बेटे ने जिम में लिया मा के साथ मज़ा

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सोनू है. आज मैं आपको अपनी सौतेली मा और मेरे बीच हुई चुदाई की कहानी सुनने जेया रहा हू. ये मेरी पहली कहानी है, तो मेरे से कोई भी ग़लती हो तो उसके लिए मैं माफी चाहूँगा. तो कहानी पढ़िए और मज़े लीजिए.

मेरा नाम सोनू है. दिखने में हॅंडसम हू, अची बॉडी है, और अपनी पढ़ाई भी पूरी कर चुका हू. मेरे घर में मैं और मेरी सौतेली मा बस हम 2 ही लोग है. मेरे पिता जी की 1 साल पहले एक सड़क हादसे में मृत्यु हो गयी थी.

हम लोग शहर में रहते है, और हमे पैसों की भी कोई कमी नही है. क्यूंकी पिता जी का बहुत बड़ा बिज़्नेस है, जो की मेरे पिता की मृत्यु के बाद मैं संभलता हू. हमारा बहुत बड़ा घर है, जिसमे जिम स्विम्मिंग पूल पार्टी रूम सब कुछ है. हमारे पास किसी चीज़ की कमी नही है.

मेरी असली मा की मौत के बाद मेरे पिता जी ने दूसरी शादी कर ली थी. मेरी सौतेली मा का नाम रेशुमा है, उनकी उमर 35 साल है, और उनका फिगर 36-38-40 का कमाल का फिगर है. दिखने में बहुत ही ज़्यादा खूबसूरत है. एक-दूं गोरी चित्ति, रसीले होंठ, बड़े-बड़े दूध, पेट पूरा अंदर और बाहर की तरफ निकली हुए बड़ी गांद. मम्मी रोज़ जिम करती है, इसलिए उनका फिगर कमाल का है.

मम्मी और मेरा बहुत अछा बनता है, क्यूंकी उनकी मेरे अलावा और कोई औलाद नही है. इसलिए वो मेरे को बहुत प्यार करती है. मैं अपनी सौतेली मम्मी को बहुत पसंद करता था, और उन्हे छोड़ना चाहता था. लेकिन मेरे को दर्र भी लगता था, की कही वो बुरा ना मान जाए.

इसलिए बस मैं चुप ही रहा. फिर मैने देखा मेरे पिता के मौत के बाद मम्मी बहुत उदास रहने लगी, और मेरे को ये बिल्कुल भी अछा नही लगता था. उपर से मैं भी बिज़्नेस संभालने की वजह से मम्मी को टाइम नही दे पा रहा था.

फिर मैने धीरे-धीरे मम्मी के साथ टाइम बिताना शुरू किया, और मम्मी को भी ये अछा लगने लगा की मैं उन्हे टाइम दे रहा था. धीरे-धीरे मैं और मम्मी बहुत फ्रॅंक हो गये थे, और अब मम्मी भी खुश दिखाई देती थी. एक दिन सुबा-सुबा मैं उपर जिम में वर्काउट करने के लिए गया, तो मम्मी पहले से जिम में थी, और वर्काउट कर रही थी. क्या लग रही थी मम्मी.

मम्मी ने टाइट लोवर पहनी हुई थी. उनकी मोटी जांघें दिख रही थी, और लोवर मम्मी के चूतड़ की दरार में घुसा हुआ था. इससे मम्मी का पुर छूतदों की शेप दिख रही थी. उपर मम्मी ने बनियान जैसा टॉप पहना हुआ था, जिसमे मम्मी के बड़े-बड़े दूध आधे बाहर थे.

मॅन तो कर रहा था अभी मम्मी को छोड़ डालु. मैं पीछे से मम्मी के छूतदों को घूर रहा था, और मम्मी मिरर में से मेरे को देख रही थी. वो समझ गयी थी की मैं उनके चूतड़ को देख रहा था.

तभी मम्मी बोली मुस्कुराते हुए: सोनू बेटा, क्या देख रहा है?

तभी मैं अचानक से-

सोनू: क्या… कुछ नही मम्मी.

मुस्कुराते हुए मम्मी: कुछ तो देख रहा है तू? बता ना.

मैं समझ गया की मम्मी जान गयी थी की मैं उनके चूतड़ देख रहा था. फिर मैं बात को घूमते हुए बोला-

सोनू: मम्मी आप हमेशा मेरे से पहले उठ कर वर्काउट कर लेती हो, आज इतना लाते कैसे?

मम्मी: हा बेटा, आज थोड़ी देर से उठी मैं, इसलिए वर्काउट भी लेट हो गया.

सोनू: ठीक है, लेकिन मम्मी एक बात बोलू? आप बुरा तो नही मानोगी?

मम्मी: मेरे को कभी तेरी बात का बुरा नही लगता है बेटा. बोल क्या बात है?

सोनू: मम्मी आप खूबसूरत तो हो, और साथ में बहुत हॉट आंड सेक्सी भी हो.

मम्मी: बेटा मैं कहा हॉट और सेक्सी. अब तो मैं बुद्धि हो गयी हू.

सोनू: नही मम्मी, आप तो बहुत जवान हो, और इतनी ज़्यादा हॉट और सेक्सी हो, की मैं तो आपसे शादी कर लू.

मम्मी शर्मा गयी.

मुस्कुराते हुए मम्मी: अछा, इतनी पसन्द हू मैं तेरे को?

सोनू: हा मम्मी.

मम्मी: लगता है जल्दी से तेरी शादी करनी पड़ेगी. अब तू जवान हो गया है.

सोनू: मैं तो आप से से ही शादी करूँगा.

मम्मी शर्मा गयी.

मुस्कुराते हुए मम्मी: चल बदमाश, आज-कल बहुत बदमाश हो गया है तू.

फिर हम दोनो हासणे लगे.

मम्मी: बेटा मैं स्क्वाड्स में आज तोड़ा हेवी वेट लगौंगी, तोड़ा सपोर्ट देना तो.

सोनू: हा मम्मी, ठीक है.

फिर मम्मी स्क्वाड लगाने लगी, और मैं मम्मी के पीछे खड़ा हो गया. मैं मम्मी के पेट को पकड़ के सपोर्ट देने लगा, और मम्मी के बाहर निकले हुए गोल चूतड़ मेरे लंड पे रगड़ने लगे. इससे मेरा 8 इंच का लंड मेरी चड्डी के अंदर खड़ा हो गया, और मम्मी के छूतदों की दरार में घुस गया.

मेरे को तो बहुत मज़ा आ रहा था. मेरे साथ पहली बार ऐसा हुआ क्यूंकी मैने कभी सेक्स नही किया था. फिर मैं खुद ही अपना लंड मम्मी के छूतदों पे रगड़ने लगा. मेरे को तो बहुत मज़ा आ रहा था, और मम्मी समझ गयी थी लेकिन कुछ नही बोली.

मम्मी का सेट ख़तम हो गया और वेट रख कर वो मेरी तरफ घूमी. तभी मम्मी की नज़र सीधे मेरे लंड पे गयी, और मम्मी ने एक हवस भारी मुस्कान दी. वो मेरे गाल को प्यार से सहलाते हुए बोली-

मम्मी: बहुत बदमाश हो गया है तू.

मैं भी शर्मा गया. फिर मम्मी चली गयी, और अपना वर्काउट करने लगी. मैं भी वर्काउट करने लगा, और बार बार मिरर से मम्मी को देख रहा था. मम्मी भी मेरे को देख कर स्माइल कर देती. कुछ देर बाद हम दोनो वर्काउट ख़तम करके नहाने चले गये.

नहा के आने के बाद मैं हॉल में गया और टीवी देखने लगा. फिर कुछ ही देर बाद मम्मी आई, और वो ब्लू कलर की सारी पहने हुए थी, वो भी नाभि के नीचे तक, जिसमे उनका मुलायम पेट और नाभि दिख रहे थे. उनका ब्लाउस डीप नेक वाला था, और उसमे मम्मी के आधे दूध बाहर थे. साथ में खुले बाल और लाल लिपस्टिक. और हा, मैं बताना भूल गया, मम्मी ज़्यादातर सारी ही पहनती है, और ऐसे ही पहनती है. कभी-कभार वेस्टर्न ड्रेस भी पहनती है. वो मेरे को देख कर मुस्कुरा कर चूतड़ मतकते हुए किचन में चली गयी.

आयेज और क्या हुआ, वो मैं अगले पार्ट में बतौँगा. कहानी पढ़ कर मैल पर मुझे अपने रीप्लाइस ज़रूर दे.

यह कहानी भी पड़े  मम्मी और मैने की चुदाई नये लोगो के साथ


error: Content is protected !!