भाई ने बाय्फ्रेंड से सेक्स करने मई मदद की

हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम वर्षा शर्मा है और मई मोहाली, पुंजब से हू. मेरी आगे 27 यियर्ज़ है और फिगर 36सी-30-38 है. मेरी फॅमिली में मों दाद छोटा भाई और मई रहते हैं. हमारी फॅमिली में सब वेल एजुकेटेड हैं. दाद भी जॉब करते हैं और मों भी.

चलो अब स्टोरी पे आते हैं.

ये बात तब की है ज्ब मई चंडीगार्ह यूनिवर्सिटी में ब-टेक कर रही थी. मेरा भाई भी हमारी यूनिवर्सिटी में ही स्टडी करता था. हम हमारी कार में साथ में ही आया करते थे.

मई और ब्रो फ्रेंड्स की तरह ही रहते थे और फ्रॅंक भी थे. सब बातें शेर करते थे. ब्रो की गफ़ थी एक लेकिन वो हमारे कॉलेज की नही थी लेकिन मेरा ब्फ हमारे कॉलेज का ही था. ब्रो भी उसको जानता था, हम साथ में ही घूमने जया करते थे.

एक बार हम तीनो पार्क में बैठ कर बातें कर रहे थे के ब्रो बोला कहीं घूमने का प्लान बना लो. तो ब्फ ने भी हन बोल दिया और मई भी रेडी हो गयी.

फिर हुँने मनाली जाने का प्लान बनाया एक वीक बाद का. घर आते हुए कार में मई भाई को उसकी गफ़ को बुलाने को बोली तो उसने उसको भी माना लिया.

जिस दिन जाना था उससे एक रात पहले हुँने पॅकिंग करली और कॉन्फ्रेंसे कॉल लगा के सबसे बात करली के कल कितने टाइम पे सबको कहाँ से पिक करेंगे. सुबा 6 ब्जे उठ कर मे नहा के एक ब्लॅक स्किनी जीन्स विदाउट पनटी और रेड टॉप वित पॅडेड ब्रा पहन कर 9 ब्जे तक रेडी हो गयी.

9:30 मई और ब्रो अपनी कार ले कर मेरे ब्फ और उसकी गफ़ को पिक करने निकल गये. पहले मेरे ब्फ को पिक किया और बाद में ब्रो की गफ़ को. हम ऐसे ही घूमते हुए रास्ते में खाना खा के और जगह जाग रुक के शाम को 7पीयेम मनाली पहुँचे.

रूम की बुकिंग ऑनलाइन पहले ही करवा ली थी हमने. तो जाते ही हुँने चेक-इन किया और अपना समान रूम में रख के तोड़ा बाहर घूमने निकल गये फ्रेश हो कर.

आपको बता डू मेरे भाई की गफ़ भी बहुत सेक्सी थी, उसकी फिग 34-30-34 थी और रंग सांवला था.

हम 4 एक साथ घूमने निकले और वहाँ एक साइड पे जाते हुए उपर की और पहाड़ी थी एक उसपे बैठ कर व्यू बहुत अछा था तो वहाँ पर बैठ कर बातें करने लग गये. बातें करते हुए मे अपने ब्फ की गोड में सर रख के लेट गयी और और हम सब एक दूसरे से इधर उधर की बात करते रहे.

टाइम कब 11:30 हुआ पता ही नही चला. तो भाई बोला के चलो आज रूम में जेया के आराम करते हैं कल कहीं चलेंगे.

तो हम उठ के रूम की तरफ चलने लग गये. रास्ते में भाई बोला मुझे की वर्षा तुम तनीशा (भाई की गफ़) के साथ जाओ हम आते हैं. तो हम दोनो चलते चलते रूम में पहुँच गये.

रूम में 2 डबल बेड थे तो हम दोनो ने बेड सेट किए और कपड़े चेंज कर के मैने एक हल्की निकार और टशहिर्त और तनीशा ने निघट्य पहन ली.

सब सेट कर के हम एक बेड पे बैठ कर टीवी ओं कर के बातें करने ल्गी. मैने उससे उनके सेक्स रीलेशन के बारे पूछा तो उसने बताया के बहुत बार किया है. तो मैने भी बताया की मैने भी ब्फ के साथ बहुत बार किया है.

हम बातें कर रहे थे तभी डोर नॉक हुआ. फिर ओपन किया तो ब्फ और भाई थे उनके हाथ में खाना था. हुँने उनको चेंज करने को बोला तो दोनो ने चेंज कर के पाजामा पहन लिए और उपर टशहिर्त और सब खाना खा के फ्री हो कर बैठ गये.

भाई बोला तनीशा अजाओ हम इस वेल बेड पे लेट जाएँगे. तो वो भाई के पास जा के दूसरे बेड पे बैठ गयी और मई ब्फ के साथ एक बेड पे. अब हम कपल दोनो हग कर के ऐसे लेट कर बातें कर रहे थे.

भैया: वर्षा तुझे और तनीशा को ठंड लग रही है क्या?

मे: नही तो क्यू क्या हुआ?

भैया: फिर ऐसे कपड़े क्यू पहन लिए, यहाँ हम 4 के अलावा और कों है, बिना कपड़ो के रहो सब यहाँ तो.

मई और तनीशा एक दूसरे को देख के स्माइल की. तभी ब्फ बोला स्माइल ही करती रहोगी या कपड़े भी निकलॉगी. इतना कहते ही भाई और ब्फ ने अपने कपड़े निकल दिए और बेड पे बैठ गये नंगे ही.

उनको देख कर हम दोनो ने भी कपड़े निकल दिए. अब हम 4 सब नंगे थे.

मई और ब्फ एक बेड पे और भाई और तनीशा दूसरे बेड पे. मैने और भाई ने पहली बार एक दूसरे को फुल न्यूड देखा था. भाई मेरी तरफ देख के बोला वाउ वर्षा योउ अरे सो हॉट, मई भी स्माइल कर के उनका डिक देख के बोली योउ टू भाई.

हम दोनो को देख कर मेरा ब्फ और तनीशा बोले हम दोनो भी हैं यहाँ और हम 4 हासणे लग गये.

मुझे सेक्स करने की बहुत आदत है तो मैने ज्लडी ही ब्फ का लंड पकड़ के हिलने लग गयी और किस करते हुए ऐसे ही सब बातें करने लग गये. हम दोनो को देख के भाई और तनीशा भी गरम हो गये और वो भी किस करने लग गये.

फिर मई उठ के ब्फ का लंड मूह में ले कर सकिंग करने लग गयी. मई बहुत एक्सपर्ट थी इन सब में पोर्नॉस्टर की तरह तो ब्फ पूरे मज़े ले रहा था. मई कभी डिक चुस्ती तो कभी बॉल्स. अब हम 69 की पोज़िशन में आ गये. 5 मिनिट्स हम ऐसे ही एक दूसरे की सकिंग की. मुझसे अब कंट्रोल नही हो रहा था.

मई उठ के ब्फ को सीधा लेता कर उसके उपर बैठ गयी और लंड पकड़ के छूट पे रख के बैठ गयी. मेरे ब्फ का लंड 7+ था, मई आसानी से पूरा छूट में ले कर मज़े से उछालने लग गयी. मई अब मोनिंग कर रही थी और उछाल के छुड़वा रही थी. ब्फ भी नीचे से झटके लगा रहा था, 5 मिंट ऐसे छोड़ने के बाद ब्फ ने मुझे उठाया और डॉगी स्टाइल में किया.

मई डॉगी स्टाइल मे होते ही अपने हाथो से अपनी गांद को पकड़ कर खिच के खोलने ल्गी. ब्फ ने लंड एक झटके में छूट में घुसा दिया. मेरी हल्की सी चीख निकल गयी.

ब्फ ने कमर से पकड़ के ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लग गया और मेरी गांद पे मारने लग गया थप्पड़ ज़ोर ज़ोर से. मई पूरे मज़े ले कर छुड़वा रही थी. मेरा पानी निकल चुका था, ब्फ अभी भी लगा हुआ था ज़ोर ज़ोर से.

अब उसने लंड निकल के गांद के होल पे र्खा और कमर से पकड़ के ज़ोर से धक्के लगाए और पूरा लंड गांद में घुसा के ज़ोर ज़ोर से हिलने लग गया. मई अब पीछे को गांद कर कर के छुड़वा रही थी.

हम दोनो पूरे मज़े में थे, हम भूल गये थे की 2 और लोग हैं रूम में. चूड़ते हुए मेरी नज़र दूसरी तरफ पड़ी तो भाई तनीशा की मौत फक्किंग कर रहा था.

ब्फ ने ज़ोर से थप्पड़ मारा मेरी गांद पे और लाल कर दिया. करीब 35-40 मिनिट्स हमारा ये चुदाई चली और इस बीच मई 3 बार झाड़ चुकी थी. अब ब्फ का भी निकलने वाला था तो उसने लंड गांद से निकाला और मुझे सकिंग करवाने लगा.

मई भी पूरे मज़े से चूस रही थी. 2 मिन्स के बाद ब्फ ने सर पकड़ के लंड गले तक घुसा के उसका पानी निकल दिया और मई सारा पी गयी और लंड चाट कर सॉफ कर दिया और स्माइल कर के दूसरी तरफ देखा दोनो ने तो वो भी चुदाई कर रहे थे.

मेरे ब्फ को पता नही क्या हुआ वो उठ के भाई के बेड पे चला गया और तनीशा की गांद पे हाथ फेरने लग गया. उसने पीछे मूड कर देखा और कुछ बोली नही बस स्माइल कर रही थी. और भाई के उपर बैठ कर उछाल कर मज़े से छुड़वा रही थी. ब्फ ने एक उंगली उसकी गांद में घुसा दी. उसकी भी गांद शायद खुली थी पहले ही.

ब्फ उसके पीछे गया और बिना बताए लंड उसकी गांद में घुसा दिया. वो एक दूं से दर्र गयी और पीछे देखा तो भाई बोला कुछ नही हुआ मज़े करो.

भाई नीचे से उसकी छूट में लंड हिला रहा था और मेरे ब्फ ने पूरा लंड उसकी गांद में घुसा दिया. उसकी हालत बुरी हो रही थी और मई उनको देख रही थी.

10 मिनिट्स बाद वो दोनो ने उसको छोड़ कर अपना पानी उसके अंदर ही निकल दिया. और भाई और तनीशा एक दूसरे से चिपक कर वैसे ही लेते रहे. मेरा ब्फ मेरे पास आ के हम दोनो हग कर के लेट गये और ऐसे ही सू गये.

सुबा मई 11 ब्जे उठी तब तक सब सू रहे थे. मैने एक एक कर के सबको उठाया और मई नहाने चली गयी. सब एक एक कर के नहा के टायर हो गये और हुँने ब्रेकफास्ट ऑर्डर किया. फिर सब ने मिल कर ब्रेकफास्ट किया और फिर बाहर घूमने निकल गये.

अब अगली कहानी में ब्टौँगी आयेज हम सबने क्या क्या किया, तब तक के लिए इस स्टोरी के मज़े लीजिए और मुझे फीडबॅक देने के लिए

यह कहानी भी पड़े  मस्ती से मजबूरी तक

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!