भाई के सोई हुई सेक्सी बहन को चोदने की मस्त कहानी

सोहन सिंह अपने गाँव में सबसे आमीर आदमी है। उसकी बीवी का देहांत हो चुका था। मगर उसका एक बेटा रजिंदर और छोटी बेटी खुशी दोनों ही उसके कहने से बाहर थे। पैसों की कोई कमी ना होने के कारण रजिंदर सारा दिन घर से बाहर रंडी-बाजी करता, और देर रात से घर आता।

उधर सोहन सिंह की बेटी खुशी भी एक नंबर की चालू लड़की थी। वो घर से तो कॉलेज जाती, मगर कभी किसी लड़के के साथ तो कभी किसी लड़के के साथ होटल में घुसी रहती थी। उसका रंग तो थोड़ा सांवला था, मगर देखने में एक दम हॉट और सेक्सी थी। किसी को भी चूत दे देती थी, यहाँ तक कि अपने भाई के दोस्तों और अपने पापा के दोस्तों से भी चुद चुकी थी।

अगर सोहन सिंह की बात की जाए, तो वो भी अपने जमाने में कुछ कम नही था। उसने भी गाँव की बहुत सारी औरतों को चोदा था, और एक बार तो जब वो अपने गाँव की एक औरत को अपने घर में चोद रहा था, तो रजिंदर और खुशी दोनों ने उसको देख लिया था। तभी से सोहन सिंह उनको कुछ भी ग़लत करने से रोक नहीं पाया, और अब तो जवानी की दहलीज पार करते ही दोनों ने अय्याशी की हदें ही पार कर दी थी।

एक बार जब रजिंदर ने खुशी को अपने ही किसी दोस्त के साथ एक होटल में देख लिया, तो उसने घर आकर खुशी को डांटना चाहा। रजिंदर गुस्से से खुशी के रूम में गया, और जैसे ही उसने दरवाजा खोला, तो खुशी जांघों तक कपड़े की निक्कर और शर्ट पहन कर पेट के बल बैड पर लेटी हुई थी।

उसकी मोटी जांघे और ऊपर को उठे हुए चूतड़ और चूतड़ों की मदमस्त गोलाई देख कर रजिंदर की नज़र डगमगा गयी। खुशी की एक टाँग सीधी और दूसरी को उसने एक साइड को मोड़ रखा था, जिससे उसकी टाँगों के बीच वाला हिस्सा चोड़ा हो चुका था।

भले ही खुशी की चूत उस निक्कर के निचले हिस्से से नही दिख रही थी, मगर निक्कर के दोनों साइड से दिख रही खुशी की छोटी-छोटी झांटे और चूत की दरार के साथ चिपकी हुई निक्कर किसी गरम चूत का एहसास करवा रही थी।

रजिंदर जितने गुस्से से अंदर आया था, उतना ही वो अपनी बहन का नीचे वाला हिस्सा देख कर शांत हो गया था। फिर वो धीरे-धीरे खुशी के पास आया, और खुशी की मदमस्त जवानी को अपनी निगाहों से मापने लगा। जितनी सेक्सी और हॉट उसको अपनी बहन दिख रही थी, उसने अभी तक ऐसी किसी भी लड़की को नहीं चोदा था।

उसकी पतली कमर और फिर उपर को उठे हुए चूतड़ देख कर एक बार खुशी के चूतड़ों को मसलने का उसका मन हुया। मगर फिर उसको एहसास हुआ, कि वो अपनी बहन को ही ऐसी गंदी निगाहों से देख रहा था।

रजिंदर ने जल्दी से अपनी नज़र को हटाया, और खुशी के चेहरे की तरफ देखा। खुशी की आँखे बंद थी, और वो गहरी नींद में सो रही थी। रजिंदर ने खुशी को आवाज़ लगाई, मगर दिन भर की चुदाई से थक चुकी खुशी को कहाँ आवाज़ सुनने वाली थी। रजिंदर ने फिर से एक बार खुशी को आवाज़ लगाई, मगर फिर भी कुछ फ़ायदा नही हुया।

तब रजिंदर ने खुशी के कंधे को हाथ से हिलाया, तो पेट के बल लेटी हुई खुशी ने अपनी करवट बदली, और सीधी होकर लेट गयी।

मगर अब तो कुछ और ही नज़ारा रजिंदर की आँखों के सामने आ चुका था। खुशी की शर्ट के उपर वाले दो बटन खुले थे, और उसके दोनों बूब्स का बीच वाला आधा हिस्सा साफ नज़र आ रहा था।

उसकी सोने की चेन दोनों बूब्स के बीच में दबी हुई थी। खुशी ने ब्रा नहीं पहन रखी थी, इसलिए उसकी शर्ट के अंदर से ही उसके दोनों निप्पल तने हुए दिख रहे थे। खुशी के मोटे चूचों को देख कर रजिंदर की आँखे उसके चूचों पर ही टिक गयी।

फिर वो अपनी बहन के एक-एक अंग को बड़ी शिद्दत से देखने लगा। खुशी के खुले हुए बाल, उसका सुंदर चेहरा, मदमस्त गोल-गोल मोटे चूचे, और फिर नीचे से शुरू होती उसकी पतली कमर और एकदम सीधा स्पॉट पेट, और बीचो बीच बनी हुई सेक्सी नेवल देखकर रजिंदर का मन हुया कि वो खुशी के पेट को अपने होंठों से चूम ले।

मगर वो ऐसा नही कर पाया, और उसकी नज़र खुशी की चूत की तरफ बढ़ने लगी। खुशी की निक्कर अब उसकी चूत के और भी साथ चिपक गयी थी, और उसकी फूली हुई चूत अब निक्कर के महीन कपड़े से साफ दिखाई पढ़ रही थी।

दोनों जांघों के बीच में फसी निक्कर और फूला हुआ चूत का हिस्सा रजिंदर के लंड को एक बार झटका दिला चुका था। उसने अपने हाथ से लंड को सहलाना शुरू कर दिया, और एक बार फिर से खुशी के चेहरे की तरफ देखा। खुशी अब भी सो रही थी,

खुशी का सुडोल बदन और उसकी जवानी देख कर रजिंदर को अपने दोस्तों से जलन हो रही थी, और वो उनको खुशनसीब भी समझ रहा था, जिन्होनें इतनी खूबसूरत कयामत को अपना लंड खिलाया था, और खुशी ने भी उनसे खुशी-खुशी अपनी चुदाई करवाई थी।

रजिंदर के मन में खुशी के लिए काम वासना का तूफान उमड़ रहा था। मगर वो डर रहा था कि अगर खुशी जाग गयी तो वो कभी भी अपने भाई के साथ सेक्स करने के लिए राज़ी नही होगी। वो खुशी को हाथ भी नही लगा पा रहा था, और उसके बदन से अपनी नज़र भी नही हटा पा रहा था।

फिर उसकी नज़र दरवाजे पर पड़ी। दरवाजा खुला हुआ था। उसने जल्दी से दरवाजा बंद किया, और फिर से खुशी के नज़दीक आकर खड़ा हो गया, और अपने लंड को सहलाने लगा। कुछ ही पलों में उसका लंड इतना टाइट हो गया, कि अब उसे पैंट के अंदर रख पाना उसे मुश्किल लग रहा था।

खुशी घोड़े बेच कर सो रही थी, जिससे रजिंदर का हौंसला और भी बढ़ रहा था, और उस पर अब तक वो यह भी जान चुका था कि खुशी पहले भी चुद चुकी थी, इस लिए उसको चोदने में कोई दिक्कत नहीं आएगी।।

रजिंदर ने अपना लंड पैंट से बाहर निकाला, और खुशी के चेहरे की तरफ देख कर लंड को आगे पीछे हिलाया, और फिर खुशी के चेहरे के पास बैठ गया, और उसने धीरे से खुशी के बूब्स पर अपना हाथ रख दिया। खुशी की तरफ से कोई हिल-जुल ना देख कर उसने खुशी की शर्ट के बाकी बटन भी खोलने शुरू कर दिए, और धीरे-धीरे उसके सारे बटन खुल गये।

अब खुशी की दोनों चूचे रजिंदर के सामने नंगे खुले पड़े थे। वो आहिस्ता से झुका, और खुशी के एक चूचे के निपल को अपने मुँह में ले लिया और एक हाथ से दूसरे चूचे को पकड़ कर दबाने लगा।

अब खुशी की तरफ से हिल-जुल हुई। उसे अपने बूब्स पर शरषराहट महसूस हुई, तो उसने अपने बूब्स पर अपना हाथ घुमाया, जिससे डर कर रजिंदर जल्दी से पीछे हट गया, और खुशी के चेहरे की तरफ देखने लगा। मगर खुशी अब भी सो रही थी।

रजिंदर ने फिर से अपनी पैंट से बाहर निकाले हुए लंड को हाथ में पकड़ा और हिलाने लगा। उसका लंड खुशी का मदमस्त बदन देख कर लोहे की रॉड जैसा हो चुका था, और ऐसे तप रहा था कि उसको अब खुशी की चूत का पानी ही ठंडा कर सकता था,

अब रजिंदर से और नही रहा गया, और उसने अपने मन में खुशी को चोदने की ठान ली। उसने जल्दी से अपनी पैंट उतारी और खुशी की दोनों टाँगों के नज़दीक बैठ गया। फिर वो उसकी निक्कर की इलास्टिक में अपनी उंगली फसा कर उसको नीचे सरकाने लगा, और उसके चूतड़ों के नीचे दबी हुई निक्कर को खींच कर उसकी जांघों तक ले आया, और फिर उसके पांव से निकाल दिया।

खुशी अब रजिंदर के सामने बिल्कुल नंगी पड़ी थी, रजिंदर का तना हुया लंड झटकों के साथ उपर नीचे हो रहा था।

रजिंदर ने खुशी की टाँगों को चौड़ा किया, और उसकी दोनों टाँगों के बीच में बैठ गया, और अपने लंड का सुपाड़ा उसकी चूत के उपर टिका कर चूत के साथ रगड़ने लगा।

खुशी को ऐसे महसूस हुआ, जैसे सपने में कोई उसकी चुदाई करने वाला था, और उसकी चूत कुछ ही देर में हल्का-हल्का पानी छोड़ती हुई गीली हो गयी। मगर चूत के साथ हो रही हिल-जुल के कारण खुशी की नींद भी खुलने लगी थी, और वो अपने बदन को अंगड़ाई ले के कसने लगी थी।

रजिंदर को भी पता चल गया था, कि खुशी की नींद खुलने वाली थी। उसने सोचा कि अगर खुशी जाग गयी, तो उसका लंड खड़े का खड़ा ही रह जाएगा, और खुशी उसको अपने साथ कभी सेक्स नहीं करने देगी। इस लिए उसने खुशी के पूरी तरह उठने से पहले ही अपना तना हुआ लंड खुशी की चूत में पेल दिया।

खुशी की गीली चूत में नाग जैसा काला लंड बिना किसी अड़चन के फनफनाता हुआ अंदर घुस गया, और लंड के पीछे लटक रहे दो गोल-गोल अंडे चूत के मुँह के पास जाकर सट गये। वैसे तो खुशी ऐसे कई लंड अपनी चूत में ले चुकी थी, और उसकी चूत का मुँह भी खुल चुका था। इस लिए उसको दर्द तो होने वाला नहीं था, मगर अचानक हुए इस परहार से खुशी एक बार उछल पड़ी, और अपने बदन को कसते हुए अपनी चूत को अपनी टाँगों में समेटना चाहा।

मगर टाँगों के बीच में तो रजिंदर था, इस लिए उसने अपने दोनों हाथ भी अपनी चूत की तरफ बड़ा लिए। खुशी के हाथों में रजिंदर का लंड आ गया, और उसकी आँखें भी खुल चुकी थी।

अपने भाई का लंड अपनी चूत में घुसा देख खुशी के होश उड़ गये, और वो जल्दी से पीछे हटने लगी। मगर रजिंदर ने खुशी की कमर को कस के पकड़ रखा था।

उसने लंड को बाहर निकलने ही नही दिया, बल्कि एक और झटका लगते हुए खुशी की उपर ही लेट गया। खुशी अपने भाई की आँखों में देखने लगी और रजिंदर अब बिना कुछ बोले ही खुशी को चोदने लगा। खुशी की चूत में लंड अंदर-बाहर होने लगा था, तो खुशी ने भी अपना नीचे वाला होंठ अपने दाँतों के नीचे दबा लिया, और फिर लम्बी-लम्बी साँसे लेते हुए मुँह से आअह्ह्ह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह की आवाज़ें निकालने लगी।

उसने अपने दोनों हाथों से बैड की चादर को पकड़ लिया, और अपने जिस्म को कसते हुए अपनी चुदाई का मज़ा लेने लगी।

खुशी तो पहले से ही ताकतवर लंड की दीवानी थी, और रजिंदर का अकड़ा हुए लोहे की रॉड जैसा लंड उसकी चूत में था। फिर वो भला ऐसे लंड को कैसे मना कर सकती थी।

वो जान चुकी थी की उसके भाई का लंड उसकी चूत के लिए ही बना था। अब वो भी अपनी कमर को रजिंदर के झटकों के साथ हिला-हिला कर अपनी चुदाई का मज़ा लेने लगी। उसके ऐसा करने से रजिंदर को भी मज़ा आने लगा, और उसने खुशी के होंठों को अपने मुँह में ले लिया, और अपने हाथों से खुशी को बूब्स को मसलने लगा।

खुशी की सिसकारियाँ कमरे में गूंजने लगी थी, और उसकी चूत में से फच-फच की आवाज़ें आने लगी थी। कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद रजिंदर ने अपना लंड खुशी की चूत से निकाला, और बैड के नीचे खड़ा हो गया। फिर उसने खुशी को भी पकड़ कर खड़ा कर दिया।

खुशी भी समझ गयी थी, कि अब पोज़िशन बदलने का समय हो गया था। खुशी भी अपने भाई के साथ नीचे खड़ी हो गयी, और फिर दोनों ने एक दूसरे को अपनी बाहों में भर लिया, और एक दूसरे के मुँह में मुँह डाल कर होंठ चूसने लगे।

फिर रजिंदर ने खुशी को बैड की तरफ घुमाया, और उसको घोड़ी बन जाने को कहा। खुशी अपने दोनों हाथ बैड के उपर रखते हुए अपने भाई के सामने घोड़ी की तरह झुक गयी। उसकी गांड को देखकर रजिंदर तो जैसे पागल हुए जा रहा था। उसने फिर से अपना लंड हाथ में पकड़ा और खुशी की चूत के मुँह के उपर टिकाते हुए झटका मारा।

खुशी की खुली हुई चूत में आधा लंड घुस गया। खुशी ने भी अपनी कमर को पीछे की तरफ दबा दिया, तांकि रजिंदर का लंड उसकी चूत में आसानी से घुस सके। रजिंदर ने अपने दोनों हाथों से खुशी के चूतड़ पकड़ लिए, और उनको दबा-दबा कर खुशी की चुदाई करने लगा। खुशी भी अपनी कमर को हिला-हिला कर रजिंदर का साथ देने लगी।

खुशी की चूत पूरी तरह गीली हो चुकी थी, और उसकी चूत में से फच-फच की आवाज़ रजिंदर को और भी उत्तेजित कर रही थी। वो ज़ोर-ज़ोर से खुशी को चोदने लगा। खुशी की चूत ने भी अपना काम रस छोड़ना शुरू कर दिया था, और रजिंदर भी कुछ ही देर में झड़ने वाला था।

खुशी ने और झुकते हुए अपने सिर को बैड के उपर रख दिया, जिससे खुशी की गांड और उपर उठ गयी, और उसकी चूत रजिंदर के और भी सामने आ गयी, और चौड़ी भी हो गयी। रजिंदर ने खुशी की पतली कमर को अपने दोनों हाथों से पकड़ा और खुशी को खींच-खींच कर धक्के लगाने लगा।

और फिर उसने खुशी की चूत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया। उसके आखरी धक्के इतने तेज थे, कि खुशी की चीख तक निकल गयी, मगर कमरे से बाहर नहीं जा पाई।

इस जबरदस्त चुदाई के बाद दोनों थक चुके थे, और वो वहीं पर बैड पर गिर गये, और एक दूसरे की आँखों में आँखें डाल कर देखने लगे।

दोनों की आँखों से ही शरम नाम की चीज़ गायब थी, बस हवस ही दिख रही थी। कुछ ही देर में वो दोनों एक दूसरे के नंगे बदन से खेलने लगे, और एक बार फिर से वो चुदाई के लिए तैयार हो गये।

ऐसा हर रोज होने लगा था। कभी खुशी रजिंदर के कमरे में सोती, तो कभी रजिंदर खुशी के कमरे में सोता। आख़िर कितने दिन तक यह सब चोरी-चोरी होता। एक दिन सोहन सिंह ने अपनी आँखों से यह सब देख लिया। मगर वो दोनों भाई बहन से इस बारे में कोई बात नहीं कर पाया। उसको एक ही रास्ता नज़र आया, कि अब रजिंदर की शादी कर दी जाए, क्योंकि खुशी तो अभी पढ़ती थी।

आगे की कहानी अगले पार्ट में।

यह कहानी भी पड़े  बेटी ने खोला बाप का राज़ बाप के सामने

error: Content is protected !!