बहन ने चुदवाकर चूत दिलवाई

हैल्लो दोस्तों, में 45 साल का हूँ, मुझे अपने कॉलेज के दिन याद आ गये थे, ये एक सच्ची कहानी है. मैंने 1978 में कॉलेज में एड्मिशन लिया था, उस समय मेरी उम्र 18 साल की थी. उसी कॉलेज में मेरी बड़ी बहन उषा भी एम.ए में पढ़ती थी, वो मुझसे 4 साल बड़ी थी, यानि 22 साल की थी, वो एक खुले विचारों वाली लड़की थी. फिर एक दिन कॉलेज में किसी नेता के मरने पर छुट्टी कर दी, तो कॉलेज से सभी अपने-अपने घर चले गये और में कॉलेज के पीछे वाले पार्क के अंदर चला गया था.

थोड़ी दूर जाने के बाद मैंने देखा कि कोई लड़का एक लड़की के साथ रोमान्स कर रहा है, तो मैंने छुपकर देखने शुरू किया. वो लड़की मेरी बहन उषा थी, वो लड़का उसकी क्लास में पढ़ने वाला रोहित था. अब रोहित उषा को लिप्स पर किस कर रहा था और अपने एक हाथ से उसकी चूची को उसके कपड़ो के ऊपर ही मसल रहा था और अपने दूसरे हाथ को उषा की सलवार के अंदर डाल रखा था और उषा दीदी की चूत में उंगली घुसा रखी थी.

अब मेरी बहन उषा ने भी रोहित का लंड अपने हाथ में पकड़ रखा था और उसे सहलाने लगी थी. अब एक बार तो में भूल ही गया था कि उषा मेरी बड़ी बहन है और फिर में एकदम से उनके पास चला गया. तो वो दोनों ही चौक गये और घबरा गये और खड़े होकर अपने कपड़े ठीक करने लगे थे. फिर मैंने उषा से कहा कि दीदी घर चलो, में पिताजी से कहूँगा. फिर उषा और रोहित दोनों मुझे मनाने लगे. फिर में घर आ गया. अब उषा बार-बार मेरे हाथ जोड़ने लगी थी. फिर मैंने किसी को कुछ नहीं कहा. फिर रात को खाना खाकर सभी सो गये, मगर अब मुझे नींद नहीं आ रही थी तो में छत पर चला गया. तो तभी मेरी बड़ी बहन उषा वहाँ पर आ गई और कहने लगी कि मुझसे गलती हो गई.

यह कहानी भी पड़े  सौतेले पापा ने तो मार ही डाला था

तब मैंने कहा कि दीदी में किसी से कुछ नहीं कहूँगा, मगर आप ये क्यों कर रही थी? तो तब उषा बोली कि भाई इस उम्र में सभी को सेक्स चाहिए, क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है? तो मैंने मना किया. तब उषा ने कहा कि कोई गर्लफ्रेंड बना लो और उसके साथ मज़े लो.

मैंने कहा कि मुझे कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनानी आती. तब उषा ने कहा कि में हूँ मेरे भाई की गर्लफ्रेंड. में चुप रहा, लेकिन उषा कहने लगी कि भाई तुम अपने दिल की बात मुझसे कहो और फिर उषा ने मेरे लंड पर अपना एक हाथ रख दिया और फिर उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया. फिर दीदी ने मेरा एक हाथ पकड़कर अपनी चूची पर रख दिया, तो में दीदी की चूची को मसलने लगा था.

उषा दीदी वही पर अपनी सलवार खोलकर लेट गई और बोली कि आजा मेरे भाई अपनी बहन की चूत से आरंभ कर अपने लंड की पहली चुदाई और फिर उस रात मैंने दो बार दीदी की चूत को अपने लंड से चोदा.

फिर अगले दिन कॉलेज में मैंने उषा के सामने ही रोहित से कहा कि भाई साहब तुम मेरी बहन की चूत मारते हो, तो में नीना की चूत मारूँगा. नीना रोहित की छोटी बहन थी और मेरी क्लास में पढ़ती थी. तो तब रोहित बोला कि ठीक है मगर तू उसे पटाएगा कैसे? अब बोलने की बारी उषा की थी, तो वो बोली कि एक प्लान बनाते है, ताकि नीना की चूत को मेरा भाई अपने लंड से चोद सके और फिर हमने एक प्लान बनाया.

अगले दिन हम कॉलेज नहीं गये और फिर में और उषा रोहित के घर चले गये. अब रोहित के घर पर रोहित और नीना के अलावा कोई नहीं था. फिर रोहित और उषा एक कमरे में चले गये और में और नीना एक कमरे में बैठे थे. फिर नीना बोली कि भैया और दीदी कहाँ गये? तो तब में बोला कि चलो देखते है, वो क्या कर रहे है? और फिर हम दोनों उनके कमरे में गये. अब रोहित और उषा दोनों बिल्कुल नंगे थे और चुदाई कर रहे थे.

यह कहानी भी पड़े  सायबर-कैफ़े में वंदना की चुदाई

फिर रोहित और उषा ने हमें अनदेखा कर दिया. अब रोहित उषा की चूत में अपना लंड डालकर धक्के लगा रहा था और नीचे पड़ी उषा लंड की चुदाई से ओह-ओह कर रही थी. फिर में नीना से कहने लगा कि देख नीना तेरा भाई कैसे मेरी बहन को चोद रहा है? और फिर मैंने नीना की चूची को मसल दिया. तो तब रोहित कहने लग जाओ और मजे करो. फिर तब मैंने झट से नीना को पकड़ लिया और उसकी सलवार में अपना एक हाथ डाललर उसकी चूत में अपनी एक उंगली दे दी. फिर उषा दीदी रोहित से चुदते हुए बोली कि बहनचोद अब लेले मज़े. फिर में और नीना भी नंगे हो गये.

मैंने नीना की चूत पर अपना लंड रखा और उसकी चूत के अंदर करने लगा. नीना की चूत कुंवारी थी, अब उसे दर्द होने लगा था और मेरा लंड भी उसकी टाईट चूत में घुस नहीं रहा था. फिर रोहित ने मुझसे कहा कि बहन के लंड, साले मेरी बहन की चूत कुंवारी है, आराम से कर और फिर उषा दीदी ने आकर नीना की चूत पर थोड़ी सी वैसलीन लगाई और मेरा लंड नीना की चूत पर रखा और हल्का सा धक्का मेरी गांड पर दिया, तो मेरा लंड नीना की चूत में थोड़ा सा अंदर गया.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!