बेटी ने पढ़ी बाप की डायरी अपने बारे मे

अब आयेज की कहानी…

मेरे माइंड में बहुत कुछ चलने लगा. की पापा ऐसे कैसे कर सकते हैं की मेरी ब्रा पनटी से खेल कर मूठ मारी और अपना सारा माल मेरी पनटी में झाड़ दिया. मेरा ये सब सोच सोच के दिमाग़ खराब सा होने लगा.

फिर मैं जल्दी से पनटी को पानी में ढोने लगी. जब मैं पनटी पानी में धो रही थी तो पनटी पूरी माल से गीली थी. जिस वजह से वो गाड़ा माल मेरे हाथो में भी लग रहा था. मुझे बहुत अजीब लग रहा था.

मेरा माइंड यूयेसेस टाइम बार बार ना चाहते हुए भी इमॅजिन कर रहा था. की पापा ने कैसे अपने लंड से मेरी ब्रा पनटी के साथ खेला होगा. और अपने लंड की मूठ मार कर मेरी पनटी में ही अपना सारा माल डाल दिया. मेरी आखोने के आयेज यही सब इमॅजिनेशन चलने लगी. जिससे मैं सोच सोच के बहुत जयदा परेशन हो गयइ.

मैने फिर जैसे कैसे अपनी पनटी को सॉफ कर के मशीन में रख दी. और ब्रश वगेरा कर के और हाथ मूह धो कर सफाई करने लगी. भाई भी फिर नहाने के लिए चला गया.

मैं घर की सफाई करते हुए भी बस यही सब ही सोची जा रही थी की पापा ने ऐसा क्यू किया. मेरी आँखों के आयेज बार बार मेरी पनटी में पापा के लंड का भरा हुआ माल आ रहा था.

इतने में मेरे फोन में मसाज आया मैने फोन चेक किया तो पापा का स्मस आया हुआ था.

पापा -(स्मस) गुड मॉर्निंग नीलम बेटा.

मैं यूयेसेस टाइम बहुत प्रेशन हो चुकी थी तो मैने पापा के स्मस का कोई रिप्लाइ नही किया. और घर के काम सफाई वगेरा करने लग गयी.

फिर भाई भी नहा के आ गया. भाई को मैने ब्रेकफास्ट क्रवाया. और तोड़ा बहुत घर का काम वगेरा किया. और फिर मैं नहा के त्यआर हो के फ्री हो गयी.

मेरे दिमाग़ में सुबा से हर टाइम वोही सब ही चल रहा था. मेरे माइंड में बहुत से सवाल चल रहे थे. मैं रूम में आ कर बेत गयी. छोटा भाई त.व देख रहा था.

मुझे यकीन नही हो रहा था की पापा ऐसे कैसे कर सकते हैं इसलिए मैने फिर से छोटे भाई से पूछा…..

मैं – भाई सच में तू सुबा वॉशरूम नही गया था??

छोटा भाई – नही नीलू डीडीिई.. सच में नही गया था….

मैं – मेरे सर पर हाथ रख कर कसम खा की तू नही गया था सुबा वॉशरूम?

फिर भाई ने मेरे सर पर हाथ रखा और कसम खाई.

छोटा भाई – नीलू दीदी आपकी कसम. मैं सच में सुबा नही गया वॉशरूम. जब अपने उठाया मैं तब ही उठा हू सुबा. और मैं आपसे बहुत प्यार करता हू दीदी. मैं आपकी कसम झुटि नही ख़ौँगा. आप इतना क्यू प्रेशन हो रही हैं.

मैने भाई को बहाना लगा दिया और झुत बोल दिया की….

मैं – कुछ नही भाई… वो बस वॉशरूम में बहुत गंद फेला हुआ था. मैने अब सॉफ कर दिया है. चल तू त.व देख आराम से मैं मम्मी पापा वेल रूम में थोड़ी देर रेस्ट कर रही हू.

फिर मैं मम्मी पापा वेल रूम में आ कर लेट गयी. मुझे अब पूरा कन्फर्म हो गया की पापा ने ही मेरी पनटी में अपना माल झाड़ा है.

मैं बस ये सब सोच सोच के बहुत तंग हो गयी थी. इसलिए मैं थोड़ी देर अपना मोबाइल चलाने लग गयी. मोबाइल चलते चलते एक दूं से मेरे सामने पापा के फोन से ली हुई पॉर्न वीडियोस और कुछ फाइल्स सामने आ गयी.

मैने सिर्फ़ 3-4 पॉर्न वीडियोस ही रात में देखी थी. तो मैने फिर बाकी की वीडियोस ओपन की. सब पॉर्न वीडियोस दाद डॉटर के उपर ही थी.

तब मेरा मूड काफ़ी खराब हो रखा था तो मैं फ्टा फट से आयेज आयेज कर के वीडियोस देखने लगी. मैने कुछ वीडियोस देखने के बाद एक वीडियो ओपन करी तो वो वीडियो देख कर मेरे होश ही उध गये.

यूयेसेस वीडियो में मैं थी… श फुक्ककक

यूयेसेस वीडियो में मैं अपने कपड़े चेंज कर रही हू और पूरी नंगी हू. ओह मी गोद

मेरे तो होश ही उध गये. की ये तो मैने जब पापा को कपड़े चेंज करते हुए दिखाया था तब मैं नंगी हुई थी और पापा ने मेरी न्यूड वीडियो बना कर अपने फोन में रख ली.

मैं सोचने लगी जब मैने पापा की बात मान ही ली थी उनके कहने पर एक बार मैने पापा को कपड़े चेंज करते हुए खुद को न्यूड दिखाया. तो फिर मेरी ऐसी न्यूड वीडियो क्यू बनाई पापा ने.

मेरा माइंड यूयेसेस टाइम बिल्कुल खाली हो चुका था मैं अपनी सुध बुध ही खो चुकी थी. मुझे कुछ साँझ में नही आ रहा था. अपने आप को ही वीडियो में नंगा देख मेरी हालत खराब हो चुकी थी.

मैं बस यही सब सोचने लगी की मैने पापा के लिए क्या क्या नही किया. उनकी खुशी के लिए मैने उनकी बहुत सी बाते मानी.

मैं तो उनके कहने पर इसलिए उनके आयेज कपड़े चेंज करते हुए न्यूड हुई. क्यूकी पापा ने मुझे पहले अचंक ही बिना कपड़ो के होटेल में देख लिया था.

और जब मुझे पता चला की मम्मी और पापा के बीच काफ़ी टाइम से फिज़िकली रीलेशन नही बना है. और उन्हे मम्मी भी अब प्यार नही दे पा रही थी तो मैने उनकी इश्स वजह से ही बात मानी और उनके सामने कपड़े चेंज करते हुए खुद को न्यूड दिखाया.

मैने तो पापा की खुशी के लिए सब किया. उनको समझा की एक इंसान को काफ़ी टाइम से अपनी वाइफ से प्यार नही मिल रहा. इसलिए मैने उनकी बात मानी. और बदले में पापा मेरी न्यूड वीडियोस ले रहे हैं और मेरी ब्रा पेंटी से खेल कर अपने लंड का माल मेरी पेंटी में झाड़ रहे हैं.

पापा ने मेरी वीडियो बना कर और ये सब कर के अछा नही किया. यही सब सोच सोच कर मैं रोने लगी.

अभी मैं अपनी न्यूड वीडियो देख कर और यही सब सोच सोच के रो ही रही थी की मैने पापा के फोन से ली हुई फाइल्स को भी ओपन किया तो उसमें मुझे पापा की “मी डेरी” अप्स की कुछ फाइल्स मिली.

मेरे पापा फोन में ही अपने बारे में, अपने ऑफीस के बारे में और फॅमिली के बारे में और अपनी बहुत सी यादे बहुत से पल “मी डेरी” अप में कभी कभी लिखा करते थे.

मैने सारी फाइल्स जल्दी जल्दी से खोली और पधना शुरू किया. उनमें से एक फाइल में पापा ने मेरे बारे में लिखा हुआ था. जिसको पढ़ कर मेरे परो से मानो ज़मीन ही निकल गयी हो. और जैसे मेरे सर पर बहुत बड़ा पठार पढ़ गया हो..

यूयेसेस डेरी में पापा ने मेरे और अपने बारे में बहुत कुछ लिखा था. और यूयेसेस डेरी को पढ़ कर मेरे दिमाग़ में जीतने भी सवाल चल रहे थे मुझे उन सब का आन्सर मिल गये थे.

पापा की “मी डेरी ” की फाइल्स में लिखा था……

टाइटल – मेरी प्यारी बेटी नीलम….

मेरी एक प्यारी सी बेटी है जिसका नाम नीलम है. और मैं उससे बहुत प्यार करता हू. उष्की बहुत केर करता हू और नीलम भी मुझसे, अपने छोटे भाई और अपनी मम्मी से जान से भी जयदा प्यार करती है और मेरी बहुत केर करती है.

मेरी बेटी नीलम कब बड़ी हो गयी मुझे पता ही नही चला. मेरी बेटी का बड़े होने का एहसास मुझे पहली बार तब हुआ जब मैने होटेल में उशे अचंक से बिना कपड़ो के पूरा नंगा देखा.

और तब से मुझे पता नही क्या हुआ की मैं पागल सा हो गया. जब से मैने अपनी बेटी नीलम को न्यूड देखा तो उसका जिस्म देख कर मुझे मेरी शादी के पहले के दिन याद आ गये.

मुझे मेरी शादी से पहले की वाइफ यानी शादी से पहले वाली नीलम की मम्मी मुझे मेरी बेटी में नाराज़ आने लगी.

और ना जाने कब मेरा मेरी बेटी की और देखने का नज़रिया बिल्कुल ही बदल गया.

शायद ये सब मेरे और मेरी वाइफ के बीच बहुत से क्लेश होने और काफ़ी टाइम से फिज़िकली रीलेशन में ना आने से मेरा मान अपनी बेटी को न्यूड देखने के बाद उष्की और जाने लगा.

और जब मैने अपनी बेटी के साथ कपल डॅन्स किया और डॅन्स करते हुए पहली बार मैने उसके नंगे पायट और उसकी गहरी नाभि पर अपना हाथ रखा तो मुझे बहुत अछा फील हुआ.

और डॅन्स करते करते मेरी बेटी की गंद मेरे लोवर पर रग़ाद खाने लगी जिससे मेरी सोच मेरी बेटी के लिए बदल गयी और मेरे लोवर के अंदर भी तब बंबू बन गया था.

तब से मैं अपनी बेटी से बहुत प्यार करने लगा. और मेरा मान और मेरा रोम रोम यहाँ तक की मेरा लंड भी आप मेरी बेटी नीलम के लिए तड़प रहा था.

तब से मैं कभी कभी सुबा जब वो सो रही होती है. और मैं उसके रूम में जाता हू तो उसकी कभी कभी टॉप उसके पायट से उपर होती है. जिससे कहीं बार मुझे उसके गोरे पेट और गहरी नाभि के दर्शन हो जाते हैं.

और कभी कभी जब मेरी बेटी नीलम घर की सफाई वगेरा सुबा करती है. तो उसके टॉप के उपर से ही उसके बड़े बड़े बूब्स की शेप और उसके बूब्स के निपल्स सॉफ दिखाई देते हैं.

मैं अपनी बेटी का जिस्म देख कर पागल सा होने लगा. इसलिए मैं फिर से उशे जैसे पहले होटेल में अचानक न्यूड देखा वैसे ही दुबारा उसे इश्स बार मैं आराम से आचे से नंगा देखना चाहता था.

इसलिए मैने धीरे धीरे अपनी बेटी से बात करके जैसे कैसे उसे अपनी गफ़ बना लिया. और उशे कपड़े चेंज करते हुए अपने आप को एक बार न्यूड दिखाने के लिए भी माना लिया.

और जब मेरी बेटी मेरे सामने आराम आराम से अपने कपड़े चेंज कर के नंगी हो रही. तब मैने उसके पूरे जिस्म उसके बूब्स और उसकी छूट को आचे से देखा.

मेरी बेटी चाहती थी की वो मुझे आखरी बार ही बस खुद को कपड़े चेंज करते हुए नंगी हो कर दिखाएगी इसलिए मैने उसकी बात मान ली. लेकिन जब वो मेरे सामने कपड़े चेंज करते हुए नंगी हो रही थी तब मैने अपनी बेटी की वीडियो बना ली. ताकि मैं उशे अब इश्स वीडियो में बार बार देख साकु.

मैने अपनी बेटी के लिए देवना हो गया हू. और अपनी वाइफ से जिस्म का सुख ना मिलने पर मैं अब अपनी बेटी की न्यूड वीडियो देख देख कर और उसके जिस्म को फील कर के ही अपने हाथ से अपने लंड को संतुष्ट कर लेता हू. और कभी कभी नीलम की ब्रा पनटी से भी खेल लिया करता हू.

मैं अपनी बेटी के प्यार में और उसके जिस्म में बिल्कुल खो चुका हू और हमेशा उशी के बारे में सोचता रहता हू. मैं अपनी बेटी के साथ सेक्स करने को इमॅजिन करता रहता हू. और दाद डॉटर पॉर्न देखते टाइम उशे और अपने को सेक्स करते हुए इमॅजिन रहता हू.

सच बतौ तो बेशक नीलम मेरी बेटी है लेकिन मैं उशे बहुत प्यार करता हू और मैं उशके साथ सेक्स करना चाहता हू. और उसके जिस्म का प्यार पाना चाहता हू.

लेकिन अपनी बेटी नीलम को सेक्स के लिए बोलने की हिम्मत नही होती. और मुझे नही लगता ऐसा कभी हो पाएगा या कभी मैं अपनी बेटी के साथ सेक्स कर पौँगा. लेकिन मैं अपनी बेटी का प्यार पाने की हमेशा कोशिश करता रहूँगा. क्यूकी मेरी बेटी नीलम बहुत अची है और मैं अपनी प्यारी बेटी से बहुत प्यार करता हू. और मैं अपनी नीलम बेटी के बिना अब नही जे सकता.

“मी डेरी” थे एंड

पापा की “मी डेरी” फाइल्स पढ़ कर मेरे होश उध गये. मुझे सब साँझ में आ गया की पापा ये सब कुछ क्यू कर रहे हैं. और उन्होने मेरी न्यूड वीडियो क्यू ली. आज सुबा भी मेरी पनटी में अपने लंड का माल क्यू झाड़ा और मेरे पापा मुझे ऐसी नज़ारो से देखते हैं.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट्स में जारी रहेगी…

यह कहानी भी पड़े  बाप के बाद बेटे की चोदा मा को

error: Content is protected !!