिए थे.

उसने कहा: तुम मेरे बर्तडे पे बुल्ल्स से छुड़वाने वाले थे, तो मैने सोचा मैं तुम्हारे बर्तडे पे बुल्ल्स से छुड़वा लू. क्यूंकी मेरे बर्तडे को बहुत टाइम है.

उसके बाद सुबा फिरसे शीतल की बुरी तरह से चुदाई हुई. पूरा दिन शीतल नंगी थी, और शीतल ने उस दिन मेरे मेसेजस देख कर एक बुल के साथ मिल कर ये प्लान बनाया था.

मैं अगली स्टोरी में डीटेल में बतौँगा, की शीतल ने उस दिन क्या-क्या छत देखी, और किस-किस बुल्ल्स के साथ छत की.

नेक्स्ट पार्ट जल्दी उपलोआड करूँगा. मेरी कहानी पसंद आई तो मेरी ईद है, उस पर स्टोरी कैसी लगी बताना.

यह कहानी भी पड़े  मोहल्ले की औरत के साथ सेक्स का मिला मौका


error: Content is protected !!