बहन को चोदकर बहनचोद बन गया

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राज है और मेरी उम्र 30 साल है और में शादीशुदा हूँ. मेरी शादी को कुछ साल बीत गए है और में अपनी पत्नी के साथ उसकी चुदाई करके बहुत खुश रहता हूँ. हम हर कभी जब हमें चुदाई करने की इच्छा होती है कर लेते है और में हर बार अपनी पत्नी को चोदकर उसको पूरी तरह से संतुष्ट करता हूँ. उसको कभी भी में अधूरा नहीं छोड़ता, जिसकी वजह से वो भी हर एक चुदाई में मेरा पूरा पूरा साथ देती है और मेरे साथ बहुत मज़े लेती है.

दोस्तों यह कहानी जिसको आज में आप सभी पढ़ने वालों के लिए लेकर आया हूँ और जिसमें मैंने अपनी बहन को चोदा और उसको भी अपनी चुदाई से संतुष्ट किया और यह वो सच्ची घटना है जिसको पढ़कर में उम्मीद करता हूँ कि आप सभी लोग बहुत मज़े करेंगे और इसको पढ़ना आपको लोगों को बहुत अच्छा लगेगा और अब सीधा मेरी कहानी को सुनिए.

दोस्तों मेरी एक बहन है जिसको मैंने चोदा, लेकिन वो मेरे मामा की लड़की है और वो दिखने में बहुत सुंदर है. उसका शरीर बहुत भरा हुआ सेक्सी नजर आता है और में उसको बहुत बार उससे मस्ती करते समय उसके बूब्स कूल्हों को छू लिया करता था, लेकिन तब तक मेरे मन में उसके लिए कोई भी गलत बात या ऐसा कोई विचार नहीं था और ना ही कभी उसने मेरे इन कामों का कोई विरोध किया इसलिए में अपने कामों में लगा रहता था और वो हर कभी हमारे घर पर आ जाती थी, क्योंकि उसका भी घर कुछ दूरी पर ही था.

फिर एक बार मैंने अपने लिए एक नया लेपटॉप लिया था और वो मेरी बहन भी उस लेपटॉप को देखने मेरे घर पर आई हुई थी और उससे कुछ देर पहले ही मुझे भी कुछ काम से अपने घर से बाहर जाना पड़ा और में चला गया, लेकिन मैंने जब अपने घर आकर देखा तो वो मेरी बहन मेरे लेपटॉप पर नंगी चुदाई की फोटो देख रही थी और उस समय मेरी पत्नी भी उसकी मम्मी के घर पर गई थी जिसकी वजह से मेरे घर पर में अकेला था.

यह कहानी भी पड़े  पुराने प्यार को दोस्त के रूम में चोदा

दोस्तों अब मेरी बहन को बिल्कुल भी पता नहीं था कि में उसके पीछे आकर खड़ा हो गया हूँ और उसके यह सारे काम देख रहा हूँ अब में धीरे से उसके सामने आ गया तो वो मुझे अपने बिल्कुल पास घर में देखकर एकदम से चकित हो गई और उसके चेहरे से मुझे उसका वो डर साफ साफ नजर आ रहा था. अब मैंने उसके होंठो पर किस करने की कोशिश की, लेकिन वो तो उठकर वहां से भागने लगी, लेकिन फिर मैंने उसको पकड़कर अपने पास बैठा लिया और मेरे अब भी बहुत कोशिश करने के बाद भी उसने मुझे किस नहीं करने दिया और वो मुझसे दूर हटकर बैठ गई, लेकिन कुछ देर बाद वो वापस बैठकर लेपटॉप पर कुछ देखने लगी.

अब मैंने सही मौका देखकर अपना हाथ उसके एक बूब्स पर रख दिया, लेकिन उसने मुझसे कुछ भी नहीं कहा और तब मैंने महसूस किया कि उसके बूब्स का आकार कुछ ज़्यादा बड़ा नहीं था और उसकी छाती का आकार उस समय कोई 30 के आसपास रहा होगा, लेकिन उसके बहुत थे बहुत मुलायम और जिसकी वजह से मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और में धीरे धीरे उसके बूब्स को सहलाने लगा, लेकिन अब भी उसने मुझसे कुछ ना कहा और वो हल्की हल्की आवाज में मोन करने लगी उसके मुहं से उफफ्फ्फ्फ़ स्सीईईईइ आईईईईई की बहुत हल्की आवाजें आ रही थी.

दोस्तों में अब तुरंत समझ गया था कि वो अब तक बहुत गरम हो चुकी है और वो धीरे धीरे जोश में आकर अपने होश जरुर खो देगी. तब में इसको बहुत रगड़कर जमकर इसकी चूत की चुदाई करूंगा और आज इसकी चूत का भोसड़ा बना दूंगा, में मन ही मन उसकी चुदाई के ऐसे विचार करने लगा था और में बहुत कुछ सोच रहा था.

यह कहानी भी पड़े  पुणे की मराठी भाभी के साथ सेक्स

अब मैंने अपने एक हाथ को उसके पीछे ले जाकर में उसकी कमर पर अपना हाथ फेरने लगा था. जहाँ से में अपने हाथ को धीरे धीरे आगे बढ़ाते हुए नीचे उसकी चूत तक ले गया था, जिसकी वजह से अब मेरा एक हाथ उसकी चूत पर था और दूसरा हाथ उसके बूब्स को दबा सहला रहा था और जिसकी वजह से वो बहुत मज़े ले रही थी.

उसको बड़ा अच्छा लग रहा था, लेकिन अब मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था और मेरे लंड में ज्यादा देर तनकर खड़े रहने की वजह से अब दर्द होने लगा था. उसको अब बहुत जल्दी शांत करके बैठाना बहुत जरूरी हो गया था इसलिए में अब उसको वैसे ही छोड़कर तुरंत खड़ा होकर मैंने अपनी पेंट को उतार दिया. वो मेरे इस काम को करता हुआ देखकर वो मुझसे पूछने लगी कि भैया आप यह क्या कर रहे हो? यह सब गलत है आपको ऐसा नहीं करना चाहिए?

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3