स्वामी जी का इलाज

आज मैं वो कहनि अपको सुनने जा रहा हु वो ममि कि सवमिजि से मुलकत कि है। मैं जब दोबरा ममि के यहा गया तो उनसे सवमि जि के पास चलने के लिये बोला। मैने उनसे बता दिया कि मैने उनके लिये सवमिजि से समय लिया है। मैं ममि के यहा सतुरदय को गया था। सुनदय को सवमिजि किसि से मिलते नहि थे। इसलिये मैने ममि से सुनदय को सवमिजि के पास चलने के लिये बोला। ममि तैयर हो गयि। उनहोने अपने लदकि को एक रिसतेदर के पास छोद दिया और मेरे साथ सवमिजि से मिलने चल दिया। जब हमलोग सवमिजि के अशरम पर पहुचे तो उस समय साम के छे बज रहा था। सवमि जि अकेले हि थे।मैने सवमिजि को पैर छुकर परनम किया तो सवमिजि ने खुस रहो कहके असिरवद दिया। ममि ने जब उनको परनम किया तो सवमिजि ने ममि के पिथ पर हनथ फेरते हुए अशिरवद दिया और दोनो हनथ से उनके कनधे को पकद कर उथया।

कुछ देर अराम करने के बाद सवमिजि ने ममि को नहने के बाद पुजा पर अकर बैथने के लिये बोला तो मैने अशरम के मेन गते को बनद कर के उपर चला गया और ऐसे जगह पर बैथा जहा से सब कुछ साफ़ दिखै दे रहा था। ममि नहने के बाद दुसरा कपदा पहन कर आके सवमिजि के सामने बैथ गयि। सवमिजि ने अखे बनद कर लिया। अनखे बनद करने के बद सवमिजि ने कुछ देर तक मन मे कुछ गुनगुनते रहे। इसके बाद उनहोने मामि के सर पर हनथ रख कर ममि के बरे मे सबकुछ बतया जो मैने उनसे बतया था । इस तरह ममि को अपने बिसवस मे ले लिया।

यह कहानी भी पड़े  एक नेट फ़्रेन्ड की मस्त चुदाई- सच्ची कहानी

अब सवमि जि ने ममि से बोले ‘ अब तेरे पति का अतमा मेरे यहि पास मे आ चुका है। वो तुमसे मिलना चहता है। लेकिन वो सिधे तुमहरे अनदर नहि आ सकता इस के लिये मैं उसे अपने अनदर बुलता हु। मैं जो भि कहुनगा उसे तुम चुपचप करते जना। ममि ने सर हिला के उनका जबब दिया। अब सवमिजि ने अख बनद के उनसे बोला वो तुमसे समभोग करना चहता है। इसके लिये तुम बिलकुल हि निरवसत्रा हो जओ। ममि ने खदा होकर अपने तन के सरे कपदे उतर दिये और अब वो सवमिजि के सामने बिलकुल हि ननगि खदि हो गयि। सवमिजि ने अखे खोल कर ममि को पास पदे बेद पर जाकर लेत गयि। अब सवमिजि वहा से उथ कर जब ममि के पस पहुचे तो उनके हनथ मे तेल कि एक दिबि थि। सवमिजि ने ममि के पुरे ननगे बदन को धयन से देखते रहे। इसके बाद सवमिजि ने ममि के चुद पर तेल दल दिया। तेल दलने के बाद सवमिजि ने ममि के चुद के कोमल बालो को सहलना सुरु किया ।ममि ने अखे बनद करलिया। कुछ देर के बाद सवमिजि ममि के जनघ पर बैथ गये और ममि से बोले ‘अब वो तुमहरे अनदेर जना चहता है’। इतना कहकर सवमिजि ने जैसे हि अपने लुनद , जो लगभग 8″ लमबा और 2″चौदा था, ममि के चुद के लिये जो कि 5″ कि थि, के लिये बहुत बदा था को चुद पर सता दिया।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!