बड़े लंड का कमाल

हेलो दोस्तो मेरा नाम मनोज है. और मेरी उमर 24 साल है मेरी अभी शादी नही हुई है. मैं हरयाणा का रहने वाला हूँ. मैने पहले हरयाणा मे ही एयरटेल मे बहोत काम किया है. फिर मुझे उन्होने दिल्ली भेज दिया. अब मेरे अंडर पूरा एक ऑफीस था मेरी सैलरी भी काफ़ी अच्छी हो गई थी.

मैं अपनी जॉब लाइफ से बहोत खुश था. क्योकि मुझे अब सारा काम आ गया था. दिल्ली आए हुए मुझे अभी 6 महीने ही हुए थे और मुझे अब दिल्ली के बारे मे बहोत कुछ पता चल गया था. मेरे उप्पर अब काम का बहोत दबाव था. जिससे मुझे इधर उधर जाने का टाइम नही मिलता था.

मेरे ऑफीस के कुछ सेक्सी लड़किया भी मेरे उप्पर बहोत लाइन मारती थी. पर मैने अपने आप पर बहोत कंट्रोल किया हुआ था. इसलिए मैं उनकी तरफ ज़रा सा भी ध्यान नही देता था. वैसे तो मैं एक नंबर का चुदक्कड़ हूँ. मेरे लंड का साइज़ 8 इंच है और मोटा करीब 3 इंच है. मैने अपने कॉलेज लाइफ मे स्टूडेंट्स क्या टीचर्स तक को चोदा हुआ है.

और आज भी जब वापिस जाता हूँ तो अपनी कॉलेज की एक मैथ्स टीचर्स को चोद कर आता हूँ. क्योकि मुझे बड़ी गांड और बड़े बूब्स वाली औरतें शुरू से ही बहोत पसंद है. उनके बूब्स के अंदर अपना लंड डाल कर आगे पीछे करना मुझे बहोत पसंद है.

एक दिन की बात है मेरा एक एम्पॉलई मीर पास आया और कहा की एक कस्टमर है वो मुझसे बात करना चाहती है. मैने कहा की तुम अपने सीनियर से उसकी बात करवा दो. तो उसने कहा की वो सब से बड़े से बात करना चाहती है. मैने उससे बात करी तो दूसरी साइड से बहोत ही प्यारी आवाज़ आई. मैने उसकी प्राब्लम सुनी और सारी बात को अच्छे से समझ कर उनकी प्राब्लम को सॉल्व कर दिया.

यह कहानी भी पड़े  अकेली हाउस वाईफ और सेल्समेन

आख़िर मे उसने मेरा पर्सनल नंबर माँग लिया ताकि फ्यूचर मे कभी ज़रूरत पड़े तो सीधा मुझे ही फोन कर ले. कुछ दिन ऐसे ही निकल गये. और एक दिन शाम को उसका फोन आया उसने मुझसे पहले नॉर्मल बातें करी फिर उसने कहा की मैं कल सनडे उसके घर आ जाउ. उसने हमारे कुछ नये प्लान समझने है.

मैने कहा ठीक है वैसे भी मैं सनडे को घर मे बोर ही होता हूँ. इसलिए मैं उसके घर सुबह ही चला गया. उसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. उसने पिंक कलर की साड़ी डाली हुई थी. साली के बूब्स ब्लाउस से भी बाहर आ रहे थे. मुझे तो पहले ही बड़े बड़े बूब्स बहोत पसंद थे.

उसकी मोटी गांड का मैं वहीं पर दीवाना हो गया था. अंदर जाते ही उसने मुझे सोफे पर बिठाया और मेरे लिए चाय बना कर ले आई. और वो भी मेरे साथ बैठ कर बातें करने लग गई. उसने मुझसे पूछा की मेरी शादी हो रखी है या नही. मैने नही मे जवाब दे दिया, फिर उसने पूछा की चलो फिर कोई गर्ल फ्रेंड तो होगी ही.

मैने फिर नही मे जवाब दे दिया और साथ मे ही कह दिया था की एक थी पहले पर अब उसकी शादी हो गई है. उसने आगे पूछा, तो कभी सेक्स किया है. उसका ये सवाल इतनी जल्दी आ जाएगा मैने सोचा तक नही था. मैने नही क्योकि मैं दिन रात काम मे बहोत बिज़ी रहता हूँ.

ये कहते ही वो मुझसे लिपट गई और कहा कोई बात नही राजा अब मैं आ गई हूँ ना. अब तुम रात को तो छोड़ो, दिन मे भी सेक्स किया करोगे. इससे पहले मैं कुछ बोलता उसने मेरे होंठो को अपने होंठो मे ले लिया. उसकी जीब मेरे मूह के अंदर जा रही थी जिसे मैं चूसने मे लगा हुआ था.

यह कहानी भी पड़े  मां और अंकल की मिलीभगत

उसके बाद मेरे हाथ उसके बूब्स पर आ गये जिसे मैं दबाने लग गया फिर वो मुझे अपने बेडरूम मे ले गई और मुझे खड़ा कर के मेरी पैंट उतार दी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

मेरा लंड अंडरवियर मे से पहले ही बाहर आ रहा था. उसने मेरा अंडरवियर भी नीचे कर दिया. और मेरा लंड देख कर वो पागल हो गई और बिना कुछ बोले मेरे लंड को मूह ले कर चूसने लग गई.

लंड को चूस्ते हुए वो मेरी तरफ देख रही थी. उसकी खुशी सॉफ उसके चेहरे से झलक रही थी. करीब 5 मिनिट लंड चुसवाने के बाद मैने उसे उठाया और उसके सारे कपड़े उतार, उसे बेड पर ले गया. हम दोनो 69 की पोज़िशन मे आगये. वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी चूत. करीब 10 मिनिट मे ही हम दोनो का पानी निकल गया. जिसे हम दोनो ने चाट-चाट कर सॉफ कर दिया.

फिर मैने उसके दोनो बूब्स को चूसना शुरू कर दिया. कुछ ही देर मे मेरा लंड खड़ा हो गया. अब मैने उसकी दोनो टॅंगो को पूरा खोला. और अपना लंड उसकी चूत के उप्पर सेट करके. एक जोरदार धक्का मारा जिससे मेरा लंड एक ही बार मे उसकी चूत की जड़ तक चला गया. मेरा लंड चूत मे जाते ही उसकी चूत मे से खून निकल गया.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!