भाभी की चुदाई की अनोखी कहानी

हेलो फ्रेंड्स, ई आम रॉकी फ्रॉम गुजरात आंड तीस इस मी 3र्ड स्टोरी. लास्ट स्टोरीस मामी के साथ बस का सफ़र और दोस्त की मा को चूड़ते देखा. आप लोगो ने नही पढ़ी हो तो ज़रूर से पढ़ लेना.

स्टोरी राइटिंग मे कोई मिस्टेक रहे गयी हो तो माफ़ कर दीजिएगा. कॉमेंट मे और मेरे पर्सनल मैल मे मुझे अपने रिव्यू और फंतासी ज़रूर भेजना. आप किस तरह की स्टोरी पढ़ना चाहते है वो भी मैल कर सकते हो. लास्ट कुछ मेल्स के मई रिप्लाइ नही दे पाया था तो उसके लिए माफ़ कर देना.

और ऑफ कोर्स कोई लड़की या औरत फ्रॉम गुजरात मुझसे सेक्स छत करना चाहती है और छुड़वाना चाहती है तो कॉंटॅक्ट मे ओं – रोकेपटेल[email protected]याहू.कॉम.

चलो अब ज़्यादा बोर नही करूँगा.

ये कहानी कुछ साल पहले की है जब मे अपने भाई के घर. जो राजकोट से कुछ मिले दूर एक गॅव मे रहते थे. क्यूंकी उसकी गवर्नमेंट जॉब थी तो भी पे रहना पड़ता था. और गॅव की हालत इतनी भी अच्छी नही थी के वाहा पे अकचे मकान और सभी सुख सुविधा हो.

तो मैने सोचा वाकेशन है तो कुछ दिन भैया के घर पे मज़े कर लेता हू.

कहानी मे आयेज बढ़ने से पहले मे आपको अपनी भाभी के बारे मे बता देता हू.

उनकी आगे 34 है और एकदम नशीला बदन. उनकी ज़ुल्फो से लेके पैर तक हर एक चीज़ इतनी सुंदर है की उनसे नज़र हट ही नही सकती. उनके बूब्स बहोट बड़े भी नही और छ्होटे भी नही, एकद्ूम पर्फेक्ट थे. और कमर मस्त पतली सी और उनकी नाभि देख के सब के मूह मे पानी आ जाता था.

गॅव मे भाई और भाभी एक पुराने घर मे किराए पे रहते थे. क्यूंकी गवर्नमेंट जॉब मे ट्रान्स्फर तो होता ही रहता है तो खुद का घर लेके कोई फयडा नही है. पर घर इतना पुराना था की सारे दरवाजा और खिड़किया लकड़े की बनी थी. और पानी की वजह से साद गयी थी और उनके बीच से देख सकते थे.

जब मे गॅव पहुचा तो भाई और भाभी दोनो खुश हो गये. हमने उस रात बहोट बाते की और फिर अगले दिन भैया मुझे गॅव दिखाने ले गये. मैने पंचायत मे उनकी ऑफीस भी देखी.

फिर शाम को मई और भाभी गॅव के खेतो की और चल दिए. रात को तीनो ने मिलके कार्ड्स खेले और देर रात सोने चले गये. भाई और भाभी कमरे मे सो रहे थे और मई बाहर हॉल मे सो रहा था.

तभी अचानक लाइट चली गयी, गॅव मे लाइट जाना कामन है और कुछ कुछ आवाज़ आ रही थी कमरे से. शायद अभी तक भाई और भाभी सोए नही थे. लाइट जाने की वजह से आसपास एकद्ूम शांति हो गयी थी इसीलिए आवाज़ एकद्ूम क्लियर सुन पा रहा था.

भाभी बोल रही थी प्लीज़ अब रहा नही जा रहा जल्दी करो. शायद वो लोग चुदाई कर रहे थे तो मे एक्शिटेड हो गया और हल्के पॅव कमरे के और बढ़ा. हल्की सी दरार मे से देखा और कमरे मे एक दिया जल रहा था. और उसका पूरा प्रकाश भाभी के नंगे बदन को चमका रहा था.

भैया बूब्स को दबा रहे थे और भाभी एकद्ूम मदमस्त होके भैया के मूह को अपने हाथो से नोच रही थी. मैने भाभी का ये वाइल्ड रूप कभी नही देखा था.

भैया ने अब लंड पकड़ के छूट पे रखा और हल्के हल्के धक्के लगाने लगे. भाभी नीचे से उकचल उकचल के लंड अपनी छूट मे ले रही थी. साइड व्यू होने की वजह से उनकी छूट तो दिख नही रही थी. पर 20-25 दखो के साथ भैया ने अपना पानी छ्चोड़ दिया और उपर से हट गये.

भाभी के चेहरे पे उदासी सॉफ दिख रही थी. वो भी बिना कुछ बोले दिया बुजा के सो गयी. मुझे पता चल गया भाभी को सरिरिक सुख मिल नही रहा और वो उसमे खुश नही है.

अगले दिन जब भाभी नहाने गयी तो मई रूम मे बेता हुआ था और ग़मे खेल रहा था. भैया ऑफीस गये थे और बातरूम का दरवाजे की लकड़ी भी आधी टूट गयी थी. वाहा से अंदर तोड़ा तोड़ा देख सकते थे.

तभी भैया का एक करीबी दोस्त चिंटू घर पे आया. बातरूम से पानी की आवाज़ आ रही थी तो वो वही पे रुक गया और देखने लगा. मेरी नज़र उसपे पड़ी और मई धीरे से बाहर की और गया.

मैने देखा की चिंटू दरवाजे की टूटी हुई जगह से अंदर देख रहा था. मई भी चुप के उसके पीछे आ गया. उसको मालूम नही था की मई उसके पीछे ही खड़ा हू और मुझे भी हल्का हल्का दिख रहा था.

भाभी अपने बदन पे साबुन लगा रही और शायद भाभी को भी अंदर से दिख ही रहा होगा की बाहर से चिंटू देख रहा है. पर मई हेरान था की भाभी कुछ रिक्ट क्यू नही कर रही!

(मेरे भैया ने बताया था की ये चिंटू बड़ा ही हरामी है. उसने गॅव की मोस्ट ऑफ भाभियो को छोड़ा है. और मुझे लगता है अब उसकी नज़र मेरी भाभी पे है.)

भाभी अब अपने बूब्स पे साबुन लगा कर उसको मसल रही थी और धीरे धीरे छूट पे हाथ लगा कर उसके रगड़ने लगी. दो उंगलिया छूट के अंदर दल के तेज़ मूठ मारने लगी.

ये देख के मेरा लंड एकद्ूम खड़ा रहे गया. और चिंटू तो अपनी पेंट मे हाथ डाल कर अपने लंड को मसल रहा था.

तभी बाहर से किसके आने की आवाज़ आई तो मई झट से घर के अंदर भाग गया. चिंटू इतना मसगूल था की उसको पता ही नही चला और भैया आ गये. तब भी चिंटू मूठ ही मार रहा था.

भैया को अचानक देख के दर्र के मारे वो भाग गया. जब भाभी बातरूम से बाहर निकली तो भाभी को डाट दिया. की तुम्हे पता ही है वो चिंटू देख रहा था और वो कैसा हरामी है! फिर भी उसके सामने नंगी नहा रही थी!!

तो भाभी ने बोला मुझे नही पता था की कोई देख रहा था. पर मुझे भाभी के मूह से सॉफ लग रहा था की वो जूथ बोल रही है.

फिर दो टीन दिन बाद जब मई गॅव की सेर करने निकला तो मैने चिंटू को हमारे घर जाते देखा. मैने सोचा भैया से माफी माँगे जा रहा होगा. आयेज चलते चलते मे पंचायत पे पहुचा तो मैने देखा की भैया तो ऑफीस मे बेते काम कर रहे थे.

तो मई जल्दी से घर की तरफ बढ़ा. फिर अंदर जाके देखा तो भाभी रूम मे कम कर रही थी और चिंटू पीछे से उनकी गांद देख रहा था. मई चुपके से देखने लगा.

चिंटू ने अब भाभी को पीछे से पकड़ लिया और एकद्ूम हुए हमले की वजह से भाभी सहम गयी. और चिंटू ने उनके बूब्स को प्रेस करने लगा.

भाभी बोल रही थी की चिंटू भैया ये आप क्या कर रहे हो. छोड़ दो ये सब ग़लत है!

फिर भी चिंटू अपने दोनो हाथो से भाभी के बूब्स को मसल रहा था. और बोल रहा था चुप हो साली रांड़. तब तो मेरे सामने मूठ मार रही थी तब शरम नही आ रही थी?? मुझे पता है की तेरा पति तेरी प्यास नही बुझा पा रहा है.

और ऐसा बोलके भाभी की सारी को उपर करके अपना हाथ अंदर दल दिया और छूट को रगड़ने लगा. भाभी उसके चांगूल से छूटने की नाकाम कोशिश कर रही थी. और जब तक गयी तो हाथ पैर चलना बंद कर दिए.

अब शायद उसको भी मज़ा आने लगा था. उसकी भी छूट गीली हो रही थी. चिंटू ने हाथ निकाला और गीली छूट का पानी को सूंघने लगा और छत रहा था.

भाभी ने बोला मेरा पति आ जाएगा. तब चिंटू ने बोला वो नही आएगा उसको बहोट काम है. और इतना बोलके दरवाजा बंद कर दिया.

मई चुपके से देख रहा था पर अब मुझे दरवाजे के पास जाना पड़ा. मैने देखा की अब चिंटू ने भाभी का ब्लाउस निकल रहा है. भाभी शरम के मारे नीचे देख रही है. और देखते ही देखते उनके बूब्स आज़ाद हो गये.

अब सॅडी को उतरा और अभी भाभी सिर्फ़ पनटी मे थी. दोनो एक दूसरे को चूम रहे थे जैसे भाभी कितने दिन की भूख को आज मिटा देगी. चिंटू भाभी के बूब्स को मसल रहा था. अब एक बूब्स को मूह मे लेके निपल पर काट रहा था.

भाभी: धीरे से करो मे भागी नही जा रही हू.

चिंटू : रहा नही जा रहा है तुम्हे देख के, आज तेरी सारी प्यास बुझा दूँगा.

और इतना बोलके भाभी की पनटी को नीचे उतार दिया और आज पहली बार भाभी की चिकनी और सॉफ छूट मैने देखी थी. एकद्ूम पॉर्न स्तर के जैसे चाँदी बाहर निकली हुई और छूट को देखके चिंटू पागल सा हो रहा था.

अब उसने भाभी को बेड पे लेटया और दोनो पैर को खोलके छूट को जीभ से चाटने लगा. भाभी को इतना मज़ा आ रहा था की उन्होने अपनी आँख बाँध करके मज़ा उठा रही थी और चिंटू का मूह दबा रही थी. वो भूखे शेर की तरह भाभी की छूट को छत रहा था. अब भाभी से रहा नही जेया रहा था और वो चिंटू के लंड को ज़ोर से आयेज पीछे कर रही थी.

चिंटू अपना लंड भाभी के छूट पे रखा और रगड़ने लगा और एक झटके मे अंदर डाल दिया. भाभी के मूह से ज़ोर से चीख निकल गयी. क्यूकी चिंटू का लंड भाई से मोटा और लंबा था.

अब चिंटू बड़ी तेज़ी से भाभी की चुदाई करने लगा. भाभी के मूह से सॉफ दिख रहा था की उनको कितना मज़ा आ रहा है. और वो ज़ोर ज़ोर से आवाज़ कर रही थी और गली दे के चिंटू को और ज़ोर से चुदाई करने के लिए उकसा रही थी.

इसी तरह 30-35 मीं की चुदाई के बाद चिंटू ने अपना सारा माल भाभी के छूट मे गिरा दिया और दोनो पसीने से लटपट वही पड़े रहे.

तो बे कंटिन्यूड इन थे नेक्स्ट पार्ट…

यह कहानी भी पड़े  पुरानी गर्लफ्रेंड सच्चे प्यार की निशानी लेने आई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!