बेटे ने अपनी मा को ग्रूप सेक्स के लिए मनाया

हेलो फ्रेंड्स, तो अब आयेज चलते है दोस्तों. इस स्टोरी के पिछले पार्ट्स ज़रूर पढ़ लीजिए. पिछले पार्ट्स का नाम है “मों मेरी गर्लफ्रेंड बन कर चुड गयी”. तभी आपको ये स्टोरी समझ आएगी. स्टोरी पढ़ने के लिए मेरे यूज़र नामे पे क्लिक करिए. वाहा आपको सभी पार्ट्स मिलेंगे.

अब मैं सोच रहा था की मों को कैसे पटौ, और मैं शुवर था की अगर डाइरेक्ट बोला तो मों कभी नही मानेंगी. तो यही सोचते हुए मैं घर आ गया.

उस टाइम 3 बाज रहे थे. फिर मों ने मुझे खाना दिया, और मैने खाना खाया. फिर सोचा मों के मज़े लूँगा, तो फिर वही लेक्चर्स सुनने पड़ेंगे. तो सोचा की मों को अब राज़ी करू. मों टीवी देख रही थी.

मे: मों, लडो खेले?

मों: पढ़ जाके तू.

मे: प्लीज़, थोड़ी देर.

मों: चल ठीक है.

मे: पर ऐसे नही, इनाम भी रखेंगे.

मों: कैसे इनाम?

मे: हारने वाले को जीतने वाले की बात माननी पड़ेगी.

मों: चल ठीक है.

मे: और अगर बात नही मानी तब?

मों: तब क्या?

मे: अगर मैं जीटा और जो मैं कहूँगा वो आपने नही माना तब?

मों: तब क्या?

मे: अगर आपने बात नही मानी तो जब मेरी इक्चा होगी मैं आपके साथ सेक्स करूँगा.

मों: बिल्कुल नही.

मे: आयेज सुनो.

मों: हा.

मे: और अगर आप जीती और मैने आपकी बात नही मानी तो मैं आपसे सेक्स करना छ्चोढ़ दूँगा ( मुझे पता था जीतूँगा मैं ही).

मों: ओह, क्या बात है! चल मुझे तुझ जैसे जानवर से छुटकारा मिलेगा.

मे: पहले जीतो तो.

मों: चल ठीक है, शर्त मंज़ूर. लेकिन तू मुझसे नही जीत सकता.

मे: देखते है.

फिर ग़मे शुरू हुआ. बहुत टक्कर का ग़मे चला, लेकिन अब एक ऐसी सिचुयेशन आ गयी थी, की अगर डाइस पे 2 आ गया तो मों जीत जाएगी, और अगर मेरी डाइस पे 5 आ गया तो मैं जीत जौंगा. मेरी फटने लगी थी. बारी मेरी थी.

अब मैने डाइस फेंका तो 4 आया. अब मुझे जीतने के लिए एक चाहिए था. फिर मों ने डाइस फेंका की तभी मों के फोन की रिंग बाज गयी, तो उन्होने डाइस की तरफ ध्यान नही दिया और फोन उठा लिया. वो बात करने लगी और बोली की “मैं अभी 5 मिनिट में आई” और चली गयी.

उनके डाइस पे दो ही आया था. मेरी तो फटत गयी, लेकिन उनके आने से पहले मैने डाइस को नो 6 पे कर दिया. मों आई और उन्होने पूछा-

मों: क्या आया था मेरा?

मे: 6 था.

मों: शीत!

फिर मैने डाइस रोल किया, और उसपे एक आ गया, और मैं जीत गया.

मों: शीत! बस 1 से तू जीत गया.

मे: जीत तो जीत है, अब तैयार हो जाओ क्यूंकी अब मैं आपसे कुछ मांगूगा, और आप माना नही कर सकती.

मों: चल माँग.

मे: माना किया तो ध्यान है ना मैं क्या करूँगा?

मों: माँग तो तू.

मे: आपको ग्रूप सेक्स करना है.

मों: क्या बोल क्या रहा है तू?

मे: आपको बस 2 और लोग और मैं मिल के छोड़ेंगे बस.

मों: दिमाग़ खराब है तेरा? पागल तो नही हो गया तू?

मे: प्लीज़ मों.

मों: अर्रे तू बोल क्या रहा है? मतलब तेरी आछाई के लिए मैने तुझसे ये सब किया. तो तूने मुझे रंडी समझ लिया कुत्ते. थप्पड़ पद जाएगा तेरे.

मे: सिर्फ़ 2 ही तो है.

मों: अब तो मैं तुझसे महीने के 4 दिन भी नही करूँगी.

मे: मैने क्या कहा था, अगर बात नही मानोगी तो मैं कभी भी कर सकता हू.

मों: दिखा कर के.

मे: मों प्लीज़, मान जाओ. कुछ नही होगा, बस कुछ घंटो के लिए. और वो किसी को बताएँगे भी नही.

मों: चुप हो जेया तू, एक शब्द भी मत बोल.

मे: मों अगर आपने ग्रूप सेक्स नही किया, तो वो सब को बता देंगे.

मों: क्या बता देंगे? तुझसे मैने माना किया ना किसी को नही बताने को.

मे: अर्रे उसने मेरे फोन में वीडियो देख ली धोखे से.

मों: कितना नलायक है तू. मैने माना किया था वीडियो बनाने को तुझसे.

मे: पर अब क्या करू? बस कुछ घंटो के लिए मों प्लीज़.

मों: मैं अब तेरे साथ भी नही करूँगी. और तू मुझसे बात भी मत कर, और सारी वीडियो डेलीट कर अभी के अभी.

मे: पर एक वीडियो उसने लेली है ज़बरदस्ती.

मों: हाए! अब क्या करू मैं? मैं तो किसी को मूह दिखाने के लायक भी नही रही. देख तू वीडियो वापस ले उससे.

मे: उसी की तो कीमत चुकानी है.

मों: तूने फसवा दिया कुत्ते.

मे: प्लीज़ मों.

मों: क्या प्लीज़?

मे: एक बार कर लो ना प्लीज़.

मों शांत रहती है, और फिर पूछती है-

मों: और दूसरा कों है?

मे (हिचकिचाते हुए): अपने मोहल्ले का फ़हीम टेलर.

मों: क्या!

मे: हा.

फिर मैने मों को सारी बात बताई की कैसे उसने मुझे मेडिकल शॉप पर पकड़ लिया, और वो पापा को बताने की धमकी दे रहा था.

मों: हाए, अब क्या करू मैं?

मे: करना क्या है. अब तो वही करो.

मों: तुझे पता है ये टेलर कितना हरामी है? इसने मुझपे बहुत डोरे डालने की कोशिश की, पर मैने हमेशा इसको इग्नोर किया. अर्रे ये जानवर है. बहुत बेरेहमी से करता है ये.

मैं कुछ नही बोलता.

मों: इसकी मोहल्ले की सब औरतो पे गंदी निगाहे रहती है. एक बार इसने रश्मि ( हमारी पड़ोसन, जिसकी उमर 40 है ) के साथ किया, बेचारी 10 दिन तक बिस्तर पे पड़ी रही.

मों: और अब तू कह रहा है इसके साथ करू.

मे: मैं समझा दूँगा, वो आराम से करेंगे.

तभी डोरबेल बजती है, और दाद आ जाते है. फिर मैं अपने कमरे मैं चला जाता हू. रात मैं हम सब खाना खाते है, और फिर सो जाते है. अगले दिन मैं उठता हू तो मों बस स्कूल जाने वाली ही होती है. मैं उनके पास जाता हू

मे: आज शाम तैयार रहना.

मों जल्दी में होती है, और कुछ नही बोलती है, और मेरी तरफ गुस्से से देखने लगती है, और चली जाती है. फिर मैं भी कॉलेज चला जाता हू. मैं वाहा अल्ली को सब बात बताता हू की एक बुद्धा भी है हमारे प्लान में.

अल्ली: यार अब तो और मज़ा आएगा ग्रूप सेक्स में.

फिर छुट्टी में अल्ली अपने घर फोन कर देता है, और बहाना बना देता है. उसके बाद हम फ़हीम बुड्ढे की दुकान पे जाते है, और मैं उससे अल्ली को मिलवाता हू. वो दुकान का शटर गिरता है, और हम प्लान डिसकस करने लगते है.

मे: तो बताओ अंकल क्या प्लान है?

बुद्धा: देख, तुम सब से ज़्यादा एक्सपीरियेन्स मुझे है. इसलिए जो मैं बतौँगा वो करना.

फिर मैं बोलता हू: शाम को सही टाइम पे मैं कॉल कर दूँगा. तब आ जाना.

फिर मैं घर आता हू. घर में उस टाइम दाद भी होते है. मों उनके लिए खाना बना रही होती है क्यूंकी वो हर महीने स्टार्टिंग में 7 दिन के लिए बाहर जाते है. फिर मैं छ्होटे भाई को फोन करके नानी के घर रुकने के लिए बोलता हू.

उसको तो वैसे भी बस बहाना चाहिए नानी के घर जाने का, क्यूंकी वो मामी को पटाने में लगा पड़ा था. फिर 4 बजे दाद चले जाते है, और घर में मैं और मों रह जाते है.

मों मुझसे बोल नही रही होती. फिर मैं उन दोनो को फोन कर देता हू. थोड़ी देर में दोनो आ जाते है, और वो डोरबेल बजाते है. तो मों गाते खोलने जाती है. मों अल्ली और फ़हीम को देख कर चौंक जाती है, पर बिल्कुल नॉर्मल बिहेव करती है.

मों: बेटा तुम और मास्टर जी एक टाइम, क्या बात है?

फ़हीम: हाहः हा.

मों का फेस लाल हो जाता है. फिर मैं गाते के पास जाके दोनो को अंदर लता हू, और मों के पास जेया कर बोलता हू-

मे: तैयार हो जाओ जाके.

मों के आँखों से आँसू आने लगते है. फिर मों कमरे में चली जाती है तैयार होने. हम अंदर आ कर बात करने लगते है. फिर बुद्धा अपनी जेब से एक पूडिया निकालता है, और उसको पानी से खा लेता है.

वो कोई सेक्स पवर की देसी डॉवा थी. फिर मैं और अल्ली वियाग्रा और सेक्स पवर की गोली लेते है. मैं घर के सारे दरवाज़े बंद कर देता हू.

30 मिनिट हो गये होते है, और मों नही आती है. तो मैं कमरे में जाता हू. मों तैयार हो चुकी होती है, और बेड पे बैठी होती है.

मे: क्या हुआ?

मों ( सहंटे हुए): देख, मुझे बहुत दर्र लग रहा है. ये दोनो बहुत हेवी है.

मे: अर्रे आराम से करेंगे.

फिर मैं तोड़ा मों को समझता हू, और मों बाहर आने के लिए रेडी होती है. मों ने क्या पहना था, ये बतौँगा आपको अपनी अगली स्टोरी में. फीडबॅक के लिए नीचे लिखी ईद पर मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  चाची की चूत मे मेरा लंड


error: Content is protected !!