बीवी का मकान मलिक से सेक्स शुरू करवाया

ही गाइस, मैं आज एक न्यू स्टोरी के साथ हाज़िर हुआ हू. इसमे आपको बतौँगा, की कैसे मैने अपनी फॅंटेसी के लिए अपनी बीवी को एक बुड्ढे से चुडवाया.

मैं अपनी बीवी और अपने बेटे के साथ एक रेंटेड हाउस में रहता हू. मेरी बीवी का नामे अंजलि है. अंजलि की आगे 30 यियर्ज़ है. उसका फिगर 36-30-36 है. हमारा एक 3 साल का बच्चा है. उपर के पोर्षन में मलिक मकान रहता है. मलिक मकान का नामे तो कोई और है, लेकिन सब उनको राजा अंकल कहते है.

राजा अंकल की आगे 50 साल है. राजा अंकल प्रॉपर्टी का काम करते है. अंकल का रंग एक-दूं काला है, और अंकल ने अभी तक शादी नही की. इसलिए वो अकेले रहते है. हम सब काफ़ी खुश थे. राजा अंकल से भी हमारी काफ़ी अची बात-चीत हो गयी थी.

एक दिन राजा अंकल और अंजलि दोनो हस्स-हस्स कर बातें कर रहे थे. उनको देख कर मेरे ज़हन में आइडिया आया की अगर राजा अंकल अंजलि को छोड़ेंगे तो क्या सीन होगा.

रात को मैने अंजलि को सेक्स स्टोरी पढ़ाई, जिसमे एक आदमी एक औरत को उसके हज़्बेंड के सामने छोड़ता है. स्टोरी पढ़ कर अंजलि बोली-

अंजलि: पता नही किस तरह लोग अपनी बीवी को दूसरो से चुड़वते है?

विकी: मज़े लेने के लिए.

अंजलि: किस चीज़ का मज़ा?

विकी: बस मज़ा आता है. मेरी भी फॅंटेसी है की मेरे सामने कोई तुमको छोड़े.

अंजलि: तुम्हारा डेमाग खराब तो नही हो गया? ये सब स्टोरी में अछा लगता है.

विकी: स्टोरी में नही, रियल में भी अछा लगता है.

अंजलि: तुम पागल हो गये हो. अपनी बीवी को किसी और के साथ सोता हुआ देखना चाहते हो.

विकी: और तुम मेरे लिए ये सब नही कर सकती क्या?

अंजलि: तुम्हारे लिए तो सब कुछ कर सकती हू, पर मुझको दर्र लगता है.

विकी: तुम आराम से सोचो, कल हम फिर बात करेंगे.

फिर हम सो गये. नेक्स्ट दे मैं बड़ा एग्ज़ाइटेड था अंजलि का डिसिशन जानने के लिए. शाम में मैने अंजलि से पूछा-

विकी: फिर क्या सोचा तुमने?

अंजलि: तुम्हारे लिए मैं रेडी तो हो गयी. पर दर्र लगता है मुझे ये सब सोच कर.

विकी: डरना नही है, बस एंजाय करना है.

अंजलि: किसी अंजान आदमी के साथ सब कैसे करूँगी? इस तरह हमारी ज़िंदगी बर्बाद हो जाएगी.

विकी: कुछ नही होगा, बस किसी ऐसे आदमी को ढूँढना पड़ेगा, जो किसी को कुछ ना बताए. और उससे हमारे अछा मैल-जोल हो.

अंजलि: अब ऐसा आदमी ढूँढना पड़ेगा.

विकी: एक है मेरी नज़र में.

अंजलि: कों?

विकी: राजा अंकल.

अंजलि: त्यम पागल हो गये हो. तुम मुझको उस आदमी के साथ सोने का बोल रहे हो, जो मेरे बाप की आगे का है.

विकी: राजा अंकल की अभी तक शादी नही हुई. इसलिए जैसे वो तुमको प्यार करेंगे, ऐसा कोई भी नही करेगा.

अंजलि: लेकिन उनकी आगे काफ़ी है, और वो है भी इतने बदसूरत.

विकी: राजा अंकल किसी को भी तुम्हारे रिश्ते के बारे में नही बताएँगे, और उनके पास जब तुम जाओगी, किसी को पता भी नही चलेगा. वो शादी का भी मुतालबा नही करेंगे.

अंजलि: तुम सही बोल रहे हो. लेकिन एक दफ़ा फिर सोच लो. ये सब ठीक रहेगा या नही.

विकी: सब ठीक रहेगा, बस तुम राजा अंकल को सिड्यूस करने की तैयारी करो.

अंजलि: कैसे?

विकी: तुम अभी कोई हॉट सा ड्रेस पहन कर उपर उनके पास जाओ, और उनके घर की सफाई करो.

मेरी बात सुन कर अंजलि उठी, और कमरे में जेया कर अंजलि ने एक वाइट लेगैंग्स और एक कमीज़ पहनी. कमीज़ अंजलि को काफ़ी टाइट थी, जिसमे उसकी वाइट ब्रा सॉफ नज़र आ रही थी.

अंजलि उपर जाने लगी, तो मैने अंजलि का दुपट्टा उससे ले लिया, और अंजलि के बाल खोल दिए. वो अब एक-दूं हॉट लग रही थी. फिर अंजलि उपर चली गयी.

अंजलि को इस रूप में अपने पोर्षन में देख कर, राजा अंकल की आँखें चमक गयी. अंजलि ने झुक कर उनके पैर च्छुए. झुकने की वजह से अंजलि की क्लीवेज राजा अंकल को नज़र आई.

फिर अंजलि घर की सफाई करने लगी, तो राजा अंकल उसको माना कर रहे थे. लेकिन अंजलि नही मानी, और जान कर नीचे बैठ कर झाड़ू मारने लगी. नीचे बैठ जाने से, अंजलि की क्लीवेज सॉफ नज़र आ रही थी.

राजा अंकल सोफे पर बैठे दारू पी रहे थे, और उनकी नज़र अंजलि पर ही थी. अंकल का लोड्‍ा अंजलि का हुस्न देख कर खड़ा हो गया था. फिर अंजलि घूमी, तो अंजलि की टाइट गांद राजा अंकल के सामने आ गयी.

राजा अंकल अपनी पंत में हाथ डाल कर अपना लोड्‍ा सही कर रहे थे. 10 मिनिट्स की सफाई के बाद अंजलि नीचे आ गयी. राजा अंकल उसको रोक भी रहे थे, पर अंजलि नही मानी और नीचे आ गयी. नीचे आ कर अंजलि हेस्ट हुए बोली-

अंजलि: राजा अंकल को आज रात नींद ही नही आएगी, जैसे वो मुझको देख रहे थे.

विकी: तुम ऐसे ही करो, और एंजाय करो मेरी जान.

फिर हम सो गये. नेक्स्ट दे मैने राजा अंकल को रात के खाने की दावत दे दी, और अंजलि को भी बता दिया. शाम में मैं जब ऑफीस से वापस आया, तो अंजलि डिन्नर तैयार कर चुकी थी. अंजलि ने मुझसे पूछा-

अंजलि: अब बताओ मैं आज क्या पहनु?

मैने अंजलि को एक शॉर्ट लेगैंग्स और एक छ्होटा सा वाइट टॉप दिया. अंजलि ड्रेस देख कर बोली-

अंजलि: इतना छ्होटा ड्रेस?

मैं: हा मारी बेगम, बस उस बुड्ढे को तड़पाव.

अंजलि मेरी बात सुन कर हासणे लगी. इतने में राजा अंकल की आवाज़ आई, तो मैं बाहर चला गया. राजा अंकल काफ़ी जल्दी डिन्नर के लिए आ गये थे. मैने उनको वेलकम किया, और सिंगल सोफे पर बैठ गया. राजा अंकल डबल सोफे पर बैठ गये. राजा अंकल मोटे थे, तो डबल सोफे की काफ़ी जगह पर वो बैठे हुए थे.

मैं और राजा अंकल बातें कर रहे थे. मैं सोच रहा था की अंजलि किस तरह तैयार हो कर आएगी. 5 मिनिट के बाद अंजलि बेडरूम से बाहर आई, तो वो एक-दूं हॉट लग रही थी.

अंजलि की शॉर्ट लेगैंग्स सिर्फ़ उसकी गांद से थोड़ी नेआचे तक थी, और सारी टांगे नंगी थी. उसका टॉप भी काफ़ी छ्होटा था, जो सिर्फ़ बूब्स को कवर कर रहा था, और अंजलि के नेवेल से उपर ही ख़तम हो रहा था.

मैने गौर से देखा तो पता चला अंजलि ने ब्रा नही पहनी थी. जिसकी वजह से उसके बूब्स नज़र आ रहे थे. अंजलि बाल खोल कर राजा अंकल के साथ बैठ गयी. राजा अंकल की नज़र अंजलि पर ही थी, और वो उसके बूब्स देख रहे थे.

अंजलि अपनी टाँग पर टाँग रख कर बैठ गयी. उसका जिस्म राजा अंकल के जिस्म से टच हो रहा था. अंजलि और राजा अंकल दोनो बातें कर रहे थे. इतने में राजा अंकल ने अपना हाथ अंजलि की तंग पर रख दिया. मैं सब नोटीस कर रहा था.

अब राजा अंकल अंजलि से बातें भी कर रहे थे, और उसकी टाँग पर अपना हाथ भी फेर रहे थे. 2 मिनिट के बाद हमारे बेटे की रोने की आवाज़ आई तो मैं बेडरूम में चला गया. फिर बच्चे को चुप करवा कर, मैं अंदर से देख रहा था.

राजा अंकल ने जब अंजलि को अकेला देखा, तो उनको मौका मिल गया. अंकल ने अपना हाथ अंजलि की टाँगो पर से उठाया, और अंजलि की नंगी कमर में डाला. अंजलि राजा अंकल को देख कर हस्स रही थी. राजा अंकल भी समझ गये की अंजलि ने कोई रेज़िस्टेन्स नही करनी, तो उन्होने अपने होंठ अंजलि के होंठो पर रख दिए. दोनो एक-दूसरे को किस करने लगे.

1 मिनिट का किस करने के बाद दोनो एक-दूसरे से अलग हो गये. अंजलि के साँसे तेज़ चल रही थी, जिसकी वजह से उसके बूब्स हिल रहे थे. अंजलि के हिलते हुए बूब्स देख कर राजा अंकल ने अंजलि के बूब्स दबा दिए.

इतने में मैं बाहर आ गया. मुझको आता देख कर राजा अंकल अंजलि से डोर हॅट गये. फिर हम सब ने मिल कर खाना खाया. अंजलि और राजा अंकल दोनो एक दूसरे से नज़रे बचा रहे थे.

फिर खाना खा कर राजा अंकल उपर अपने पोर्षन में चले गये. बर्तन धो कर अंजलि बेडरूम में आ गयी. अंजलि को अपनी गोद में बिता कर मैने किस की और बोला-

विकी: आज तो राजा अंकल काफ़ी आयेज निकल गये.

अंजलि: हा, उनके मूह से दारू की बदबू भी आ रही थी, और उनके हाथ काफ़ी सख़्त है. बड़ी ज़ोर से उन्होने मेरी कमर को मसला है. शूकर है तुम आ गये, वरना पता नही क्या-क्या कर जाते वो आज.

विकी: वो बस पागल हो गये है तुम्हारे प्यार में.

तो बे कंटिन्यूड…

यह कहानी भी पड़े  कॉल बॉय से चूत चुडवाई और गांद फतवाई


error: Content is protected !!