बेटे ने मा को चुदाई के लिए तडपया

ही मेरा नाम अमन है, आंड ये मेरी पहली स्टोरी है जो एक साल पहले हुई थी. मेरी उमर 20 साल है, आंड मेरी मों की उमर 42 है. पर वो लगती 35 साल के है. उनका फिगर 36-30-38 है. वो काफ़ी मस्त दिखती है. फिगर ऐसा की कोई भी फिसल जाए उनपे. ये 3र्ड पार्ट है, मेरी स्टोरी का. तो स्टोरी शुरू करते है अब.

दे 6:-

मैं 10:30 बजे उठा, और फिर आधे घंटे में नहा धो के बाहर चला गया. देखा की मों ब्रेकफास्ट बना रही थी. मैने जाके उनको हग किया, और बोला-

मैं: कल मज़ा आया तुम्हे?

तो वो बोली: हा बहुत आया. अब तो उससे आयेज बढ़ने का टाइम आ गया है.

मैं उनके ज़ोर से बूब्स दबाते हुए बोला: जानता हू, अब तो और मज़ा आएगा.

तो उनके मूह से अवव की आवाज़ निकल गयी मेरे ज़ोर से बूब्स दबाने की वजह से. फिर कभी उनके बूब्स दबा रहा था, कभी आस, कभी नेक के किस कर रहा था.

तो उन्होने बोला: इतनी फॉरमॅलिटी क्यूँ कर रहे हो अब तुम-तुम बोल के.

फिर मैने बोला: हा जानता हू तेरे अंदर आग लगी हुई है, जो मैं बुझा ही दूँगा अब. चल अब ब्रेकफास्ट करते है.

फिर हमने ब्रेकफास्ट किया, और अब आग दोनो को फुल-ओं थी. कभी भी हम बेड पे जेया सकते थे, क्यूंकी मेरे दिमाग़ में बस अब मों को ठोकने का ख़याल था. मुझे पता था ये मछली 5 दिन से फड़फदा रही थी, और मुझे इसका दूं निकालना था आचे से.

फिर ब्रेकफास्ट के बाद रसोई का काम करने के बाद मों नहाने चली गयी अपने रूम में, और मैं टीवी देखने लगा. एक घंटे बाद मों अब सूट पहन के आई, जिसमे बॅक में चैन लगी हुई थी. फिर मेरे पास से मुझे टीज़ करती हुई निकल गयी. मेरा मॅन किया साली को अभी पकड़ के यही छोड़ डू. फिर वो किचन में थी, और टीज़िंग वाहा से फुल चालू थी.

वो कभी आयेज की तरफ झुक रही थी, ताकि क्लीवेज दिखे डोर से मुझे. कभी मेरे पीछे होके डॉगी बन रही थी. वो कभी अपने बूब्स को मेरे आयेज दबा रही थी, मुझे टीज़ करते हुए. ये 10-15 मिनिट चलता रहा. मैं सोफे पे बैठ के सब देख रहा था.

वो किचन में खड़ी थी, शायद वो चाह रही थी की मैं उसे अभी पकड़ के बेड पे पटक डू. वो करती रही ये सब. कभी बूब्स दबाना खुद से, कभी डॉगी स्टाइल में खड़े हो जाना, कभी स्लिप पे एक टाँग करके मेरी तरफ देखना, कभी पुसी पे हाथ लगाना.

ये सब चल रहा था. वाहा से मैं बैठ के ये सब देख रहा था. फिर लगभग आधा घंटा निकल गया. मैं खड़ा हुआ, और मों के पास जाके खड़ा हो गया. मों मुझे देख रही थी. 1-2 मिनिट हो गये थे ऐसे ही खड़े-खड़े दोनो को.

फिर अचानक से मैने मों की नेक पकड़ ली हाथो से, और स्लॅब से लगा दिया उसकी बॅक को, और उसको एक थप्पड़ मारते हुए बोला-

मैं: तेरे अंदर आग बहुत ज़्यादा है. देखता हू तेरी आग को अब.

और फिर मैं उसको किस करने लगा. अब मैं थोड़ी हार्ड किस करने लगा, और आचे से होंठ पे बीते देना लगा. दोनो होंठो को आचे से चूसने लगा. 10 मिनिट की किस के बाद मैने उसको उल्टा कर दिया, और उसकी गांद में ज़ोर-ज़ोर 4-5 थप्पड़ मारे. वो तोड़ा दर्द से चिल्लाने लगी. फिर मैने स्लॅब पे उसके उपर की बॉडी को लगा दिया.

मैने उसके बालों को अपने हाथ में लेके पीछे की तरफ नेक को खींचा बालो से, और बोला-

मैं: तुझे यही चाहिए ना?

वो बोली: हा हा हा (लंबी-लंबी साँस लेते हुए).

मैने उसकी आस पे एक और थप्पड़ मारा आंड आस दबाई. फिर आचे से मैने पीछे बॅक पे चैन नीचे कर दी पूरी. अब मुझे पूरी कमर दिख रही थी उनकी. तो मैने टंग लगा के आचे से उनकी सिसकियाँ निकली. वो मोन करना स्टार्ट कर चुकी थी. फिर ब्रा से खेलते हुए मैने बॅक पे एक लोवे बीते की. वो सहम सी गयी इस दर्द से.

फिर मैने ब्रा अनहुक कर दी, और आयेज से बूब्स दबाने लगा. मैं काफ़ी डॉमिनेंट हो गया था, क्यूंकी मेरी आग अब चरम पे थी. फिर मैने उनका सूट उतार दिया. अब ब्रा भी उतार दी. मैने पहली बार उनके बूब्स देखे, जिससे मेरी आग और ज़्यादा बढ़ गयी.

फिर मैने दोनो बूब्स को हाथ में लेकर दबाने लगा. मैने आचे से एक-एक करके दोनो बूब्स को चूसा. फिर निपल्स पे बीते की. अब मों को लग रहा की उनकी चुदाई होगी ढंग से.

वो बोलने लगी: ले चलो बेड पे मुझे.

मैं अपना काम कर रहा था. कभी होंठ चूसना, कभी बूब्स, कभी बॅक से खेलना, कभी आस से. ये सब चल रहा. फिर आचे से उनकी अप्पर बॉडी से मज़े लिए. वो लाउड मोनिंग करना स्टार्ट कर चुकी थी.

फिर उसके बालों को पकड़ पीछे की तरफ नेक को खींचते हुए मैं उसको देख रहा था. वो पूरी तरह से मेरी बातें मान रही थी, और उमीद में थी, की कब मैं उसे बेड पे लेके तोकुंगा. मैने अब बाहर से मों की छूट पे हाथ लगाया. वो गीली हो चुकी थी.

मैने बोला: इतनी जल्दी तेरा पानी निकालने लगा. अभी तो मैं शुरू हुआ हू.

मैं भी एक साल से छूट का भूखा था, क्यूंकी एक साल पहले अपनी एक्स की ली थी. तब से मैने भी सेक्स नही किया था, तो मेरी भी आग बहुत थी. फिर मैने मों की सलवार उतार दी, और वो अब सिर्फ़ पनटी में मेरे पास खड़ी थी.

मैने अब उसकी छूट को बाहर से मसलना शुरू किया हल्का-हल्का. वो सिसकियाँ ले रही थी पागलों की तरह. फिर थोड़ी देर बाद मेरा लंड अब पूरी तरह से खड़ा हो चुका था. शायद इतना लंबा पहली बार हुआ था, मुझे ऐसा लग रहा था.

फिर मैने उसके बालों को पकड़ के उसको घुटनो पे बिता दिया, और पंत से ही अपने लंड को उसके मूह से टच करने लगा. उसको पता चल रहा था की लंड खड़ा था, आंड वो अपने मूह के उपर इसे फील कर रही थी. फिर ये करने के बाद मैने मों को उठाया उपर, और उसके दोनो हाथ उनकी कमर के पीछे के जेया कर पकड़ लिए, और बोला-

मैं: आज रात को तुझे असली मज़ा दूँगा. अब शाम तक रेस्ट करो.

फिर उनको किस करके बोला: अब अपने कपड़े पहन ले.

फिर उन्होने दोबारा जाके शवर लिया, आंड फिर लगभग हमने 3 बजे लंच कर लिया. उसके बाद मों अपने रूम में चली गयी. मीं भी सोफे पे बैठे-बैठे सो गया. फिर मैं उठा अराउंड 6 बजे, तो देखा मों सो रही थी अभी भी. मैने उनको डिस्टर्ब नही किया, और सोने दिया.

फिर वो 8 बजे आई बहार रूम से, और डिन्नर बनाने की तैयारी करने लगी. मैने जाके उनको हग किया पीछे से, और पूछा-

मैं: आज रात के लिए रेडी है तू?

वो बोली: हा रेडी हू.

मैं बोला: चल रात के लिए कॉंडम ले आता हू.

वो बोली: नही ज़रूरत नही है उसकी.

मैं बोला: अगर मैने कंट्रोल नही किया तो?

मा बोली: नही होगा कुछ, क्यूंकी मैने ऑपरेशन करवा रखा है.

ये सुनते ही मेरी आग बिल्कुल बढ़ गयी, क्यूंकी अब तो और ज़्यादा फील आएगा उसके साथ, ये सोच रहा था में. 9:30 बजे तक सब कुछ हो गया खाना आंड किचन का काम.

फिर वो अपने रूम में गयी और बोली: जब मैं रेडी हो जौंगी, तो आपको मेसेज कर दूँगी.

मैं बोला: ठीक है.

मैं अपने रूम था. मुझे पता था लगभग एक घंटा तो लग ही जाएगा. तो मैं 10:30 बजे नहाने चला गया, और 10 मिनिट में नहा के बैठ गया अपने रूम में.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में.

यह कहानी भी पड़े  अंकल ने मेरी मम्मी को पटाया


error: Content is protected !!