कैसे मैंने अपनी भाभी को चोद के उसे मेरी रांड बनाई

हेल्लो दोस्तों Antarvasna मैं  का बड़ा चाहक हूँ और रेग्युलर इसकी कहानियाँ पढता हूँ. आज मैं आप के सामने मेरा असली सेक्स अनुभव शेयर करने जा रहा हूँ जो पिछले महीने की बात हे. मेरा नाम पवन हे और मैं उड़ीसा का रहनेवाला हूँ. मेरी उम्र 20 साल की हे और मैं बी टेक की पढाई कर रहा हूँ. चलिए अब सीधे ही मेरे सेक्स के किस्से पर चलते हे.

मैं अपने माता पिता और बड़े भाई के साथ रहता हूँ. भाई की शादी पांच साल पहले हुई थी. मेरी भाभी एकदम हॉट हे. उसके मम्मे एकदम बड़े बड़े हे गांड भी. वो दिखने में गोरी और एकदम आकर्षक हे. जब से वो हमारे घर पर आई थी तभी से मेरी नजर उसके ऊपर थी. मैं हमेशा से ही उसे चोदना चाहता था. उसका नाम अंजलि हे और मैं उसे अंजलि भाभी कह के बुलाता हूँ.

पिछले महीने बड़े भैया किसी बिजनेश के काम से दिल्ली गए हुए थे और उनको वहां पर 20 दिन का काम था. भाभी को वो साथ में नहीं ले गए क्यूंकि भाभी ने कहा की आप पूरा दिन काम में होते हे और मैं होटल के कमरों में बोर हो जाती हूँ इसलिए मुझे नहीं चलना हे आप के साथ. भाई ने बहुत कहा की चलो इसी बहाने दिल्ली भी देख लेना. वो बोली नहीं मुझे नहीं देखना ऐसे कुछ भी.

भैया के जाने के कुछ दिन तक सब कुछ ठीक ही चला. मेरी और भाभी की बातचीत पहले जैसी होती थी वैसे ही हो रही थी. और भाभी को कुछ काम होता था तो वो मुझे बोलती थी. एक दिन मैं जब उन्हें देख रहा था तो मुझे कुछ अलग लगा. भाभी का मेरे तरफ रवैया कुछ बदला बदला सा था. अब वो बाते करने में काफी खुल गई थी और बोल्ड वाली बातें भी कर लेटी थी मेरे साथ. और वो अब कुछ दिनों से डीप लो कट के ब्लाउज ज्यादा ही पहन रही थी. और वो हंस हंस के ही मेरे साथ बातें भी करती थी. मैं सोच ही रहा था की आखिर भाभी ऐसे क्यूँ कर रही हे!

यह कहानी भी पड़े  बदसूरत बायोलोजी टीचर को चोदा

एक दिन शाम को मेरे पापा और मम्मी ऑफिस के किसी कलिग के वहां बर्थ डे पार्टी पर गए थे. पहले डिनर और फिर लेट नाईट तक ओर्केस्ट्रा चलना था इसलिए वो रात को लेट आनेवाले थे. भाभी तबियत की वजह से नहीं गई और मैं एग्जाम के लिए पढ़ रहा था इसलिए. भाभी ने कहा मैं पड़ोस में जा के आती ही एक घंटे में. भाभी के जाने के बाद मैंने अपने कपडे खोल दिए और टी शर्ट पहन ली. फिर मैं किचन में खाने के लिए चला गया. तभी पीछे से भाभी की आवाज आई की क्या ढूंढे रहे हो? मैं शोक हो गया भाभी को देख के. वो मेरे सामने मुस्कुरा रही थी और बोली, तुम बिना पेंट के बड़े ही मस्त लगते हो!!!

भाभी की आँखों में उस वक्त जो चमक थी वैसी चमक मैंने पहले कभी नहीं देखी थी. मैं वही पर खड़ा हुआ शर्मा रहा था और चूप था. भाभी मेरे पास आ गई और उसने बिना कुछ कहे ही मेरे होंठो के ऊपर एक किस दे दी. मैं कुछ देर तो कुछ भी रिस्पोंस ही नहीं दे सका क्यूंकि मुझे एकदम शोक सा लगा था.

लेकिन भाभी स्माइल कर रही थी मुझे आँखों में आंखे डाल के देख के. और फिर वो बोली कैसा लगा मेरा सरप्राइज? मैं हमेशा ही तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती थी क्यूंकि तुम्हारे भाई मुझे खुश नहीं कर पाते हे बिस्तर में. और मैं एकदम होर्नी रहती हूँ. मैं बहार चुदवा नहीं सकती इसलिए एक जमाने से तुम्हारे ऊपर ही नजरे लगा के बैठी हुई थी. और आज मौका मिला हे तो तुम इतना शर्मा रहे हो मेरी जान! चलो जल्दी से अपनी मर्दानगी मुझे दिखाई और खा जाओ मुझे.

यह कहानी भी पड़े  बाबा ने चोदा जब मैं सेवा करती थी, परी बना कर चोदते थे

मेरे पास अब कुछ कहने को नहीं रहा था. मैं आगे बढ़ा और हम किस करने लगे. वो बड़ी मस्त थी लिप्स को लिप्स से लगाने में. हमारी जीभ एक दुसरे से मिल गई और साँसों के साथ साँसे टकरा गई. मेरे हाथ पीछे उसकी गांड पर चले गए और वो मेरी कमर को पकड़ के खड़ी हुई थी.

मैंने उसकी गांड की फांक को दबाया और जैसे बिच में से गांड को दो बराबर हिस्सों में बाँट सा दिया. हम ऐसे ही एक दुसरे को किस करते हुए कुछ मिनटों तक खड़े रहे. और फिर भाभी ने मेरी अंडरवेर के ऊपर हाथ डाल के मेरे लंड को अपने कब्जे में ले लिया और उसे दबाने लगी. वो मेरे आँखों में देखते हुए ही अपने घुटनों के ऊपर जा बैठी. और अपनी उँगलियों को उसने लंड के चारो तरफ रखा हुआ था. मैंने मन ही मन उपरवाले का शुक्र किया इतनी मस्ती भरी शाम के लिए!

हम ऐसे ही कंधे से कंधे को लगा के बेडरूम में चले गए फिर. भाभी ने मुझे बिस्तर का रास्ता दिखा दिया. और उसने मेरी अंडरवेर को निकाल फेंका. वो खड़े हो के अपने कपडे भी निकाल के मेरे साथ बिस्तर में लेट गई. हमारे चहरे एक दुसरे के सामने थे. मैंने उसकी गांड पर हाथ रख के उसे अपनी तरफ खिंचा. वो भी मेरे लंड को हाथ में पकड़ के पम्प करने लगी थी. फिर भाभी ने पीछे हो के निचे जगह बनाई फर्श के ऊपर अपने लिए. और उसने मेरे लंड के ऊपर एक किस दे दी.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!