भाभी को चोदा उसके बचे के सामने

ही ई आम लकी फ्रॉम वडिषा. ये मेरा पहला स्टोरी है देसी कहानी मे. मई देसी कहानी रोज पढ़ता हूँ. इसलिए सोचा मे भी मेरा एक्सपीरियेन्स शेर करू.

मेरा नाम लकी है और मई एक प्लास्टिक कंपनी मे जॉब करता हूँ. मेरा रंग गोरा है, मेरा लंड 6″बड़ा और 2″मोटा है.

पहले कहानी पे आता हूँ. मई जिस कंपनी मे काम करता हूँ उस बिल्डिंग पे एक फॅमिली रहती है. फॅमिली मे सास ससुर 2 बेटे उनकी 2 वाइफ और उनके 2 छ्होटे बचे रहते है.

मई जिस भाभी (नामे अमूली) की बात कर रहा हूँ वो छ्होटी वाली है. वो दिखने मे एक माल लगती है. रंग तोड़ा कम है लेकिन बूब्स उसके बहात बड़े है. फिगर उसका 34-30-34 होगा.

वो जब भी कही जाती थी कंपनी मे जीतने आदमी काम करते थे सब उसी को देखते थे. सब का मान करता था उसको छोड़ने के लिए. लेकिन वो किसी को भाव नही देती थी.

लेकिन वो सब से अकचे से बात करती थी. किसी को भाभी की गांद पसंद थी तो किसी को उसके बूब्स. लेकिन कोई कुछ नही कर पा रहे थे. पहले मेरा इंटेरेस्ट नही था उसपे लेकिन मेरा इंटेरेस्ट उसकी बड़ी भाभी पर था, लेकिन जो होना था वो हुआ और छ्होटी भाभी से सब हुआ.

ये 2 साल पहले की बात है. मेरा पहले दे ड्यूटी था तो मई शाम को घर चला आता था. लेकिन जब मेरा नाइट ड्यूटी लगा तो मुझे कंपनी मे रहना पड़ा.

मेरा सूपरवाइज़र का काम था इसलिए काम इतना ज़्यादा नही था रात को. कुछ दिन बाद मैने देखा की भाभी के हज़्बेंड कुछ काम के लिए बाहर गये थे. इसलिए भाभी थोड़ी साद थी.

एक दिन उसने मुझे इशारो से कुछ कह रही थी. मुझे यकीन नही आ रहा था. मैने समझा शायद मेरी ग़लतफहेमी है.

अगले दिन उसने मुझ पर एक पेपर फेका, मैने देखा तो उसपे भाभी का नंबर था. मैने कॉल किया तुरंत क्यूँ की मुझे भी सेक्स करने का ख़याल आया.

मैने कॉल किया तो उसके ससुर ने कॉल रेसीएवे किया तो मैने तुरंत काट दिया. उसके बाद उसी नंबर से कॉल आया बोली की वो कॉल करेगी फ्री हो के.

रात को कॉल आया जब मई ड्यूटी कर रहा था. भाभी बोली की वो मुझे बहात पसंद करती है. मई तो सुन शॉक हो गया और खुस भी हो गया. क्यूँ की कुछ तो मिलेगा ऐसा सोच कर.

फिर बात बढ़ने लगी. मैने एक दिन कहा मुझे मिलना है तो वो हन बोल दी. लेकिन कहा मिलू वोही प्राब्लम थी. उसने बोला की उसके रूम मे मिलने को.

मुझे पहले बहात दर्र लग रहा था. क्यूँ की कंपनी मे रात मे काम चलता था अगर कोई देख लेगा तो पकड़े जाएगे.

फिर मैने रात 12 बजे साहस करके गया. उसके रूम के पास एक टाय्लेट है जहा कंपनी के लोग कभी कभी जाते है दिन मे. मई इश्स बहाने से चला गया.

मई टाय्लेट के पास पहंचा तब देखता हूँ की भाभी उसकी रूम की डोर को आधा खुला करके खड़े है. मे टाय्लेट नही गया डाइरेक्ट उसके रूम मे घुस गया.

भाभी ने जल्दी से डोर बंद कर दिया और मुझे आ कर हग कर दिया. मई भी टाइम बर्बाद ना करते हुए हग कर दिया और लीप किस शुरू कर दिया.

लीप किस करते करते इतना खो गया की मुझे पता नही चला की बेड पे दो बचे सोए हुए है. क्यूँ की रूम पूरा अंदर था. लेकिन भाभी ने नीचे पहले से ही कार्पेट बिछा कर रखी थी.

फिर से हम दोनो ने लीप किस शुरू कर दिया. मई एक हाथ उसकी गांद मसल रहा था और दूसरे हाथ से बूब को दबा रहा था. कितने बड़े बूब मेरे हाथ मे नही आ रहे थे. फिर मैने जल्दी से उसकी सारे को उतार दिया और ब्लाउस खोल रहा था पर खुल नही रहा था.

इसलिए मैने पूरा फाड़ दिया जिससे वो भी कुछ नही बोली. वो आखे बंद करके खड़ी रही. मैने उसके बाद ब्रा के उपर से ही बूब्स को मसालने लगा.

ब्लॅक ब्रा पहनी थी भाभी ने जिसे मैने फिर खोल दिया. तब बड़े बड़े बूब्स मेरे सामने खेल रहे थे. मैने एक बूब को मूह मे लिया और दूसरे को हाथ से दबा रहा था.

भाभी अस्ते अस्ते मेरे कान मे बोल रही थी और ज़ोर से दब्ाओ, पूरा दूध पी जाओ..

उसका छ्होटा बचा था इसलिए दूध तोड़ा तोड़ा निकल रहा था. अरे वाह क्या लग रहा था. ऐसा लग रहा थी की बूब्स को ऐसे मूह मे लेकर रोज दूध पियूं.

मैने ऐसे ही 15 मिन्स मूह मे लेकर तोड़ा तोड़ा दूध पिता रहा. अब भाभी भी मेरे पंत के उपर से ही मेरे लंड को सहलाते रहे थे. भाभी सिर्फ़ पेटीकोत मे थी और मैने कुछ ही देर मे उनका पेटीकोत खोल दिया.

भाभी ने ब्राउन कलर की पनटी पहनी थी. जब मैने पनटी को च्छुआ तो पनटी पूरी गीली हो चुकी थी. मैने जल्दी से पनटी को भी निकल दिया और मेरे सामने एक हॉट से भाभी पूरी नंगी खड़ी थी.

फिर भाभी ने भी मुझे पूरा नंगा कर दिया. भाभी ने बोला अरे वाह तुम्हारा तो मेरे हज़्बेंड से बड़ा है. मैने बोला और बहुत खुस भी करता है.

उसके बाद भाभी ने जल्दी से मेरा लंड को हाथ मे लेकर सहलाना शुरू किया और धीरे धीरे मेरा लंड हिला रही थी. फिर नीचे बेत कर लंड को मूह मे ले लिया.

अरे वाह कितना मज़ा आ रहा था क्या बतौ दोस्तो!

भाभी मेरे लंड को लोल्ल्यपोप की तरह मूह मे लेकर चूस रही थी. फिर मैने भाभी को बोला 69 पोज़िशन आ जाओ मई भी आप की छूट को चाट्ता हूँ.

फिर 69 पोज़िशन मे वो मेरे लंड को चूस रही थी और मई उनकी छूट को चाट के क मज़ा ले रहा था. 15 मिन्स तक एसा चला. इश्स बीच भाभी 2 बार झाड़ चुकी थी. उनके छूट का पानी मैने पी लिया, भाई क्या रास था!

फिर हुँने सीधे हो कर सेक्स करने के लिए रेडी हो गये. भाभी कान मे बोली जल्दी से मुझे छोड़ो और रहा नही जा रहा है. फिर टाइम बर्बाद नही करते हुए उनकी छूट के सामने मेरे लंड को रख कर ज़ोर से झटका दिया तो आधा अंदर घुस गया.

भाभी ज़ोर से मुझे पकड़ कर बोली धीरे धीरे. मैने सोचा बचा हो गया है तोड़ा ढीला होगा लेकिन टाइट था. मैने भाभी से पूछा छूट इतनी टाइट कैसे?

वो बोली उसका हज़्बेंड 1 साल से कुछ नही कर रहे है इसलिए टाइट है. मैने बोला ठीक है.

फिर ज़ोर से धक्का लगाया और मेरा पूरा लंड अंदर चला गया. भाभी की चीक निकल गयी तो मैने भाभी के मूह मे हाथ दे दिया और धीरे धीरे छोड़ने लगा.

कुछ टाइम बाद भाभी बोली ज़ोर से छोड़ो और ज़ोर से…

ये सुनकर मई ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा. ऐसे ही 15 मिन्स के बाद भाभी मेरे उपर आ कर मेरे लंड पर बैठ कर फिर से उच्छल उच्छल कर छुड़वा रही थी.

ऐसे ही 30 मिन्स के बाद हम सांत हुए. फिर भाभी बोल रही थी रात मे यही रुक जाओ और करेंगे रात भर. मेरा ड्यूटी था इसलिए मैने माना किया और बोला की कल अवँगा.

हुँने एक बार लीप किस किया और मई वाहा से चला आया.

उसके बाद से मई एक महीने तक भाभी को छोड़ा. फिर उनका हज़्बेंड घर आ गया. अब नही मिल पा रहे है हम दोनो, बाइ बाइ..

यह कहानी भी पड़े  सिनिमा हॉल मे सग़ी बेहन को चोदा

error: Content is protected !!