हॉस्पिटल मे मिली एक नयी भाभी-2

इस बार वो जाती उसकी पीछे मड कर देख कर गयी मानो इशारा दे कर गयी. मैने भी फिर वही किया. जैसे ही वो रूम मे गयी मई उसके पिच्चे चला गया और डोर खोल दिया, वो कपड़े बदल रही थी.

अब आयेज की कहानी कंटिन्यू करता हू.

जैसे ही मैने भाभी के रूम मे गया, वो चौक गयी या चौकने का नाटक कर रही थी.

भाभी :- आप यहा कैसे ओह शीत!

और वो खुद को ढकने लगी.

मे :- वो मुझे नहाना था इसलिए आया था मई.

और उन्होने मुझे बातरूम मे भेज दिया और मैने जान्न भुज कर लॉक नही किया. भाभी ने टवल देने के लिए पूरा डोर खोला और मेरे लंड को भी देखा और टवल दे कर चली गयी.

फिर मई नीचे आया और टेबल पर बेत कर खाना खाते हुए बोला-

मे :- भाभी आप बोहट खूबसूरत है.

भाभी :- मतलब कहना क्या चाहते हो?

मे :- मतलब भाभी ये की आपका पति चूतिया है जो आप जैसे बीवी से डोर है. मई तो रूम से ना निकालु, आपको ले कर अंदर ही राहु हमेशा.

भाभी :- हिहीही सम्भालो खुद को मई किसी और की बीवी हू.

मे :- बीवी तो किसी और की हो पर हो तो अधूरी.

मुझे पता नही है मई क्या बोल रहा था.

भाभी :- क्या बोले जेया रहे हो?

मैने एक दूं से उठा और भाभी को किस कर दिया. भाभी ने मुझे पिच्चे धक्का दिया और बोला-

भाभी :- तुम्हे शरम नही आती मेरी इज़्ज़त का क्या होगा अब??!

मे :- भाभी मुझे टा है आप तड़प रही हो.

और मई पास जाता रहा.. भाभी की हन तो थी बस वो तोड़ा शर्मा रही थी. फिर मैने एक और जोर्र से किस किया और छोड़दा नही और भाभी को सहलाता रहा, तो भाभी बोली-

भाभी :- मेरी इज़्ज़त का क्या होगा?

मे :- कुछ नही होगा ये बात मेरे आपके बीच रहेगी.

मैने किस चालू रखा और फिर मई उनको मसलता रहा और भाभी भी गर्म हो गयी.

भाभी :- मई पहले दिन से जानती थी तुझे की तू मेरी हेल्प सिर्फ़ यही चीज़ के लिए कर रहा है.

भाभी :- बस कर और ज़ोर से कर चूस डाल निचोड़ड़ डाल मुझे..

मे :- जब पहले से जानती थी तो नखरे कू कार रही थी.

भाभी :- छूट भी डू तुझे और नखरे भी ना करू? थोड़े बोहट नखरे तो बनते है.

मे :- तेरी पति इतनी कमाल की चीज़ से दूर कैसे रहता है!

भाभी :- सला चूतिया है, काम का ना काज का कुछ नि होता यूयेसेस से.

मे :- फिर ये बेटा किसका है?

भाभी :- मेरे ब्फ का है बीसी उसको ल्गता है उसका है.

मे :- अब भी है ब्फ तेरा?

भाभी :- कहाँ यर्र चला गया वो तो शादी करवाके अपनी, बाहर रहता है अब.

भाभी :- 1.5 साल से तड़प रही हूँ खा जेया मुझे कचा चबा डाल.

मे :- रुक्क जा अभी देख!

और मैने देर ना करते हुए उसकी कपड़े खोलने शुरू कुए और उसको ब्रा पनटी मे कर दिया.

उसने भी मुझे नंगा कर दिया और बोली-

भाभी :- वाह बीसी इतना ताकतवर लंड मज़ा अजाएगा आज बुझा दे मेरी प्यासस्स…

मे :- रुक जेया तू भी बीसी एक नो का माल है.

भाभी :- तुझे जैसे करना है कर, चाहे गाली भी दे दे, प्यार से करेगा तो भी मज़ा आएगा, जैसे करना है तेरी मर्ज़ी पर छूट पर रहम मत करना.

मे :- तू चिंता म्ट कर आज तेरी सारी प्यासस भुजा दूँगा.

भाभी :- यही तो मे चाहती हू!

मैने उसकी ब्रा फदड दी और उसके दूध पीने लगा, बड़े बड़े दूध ँज़्ज़ा आ रहा था.

फिर मैने उसको इशारा किया लंड की टरफ़ उसने देर ना करी और लोलीपोप की त्रह चूसने ल्गी.

मे :- वाह क्या चूस्टी है तू पहले भी चूसा है क्या?!

भाभी :- लंड नही चूसा तो क्या मज़ा चुदाई का.

मे :- पक्की खिलाड़ी है तू!

भाभी :- बाकी काम बाद मे पहले छूट मे डाल दे यर्र तड़पा म्ट मुझे.

मे :- रुक्क जा एक मिंट चूस्स अभी.

फिर हुँने 69 मे शुरू किया और 10 -20 मिंट मे उसका पानी छूट गया. और बोलो क्या लंड है य्र तेरा अब मत तडपा.

मे :- ठीक है रुक फिर.

मैने अपना लंड उसकी छूट पर सेट किया और एक धकका दिया आधा लंड आंद्र चला गया.

भाभी :- सेयेल एक तो इतना मोटा और लूंबा लंड है तेरा उपर से आधा लंड एक बार मे डाल दिया!

भाभी :- काफ़ी टाइम से नही चूड़ी थी, तूने तो मार डाला!

मे :- यही तो मज़ा है.

मई वही उसकी चुदाई करने लगा, कुछ देर बाद उसका डरड शांत हुआ. मैने फिरसे धक्का दिया और पूर्राा लंड आंद्र डाल दिया और वो चीलाने ल्गी.

भाभी :– आअहह ऊऊऊिझहह फफफफफफफफफफफफुऊऊुऊउक्ककककककककककककक म्‍म्म्माआआअ मम्मूऊउम्म्म्मय्ययययी मररर गईइइ मई

मे :- अभी डरड है ँज़्ज़ा भी आएगा.

मैने धक़्की देने चालू किए और कुछ देर बाद उसको मज़ा आने लगा और मैने धक्को की स्पीड बड़ा दी और जोर्र जोर्र से छोड़ने लगा.

भाभी :- आअहह आआहह उुउऊहह जो मज़्ज़ाअ तू दे रहा है वो तो मैने आज ट्के नही लिया, आज टा चला असली सुख चुदाइ का, छोड़ मुझे…

मे :– रुक जेया अभी देख.

मैने पोज़िशन चेंज की और फिरसे उसको छोड़ने लगा और जोर्र जोर्र से छोड़ा. वो तब ट्के 1 या 2 बार झड्द चुक्की थी. 20-30 मिंट के बाद मई आने वाला था मैने बोला कहाँ अओ? उसने बोला-

भाभी :- आंद्र ही डाल दो, एक बच्चा तुम्हारे नाम का करना चाहती हूँ, तुमने जो सुख दिया कभी नही मिला.

मे:- पर तुम्हारा पति..?

भाभी :- कुछ नही होगा उसके आते ही एक बार यूयेसेस से छुड़वा लूँगी उसको लगेगा उसका बच्चा है.

फिर हम चुदाई के बाद साथ मेनहाय और हॉस्पिटल को निकल पडे, भाई ने पूछा-

भाई :- इतना टाइम लग गया?

मे :- अरे भाई कब्के आए हुए है डॉक्टर के पास थे हम तो.

फिर ऐसे ही 2 दिन उसकी चुदाई चली और फिर कभी कभी मई ऐसे भी उसके घर जेया कर उसकी चुदाई कार आता.

ये है मेरी कहानी अपने मेरी पिछली कहानियो को भी धीर सारा प्यार दिया, इसको भी फीडबॅक देना और प्यार देना. मुझे आपके मेल्स का वेट होगा, कोई बात करनी हो तो भी म्स्ग करे.

किसी लड़की/भाभी/ आंटी को कोई भी बात करनी हो कर सकते है, हेल्प चाहिए म्स्ग कर सकती है. आपकी परिवसी सबसे पहले है.

यह कहानी भी पड़े  कमर में चोट के बहाने भाभी को चोदा

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!