बेटी की सील तोड़ी बाप ने

हेलो दोस्तों, पिछले पार्ट में आप लोगों ने पढ़ा था, की कैसे मेरे और मेरी बेटी श्रेया के बीच से शरम का परदा हटा, और अब हम दोनो चुदाई के लिए तैयार थे. अब आयेज.

हम दोनो शहर से डोर होटेल के लिए जाने लगे. तभी मैने रास्ते में मेडिकल शॉप पे रुक के कॉंडम और लोंग टाइम क्रीम ले ली. फिर हम होटेल में पहुँचे तो मैने रिसेप्षन पे खड़े एंप्लायी से 2 घंटे के लिए रूम माँगा. वो हमारी तरफ देख के बोला हेस्ट हुए-

एंप्लायी: अर्रे वाह सिर, क्या मस्त छ्होरी लाई है आपने.

मैने उसे गुस्से से कहा: अपना काम कर.

और उसे एक्सट्रा पैसे भी दिए. उसके बाद हम दोनो रूम में गये. मैने गाते लॉक किया, पर श्रेया थोड़ी सी हिचकिचा रही थी.

तो मैने उसे बोला: डॉन’त वरी, ये तो हमारा प्यार है. और बस हम दोनो अपनी मर्ज़ी से ही तो करेंगे सेक्स. और कों हमे यहा देख रहा है पागल.

इतना कहते ही मैने उसको बेड पे लिटा दिया, और उसके लीप पे किस करने लगा. मैं उसको गरम करने के लिए उसकी जीन्स के उपर से ही उसकी बर पे अपना हाथ फेरने लगा. अब वो भी जोश में आने लगी. अब उसने भी लीप तो लीप किस करना शुरू कर दिया. तभी मैने उसके पैरों से उसकी सॅंडल निकाल फेंकी, और अपने शूस भी निकाल दिए.

फिर उसके बालों को खोल दिया. मैं उसकी गोल-मटोल चूचियों को अपने दोनो हाथो से दबाते हुए उसके गुलाबी होंठो को अपने होंठो से चूसने लगा. श्रेया भी अपनी आँखें बंद करके मज़े ले रही थी. 2 मिनिट बाद मैने उसकी फुल त-शर्ट को उतार दिया. उसने काली ब्रा पहनी थी.

फिर मैने देर ना करते हुए उसकी जीन्स भी निकाल दी. अब वो सिर्फ़ ब्रा और पिंक पनटी पे बिल्कुल एक हसीना लग रही थी. मैं भी तुरंत अपने कपड़े उतार कर अब अंडरवेर में था सिर्फ़. फिर मैं श्रेया को पीछे की तरफ लिटा के उसकी पीठ को जीभ से चाट-ते हुए उसकी ब्रा के हुक तक पहुँचा. उसके बाद मैने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया.

फिर उसे सीधा करके उसकी ब्रा निकाल दी. उसके बूब्स एक-दूं गोरे से और गोल मटोल थे. निपल्स बिल्कुल गुलाबी थे. मैं उसकी चूची को एक हाथ से दबा रहा था, और दूसरी को पी रहा था. श्रेया अब बिल्कुल मदहोश होती जेया रही थी.

उसको अब कोई लाज-शरम नही थी. मैने उसकी पनटी भी निकाल दी. अब वो बिल्कुल नंगी थी. उसकी बर भी गुलाबी सी थी. मैने हाथो से सहलाते हुए अपनी एक उंगली उसके बर में डाल दी, और हल्के-हल्के अंदर-अंदर ही सहलाने लगा.

उसकी आहें निकालने लगी अयाया पापा आ की. उसके मूह से सुनते ही मेरा लंड फौलाद बन गया. फिर मैं श्रेया की बर को चूसने लगा बिल्कुल आम की तरह. उसके बाद अपनी जीभ को अंदर डालने लगा. श्रेया अब एक-दूं जोश में थी, और आ आ कर रही थी.

तभी उसने मुझे बेड पे लिटा दिया उठ के, और मेरे अंडरवेर को निकाल फेंका. फिर मेरे खड़े लंड को बिल्कुल किसी छ्होटी बच्ची की तरह लॉलिपोप की तरह लंड के सूपदे को चूसने लगी. उसके बाद मेरे पुर लॉड को किसी पोर्नस्तर की तरह चाट के चूसने लगी.

मैं भी उसके बालों को पकड़ के उसके मूह में लंड तेज़ी से देने लगा. 3-4 मिनिट बाद मैं उसके मूह में ही झाड़ गया. श्रेया का पहली बार होने की वजह से उसे ये खराब लग रहा था. फिर भी वो लगी रही. उसके बाद मैने उसे किस करना शुरू किया, और उसकी चूचियों को पीने लगा.

मैं उसकी बर को चाटने लगा. 5 मिनिट बाद फिरसे अब मेरा लंड उसे छोड़ने के लिए खड़ा हो चुका था. श्रेया भी अब पागल सी हुई जेया रही थी.

उसने कहा: पापा अब डाल दीजिए. नही रहा जाता.

ये सुनते ही मैं दुगने जोश में आ गया, और लंड पे क्रेआमए लगाई. फिर कॉंडम श्रेया को दे दिया. श्रेया ने कॉंडम को मेरे लंड पे सेट करके मूह से पुर कॉंडम को पहना दिया. उसके बाद अपनी टाँगो को फैला के लेट गये.

मैने भी तुरंत अपने लंड को उनकी बर पे सेट किया, और आराम से हल्का सा अंदर डाला. उसकी चीख निकल आई-

श्रेया: आअहह पापा, दर्द हो रहा है.

मैने उसको बोला: बेटा पहली बार है ना, तोड़ा होता है.

फिर मैने आराम-आराम से अपना पूरा लंड उसके अंदर डाल दिया. वो दर्द के मारे मेरी पीठ को अपने नाखूनओ से खरोंछने लगी. मैं भी धीरे-धीरे स्पीड बढ़ते गया. अब उसकी आवाज़े तेज़ हो गयी.

श्रेया: आअहह पापा उंह अहहहह. आराम से पापा आहह. करीब 5 मिनिट बाद उसकी आवाज़ सिसकियों में बदल गयी. उसका पानी निकालने की वजह से अब उसकी बर का रास्ता खुलने लगा था. बुत क्रीम लगाने की वजह से मैं टीका रहा. करीब 2 मिनिट बाद श्रेया मेरे उपर आ गयी और बोली-

श्रेया: मुझे मा की तरह चूड़ना है पापा.

फिर वो मेरे लंड पे आके बैठ गयी, और अब तेज़-तेज़ उछालने लगी. उसके बाद वो नीचे झुक के चूड़ने लगी, और मुझसे लीप तो लीप किस करने लगी. मैं भी उसकी नरम चूचियाँ दबा रहा था. फिर उसकी चौड़ी गांद को अपने होंठो से उछालने लगा तेज़ी से.

करीब 10 मिनिट बाद श्रेया तेज़ी से उछलते हुए चिल्लाने लगी: आहह पापा आहह मेरा होने वाला है आहह. और तेज़ आअहह, मेरा भी निकालने वाला है आहह बेटा अहहह श्रेया.

फिर मेरा पूरा पानी निकल गया. श्रेया मेरे सीने पे सो गयी. फिर हम एक-दूसरे को लीप किस किए, और 2 मिनिट बाद कपड़े पहन के होटेल से निकल गये.

मैने पूछा: कैसा लगा मेरी बेटी तुम्हे मेरा लंड?

श्रेया हेस्ट हुए बोली: मैं तो तक गयी पापा. जोश में इतना चुड गयी, की चलने में भी दिक्कत हो रही है. पर बहुत मज़ा आया.

हम दोनो टाइम से घर पहुँचे. फिर मैं और श्रेया जब भी मौका पाते होटेल चले जाते. एक दिन सुषमा को अपनी सहेलियो के साथ पार्लर जाना था, तो वो पार्लर चली गयी. सनडे होने की वजह से हम सब घर पे ही थे. बस अब सम ही था घर पे हमारे अलावा. फिर 20-25 मिनिट बाद वो भी क्रिकेट टूर्नमेंट खेलने चला गया.

अब बस मैं और श्रेया ही थे घर पे. तो हम दोनो जल्दबाज़ी में डोर ओपन करके ही शुरू हो गये. श्रेया ब्रा और पनटी में बैठी मेरे लंड पे आयिल लगा के सहला रही थी. तभी अचानक से जाने कैसे सुषमा इतनी जल्दी घर आ गयी, और उसने हमे रंगे हाथो पकड़ लिया.

बाकी नेक्स्ट पार्ट में. मी एमाइल ईद: रमनसींहा3674@गमाल.कॉम

जिसको भी मुझसे बात करनी हो हेल्प टिप कुछ भी चाहिए तो मुझे मैल कर सकता है. अब तो काई ढेर सारे लोग मुझे मैल करने लगे है. और हा, अब रिप्लाइ देने में लाते नही होगा. थॅंक योउ.

यह कहानी भी पड़े  बाप के लंड ने बेटी की चूत की गर्मी शांत की


error: Content is protected !!