कहानी जिसमे बेटे ने कज़िन्स के साथ मिल कर मा को चोदा

तो चलिए मैं आपका टाइम खराब ना करके सीधा स्टोरी पर आता हू. सबसे पहले दोस्तों मैं आपको मेरे बारे में बताता हू. मैं जाईपुर सिटी जो राजस्थान में है, वाहा से बिलॉंग करता हू. मेरा नाम फ़ैज़न है, और मैं 18 साल का हू. मैं 7 इंच लंबे लंड का मालिक हू.

अब मैं आपका टाइम खराब नही करूँगा, और पहले मैं आपको ये स्टोरी किस पर है उसके बारे में बताता हू. ये स्टोरी मेरी अम्मी की है, जिनका नाम सानिया है.

वो बहुत ही भोली-भाली औरत है, और मस्त माल है. उसका साइज़ 38-40-44 है. उसका बदन भी बहुत गड्राया हुआ है. वाइट सलवार-कमीज़ में तो ग़ज़ब की माल लगती है अम्मी.

स्टोरी पर आते है. ये घ्टा 2 महीने पहले घाटी है. ये कहानी 4 लोगों की कहानी है. एक तो मेरी अम्मी, एक मैं, और साथ ही 2 और जो मेरे सगे भाई तो नही लेकिन मेरे भाई थे, समेर और सोहैल.

समेर मेरी खाला का लड़का है, और सोहैल मेरे मामा का. वो दोनो मेरे घर बहुत ज़्यादा आया-जया करते थे, बिकॉज़ हमारे घर बहुत पास-पास थे.

हम तीनो बचपन से ही बहुत करीबी भाई थे. हम तीनो ने के साथ पॉर्न देखना स्टार्ट किया, फिर सेक्स स्टोरी पर आए. आंड फिर इस साइट पर जहा हमे बहुत सी रियल स्टोरीस पढ़ने को मिली, जिसमे घर वालो की चुदाई शामिल थी.

फिर एक दिन हम तीनो ने डिसाइड किया हम तीनो भी मिलफ भाभी जी छोड़ेंगे. बुत हमे कही मिल्ली नही कोई भाभी. फिर एक दिन मेरी अम्मी घर की सफाई कर रही थी, और हम तीनो टीवी देख रहे थे.

उस दिन हमने सफाई करते वक़्त अम्मी के 38″ साइज़ के मोटे-मोटे बूब्स देखे. वाह, क्या बूब्स थे, देख कर मज़ा ही आ गया था.

फिर हम तीनो ने उस दिन अम्मी के नाम की मूठ मारी, और हमने डिसाइड किया, की हम अम्मी की चुदाई करेंगे.

फिर हमने अपने-अपने घर वालो से पैसे लिए. मेरा जो भाई था समेर, उसके दोस्त की मेडिकल शॉप से हम हवस लगने की दवाई का पत्ता ले आए. अब्बू ज़्यादातर घर से बाहर ही रहते है, तो हमारे लिए और आसान हो गया.

सनडे का दिन था, अब्बू सुबा-सुबा रिक्शा लेके घर से चले गये. मैने समेर और सोहैल को फोन करके बुला लिया, आंड हमने अम्मी की दवाई जो खाने के बाद लेती थी, उसको चेंज कर दिया.

फिर हमने अम्मी को बोला की हमे छाई पीनी थी. वो भी छाई की शौकीन है, तो हमे मालूम था, की वो खुद के लिए भी छाई बनाएँगी. फिर हमने उसमे भी 4 गोली मिला दी, क्यूंकी हमे तो सेक्स करना ही था, तो हम भी पी लेते तो कोई प्राब्लम नही थी.

आंड फिर अम्मी छाई पीक और खाना खा कर अपने कमरे में सोने चली गयी. अम्मी रोज़ दोपहर में सोती है, तो वो अपने बेडरूम में सोने के लिए चली गयी. हमने वेट की हॉल में ही. आधे घंटे बाद हमे किसी के आने की आहत सुनाई दी.

मों वाइट कमीज़ और सलवार में आई. वो भी पूरी गरम, और पसीने से लथपथ हुई पड़ी थी. उन्होने ब्रा नही पहनी थी, जो उनकी कमीज़ में से सॉफ नज़र आ रहा था.

फिर वो सोफे पर आ कर बैठ गयी हम तीनो के साथ में. अम्मी ने फिर समेर और सोहैल से पूछा-

अम्मी: बच्चे क्या देख रहे हो?

उनकी आँखों में हवस थी. फिर वो हमारे बीच में आ गयी आंड हम सब के लंड अम्मी को देख कर खड़े हो गये थे. देन अम्मी ने बोला-

अम्मी: तुम तीनो क्या देख रहे हो?

उस टाइम हमने गंगबांग वाली वीडियो लगा रखी थी टीवी पर. वीडियो स्टार्ट हुई ही थी. फिर हमने अम्मी को कहा, की वो भी मोविए देखेंगी हमारे साथ, तो अछा लगेगा उनको भी.

फिर अम्मी हमारे साथ वो मोविए देखने लगी. मैं भी मोविए देख रहा था. मैने मम्मी की तरफ देखा, तो समेर पहले ही शुरुआत कर चुका था. उसने अम्मी के मोटे बूब्स बाहर निकाल के चूसना स्टार्ट कर दिया था.

अम्मी आँखें बंद करके इन सब का मज़ा ले रही थी. फिर मैने भी देरी ना करके अम्मी का दूसरा बूब मूह में ले लिया, और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा. अब दोनो बूब्स चूज़ जेया रहे थे अम्मी के. तभी सोहैल ने अम्मी की सलवार खोल दी, और उनकी छूट को अपना मूह लगा कर चूसने लगा वो भी जानवरो की तरह.

अम्मी लंबी-लंबी आहें भर रही थी. फिर हम तीनो ने अपने लंड बाहर निकाल लिए, और अम्मी को नंगा करके बिता दिया. हम तीनो के लंड का साइज़ 7 इंच मेरा, समेर का 5.5 इंच, और सोहैल का 5 इंच का है.

हम तीनो ने मिल कर मा के मूह को छोड़ना स्टार्ट किया. वो भी किसी रंडी की तरह हमारे लंड चूज़ जेया रही थी.

अम्मी को लंड चुसवाने में हम तीनो को बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मैने उनको बोला, की वो वीडियो बनाए अम्मी की लंड चूस्टे हुए.

मैने उन्हे बोला: अम्मी इस तरफ देखो.

फिर मैं अम्मी को कॅमरा में दिखा कर लंड चुस्वता हू. अम्मी ज़ोर-ज़ोर से लंड चूस्टी है.

मैं: आहह अम्मी अहहा अम्मी.

वो बहुत मज़े से लंड को चूस्टी है.

फिर समेर बोलता है-

समेर: अब हॅट जेया, मुझे भी खाला को लंड चुसवाने दे. लो खाला चूसो.

आंड मैं अम्मी की छूट की तरफ चला जाता हू, और पीछे से अम्मी की छूट में उंगली डाल देता हू. मैं उंगली अंदर-बाहर अंदर-बाहर करते रहता हू.

मैं: आहह अम्मी, आपकी छूट तो बहुत पानी छोढ़ रही है.

समेर: आहह खाला जान, आप तो मस्त लंड चूस्टी हो.

अम्मी इन सब में बस मज़े से लंड चूस्टी रहती है.

मैं अपना लंड अम्मी की छूट पर सेट करके अम्मी से बिना पूछे ही एक-दूं से तेज़ झकते मारता हू. अम्मी की जान निकल जाती है 7 इंच लंबे लंड से.

अम्मी: आहह बेटा.

मैं: आ अम्मी, क्या मस्त छूट पाई है.

फिर सोहैल भी आ जाता है. सोहैल और समेर अम्मी को लंड चुस्वते है, और यहा मैं उन्हे डॉगी-स्टाइल में पीछे से मस्त छोड़ते रहता हू.

अम्मी ह आह ऑश बच्चो कह कर चिल्लती रहती है. सोहैल ने अम्मी के मूह में ही अपना सारा माल निकाल दिया, और वो तक कर बैठ जाता है.

समेर बोलता है: भाई मुझे भी खाला की छूट मारने दे.

मैं बोलता हू: हा भाई, आजा मज़े से मार.

फिर मैं हॅट कर उपर आ जाता हू, और अम्मी के मूह को वापस से छोड़ने लग जाता हू.

तो बे कंटिन्यूड…

अगर आपको जानना है की इसके बाद क्या हुआ, तो आप मुझे इस एमाइल ईद पर मेस्सेगे कीजिए

थॅंक योउ, अगले पार्ट में बतौँगा कैसे मैने और मेरे भाइयों ने अम्मी को चोदा.

यह कहानी भी पड़े  स्टूडेंट ने कुत्तिया बना कर सेक्स किया

error: Content is protected !!