बच्चे के लिए क्या किया

हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम नव्या ठाकुर है मैं महारसटरा से बिलॉंग करती हू. मैं भी अपनी रियल लाइफ स्टोरी आप लोगो से शेर करना चाहती हू. मैं अपने बारे मे कुछ आप लोगो को बता देती हू. मेरे मों दाद नही है. वो 10 साल पहले ही एक्सपाइर्ड हो गये है. हम 2 बहने है.

मेरी बहें का नाम स्नेहा है. उसकी शादी को 4 साल हो गये है और उससे 3 साल का लड़का है. उसका पति विकास बोहट ड्रिंक करता है यूयेसेस वाजसे से उसकी हालत खराब रहती है. मेरी बहें की लाइफ स्पायिल कर दी है.

हम लोगो ने विकास जीजाजी को बोहट समझीा पर वो नही मानते. मेरी बहें जीजाजी उसकी सास के साथ रहते है. डेली सास बहू मे लड़ाई होती रहती है. और विकास जीजाजी को इससे कोई फ़र्क नही पढ़ता है. स्नेहा दिखने मे गीतांजलि मिश्रा जैसी दिखती है. जो लड़को मे नज़र मे पर्फेक्ट मिलफ है.

मैं बिल्कुल ज़रीन ख़ान जैसे दिखती हू. और मेरी फिगर भी ज़रीन ख़ान जैसी है, 36-24-34 है. मेरी शादी को आज तक 3 साल हो गये है पर मेरा कोई बाचा नही है. मेरे पति एक हॅंडसम देविल है, मस्क्युलर बॉडी बोत हॅंड आंड बॅक पर टॅटूस है.

मेरे हज़्बेंड का नाम कबीर ठाकुर है. हम दोनो की लोवे मॅरेज है. मैं शादी के पहले से ही मेरे पति से बोहट चुड चुकी थी. मेरी फिगर के पिच्चे उन्हिका हाथ है. मेरी गांद जब तक लाल नही कर देते तब तक मुझे छोड़ते रहते है. मैं अपने पति से बोहट खुश हू.

पर अब शादी को 3 साल होने पर आ रहे है और मेरा कोई बाकचा नही है इसलिए मेरे सास ससुर मुझे टॉंट मारते रहते है. इसलिए मैने घर पर लड़ाई करके दूसरे घर ले लिया है, अब मैं और मेरे हज़्बेंड ही रहते है.

एक रात की बात है हम दोनो बोहट वाइल्ड हो कर चुदाई कर रहे थे.

कबीर – साली गांद उठा कर चुड. कुटिया आज भी तेरी छूट मे से पानी निकलता है जैसे पहली बार चुड रही है.

मैं- हा तो कामीने तू भी तो ऐसे छोड़ता है जैसे मैं तेरी बीवी है कोई रांड़ हू. छोड़ साले मदरचोड़ मैं तेरी रांड़ भी बन जायुगी. मुझे सिर्फ़ एक बाचा दे दे.

शायद कबीर मेरी बात पर नाराज़ हो गये और मुझे अलग हो गये. और मेरी तरफ़ देख रहे है.

मैं – क्या हुआ जान रुख़ क्यू गये?

कबीर- यार अपना बाकचा कब होगा. मैं भी अपना बाकचा चाहता हू.

मैं- तुम ऐसे टाइम पर रुख़ गये जब मेरा पानी निकालने ही वाला था.

कबीर – तुम्हारे पानी तो कैसे भी निकल डुगा पर बाचे का क्या.

मैं- गुस्से क्या यार कबीर तुम्हे भी अभी ये टॉपिक निकलना था. तुम तो ऐसे बोल रहे हो जैसे मैं मा नही ब्ना चाहती हू. या मुझे मे कोई कमी है.

कबीर- मैने ऐसा कब बोला यार.

मैं – जाओ यार मैं नही चूड़ना चाहती हू तुमसे अब. कल ही हॉस्पिटल चाहते है और देखते है ह्यूम बाकचा क्यू नही हो रहा है.

कबीर- यार गुस्सा क्यू हो रही हो. मैने तो सिर्फ़ ऐसे ही बोला लाओ तुम्हे छोड़ को शांत कर देता हू.

मैं – नही अब मेरा मूड नही है. कल हॉस्पिटल जाने के बाद ही अब हम सेक्स करेगे

और मैं गुस्सा हो कर सो गयी. पर मुझे कबीर का लंड इतना पसंद है की मैं उसके बिना सोना मुश्किल होते जा रहा था. पर मैं सो गयी.

मॉर्निंग मे कबीर ने मुझे उठाया और मेरे फोर्हेड पर किस किया. मैने कबीर को बहो मे भर लिया तब मुझे रात वाली बात याद आ गयी.

मैं कबीर से दूर हो गयी और गुस्से का नाटक कर रही थी. मैं फ्रेश हो कर नास्टा बनाया. कबीर ऑफीस के लिए जाने की तैयारी कर रहे थे तब

मैं – कहा जा रहे हो ह्यूम हॉस्पिटल जाना है. याद नही है क्या?

कबीर- मुझे लगा तुम गुस्से मे बोल रही है.

मैं – कोई गुस्सा नही. ह्यूम हॉस्पिटल जाना है. फिर ही तुम ऑफीस जाना.

कबीर- यार क्यू ऐसी बाते कर रही हो. अगर चेक उप मे कुछ ज़्यादा निकाला तो क्या करेगे. तुम वो सब हॅंडल कर नही पावगी.

मैं- मुझे वो सब नही पता ह्यूम हॉस्पिटल जाना है और चेक उप करना है. मेरा गुस्सा देख कर कबीर साँझ गये की मैं माने वाली नही हू. इसलिए कबीर ने ऑफीस से ऑफ ले लिया. और हम गयणेक्ोलोगीस्त के पास गये.

डॉक्टर को ह्यूम सब कुछ बताया. डॉक्टर ने ह्यूम टेस्ट करने कहा. मुझे भी और कबीर को भी. मीन्स मुझे सग टेस्ट और कबीर को स्पर्म टेस्ट. वो टेस्ट इतनी ख़तरनाक थी की मैं बीटीये नही स्क्ति. ह्यूम नेक्स्ट दे रिपोर्ट ले कर डॉक्टर के पास जाना था. हुँने किया. डॉक्टर रिपोर्ट देख कर बोली.

डॉक- कबीर की रिपोर्ट सब नॉर्मल है. उनका स्प्रेआं भी बोहट स्ट्रॉंग है. पर नव्या की रिपोर्ट मे बोहट कंप्लाइयेन्स है. नव्या को उनिकोरणुआते यूटरस है.

मैं – ( रोते हुए ) यानी मैं मे मा नही बन स्क्ति.

डॉक- बेटा रोते नही है. तुम मा बन स्क्ति हो पर इसमे बोहट कंप्लाइयेन्स होती है. और तुम्हे मेडिसिन भी टाइम पर लेनी होगी. और मैं तुझे डटे लिख कर देती हू. उस दिन आप लोगो को कॉंटॅक्ट करना होगा.

कबीर- माँ आप ने कहा नव्या मा बन स्क्ति है पर कंप्लाइयेन्स होगे इससे जाड़ा तकलीफ़ तो नही होगी ना?

डॉक- प्राब्लम तो होगी ही तुम्हे इसका पूरा ढयन रखना है. जैसे ही बेबी अचिवे हो गया तब तक बोहट ढयन रखना होगा.

ह्यूम डॉक्टर ने डटे लिख कर दी जिस दिन ह्यूम सेक्स करना था. मैं बोहट डिस्टर्ब हो गयी थी सोच रही थी मुझे मे ही क्यू ये प्राब्लम आई मैने कब किसका बिगाड़ा है ऑल तट.

पर कबीर ने मेरा पूरा साथ दिया. मुझे कोई चीज़ की कमी नही होने दी. अब हुमारे सेक्स करने का दिन आया. मैने मस्त खाना बनाया. कबीर ऑफीस से आए और मेरे लिए पं लेकर. हुँने खाया खाया और कबीर से मूड ब्नाने के लिए एक पॉर्न मोविए लगाई. हम बेड पर लेट कर मोविए देख रहे थे.

मोविए स्टार्ट होती है वो मोविए मे राचेल स्टार आयिल मसाज करते है. कबीर राचेल स्टार की बूब्स देख कर ही गरम हो गये. और मैं केरन ली का लंड देख कर.

क्या सनडर लंड है उसका मेरे कबीर का भी लंड वैसा ही है. जैसे जैसे मोविए मे आयिल मसाज आयेज बदती है वैसे वैसे कबीर अपने लंड का हाथ रखना सुरू कर देते है. मैने कबीर मे टशहिर्त मे हाथ दल कर उनके निपल पिंच किए. कबीर मेरी तरफ़ देखते हुए मुझे लीप किस करने लगे.

मेरे नेक पर किस करने लगे और मैं कबीर को अपने तरफ़ खिचने लगी. कबीर मे उपर आ गये और मेरे गाउन के उपर से ही मेरे निपल्स सक करने लगे.

मैं भी पूरा साथ दे रही थी मैने कबीर का सिर पकड़ कर मेरे बूब्स पर प्रेस कर रही थी. और सस्स्शह की आवाज़ निकल रही थी. कबीर वाइल्ड होते जा रहे थे.

उन्होने गाउन के उपर से ही मेरे निपल्स पकड़ लिए और ज़ोर से. मैं कसमाशा गयी. मैने कबीर का फेस पकड़ कर लीप किस करना स्टार्ट कर दिया. कबीर मेरे मूह मे अपनी ज़ुबान दल रहे थे और मेरी ज़ुबान से खेल रहे थे.

मैने कभी कबीर को इतना वाइल्ड होते नही देखा था. वो मेरे लेफ्ट बूब को ज़ोर ज़ोर से दबा रहे थे और मैं मोन कर रही थी. कबीर ने मेरे गाउन मे हाथ दल कर ज़ोर से खिछा की गाउन की सारी हुक्स टूट गयी.

मैं – क्या हुआ आज. वो पोर्नस्तर इतनी पसंद आ गयी क्या?

कबीर – साली तू ही मेरी पोर्नस्तर है. देख आज कैसे कुटिया जैसे छोड़ता हू तुझे.

मैं – छोड़ ना तो साले बोहट गर्मी है ना तुझे मे निकल मेरी छूट मे सब.

कबीर- साली आज तो तेरी छूट का भोसड़ा ब्ना डुगा. तुझे वो पोर्नस्तर का लंड पसंद आया ना. देख आज मेरे लंड की दीवानी कर डुगा.

कबीर बारी बारी मेरे बूब को मूह मे लेकर बाकचो की तारह सक कर रहे थे. मैने कबीर के शॉर्ट्स मे हाथ डाला तो मैं दर गयी क्यूकी आज कबीर का लंड बोहट फूल गया था.

मैं- क्या बात है आज तो तुम्हारे लंड बोहट फूल गया है. और मैने शॉर्ट्स के अंदर ही लंड पकड़ कर मूठ मारना स्टार्ट कर दिया.

कबीर – आज मूह मे लो ना.

मैं – नही तुम्हे पता है ना मुझे अक्चा नही लगता.

कबीर-यार एक बार तो ट्राइ करो.

मैं-नही प्लीज़ तुम चाहते हो तो किस करती हू.

कबीर – ठीक है पर अकचे से करना. आज तक तुमने कभी नही किया है. कबीर मेरे उपर से हट गये और बेड पर लेट गये मैने कबीर की शॉर्ट्स निकली. और लंड हाथ मे लिया. उससे प्यार से उपर नीचे किया. कबीर आख बंद करके लेते रहे.

मैने लंड पकड़ कर किस किया. 2-3 बार किया तो कबीर ने मेरे सिर को पकड़ कर लंड पर प्रेस किया कबीर का लंड मेरे लीप पर प्रेस होते जा रहा था. मैने लंड के टू को डाट के बीच मे लिया और डाट दबा दिए.

कबीर को पाईं हुआ तो कबीर ने मेरा सिर पकड़ कर फुल फोर्स के साथ सिर निच्चे किया. जिससे मे मेरा मूह खुल गया और लंड मेरे गले के एंड तक चला गया. मैने जल्दी से लंड मूह से निकाला और खसने लगी.

मैं- क्या यार प्लीज़ ऐसा मत करो. मुझे पसंद नही है.

कबीर- एक बार तो ले लिया फिर से करो.

मैं-नही मुझे नही करना है.

कबीर- साली तेरी छूट ही मार के शांत करता हू मेरे लंड को. कबीर ने मेरा गाउन निकल कर फेक दिया और मुझे पकड़ के खुद मूह पर बैठने का कहा. मैने अपनी पनटी निकली और जल्दी से कबीर के मूह पर बैठ गयी.

अब सीन ये था की कबीर लेते है और मैं अपने पाओ फैला कर कबीर के मूह पर बैठी हू. उन्होने अपनी ज़ुबान निकली और मेरी छूट मे डाली. कबीर जब ऐसा करते है तो मुझे बोहट आछा लगता है.

कबीर – साली तेरी छूट इतनी गीली हो गयी है.व्जेसे मैं पहेली बार ऐसा कर रहा हू.

मैं – हरमखोर तुम इतना गरम करोगे तो छूट से पानी ही निकलेगा ना.

और मैं कबीर के हेर पकड़ कर अपनी छूट कबीर के मूह पर जिस रही थी. कबीर अपनी ज़ुबान से मेरी छूट गीली कर दी. 5-7 मीं छूट चाटने के बाद मैं अपना पानी निकल दिया. और कबीर वो पीते जा रहे थे. मैं शांत हो गयी.

पर अब बारी कबीर की थी. उससे शांत करना मुश्किल है. कबीर ने मुझे किस करना स्टार्ट किया मैं बेड पर पड़ी थी. उन्होने मेरे दोनो बूब्स पकड़ कर दबाने लगे. फिर मुझे घुमाया और मेरी नंगी पीठ पर ज़ुबान घूमने लगे.

मैं फिर से गरम होने लगी कबीर मेरी गांद तक पॉच गये को गांद को काटने लगे. मैं सिर्फ़ सस्स्शह कर रही थी. कबीर ने मुझे डॉगी स्टाइल मे किया और मेरी गांद के छेड़ को अपनी ज़ुबान से टच किया मुझे मे करेंट धोड़ गया. और मैं फुल्ली कुटिया जैसे चार्ज्ड हो गयी.

कबीर ने अपने हाथ से अपना लंड पकड़ मेरी गांद को अपने लंड से मार रहे थे. फिर डाइरेक्ट मेरे छूट मे लंड दल दिया. मैं करा उठी और ज़ोर से बेडशीट पकड़ ली. कबीर डॉगी स्टाइल मे मुझे छोड़े जा रहे थे और मैं पागलो की तारह अपनी गांद कबीर के लंड पर मार रही थी.

उन्होने मेरी गांद पकड़ी और दाना दान मे शॉर्ट मार रहे थे. कबीर अग्रेसिव हो गये और मेरे मेरे बाल पकड़ कर पिच्चे खिच कर मुझे कुत्टो की तारह छोड़ रहे थे. 10 मीं से जाड़ा हो गये मेरा पानी निकल गया पर कबीर शांत होने का नाम नही ले रहे थे.

मैं – हब्बी मैं तक गयी हू, तुम्हारा हुआ नही क्या?

कबीर- बस थोड़ी देर और हो जाएगा.

मैं – मुझे लेट मे दो, मैं अब और नही सह सकती.

कबीर ने मुझे मिशनरी पोज़िशन मे किया और मेरे गांद के निच्चे पिल्लो रख दी. जिससे मेरी छूट उपर आ गयी. कबीर ने फिर से लंड पकड़ कर मेरी छूट पर गिसने लगे. और एक ही करके पूरा 7.5 इंच का लंड अंदर दल दिया.

मेरी बेचारी छूट काप गयी. 5 मीं बाद कबीर ने कहा मेरा होने वाला है तो मैने कबीर की नेक पर काटना स्टार्ट कर दिया. और कबीर ने मेरी छूट अपने पानी से भर दी. कबीर का पानी इतना निकाला की मेरी छूट भर गयी और पानी छूट से हो कर पिल्लो पर गिर रहा था.

मैं-क्या बात है आज तो मज़ा ही आ गया.

कबीर – हा तूने भी तो मेरे पूरा लंड निगल लिया था.

मैं- मेरी पूरी छूट दर्द कर रही है.

कबीर- मैने किस कर डू ठीक हो जाएगी.

मैं – नही मुझे कपड़े दे दो, तुमने तो मेरा गाउन फॅट दिया है.

कबीर- नही ऐसी ही नंगी सो जाओ.

अब तक के लिए इतनी स्टोरी हो गयी. आयेज पता करने के लिए मुझे रेस्पॉन्स कीजिए. क्या मैं मा बनती हू या मेरी लाइफ कैसे चेंज होती है पता करने के लिए स्टोरी पर बने रहिए. तब तक के लिए बाइ.

यह कहानी भी पड़े  ओओओओःह्ह्ह.. भाभी चुदाई की कहानी - 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!