बाप ने मारी बेटी की गांद

तो मई सीधा अपनी कहानी पे आती हू.

ये बात तब की है जब मेरी छुट्टी चल रही थी. मई घर के सारे काम करती और पापा सुबा शॉप पे जाते और शाम को 5 बजे घर पे आ जाते है. खाली टाइम पे मई अपनी बॉडी का काफ़ी ध्यान रखती और टाइम तो टाइम मई अपनी बॉडी की शेव भी करती. और अपनी छूट को काफ़ी चिकना रखती हू.

ये बात तब शुरू हुई जब मई नहा रही थी सुबा 5 बजे. और ये बात शायद पापा को पता नही थी. जब मई नहा रही थी तब पापा अचानक से बातरूम का गाते खोले के घुस गये और उनने मुझे नंगी देख लिया. कुछ सेकेंड तक वो देखते रह गये और उनका लंड भी खड़ा हो गया. फिर वो सॉरी बोलके जल्दी चले गये.

जब मई नहा के निकली तब हम दोनो नज़रे भी नही मिला पा रहे थे. पापा का लंड अभी भी खड़ा था और उनने फिर से मुझे सॉरी बोला. तब मैने उन्हे बोला कोई बात नही.

लेकिन अगली रात को देखा की पापा बेड पे नही है. तो मैने हॉल मे देखा की पापा वाहा मेरी फोटो को देख कर मस्तेरबाटे कर रहे है. तब मुग्जे काफ़ी बुरा लगा. लेकिन मई उन्हे कुछ नही कहे सकती थी.

फिर तबसे वो मुझे टच करने के बहाने ढूनडते रहते और वो हर रात को मेरी कमर सहलाते रहते थे. कभी कभी तो उससे मेरी छूट गीली हो जाती.

मई रत को ब्रा निकल के सोती हू तो मई सनडे को लाते उठी. मैने देखा की मेरी ब्रा पे कुछ सफेद चीज़ गिरी थी. गोर से मैने उसे देखा तो समझ गयी पापा ने मेरी ब्रा से मास्टरबेट किया है. फिर एक दिन पापा ने बोला आज के दिन मैने 5000 र्स कमाए है, चल एक रोड ट्रिप पे चलते है मनाली.

तो मई उसके लिए मान गयी लेकिन पापा ने बोला की मेरी पॅकिंग भी तू कर डियो. मई उस पर मान गयी. फिर जब हम सुबा निकालने वेल थे तो पापा ने मुझे एक बहोट ही टाइट नाइट वेर दिया. जिसमे मेरी पतली टाँगे पूरी सॉफ दिख रही थी.

उसे देख कर मैने पापा के मॅन की बात पूरी तरह जान ली फिर भी मई कुछ नही बोली. जब हम गाड़ी मे थे पापा ने बहोट रोमॅंटिक हॉलीवुड मोविए गाड़ी के टीवी मे लगा रखी थी.

फिर पापा ने बोला चलो थोड़ी गाड़ी तुम चला लो अभी रोड खाली है. तो मई मान गयी. पापा कभी जान भुज कर अपना हाथ गियर पे रख देते थे और कभी मेरी टॅंगो पर और खेटे आराम से चलाओ.

कुछ देर बाद हम मनाली के पहले एक होटेल मे रुक गये एक ही रूम पे रात काटने के लिए. फिर मई वोही वाली ड्रेस पहन ली. उसमे पापा मुझे देखते रह गये.

फिर रात को हम दोनो साथ मे सो गये. जान भुज के वो रात मे मेरे ब्रेस्ट पे हाथ रख के दबा रहे थे. लेकिन मई सोने की आक्टिंग कर रही थी फिर पापा ने मुझे आवाज़ दी की रिया रिया…

लेकिन मई सोने की आक्टिंग कर रही थी. थोड़ी देर बाद पापा मेरी गांद सहलाने लग गये. फिर थोड़ी देर बाद वो सो गये लेकिन उससे मेरी छूट को अब लंड की तलब लगने लग गयी थी.

अगले दिन निकलते वक्त मैने बहोट ही टाइट कपड़े पहने. पापा ड्राइव कर रहे थे, मैने जान भुज का अपना पवर बॅंक पापा के पेर के तरफ गिरा दिया. और मैने अपना हाथ पापा के लंड से लेके गयी और पवर बॅंक उठाया. उनका लंड फिर से खड़ा हो गया.

फिर आगरा साइड जब फोचे तो वाहा बार्रिश होने लगी. तो मैने बोला की पापा किसी ढाबे पे रुक के पकोड़ी खाते है. तो पापा भी मान गये फिर मैने एक कोल्ड्रींक की बॉटल ली और जान भुज के अपने उपर गिरा ली.

मैने पापा को बोला किसी ऐसे जघा ले चलो झा कोई आता ना हो वाहा मुझे चेंज करना है. तो पापा ने बोला ओक.

फिर पापा ने एक जंगल के एरिया मे गाड़ी रोकी और बोला तुम चेंज कर लो मई बाहर हू. मैने बोला की ओक फिर 2 मीं बाद पापा को बोला की मेरा बटन नही खुल रहा. तो मैने कहा की प्लीज़ आप खोल दो. तो वो शरमाने लगे लेकिन फिर उनने जब देखा तो वो मेरी नेट वाली पनटी को देख कर मुझे देखने लगे.

मैने कहा की मेरी ब्रा भी गिल्ली हो गयी है प्लीज़ आप उसे अनहुक कर दो. तो पहले पापा शरमाये लेकिन उनने जब वो खोली तो मैने चुप छाप गाड़ी की के से उसको लॉक कर दिया. और मैने जल्दी ब्रा को हटा दिया.

फिर मैने कहा की पापा आप गये नही?

तो उनने बोला की बेटा वो डोर लॉक हो गया था.

मैने बोला पापा आप रात को भी मेरे ब्रेस्ट पे हाथ लगा रहे थे…

तो वो चुप गये.

मैने बोला मई जानती हू की आप मुझे यहा क्यू लाए हो. तो मैने कहा की चलो आप किसी होतोल मे फिर बात करते है.

फिर मैने पापा से पूरे रास्ते बात नही की. वो जबकि बात करने का ट्राइ कर रहे थे. फिर हम होटेल मे गयी, पापा ने मुझे वाहा सॉरी बोला फिर मैने बोला की आप जाओ मेरे लिए खाना ले के आओ.

मैने वो ही निघट्य पहनी थी जो पापा मेरे लिए लाते थे. जब पापा ने मुझे देखा तो वो कुछ बोले. मैने रूम लॉक कर दिया और उन्हे किस करना स्टार्ट कर दिया. उनने मेरे सारे कपड़े निकाले और मेरे से अपना लंड चुस्वाया.

अब पापा पूरे मेरे काबू मे थे. फिर मैने पापा को बोला की मेरी छूट छातो तो वो चाटने लगे. फिर हम 69 पोज़िशन मे आ गये.

थोड़ी देर बाद उनने मुझसे कहा की चल अब घोड़ी बन जेया. तब मई तुरंत घोड़ी बन गयी. उन्होने अपना लंड पहले मेरी गांद पर रगड़ना चालू किया और फिर मेरी गांद मे डाल के मेरी गांद मारना चालू कर दिया.

लेकिन मुझे उसमे काफ़ी पाईं हो रहा था और मज़ा भी आ रहा था. फिर मैने उन्हे कहा की चलो अब मेरी छूट मारो. लेकिन उनने बोला की पहले तो तेरी गांद ढीली करूँगा!

फिर उनने कहा की अभी कॉंडम भी नही है इसलिए गांद मरवा तू. पापा मेरे फीट को सक करने लगे जिससे मुझे काफ़ी मज़ा आ रहा था. फिर मैने उन्हे फीट जॉब दी और वो साथ ही साथ मेरी पनटी को सूंघ रहे थे जिससे वो पागल हो रहे थे.

उसके बाद जब उनका लंड खड़ा हुआ तो उनने मेरे मूह मे अपना लंड दिया. और काफ़ी बुरी तरहा से मेरे मूह मे अपना लंड डाला और मेरा मूह छोड़ने लगे.

मेरी दो बार उल्टी भी हुई लेकिन उन्हे कुछ फराक नही पड़ा. वो ये चिल्ला रहे थे की बहोट दिन बाद क़िस्सी के मूह मे दिया है आहह मज़ा आ गया.

बाकी की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट मे.

यह कहानी भी पड़े  घर की रंडीया - परिवार मे सेक्स कहानी

error: Content is protected !!