बाप से चुदी बेटी की कामुकता स्टोरी

लास्ट स्टोरी में आपने देखा की पापा मों के सेक्स के दरमियाँ कॉल उठ गयी, जिसे मैं सुन रही थी. और वाहा पापा के बेडरूम पे पापा का लंड मों के मूह में था, और पापा उसे अंदर-बाहर कर रहे थे. वो आ आ कर रहे थे.

मों: डार्लिंग, अब तुम्हारी बारी.

तो मों बेड पे अपनी टांगे फैला कर लेट गयी, और पापा उनकी चूत को चूसने लगे. मों मोन कर रही थी. कुछ देर मोनिंग के बाद, आवाज़ और पोज़िशन चेंज हुई.

मों: लो, अब असली खेल शुरू करते है. जल्दी से मेरी छूट में लंड डाल के छोड़ दो मुझे.

पापा: एस डार्लिंग. वही तो है जो हर एक लड़की या औरत को आख़िर-कार चाहिए होता है. चाहे कुवारि हो या शादी-शुदा, सब को लंड चाहिए. ये ले.

और पापा ने मों की छूट में लंड घुसा दिया, और उनको छोड़ने लगे. मों भी आ आ की आवाज़े निकालने लगी. कुछ देर की चुदाई के बाद वो झाड़ गये, और चुदाई का खेल ख़तम हुआ. यहा उनकी ऑडियो सुन के मैं फिरे हो चुकी थी. मुझे लगा, की अब मुझे कॉल को कट कर देना चाहिए. पर शैतान मॅन ने मुझे रोका, और मैं उनकी बातें सुनने लगी.

मों: आज तो बहुत मज़ा आया. क्या खाया था तुमने? ठीक है अब चलिए. अब आप पहले वॉशरूम में जेया कर फ्रेश हो आइए, फिर सो जाते है.

पापा: आज डार्लिंग, तुम पहले वॉशरूम हो आओ. मैं फिर आता हू. तोड़ा तक गया हू.

मों: ठीक है.

और वो वॉशरूम चली गयी.

पापा (अपने लंड को वापस हिलने लगे, और हल्की आवाज़ में बोलने लगे): आ डार्लिंग, आज मैने कुछ खाया नही था, बल्कि तुम्हे अनु इमॅजिन करके छोड़ा था. आ, क्या माल है अनु, बिल्कुल अपनी जवान मों लगती हो तुम. आ, मुझे पता है की ये तोड़ा मुश्किल है, पर तुम्हे जो छोड़ने को मिल जाए तो जन्नत मिल जाए. अया, मों की तो वर्जिन नही मिली, पर उसके बदले बेटी की मिल जाए तो कितना मज़ा आ जाए.

पापा: आ अनु, ई लोवे योउ. ई वॉंट तो फक योउ अनु डार्लिंग. कब डोगी अपने पापा को? कब चूड़ोगी उनके लंड से? आ, काश उपर वाला कुछ ऐसा जुगाड़ कर दे, तो मज़ा ही आ जाए.

उतने में कॉम की आवाज़ आई-

मों: अर्रे, ये क्या कर रहे हो तुम?

पापा: कुछ नही, कुछ नही.

और हड़बड़ाहट में पापा ने बेडशीट को खींचा और फोन के गिरने की आवाज़ आई, और फोन कट हो गया.

ये कॉल सुन के तो जैसे मेरे होश उडद गये की मेरे पापा मुझे छोड़ना चाहते थे. मेरा तो दिमाग़ काम करना बंद कर दिया. मुझे चुदाई की इक्चा तो थी, पर इस कॉल ने मेरे दिमाग़ में काई सवाल खड़े कर दिए.

मैं वाहा बैठ कर अपने ख़यालो में डूबी हुई थी की कब रूम में सीमा एंटर हुई, और मेरे बगल में आ कर बैठ गयी, मुझे पता ही नही चला. उसने मुझे झंझोढ़ दिया.

सीमा: हेलो, कहा खो गयी है?

मे: अर्रे कुछ नही.

सीमा: अब बता भी दे, तेरी जैसी स्मीली गर्ल को डीप थिंकिंग सूट नही करती.

मे: कुछ नही सीमा, तू नही समझेगी.

सीमा: अर्रे बोल भी दे, छूट शेर की है, अब एक बात भी शेर नही कर सकती. मुझपे यकीन नही है क्या?

मे: ऐसी बात नही है, यार. पर इसमे फॅमिली इन्वॉल्व्ड है.

सीमा: तो क्या हुआ? (मेरे हाथ दबाते हुए) मैं फॅमिली नही हू क्या? बता भी दे. शायद मैं तुम्हारी हेल्प कर साकु.

मैं सीमा की और देखने लगी, की ये कैसे हेल्प कर सकती थी मेरी.

सीमा: अगर हेल्प नही कर सकूँगी, तो अट लीस्ट तेरा सीक्रेट किसी को बता भी नही दूँगी. ई प्रॉमिस.

मे: ठीक है सीमा. तो बात दरअसल ये है की मेरे पापा मुझमे इंट्रेस्टेड है.

सीमा: इंट्रेस्टेड मीन्स?

मे: मीन्स हे वांट्स तो फक मे. वो मुझे छोड़ना चाहते है.

सीमा: और ये तुम्हे कैसे पता चला?

और मैने सीमा को पूरा किस्सा बता दिया, की कैसे फोन पे मैने पापा की सारी बातें सुनी, और वो मुझे छोड़ने के लिए कितने एग्ज़ाइटेड थे.

सीमा: वाउ यार, तेरे पापा तुझे छोड़ने के लिए कितने एग्ज़ाइटेड है.

मे: क्या यार तू भी, वो पापा है. मेरे बारे में ऐसा कैसे सोच सकते है.

सीमा: तेरे पापा होने के साथ-साथ क्या वो मर्द नही है? अगर उनका लंड तेरी छूट में जाएगा, तो तुझे मज़ा नही देगा? आज-कल तो लड़के चुदाई के लिए सबसे पहले घर की औरतों पे ट्राइ मारते है, फिर वो मों हो या सिस्टर. तो फिर हम क्यूँ पीछे हटे?

मे: यार, पर मैं उनसे ये सब कैसे? तेरे लिए ये कहना आसान है, अगर तू मेरी जगह होती तो तू क्या करती?

सीमा: मैं खुशी-खुशी पापा से छुड़वा लेती. अगर वो रेडी है, तो उनको भी थोड़ी हॅपीनेस देने का फ़र्ज़ हमारा नही बनता क्या? अगर उनकी बीवी से वो सॅटिस्फाइ नही है, और कही बाहर जाके किसी औरत को छोड़े, बदनामी हो, पेरेंट्स के बीच झगड़े हो. इससे अछा हम ही उनको हॅपी रखे.

मे: यार, फिर भी ये तोड़ा मुश्किल है.

सीमा: ब्फ हमे कुछ टाइम घूमता है, कुछ गिफ्ट्स देता है, और पापा हमारे लिए कितना कुछ करते है बचपन से लेके जवानी तक. और जवानी में हम से कुछ उमीद रखे तो बुरा क्या है?

मे: ह्म.

सीमा: और मेरा भी एक सीक्रेट है, जो मैने आज तक किसी को नही बताया. मैने भी अपने दाद से चुडवाया है.

मे: क्या? कैसे? कब?

सीमा: जब मैने नयी-नयी चुदाई की शुरुआत की थी, तब एक बार पापा ने मुझे मेरे ब्फ के साथ बिके पे जाते हुए फॉलो किया. वो अपने फ्रेंड के फ्लॅट पे ले गया. और जब हमने अंदर अपना कार्यक्रम शुरू ही किया था, की पापा ने दरवाज़ा खटखटाया, और ह्यूम रंगे हाथो पकड़ा.

सीमा: वो चुप-छाप कुछ तमाशा किए मुझे घर ले आए. बीच रास्ते मैं मेरे तनने हुए निपल्स उनको पीठ पे चुभ रहे थे, और मेरी बॉडी के टच से शायद वो एग्ज़ाइट हो गये थे.

सीमा: घर जाते ही वो मुझे मेरे बेडरूम में ले गये. मैने मार्क किया तो उनका लंड भी टाइट हो चुका था, और वो मुझे दाँत-ते मेरे बूब्स को ताड़ रहे थे. फिर अचानक उन्होने मुझे पकड़ कर अपने पास खींचा और बोले, “अगर इतनी ही गर्मी है तेरे अंदर तो आज मैं सारी निकालता हू.”

सीमा: फिर उन्होने मुझे पकड़ कर किस किया, और बूब्स मसालने लगे. फिर मुझे नीचे बिता कर अपना लंड मेरे मूह में दिया. मैं भी चुदाई के लिए एग्ज़ाइटेड थी. वाहा ब्फ के साथ जो काम अधूरा छ्चोढ़ कर आई थी, वो पापा के साथ पूरा करने का मॅन बना लिया मैने.

सीमा: फिर उनके लंड को मूह में भर के सक किया. फिर हमने अपने कपड़े उतारे, और 69 की पोज़िशन में एक-दूसरे को सक किया.

सीमा: फिर पापा ने मुझे बेड पे लिटा कर प्यार से मेरी छूट में लंड को डाल कर मेरी चुदाई शुरू की. एक बात काहु तो एक्सपीरियेन्स वाले मेच्यूर मर्दों से छुड़वाने का मज़ा ही कुछ और है. वो आपको पहले आचे से गरम करते है, सहलाते है, तुम्हारी बॉडी के हर पार्ट को प्यार करते है, और लास्ट में प्यार से छोड़ते है.

सीम: पापा ने उस दिन मुझे छोड़ा, और चुदाई के बाद मुझे एक चीज़ कही थी, जो मुझे आज भी याद है. उन्होने कहा था, “बेटा, तुम्हे छोड़ के आज सच में मज़ा आया. मेरी जवानी के दिन याद दिला दिए, पर अगर तू आज वर्जिन होती, और अपनी छूट की सील मेरे से तुद्वति, तो मज़ा ही आ जाता.”

सीमा: तो अनु डार्लिंग, अब तुझे डिसाइड करना है की तुझे अपनी सील अपने पापा से तुड़वणी है, या किसी अंजान लड़के से.

और फिर कुछ देर बातें करके हम सो गये. मैं जब घर आई, तो मेरे दिमाग़ में यही सब घूम रहा था, और मेरा पापा को देखने का नज़रिया चेंज हो गया था. जिससे हुआ यू, की पापा का बिहेवियर भी मेरी और चेंज होने लगा था.

वो मेरे लिए चॉक्लेट्स और गिफ्ट्स लाने लगे, मुझे बिके पे पीछे बिता के शॉपिंग करने लगे, और रास्ते में ब्रेक्स भी मारने लगे. मुझे भी उनका साथ अब अछा लगने लगा था.

तो आयेज क्या होता है? क्या मैं पापा से चुड जाती हू, या नही? ये पढ़िएगा नेक्स्ट पार्ट में. अपने व्यूस/कॉमेंट्स हमारी एमाइल ईद लज़्यलीहास@गमाल.कॉम पे ज़रूर भेजिएगा.

यह कहानी भी पड़े  मकान मालिक के चुड़क्कड़ ऑफर की कहानी


error: Content is protected !!