मेरी बीवी हुई अपने यार से चूड़ने को तैयार

ही फ्रेंड्स एक बार फिर आपका दोस्त राहुल और आपकी हॉट भाभी काव्या अपनी आयेज की स्टोरी ले कर आपके सामने हूँ.

जो मेरे पुराने रीडर है, उनको तो कुछ बताने की ज़रूरत नही, जो न्यू है प्लीज़ एक बार सारे पार्ट रेड कर ले जब ही श्माज भी आएगा और मज़ा भी.

मई ज़्यादा टाइम ना लाते हुए आगे की स्टोरी पे आता हू.

आशु काव्या को बिके पे ला के निकल जाता है घर ड्रॉप करने के लिए .

आशु : काव्या क्या बात है मेरे साथ आने मई माना कर रहे थे कोई प्राब्लम है तो बोल दो यार हम दोस्त है.

काव्या : नही कोई प्राब्लम नही है.

आशु: तो माना क्यू करा मेरे साथ आने को.

काव्या : यार तुम जानते हो की मई ईशाण एक दोनो को पसंद करते है. बुत फेले अर्जुन से अब तुम से मुझे ऐसा लग रहा था जैसे तुम सब मेरे बारे मई क्या सोचोगे.

आशु : क्या सोचेगे यार हुमारी दोस्त हो तुम और हुमारी हेल्प ही कर रही हो बेस्ट फ्रेंड हो साथ मई अब बेस्ट गफ़ बन जाओ तो और अक्चा है ना.

काव्या कुछ नही बोली चुप रही.

आशु : दहको अगर तुम को मेरे साथ नही करना तो कोई नही यार दोस्त तो है ही ना हम वैसे भी मई ईशाण और अर्जुन की ट्रे स्मार्ट तो हो नही.

काव्या : यार कुछ भी किसने बोला स्मार्ट नही हो मेरे सारे दोस्त स्मार्ट है. हॅंडसम है.

आशु : रहने भी दो जबही तो माना कर रहे हो.

काव्या: यार माना खा करा मई तो बस बोल रही थी की तुम क्या सोचोगे मेरे बारे मई.

आशु : यार तुम जो सोच रहे हो वो तो हम नही सोच रहे दोस्ती मई सब चलता है सब हेल्प करते है ना सब की.

काव्या : ह्म्‍म्म्म ये तो है.

आशु : तो मई आपने लिए हा शमजू फिर या ना.

काव्या : तोड़ी से स्माइल करते हुए अब ना तो कर नही सहक्ती ना इतने स्मार्ट लड़के को.

आशु : अक्चा मेरे लिए ही हा है या फिर एक रॉकी ही बचेगा इस के बाद उस के लिए भी है.

काव्या : जब सब की हेल्प कर सहक्ती हू तो उस की कैसे ना करू.

आशु : खुश हो के तो कब के प्लान करना है ये बताओ.

काव्या : कुछ दिन रुक के करते है.

आशु : ठीक है बता देना जब करना हो होटेल बुक कर लेगे.

काव्या : नही होटेल नही कार्गे मई बता दुगी वो भी.

फिर आशु ना क्वाया को उस के घर के पास चूड़ के चला गया और काव्या आपने घर आ गयी. फिर ऐसे ही कुछ दिन कलाज पड़ाई छत मई निकल गया. एक दिन ईशाण ना काव्या को पूछा यार आशु पूछ रहा था और कितने दिन लोगे.

काव्या : मई भी सोच रही थी इस बारे मई बताओ क्या करू कब के करू??

ईशाण : आज के ही कर लो बोलो मई आशु को बोलता हू.

काव्या : बुत खा मिलने के करे क्यू की आशु होटेल के लिए बोल रहा था बार बार होटेल सेफ नही लग रहा मेरे को.

ईशाण : तो फार्म हाउस पे कर लो प्लान.

काव्या : नही यार जैसे अर्जुन के साथ भर करात हा आशु के साथ भी खाई और करते है.

ईशाण : रूको मई आशु को कॉल करता हू. एस्शन ना आशु को कॉल करा और पूछा

आशु: एक कम करते है मेरे घर पे कर लेते है प्लान सब लोग शादी मई गये है 2 दिन बाद आएगए.

ईशाण ना क्वाया की ट्राफ् दहका. काव्या ना ओक बोल दिया.

ईशाण : आशु तू आपनी त्यारी कर मई काव्या को ला के आता हू तेरे पास.

कावे एक दूं ईशाण की ट्राफ् दहक और बोला अभी.

ईशाण : कोई प्राब्लम?

काव्या : कल करते है आज नही.

आशु : ओक कोई नही जब काव्या कंफर्ट हो जब कर लेगे अभी 2 दिन है मेरे पास.

काव्या : ना ओक ठीक है कल मिलते है.

आशु ना भी ओक बोल दिया ईशाण ना कॉल कट कर दिया. और बोला आज और कल मई क्या प्राब्लम है काव्या यार मुझे भी तो रेडी होना पड़ेगा ना ऐसे ही तोड़ी ना चली जाओगी मिलने.

ईशाण: चलो ठीक है कल खा मिलना है बता दो. मई आशु को बोल देता हू वो तूमे रेसिवे कर लेगा.

काव्या: नही अब झा भी जाओगी जिस से भी करोगे तुम ड्रॉप्प करोगे और रेसिवे भी.

ईशाण दहक लो खाई मेरा मान भी कर गया तो.

काव्या: ऐसा नही होगा एक बार मई एक ओक.

फिर नेक्स्ट दे के फिक्स कर के काव्या और ईशाण चले गये नेक्स्ट दे ईशा को रेसिवे करना था काव्या को.

नेक्स्ट दे ईशाण काव्या को उस के कलाज से पीक करता है. और आशु के घर के लिए निकल जाते है दोनो.

आशु के यहा पूछ के डोर बेल बजाई. फिर आशु ना गाते ओपन करा.

आशु: ही आओ अंडर.

ईशाण: अक्चा ह्यूम लगा भर ही रहना है मुझे.

काव्या: हा तो तोड़ी देर बाद भर ही जाना है तुम को .

आशु: अरे नही दूसरे रूम मई रुक जाएगा ईशाण भर खा जाएगा.

काव्या: दहक लो बीच मई कोई आया तो मई किसी से नही मिलॉगी फिर.

ईशाण: अरे नही आ रहा तुम दोनो के बीच मई और हलका सा ढाका दा दिया काव्या को आशु की ट्राफ्.

काव्या आशु के अप्पर गिर गयी आशु ना काव्या को पकड़ लेया.

काव्या: ये क्या हा.

ईशाण: अरे मज़े करो टाइम क्यू बेकार कर रहे हो बात मई.

काव्या: हा जा रहे है ना इतनी भी क्या जल्दी है.

ईशाण: आशु से पूछ क्या जल्दी है.

काव्या ना आशु की ट्राफ् दहका आशु बस स्माइल कर रहा था

आशु: एक कम करो तुम दोनो ही चले जाओ .

ईशाण: क्यू तेरे को नही जाना?

आशु: अरे काव्या लग रहा है की सयद कंफर्ट नही है टूट उम दोनो ही जाओ.

काव्या: अरे कंफर्ट नही होती तो यहा आती क्या??

ईशाण: भाई मेरे को जाना होता तो यहा आते क्या खाई भी चले जाते ना.

आशु: अरे जब से आए हो तुम दोनो ही लगे हो मई भी हू यहा. और फिर सब हासणे लगे.

काव्या: चलो हम दोनो शेलेट है ईशाण को यही बेत्ने दो.

ईशाण: क्यू नही यार जाओ जाओ मई वेट करता हू.

आशु काव्या बेड रूम की तरफ़ चले जाते है. रूम मई पूछने के बाद आशु ना गाते बंद कर दिया.

और काव्या और आशु एक दूसरे को दहक रहे थे आशु को श्माज नही आ रहा था की कैसे स्टार्ट करे.

काव्या : क्या हुआ अब खड़े ही रहना है क्या??

आशु : नही आक्च्युयली फर्स्ट टाइम है तो श्माज नही आ रहा की कैसे स्टार्ट करू

काव्या : स्माइल करते हुए कोई नही अब तो मेरे को एक्सपीरियेन्स हो गया है तुम टेन्षन मत लो.

दोनो हस्सने लगे. काव्या आशु के पास आई और उस के हाथ पकड़ के अब क्या सच मई सब मुझे ही करना है. आशु ना काव्या को आपनी ट्राफ् कीच के काव्या के लिप्स पे आपने लिप्स रहक डेए और दोनो एक दूसरे को किस करने लगे. 15. 20 मीं नों स्टॉप किस के बाद दोनो अलग हुए और एक दूसरे को दहक रहे थे.

काव्या : क्या हुआ?

आशु फर्स्ट टाइम किसी को किस करा है यार मज़ा आ गया.

काव्या : अक्चा जी अभी और भी जो जो करने वेल हो वो भी फर्स्ट टाइम ही है वैसे टुमारा.

आशु : जी पता है होप आपको अकचे से एंजाय करा सहकू.

फिर आशु ना काव्या को आपने पास कीच के दोनो फिर से एक दूसरे को किस करने लगे आशु किस करते करते काव्या के बूब्स पे हाथ रहक के हल्का हल्का दबने लग गया काव्या एंजाय कर रही थी.

थोड़ी देर ऐसे ही किस करने के बाद आशु ना काव्या को घुमा के उस के पिसे से किस करने लगा निक पे गाल पे और दोनो हाथ से बूब्स दबा रहा था कभी कभी एक हाथ पेट पे और नीचे चूत के पास ला जा के रब करने लगा दोनो फुल मूड मई आ गये थे मस्ती के.

आशु ना काव्या के शूट मई हाथ दल के बूब्स दवाने लगा. काव्या आँख बंद कर के मज़े ला रही थी. आशु ना काव्या के सूट उतार दिया काव्या ना ब्लॅक ब्रा फॅन रहकी थी जो उस के गूरे रंग मई और आक्ची लग रही थी.

काव्या ना भी आपना हाथ आशु के लंड के उपेर शॉर्ट के उपेर से रहक के श्लने और दबने लगी आशु भी आँख बंद के उस वक़्त के मज़े ला रहा था फिर दोनो अलग हुए और आशु ना आपने पूरे कपड़े उतार डेए और नगा हो गया. काव्या उस के लंड को दहक रही थी ये उस की लाइफ 3र्ड लंड था जो वो दहक रही थी.

इस बार काव्या भी शर्म के मूड मई नही थी. उस के पास गयी और उस के लंड को पकड़ के शालने लगी काव्या के हाथ आशु के लंड को छूटे ही आशु हिल सा गया.

काव्या :- क्या हुआ.

आशु:- यार फेले बार किसी लड़की हाथ मेरे लंड को टच कर मई हिल गया.

काव्या:- अक्चा और भी तो भूत कुछ आज फेले बार करोगे जब क्या होगा.

आशु:- यार पता नही क्या क्या होगा बस मज़ा आ रहा है भूत अक्चा लग रहा है.

काव्या:- आशु के पास गयी और किस करने लगी.

आशु भी किस कर रहा था फिर आशु ना काव्या को बेड पे लेता दिया और उस की ब्रा कॉल दे.

और दोनो बूब्स को दबने लगा चाटने लगा निपल को महू मई ला के चूसने लगा. काव्या आँख बंद के बस म्‍म्म्ममममम हहााआआ कर रही थी और मज़े ला रही थी.

आशु भूत प्यार से बूब्स को चूस रहा था और प्यार कर रहा था पूरी बॉडी को किस कर रहा था. फिर आशु ना काव्या के लोवर सलवार भी कॉल दे और नीचे कर के पँति के उपेर हाथ रहक रब करने लगा. पँति गीली हो चुकी थी आशि ना पूछा यार ये गीली क्यू हो रही है पनटी?

काव्या:- जब किसी के हाथ लगता है और लड़की मज़े मई आ जाती है तो ये सब होता है जैसे टुमारा गीला होता है वैसे ही हुमारा भी होता है.

आशु:- ओक अब शमजा फिर आशु ना काव्या की पँति भी उतार दे और नगा कर दिया और बॉडी प्ले करने लगा फुल बॉडी उपेर से नीचे तक छत रहा था चुऊँ रहा था प्यार कर रहा था.

काव्या आँख बंद के मज़े ला रही थी महू से बस ह्म्‍म्म्मम हाा ह्म्‍म्म्म की मस्त आवाज़ आ रही थी. आशु ना काव्या की छूट के पास आपनी जीब रहकी और चाटने लगा काव्या मचल गयी और आशु के सर पे हाथ रहक के दबने लगी.

आशु भी मज़े छूट छत रहा था और उस के साथ काल रहा था कभी देर ये सब करने के बाद आशु काव्या के उपेर आया और दोनो किस करने लगे काव्या ना आशु के लंड पकड़ के चूत पे रहक के रगड़ने लगी सयद काव्या को अब बर्दस्त नही हो रहा था आशु के लंड उस अब अंडर लेना था.

फिर काव्या ना आशि को बोलो कॉंडम लगने के लिए आशु ना जल्दी से कोदों लगया और काव्या के उपेर आ गया काव्या ना लंड पकड़ के छूट मई सेट करा और आशु ना हल्का सा ढाका दिया काव्या आपने लीप्सस दबा के हल्की से ह्म की आवाज़ निकली और तोड़ा सा लंड अंडर गया फिर आशु ना हल्का सा धका दिया और आधा लंड अंडर चला गया.

काव्या ना भी नाइस से तोड़ा फोर्स लगया और आशु ना उपेर से आपना फोर्स दिया इस बार पूरा लंड अंडर चला गया.

कमाल की बात ये थी की आशु के लंड ईशाण और अर्जुन से बड़ा और मोटा था बस काव्या इतनी मगन हो गयी थी की बड़े प्यार से लंड अंडर चला गया काव्या ना हल्का सा आवाज़ करी बस और फिर आशु आपना लंड अंडर भर करने लगा और काफ़ी देर ऐसे ही अंडर भर करते करते किस करता रहा बूब्स चूस्ता रहा दबाता रहा.

काव्या बस ह्म्‍म्म्म हाअ कर रही थी और मज़े ला रही थी करीब 10 मीं बाद आशु ना आपना पानी चूड़ दिया और काव्या के उपेर ही लाते गया बुत फर्स्ट टाइम ऐसा था की काव्या छाती थी की आशु और लाते तक करता. बुत आशु लॉस हो गया था. काव्या ना आशु को किस करा और दोनो तोड़ी देर लाते रहे बेड पे.

दोस्तो आपको कैसे लगी ये स्टोरी मुझे मैल कर के रिप्लाइ करे आंड प्लीज़ उल्टा सोचने वेल और उल्टा बोलने वेल डोर रहे. फन करना सेक्स करना कोई बुरा नही छाए वो के से हो रही अनेक से इनसेन की आपनी मर्ज़ी आपनी खुशी और दूसरो की ख़ुसी के लिए करना ग़लत नही है.

यह कहानी भी पड़े  हॉस्पिटल मे मिली एक नयी भाभी-1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!