बड़ी बेहेन मेरी बीवी बनी

हेलो दोस्तों मेरा नाम करण है, मैं २६ की उम्र है. मेरी हाइट ५’८” है और मैं दिखने में काफी अच्छा हूँ. मेरी फॅमिली में मेरी माँ है और एक बड़ी दीदी, पायल. दीदी एक २८ साल की जबरदस्त माल है. वो किसी पोर्नस्टार से काम नहीं लगती है, बड़ी बड़ी ३८ की चूचियां है और ३८ की बड़ी भारी गांड है. उसकी गदरायी जवानी किसी का भी लण्ड खड़ा कर सकती है. घर पर हमेशा टाइट कपडे पहनती है, जिससे उसका बदन और सेक्सी लगता है. दीदी घर में ब्रा नहीं पहनती है, जिससे उसकी चूचियां और बड़ी लगती है, किसी बड़े बड़े रसीले आम की तरह. दीदी घर पर हमेशा मुझे अपनी चूचियों की दर्शन देती है और मेरे सामने अपनी चुत्तड़ हिला हिला कर चलती है. मेरा लण्ड दीदी को देखते ही खड़ा हो जाता है.
दीदी की हाइट ५’६” है, दिखने में बहुत गोरी और सेक्सी है. लम्बी हाइट में ३८ की बड़ी बड़ी तरबूज के सामान चूचियां और बड़ी गांड दीदी को काम की देवी बना देती है. दीदी एक कंपनी में मैनेजर के पोस्ट में है. दीदी ज्यादातर ऑफिस में शर्ट और स्कर्ट पहन कर जाती है, शर्ट का २-३ बटन खुला रखती है जिससे जब भी वो झुकती है आधी चूचियों के दर्शन हो जाते है और टाइट स्कर्ट में कोई उसकी भारी गदरायी गांड देखले मूठ मरे बिना ना रह सके.
मैं अपनी दीदी का दीवाना हूँ, हमेशा सोचता हूँ काश ये मेरी दीदी नहीं गर्लफ्रेंड होती. चोद चोद कर इसकी बूर का भोसड़ा बना देता और गांड फाड़ देता.

दीदी मांगलिक है जिसकी वजह से उसकी शादी नहीं हो रही है. मेरी माँ भी काफी परेशान रहती है इसको लेकर. एक और रिश्ता दीदी के मांगलिक होने की वजह से टूट गया. दीदी काफी रोने लगी, मैं दीदी को समझा रहा था.

यह कहानी भी पड़े  जवानी का रिश्ता

मैं: दीदी आप रोयो नहीं, सब ठीक हो जायेगा
दीदी: कुछ ठीक नहीं होगा भाई, मैं मांगलिक हूँ तो कोई शादी नहीं करेगा
मैं: दीदी आप बहुत सुन्दर हो, आपसे तो कोई भी शादी कर लेगा
दीदी: नहीं भाई, ऐसा नहीं होगा कभी, लगता है मेरी जवानी ऐसे ही प्यासी कट जाएगी.

दीदी उस समय एक टाइट कुरता पहनी हुई थी जिसका गला बड़ा था, दीदी की बात सुनकर मैं उनकी अधनंगी चूचियों को देखने लगा, और मेरा लण्ड पूरा अकड़ रहा था दीदी की राइप जवानी को देखकर

मैं: आपका भाई आपकी जवानी को बर्बाद होने नहीं देगा, मैं आपसे शादी कर लूँगा
दीदी: तुम मेरे भाई हो ऐसा नहीं हो सकता
मैं: दीदी मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ, और मैं आपसे शादी के लिए रेडी हूँ

ये बातें माँ पीछे से सुन रही थी, उसने दीदी को बुलाया और पूछा. दीदी जब जा रही थी तो उसके भारी चुत्तड़ हिल रहे थे, मैं सोचा इसकी जवानी तो मैं चूस कर ही रहूंगा

माँ: देख बेटी, तेरे मांगलिक होने की वजह से कोई और तो शादी करेगा नहीं, तू करण से ही शादी कर ले
दीदी: क्या बोल रही माँ, करण मेरा भाई है

फिर माँ ने दीदी को समझाया, तो दीदी मान गयी. वो मेरे पास आयी. मेरा ध्यान दीदी की हिलती हुई चूचियों पर था, जो किसी फुटबॉल की तरह उछल रही थी और रहम की भीख मांग रही थी.
दीदी: भाई तू सीरियस है इस बारे में
मैं: हाँ दीदी, आई लव यू दीदी
दीदी: पर हम भाई बहन है
मैं: दीदी आप एक जवान और सेक्सी लड़की हो, जिसे पाकर मैं धन्य हो जाऊँगा
दीदी: ऐसा सोचता है तू मेरे बारे में
मैं: हाँ दीदी बचपन से आपकी जवानी देखी है और इसे पाने के लिए मचल रहा हूँ
दीदी: अच्छा और क्या सोचता है मेरे बारे में
मैं: दीदी आपकी यह बड़ी बड़ी चूचियों और आपकी गांड ने मेरी नींद हराम कर के रखी है. डेली मैं आपके नाम की २-३ मार मूठ मारता हूँ.
दीदी: अह्ह्ह्ह भाई, यह सब सोचता है मेरे बारे
मैं: दीदी मन करता है आपकी इन बड़ी बड़ी चूचियों को दबा दबा कर चूस लू, आपके बदन का हर रेस पि जाऊ और अपने लण्ड से आपकी प्यारी बूर को रात दिन चोदता रहु
दीदी: उफ्फ्फफ्फ्फ़ भाई, तूने तो मुझे गिला कर दिया रे, आई लव यू करण, मैं तुमसे शादी करूंगी और तेरे हर फैंटसी को पूरा करूंगी.
मैं: सच दीदी

यह कहानी भी पड़े  हमसफर - एक जवान लड़की के साथ

मैंने दीदी को कस कर हग किया और किश करने लगा. क्या गुलाबी और सॉफ्ट होंठ थे दीदी. मेरा एक हाथ दीदी की चुत्तड़ो को सहलाने लगा और मैंने कस कर दीदी की गांड को दबा दिया

दीदी: सब्र कर भाई सब तेरा ही है

दीदी फिर वहा से चली गयी. माँ ने हमारी शादी एक मंदिर में करा दी. दीदी आज एक नयी दुल्हन की तरह तैयार हुई थी, जो अपने भाई के साथ सुहागरात मनाने वाली थी.

फिर मैं अपने रूम में आगया, जहा दीदी मेरा इंतजार कर रही थी. लाल कलर की एक सेक्सी साड़ी में दीदी काम की देवी लग रही थी. मुझे यकीं नहीं हो रहा था की आज मैं अपनी दीदी को अपने बिस्तर में चोदूूँगा. दीदी के ब्लाउज का बड़ा काफी बड़ा था, जिससे उनकी बड़ी बड़ी चूचियों के दर्शन हो रहे थे.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!