पकड़े गए भाई के अपनी बहन को चोदने की कहानी

मेरी बहन का नाम पूजा है। पूजा का जिस्म पूरा भरा हुआ है 34d के बड़े चूचे, 30″ की कमर, 36″ की मस्त हिलती हुई गांड, पूरा बदन दूध के जैसा गोरा। 23 की उम्र में ही पूजा को जवानी आ गई थी।

पूजा घर और बाहर हमेशा छोटे कपड़े पहन कर ही जाती थी। पूजा का एक बॉयफ्रेंड भी था। पूजा अपने बॉयफ्रेंड के साथ चुदाई का मजा भी ले चुकी थी।

पर पूजा को तो बहुत से लोग चोदना चाहते थे। मैं भी पूजा को नंगी देखने का कोई मौका नहीं छोड़ता था। कभी उसके कमरे में छुप कर पूजा को नंगी देखता, तो बाथरूम के की-होल से। फिर पूजा को याद करके अपना लंड हिला कर शांत करता।

एक दिन मैंने छुप कर पूजा की नंगी होते हुए विडिओ बना ली। क्या गोरी चूत थी पूजा की बिना बालों वाली। अब मैं रोज रात को विडिओ देख कर लंड हिलाने लगा। पूजा को मैं अब जब भी मौका मिलता तो उसकी गांड पर हाथ लगा देता तो कभी झप्पी के बहाने उसके चूचों को अपनी छाती से दबा देता।

एक दिन घर में कोई नहीं था और मैं और पूजा ही थे। मैं नहाने गया, और मुझसे फोन खुला रह गया जब नहा कर बाहर आया तो देखा पूजा के हाथ में मेरा फोन था, और पूरे गुस्से में थी पूजा। मुझे आते देख पूजा मुझ पर चिल्लाई-

पूजा: यह सब क्या है? शर्म नही आती तुझे अपनी बहन की गंदी विडिओ बनाते हुए?

मैं चुप खड़ा रहा। पूजा गुस्से में पता नहीं क्या-क्या बोले जा रही थी। फिर मेरे पास आई और 3-4 थप्पड़ मुझे मार दिए। मैं दोनो हाथ जोड़ कर माफी मांगने लगा, पर पूजा पर कोई असर नहीं हो रहा था।‌फिर मैंने पूजा को पकड़ कर अपनी बाहों में भर लिया और उसके एक गाल पर किस कर दिया। पूजा छूटने की कोशिश करने लगी, पर मैंने जोर से पूजा को पकड़ रखा था।

पूजा: छोड़ो मुझे, कुछ शर्म करो।

मेरे मुँह से भी निकल गया: बॉयफ्रेंड के साथ जो यह सब करती हो, तब शर्म नहीं आती है तुम्हें? रात को नंगी होकर उससे विडिओ काल पर बात करती हो, तो क्या शर्म नहीं आती है?

पूजा मेरी बात सुन कर शांत हो जाती है, और मुझे बोलती है: मैं उससे प्यार करती हूं, और हम दोनों शादी भी करेंगे।

अब मेरा एक हाथ पूजा की गांड को सहलाने लगा। मैंने पूजा के सिर को पीछे किया, और उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए।

पूजा मुझसे छूटने लगी, पर मैंने उसके सर को कस के पकड़ लिया। हमारा किस 5 मिनट तक चला। अब हम दोनों अलग हो गए। पूजा कमरे से बाहर जाने लगी, तो मैंने पूजा को पकड़ कर बैड पर लिटा दिया।

पूजा बोलने लगी: यह सब गलत है, तुम मेरे साथ ऐसा नहीं कर सकते हो।

मैं भी बैड पर आ गया और पूजा को बोला: मैं तेरे साथ कुछ गलत नहीं करूंगा। बस मुझे अपनी चूत को चाटने दो। मैं कब से तेरी चूत को चाटना चाहता हूं। आज मुझे मना मत करो।

और ऐसा बोलते हुए मैंने पूजा की निक्कर के ऊपर से चूत पर हाथ रख दिया।

पूजा बोलने लगी; तुम मेरे भाई हो, और हम दोनों ऐसा कुछ नहीं कर सकते है।

मैंने उसको बहुत मनाया। आखिर में पूजा मान गई, और बोली: ठीक है, यह आज ही होगा, फिर कभी नहीं।

मैंने हां में सर हिला दिया।

अब मैंने पूजा की निक्कर को नीचे कर दिया, और साथ में उसकी पेंटी को भी नीचे कर दिया। पूजा की नंगी चूत मेरे सामने आ गई। मैंने देखा पूजा ने अपनी आंखो को बंद कर लिया था। पूजा की चूत एक-दम साफ थी। चूत के ऊपर कोई बाल नहीं था।

मैं एक हाथ से चूत को सहलाने लगा।उसकी चूत की पलकों को सहलाने लगा। फिर पूजा की निक्कर और पेंटी को निकाल दिया। पूजा नीचे से नंगी मेरे सामने लेटी हुई थी। मैंने देर ना करते हुए अपना मुंह चूत पर लगा दिया। मेरी जीभ चूत के अन्दर-बाहर होने लगी।

पूजा के मुँह से सिसकारियां निकलने लग गई। पूजा ने अपने दोनों हाथ मेरे सर पर रख दिए। मैंने अब एक ऊंगली भी चूत के अंदर डाल दी। पूजा मेरे चूत चाटने से गर्म होने लगी और मुँह से बड़बड़ाने लगी-

पूजा: चाट मेरी चूत हरामी, अच्छे से चाट। तू तो मस्त चूत चाटता है।

मैं पूजा की बात सुन कर खुश हो रहा था, और पूरी जीभ चूत में डाल कर चाट रहा था। 10-12 मिनट के बाद पूजा पूरे जोर से मेरे सर को चूत में दबाने लगी और उसके शरीर में जकड़न हुई। पूजा की चूत ने पानी छोड़ दिया। पूजा का शरीर अब ढीला हो गया।

मैं चुप से निकलते हुए पानी को चाटता रहा, और पूरा पानी पी गया। मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था। मैं पूजा की चूत से हट गया, और पूजा के साथ लेट गया। मैं अब पूजा को फिर से लिप किस करने लगा।पूजा का हाथ मेरे अंडरवियर के ऊपर से लंड को पकड़ने लगा। मैंने भी देरी ना करते हुए अपना अंडरवियर नीचे कर दिया। मेरा लंड अब पूजा के हाथ में आ गया, और पूजा लंड को हिलाने लग गई।

मुझे बहुत मजा आ रहा था। मेरा मुँह अब पूजा की टी-शर्ट के ऊपर उसके चूचों पर आ गया। टी-शर्ट के ऊपर से ही मैं चूचों को मुँह में लेने लगा। साथ में एक हाथ से चूत को सहलाने लगा। पूजा को भी मजा आ रहा था।

मैंने पूजा की टी-शर्ट ऊपर कर दी, और ब्रा को उसके चूचों से ऊपर कर दिया। मैं अब बारी-बारी चूचों को मुँह में लेकर चूसने लगा। तभी पूजा मुँह में बोलने लगी-

पूजा: ऐसा मजा तो मेरे बॉयफ्रेंड ने भी कभी नहीं दिया मुझे भाई।

मैं अपने काम में लगा रहा। थोड़ी ही देर बाद पूजा ने मुझे धक्का दिया। मैं दूसरी तरफ गिर गया। पूजा मेरे ऊपर आ गई मतलब 69 की दिशा में, और मेरा लंड पूजा के मुँह में चला गया। और पूजा की चूत मेरे मुँह में आ गई। मैं चूत से लेकर पूजा की गांड चाटने लग गया। पूजा मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी रही।

अब हम दोनों भाई-बहन कम और पति-पत्नी ज्यादा लग रहे थे। अब मैंने पूजा को फिर से बैड पर लिटा दिया, और लंड को चूत पर रगड़ने लगा।

पूजा बोलने लगी: अब रहा नहीं जा रहा है। डाल दे अपनी बहन की चूत में लंड, और बन जा बहनचोद। मत तड़पा‌ मुझे।

मैंने भी लंड पूजा की चूत में डाल दिया। पूजा को दर्द कम हुआ। पूजा ने अपनी दोनों टांगो से मेरी कमर को जकड़ लिया, ओर गांड उठा कर लंड अंदर लेने लगी। मैं पूजा को पूरे जोश से चोदने लगा।

20-25 मिनट की चुदाई के दौरान पूजा एक बार पानी छोड़ चुकी थी। थोड़ी चुदाई के बाद मैं और पूजा एक साथ झड़ गए। मैं और पूजा वैसे ही थोड़ी देर लेटे रहे। फिर पूजा बाथरूम चली गई। बाथरूम के बाहर आने के बाद मेरे साथ नंगी ही सो गई।

कैसी लगी हम दोनों भाई बहन की कहानी मुझे जरूर बताना। अगली कहानी में बताऊंगा कैसे पूजा की गांड मारी मैंने

यह कहानी भी पड़े  बुआ ने दिया अपने बेटे और भतीजे को मज़ा


error: Content is protected !!