कहानी जिसमे बहन को भाई और उसके दोस्त ने चोदा

हेलो दोस्तों, मेरा नामे ज़ैन है, और मेरी आगे 23 है. मेरी बेहन इक़्रा की आगे 19 है,(

आप सब से रिक्वेस्ट है, के प्लीज़ अपने कॉमेंट्स भी दे, और पर्सनल स्टोर शेर करे. अगर हेल्प चाहिए हो तो ई कॅन हेल्प ऑल्सो.

दोस्तों हम कराची के एरिया डेफ में रहते है. मैं बिज़्नेस करता हू अब्बू के साथ, और अम्मी हाउसवाइफ है. मेरी सिस्टर उनी. में है 3र्ड सेमेस्टर में. बात आज से 1 साल पहले की है. उस वक़्त मैं 22 का था, और सिस 18 तक की थी.

हमारी बिल्डिंग में एक लड़का रहता था जुनैद. हम सब दोस्तों में सब से पहले मोबाइल उसके पास आया था. वो हमेशा अपने मोबाइल में गंदी क्षकशकश वीडियोस रखता था, और मुझे बुला लेता था घर पर देखने के लिए.

मैं और इक़्रा जहा खेलने जाते थे, एक साथ जाते थे. उस वक़्त इक़्रा के नये-नये नुकीले बूब्स माँगो की तरह अलग शेप में बने हुए थे उफ़फ्फ़.

एक दिन जुनैद के घर कोई नही था, और हम दोनो बेहन-भाई उसके घर चले गये.

अब मुझे जो दर्र लग रहा था, वही हुआ. जुनैद की नज़र इक़्रा पर थी. बुत इस आगे में माइंड कुछ भी कर बैठता है. वाहा जुनैद ने मुझे बोला-

जुनैद: एक प्लान है, और बहुत मज़ा आएगा. तुम इक़्रा के आयेज वीडियोस चला कर रख दो. इक़्रा जैसे ही देखने लगेगी हम भी जाय्न कर लेंगे.

जुनैद उस वक़्त 26 साल का था, और मैं 22 का. मैं इक़्रा के पास मोबाइल लेकर बैठ गया, और वीडियोस देखने लगा. पहले तो इक़्रा पूछने लगी की वो क्या था. बुत बाद में उसका मूह लाल हो गया, और वो शरम से च्छूप रही थी. फिर वो वीडियो देखने लगी मेरे साथ.

फिर मैं उसको दूसरे रूम में ले-जेया कर च्छूप कर अकेले क्षकशकश मूवीस देख रहा था. इतने में जुनैद नंगा होकर हमारे रूम में आ गया. हम दोनो ने चीख मारी, और खड़े हो गये. जुनैद भी हिल गया, और कहता-

जुनई: बैठ जाओ, देख लो, कुछ नही होता.

जुनैद का लंड खड़ा था. वो फुल खड़े लंड में मेरे पास आ कर बैठ गया. अब जुनैद बीच में और मैं और इक़्रा साइड पर थे. फिर जुनैद ने इक़्रा को आइस क्रीम ला कर दी.

उसके बाद वो कहता: ज़ैन तुम्हे पता है, की मैं इक़्रा के लिए रोज़ सीडीयों पर खड़ा होता हू? वो जब भी बाहर जाती है, मैं उसके निपल्स निहारता हू.

और ये कह कर फ़ौरन उसने इक़्रा को दबोच लिया. मैं शॉक हो गया और पूछा-

मैं: ये सब कब से चल रहा है?

तो वो कहता: जब से तुम्हारी बेहन की कक़ची जवानी रंग लाई है निपल्स बाहर निकालने से.

अब वो इक़्रा के बूब्स दबा रहा था, और इक़्रा शरम के मारे उसकी गोद में बैठ कर मज़े ले रही थी, और मैं देख रहा था. शायद वो वीडियो देख कर गरम हो चुकी थी. फिर जुनैद ने उसके बूब्स निकाल कर मेरे सामने कर दिए, और बोला-

जुनैद: चूस इसके मॅंगोस.

भाई लोग, मेरी लाइफ का इससे क्रेज़ी दिन आज तक नही आया था. मैं पहले शरमाया तोड़ा सा. मैं तोड़ा गुस्सा भी था. लेकिन बेहन के मॅंगोस को जो भी देखेगा, वो नही छ्चोढेगा ये याद रखना.

फिर मैने दबा कर गीले कर-कर के बूब्स चूज़, और मेरी पहली बार मूठ निकल गयी. मैं अजीब सा फील करके इक़्रा को वापस ले आया. मैने आते हुए उसको कहा-

मैं: इक़्रा घर में किसी को नही बताना जो भी वाहा हुआ प्लीज़.

उसने कहा: आप भी मत बताना.

अब मेरा तो घर में जॅकपॉट लग गया था. अगले दिन इक़्रा घर का कुछ काम करके सो गयी थी. मैने अगले दिन जुनैद से उसका मोबाइल लिया ये कह कर, की इक़्रा को वीडियोस दिखानी थी.

फिर मैं मोबाइल लेकर घर आ गया. घर आके मैं इक़्रा के पास लेट कर वीडियोस देखने लगा. उसमे स्लीपिंग गर्ल्स फक वीडियोस थी. मैं वो देखने लगा. इक़्रा सोई हुई थी गहरी नींद में. फिर मैने उसके कपड़े पुर उतार दिए.

उसको वाक़ई नही पता लगा. फिर मैने दबा-दबा कर उसके बूब्स चूज़, और थोड़ी देर बाद उसकी पूरी बॉडी को आयिल लगा कर नरम किया. और अब मैने बहुत ही स्लो, बहुत ज़्यादा स्लो अंदर उसकी गांद में उंगली डालने की कोशिश की.

एक्सपीरियेन्स नही होने की वजह से काफ़ी तेल लगाया था मैने. अब प्यार-प्यार से मैने अंदर उंगली देनी शुरू की. लेकिन इतने में इक़्रा उठ गयी, और घबरा गयी नंगी पा कर खुद को. मैने रिलॅक्स किया उसको, और वीडियो लगा दी.

इक़्रा ने कहा: भाई ये अची बात नही. बुत आइन्दा नही करिएगा.

मैने कहा: चुप कर जाओ. अभी मासूम दिखती हो. असल में तुम नही हो मेरी बिच.

फिर मैने उसको डॉगी-स्टाइल में कर दिया, और गांद में लंड डालना शुरू हो गया. तभी उधर से अम्मी की आवाज़ आई.

दोस्तों मैने अब अम्मी की आवाज़ सुन कर घबरा कर पूरा लंड इक़्रा की गांद में उतार दिया. क्या गरम गांद थी. पहली बार में वो मेरा लंड ही ले रही थी. इक़्रा ज़ोर से चीखी. जुनैद का घर उपर ही था, और वाहा तक कन्फर्म आवाज़ गयी होगी.

इससे पहले की कोई आ जाए, मैने झटके तेज़ कर दिए. मैने ज़ोर-ज़ोर से झटके दिए. इक़्रा उ अम्मा जी आहह आहह की आवाज़े निकाल रही थी. उफ़फ्फ़ क्या बतौ यार, कितना मज़ा था इसमे.

मैं फिर रिलीस हो गया. रिलीस होते हुए मैने इक़्रा के माममे नाखूनओ के निशान से भर दिए. इक़्रा की छूट भी पानी छ्चोढ़ रही थी. मैने फ़ौरन सब सॉफ किया, और नहाने चला गया. अगले दिन सब नॉर्मल था. इक़्रा मेरी तरफ स्माइल करती, और मैं उसकी तरफ. बस अगले कुछ दिन हमने कोई हरकत नही की.

थोड़े दीनो बाद जुनैद को मैने स्टोरी सुनाई. वो बहुत खुश हुआ, बुत अब मुझे दर्र ये लग रहा था, की जुनैद का इतना बड़ा लंड इक़्रा कैसे लेगी. और जुनैद मैं ना चाहु तो भी इक़्रा को छोड़ने वाला था. अब मेरी ज़िद ये थी, की वो इक़्रा को जो कुछ भी करे, मेरे सामने ही करे.

इक़्रा के देखते ही देखते बूब्स बड़े हो रहे थे. ब्रा उसने बहुत देर से पहँनी शुरू की थी, और गांद तो मोटी करनी ही थी हमने. अब मैं और जुनैद प्लान करने लगे. मेरे गाओं से चाचा लोग हॉस्पिटल इलाज करवाने आए थे.

मुम्मा-पापा एक दिन वाहा चले गये. अब शाम को वापस आना था उन लोगुन ने. मैने जुनैद को फ़ौरन डेरी मिल्क चॉक्लेट के साथ घर आने को बोला. वो आ भी गया. फिर मैने चॉक्लेट मेल्ट की, और उसके लंड पे लगा दी.

वो 5 मिनिट बाद थोड़ी-थोड़ी खुसक हो गयी. मैने प्रॉपर क्रेआमए चॉक्लेट टॉपिंग कर दी, और उसको ड्रॉयिंग रूम में नंगा बिता दिया. अब मैने इक़्रा के पास जेया कर उसकी आँखों पर दुपट्टा बाँधा, और बोला-

मैं: सर्प्राइज़ है, चलो मेरे साथ ड्रॉयिंग रूम में.

फिर मैं उसको वाहा ले गया. मैने इक़्रा को जुनैद के घुटनो पर बेंड किया, और जुनैद का हबशियों जैसा लंड अब इक़्रा की बंद आँखों के सामने था. मैने इक़्रा को बोला-

मैं: मूह खोलो, और इसको चूसो.

इक़्रा ने चूसा, और बोली: ये कैसी चॉक्लेट है?

इक़्रा के हाथ भी मैने बाँध के रखे थे, और मैने उसके हाथ खोल कर कपड़े उतार दिए उसके भी और अपने भी. लॉलिपोप चॉक्लेट को 5 मिनिट चूसने के बाद जब ओरिजिनल लंड निकला, तो वो खुश हो गयी, और कहती-

इक़्र: भाई, ये ज़रूर जुनैद भाई है.

मैने कहा: हा.

अब इक़्रा को जुनैद ने पकड़ा, और ज़ोर से बूब्स पर छानते मारने लगा. ऐसा लग रहा था, की जुनैद आज पागल हो गया था. फिर जुनैद ने इक़्रा का सर पकड़ा, और गले तक लंड उतार दिया.

इसमे घाप की आवाज़ आई. फिर जुनैद ने बैठ कर मुझे बोला: बिता इक़्रा को मेरे लंड पे. और साथ में इसकी छूट भी चाट.

उसने बोला, की वो भी गांद में डालेगा. अब जुनैद का लंबा लंड और इक़्रा की गांद थी बस. मैने इक़्रा को पकड़ा, तो उसका पूरा जिस्म लाल निशानो से भरा हुआ था.

वो फुल पसीने और मज़े में थी. उसकी छूट पानी छ्चोढना शुरू हो गयी थी. जुनैद के लंड पर जब मैं इक़्रा को बिता रहा था, तो यकीन ही नही हो रहा था, की वो आधा लंड भी लेलेगी. 10 बार थूक लगाई, फिर आयिलिंग की, फिर जाके लंड अंदर जाना शुरू हुआ.

अब मैने जुनैद को बोला: इसको डॉगी बना लो. मैं हेल्प करता हू पुश करने में अंदर.

जुनैद का लंड काफ़ी बड़ा था. मैने उसका लंड पकड़ा, और काफ़ी कोशिश करने के बाद लंड इक़्रा के अंदर चला गया.

इक़्रा फ़ौरन बोली: निकालो इसको.

जुनैद को मैने बोला: मेरी बेहन है, ध्यान से.

जुनैद ने बोला: मेरी भी बेहन है, और आज से ये हम सब की रंडी भी है प्लीज़, आयेज तेरी मर्ज़ी.

मैने कहा: ठीक है.

अब इक़्रा डॉगी-स्टले में थी, और लंड उसके अंदर था, वो भी सिर्फ़ टोपा जुनैद का.

मैने जुनैद को बोला: देदे झटका अब.

मैने इक़्रा के बूब्स मूह में ले लिए, ताकि वो मज़े में रहे.

फिर इक़्रा बोली: भाई प्लीज़ निकलवा दो, तुम्हे खुदा का वास्ता है. मुम्मा-पापा का वास्ता है.

बुत मुझे आज अपनी बेहन चूड़ते हुए क्या लग रही थी. तो मैं क्यूँ रोकता. जुनैद ने उसको गर्दन से बीते, और इतना ज़बरदस्त झटका मारा, की लंड पूरा अंदर चला गया.

इक़्रा तड़प-तड़प कर पागल हो गयी थी. वो चीख रही थी, और उसने रोना शुरू कर दिया.

फिर मैने जुनैद को बोला: झटके तेज़ कर फ़ौरन.

उसने ज़रा भी देर नही की, और अपनी स्पीड तेज़ कर दी. मैं गवाह हू, जुनैद ने 3 घंटे मेरी बेहन को ताबाद-तोड़ छोड़ा. इतनी चुदाई करवा कर मेरी बेहन की गांद खुल गयी थी, और अब वो मज़े से जुनैद के लंड पर उछाल रही थी.

जुनैद का काम होने के बाद मैने भी इक़्रा के साथ 2 रौंद किए. मुझे अपनी बेहन को छोड़ने में बहुत मज़ा आया. बार-बार चुड कर इक़्रा तक गयी थी, और वो चुदाई के बाद सो गयी.

अगले दिन वो ठीक से चल भी नही पा रही थी. किसी को पता ना चल जाए, तो हमने उसके गिरने का बहाना बनाया. और अब से मेरी बेहन हमारी पर्सनल रंडी थी.

यह कहानी भी पड़े  भाई ने बेहन को अलग-अलग पोज़िशन में चोदा


error: Content is protected !!