बीवी के नौकर से चुद कर प्रेग्नेंट होने की कहानी

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सब? उमीद है सब ठीक होंगे. तो में आपको अपनी ज़िंदगी की सॅकी घटना बताने जेया रहा हू. मेरा नाम दिनेश है, और मेरी वाइफ का नाम दिशा है. वो 5’7″ हाइट की बहुत स्मार्ट लड़की है.

उसको जिस्म भरा हुआ है. दिशा के बूब्स और गांद दोनो बहुत बड़े है. गांद तो पीछे को निकली हुई है. जब वो कभी पैदल मार्केट जाती है, तो बहुत सारे मर्द दिशा की गांद को बहुत घूरते है. मैने ये काफ़ी दफ़ा नोटीस भी किया है. तो चलो अब स्टोरी शुरू करता हू.

हम रहने वाले तो पुंजब के है, लेकिन जब मों-दाद चल बससे, तो हम देहरादून शिफ्ट हो गये. हमे किसी भी चीज़ की कमी नही थी. मेरे पिता जी बहुत सारी प्रॉपर्टी छ्चोढ़ कर गये थे. काफ़ी प्रॉपर्टी रेंट पर थी, तो हमारी अची आमडान होती थी.

मैने डीसल कंपनी दुबई में जॉब के लिए अप्लिकेशन भी लगा रखी थी. देहरादून में हमारा घर अकेला था, डोर-डोर तक कोई घर नही था, और ना ही पॉप्युलेशन थी.

दोस्तों हमारी मॅरेज को 10 साल हो चुके थे. लेकिन हमारे अभी तक बाकचा नही हुआ था. हमने सभी टेस्ट और चेकप करवाए. तो हमे पता चला की मेरी वाइफ मा बन सकती थी. लेकिन मैं बाप नही बन सकता था. मेरा स्पर्म काउंट बहुत कम था, जिसकी वजह से वाइफ को प्रेग्नेंट नही कर पा रहा था.

मेरे लंड का साइज़ भी बहुत छ्होटा और पतला है, लेकिन मेरी वाइफ ने कभी कोई शिकायत नही की. मुझे दुबई से जॉब के लिए लेटर आ गया. एमाइल ईद – डिनेश्डिश6@गमाल.कॉम

मैं और मेरी वाइफ बहुत खुश थे. क्यूंकी इस जॉब के लिए मैं पिछले 3 साल से ट्राइ कर रहा था. वाइफ ने बोला उसको तो देहरादून में किसी से जान-पहचान भी नही थी.

मैने वाइफ से बोला: नौकरानी रख लो.

वाइफ बोली: नही नौकर रख लेते है, और साथ में दूध देने वाली भैंस रख दो. मैं भी अकेली हू. आदमी घर में होना ज़रूरी है.

मुझे भी अपनी बीवी की बात सही लगी. सॉरी दोस्तों वाइफ की आगे बताना तो भूल ही गया. दिशा की आगे 33 साल की है. मैं किसी ईमानदार नौकर को ढूँढने लगा, और अपने सभी दोस्तों को भी पूछा.

मेरे एक दोस्त ने मुझे एक बंदे का फोन नंबर दिया, और बोला: ये बंदे को काम की ज़रूरत है. बहुत अछा है. उसका नाम अब्दुल है.

मैने अब्दुल को फोन किया, और उसको मिलने के लिए बुला लिया. अब्दुल बहुत ही काससे हुए बदन वाला था. उसने मूचे और बियर्ड रखी हुई थी. हमने उसके साथ सारी बातें कर ली. उसको सारा काम बताया. वो मान गया और उसको बोल दिया, “अब तुम अपना समान लेकर आ सकते हो.

मैने उसको बोला: अगर शादी शुदा हो तो बीवी को भी साथ ले आना.

लेकिन अब्दुल बोला अभी तक उसकी शादी नही हुई थी.

अब्दुल बोला: मालिक मैं कल शाम को आ जाता हू समान लेकर.

फिर मैने भी अपनी टिकेट बुक करवा ली दुबई जाने की. अब्दुल आब हमारे यहा रहने लगा. कभी-कभी मेरी बीवी अब्दुल को शॉपिंग करने ले जाती. मैं दुबई चला गया था. सब बहुत अछा चल रहा था.

मेरा कांट्रॅक्ट 5 साल का था कंपनी के साथ. ऐसे ही 5 साल पुर हो गये. पहले हमारे पास एक कार थी. लेकिन अब बीवी ने टीन खरीद ली थी. और पुंजब में लॅडीस सलून की 8 ब्रॅंचस खोल दी थी. जब मेरा कांट्रॅक्ट पूरा हुआ तो वाइफ ने मुझे बोला-

दिशा: आप वापस आ जाओ, आपको कुछ बताना है. और हमेशा के लिए आना. मैं आपको दोबारा वापस नही जाने दूँगी.

मैने कुछ ज़्यादा नही कहा बस ताल दिया और बोला: जल्दी ही अवँगा मैं.

और मेरी वाइफ दिशा और मैं दोनो रात को 10 से 15 मिनिट बात करते थे. मैने वाइफ को सर्प्राइज़ देने का सोचा था. मैं बिना बताए इंडिया आ गया, और रात के 11 बजे हुए थे. पहले मैने अब्दुल के रूम की तरफ देखा.

अब्दुल का रूम घर से बाहर था, और रूम की लाइट ओं थी. लेकिन वाहा पर अब्दुल नही था. फिर जैसे ही मैने घर के मैं डोर को हाथ लगाया, गाते पहले से खुला था. मैने धीरे से अपना समान दरवाज़े से अंदर किया, और अंदर जाने के लिए आयेज बढ़ा.

फिर मैने अब्दुल की आवाज़ सुनी. उसने दिशा से बरफ लाने के लिए बोला. मैं बहुत हैरान हुआ, क्यूंकी अब्दुल तो हमारा नौकर था, और वो वाहा क्या कर रहा था इतनी रात में. मैने सोचा देखता हू की चल क्या रहा था.

मैं अंधेरे में च्छूप कर देखने और उनकी बातें सुनने लगा. मैने देखा अब्दुल ने टेबल पर दारू की बॉटल रखी थी, और पेग लगा रहा था. कुछ देर बाद दिशा बरफ लेकर आई, और अब्दुल से बोली-

दिशा: आज तुमको एक खुश खबरी भी देनी है, तो जल्दी ख़तम कर पीना. खाना तैयार है. आज तुम्हारी पसंद का चिकन निहारी बनाया है.

उसने दिशा की गांद पर हाथ फेरते हुए बोला: लगता है आज छुड़वाने के मूड में हो, जो इतनी सेवा की जेया रही है.

दिशा बोली: मैं तो हर रोज़ मूड में रहती हू. लेकिन तुम ही नही आते पास.

तभी अंदर से बच्चा रोने की आवाज़ आई. तो दिशा अंदर चली गयी, और बोली-

दिशा: जल्दी ख़तम करो. मैं ऋषि को सुला कर आती हू.

कुछ देर बाद दिशा बाहर आई, और अब्दुल से बोली: तुम्हारा बेटा बहुत शैतान है तुम्हारी तरह.

फिर दोनो ने खाना खाया.

तभी अब्दुल दिशा से बोला: तू अंदर चल, और मेरे लिए एक मोटो पेग बना जैसे हर बार बनती हो. मैं आता हू सिगरेट पी कर.

फिर अब्दुल बाहर सिगरेट पीने आया. मैं पीछे अंधेरे में च्छूप गया और समान को आचे से च्छूपा दिया. क्यूंकी अब मुझे पता था क्या होगा. अब्दुल ने सिगरेट को खाली किया, और सिगरेट में भांग भारी, और लंबे-लंबे काश लगाने लगा.

अब्दुल भांग पी कर दिशा के पास गया. मैं भी धीरे-धीरे बेडरूम की विंडो के पास चला गया, और अंदर देखने लगा. दिशा पूरी नंगी हो कर बेड पर बैठी हुई थी. उसके हाथ में दारू का ग्लास था.

अब्दुल ने दिशा की छूट पर हाथ फेरते हुए दिशा से ग्लास लिया, और वाइफ ने खुद उठ कर उसके पाजामे का नाडा खोला. फिर वो उसके लंड को मूह में लेकर चूसने लगी. अब्दुल ने मज़े-मज़े से पेग ख़तम किया, और वाइफ को हेर से पकड़ा, और बेड पर लिटा दिया.

दिशा ने अपनी टांगे फैला दी, और अब्दुल ने लंड को एक ही झटके में अंदर डाल दिया.

फिर दिशा अब्दुल से बोली: इतने दिन क्यूँ नही आए मेरे पास?

अब्दुल ने चुदाई स्टार्ट करी, और बोला: तुझे तडपा रहा था मेरी जान.

फिर वाइफ ने अब्दुल की नेक पर ज़ोर से काट लिया. अब्दुल पुर जोश में गालियाँ देकर उसको छोड़ने लगा. दोनो चुदाई के नशे में डूबे हुए थे. 2 घंटे के आस-पास अब्दुल ने छूट मारी, और सारा पानी अंदर छ्चोढ़ दिया. उसी टाइम मैं अंदर चला गया, और दोनो दिशा और अब्दुल दर्र गये.

दिशा ने मुझे बोला: मैं तुमको ये सब खुद बताना चाहती थी. लेकिन इसमे अब्दुल की कोई ग़लती नही है. मैं खुद अब्दुल के रूम तक गयी थी, और ग़लती से अब्दुल ने मुझे प्रेग्नेंट कर दिया. अबॉर्षन करवाने की मेरी हिम्मत नही हुई. आपको तो मेडिकल प्राब्लम है, इसलिए मैने सोचा की आप मेरा साथ अग्री करोगे. मैने कभी भी आपसे कोई शिकायत नही की.

वाइफ ने मुझे एमोशनल किया और अपनी बात मनवा ली और बोली: मुझे एक बार फिरसे प्रेग्नेंट होना है. एक बार 2 बच्चे हो जाए, उसके बाद सब ख़तम.

लेकिन दोस्तों ऐसा कुछ ख़तम नही हुआ. आज हमारे 3 बच्चे है, और 2 बार अबॉर्षन भी करवाया है. अगर नही करवाते तो 5 होते. मैने वाइफ का ऑपरेशन ही करवा दिया की अब बच्चा ना हो.

अब्दुल और दिशा अब पति-पत्नी की तरह रहते है. मैं तो सिर्फ़ नाम से पति हू, लेकिन दिशा की छूट के लिए लंड वाला पति अब्दुल है.

तो दोस्तों कैसी लगी स्टोरी? एमाइल ईद पर फीडबॅक और कॉमेंट ज़रूर करना. मेरी एमाइल ईद है –

यह कहानी भी पड़े  कोमल की वर्जिन चूत का मज़्ज़ा लिया


error: Content is protected !!