बाप और भाई के साथ एक रात मस्ती

ही मेरा नाम रूचि है, ई आम 23 एअर ओल्ड. मेरी फॅमिली मे मई मेरी मम्मी पापा और एक छोटा भाई है. मेरा भाई मुझसे 4 साल छोटा है. मेरे पेट मे कोई बात नही पचती शुरू से ही. जब तक मे वो बात किसी को बता ना डू. इसलिए मई इस साइट पे यह स्टोरी शेर करने जेया रही हू.

बात लगभग 5 एअर पहले की है. मई शुरू से गर्ल्स कलाज मे स्टडी की हू. लड़को से तो मैने बात तक नही की कभी. बुत जैसे मे 18 की हुई तो अंदर से कुछ कुछ होता था. के सेक्स क्या होता है, कैसे होता है.

फिर यह प्राब्लम मैने अपनी सहेली से शेर की. तो उसने मुझे कुछ वीडियोस प्रवाइड की. उसमे मैने सेक्स देखा और अंदर से कुछ कुछ होने भी लगा तो उसने एक फिंगरिंग वाली वीडियो भेजी. मेरी सहेली ने कहा के ऐसे देख के कॉपी कर आंड सेम ऐसा करने से कुछ आराम मिल जाएगा.

मुझसे फिंगरिंग ठीक ढंग से तो नही हुई बुत पहले से बेटर फील किया. फिर बार बार वीडियोस देखने से माइंड मे गंदी बातीं आने लगी. फिर मुझे भी प्रॅक्टिकल करने का मॅन करने लगा. बुत बाहर जाने तक से डरती थी. क्यूकी मेरा दाद का बिहेवियर बहुत स्ट्रिक्ट था.

बुत अंदर कुछ कुछ होता था उसके कारण मे पढ़ भी नही पाती थी. तो मैने यह बात मेरी सहेली से शेर की तो उसने बोला के देख अगर खुद की खुशी चाहिए तो तोड़ा ग़लत काम भी करना पड़ेगा.

तो मैने उससे कहा के क्या करना पड़ेगा? उसने कहा तेरा छोटे भाई को इन सब बातून के बारे मे पता तो नही है के सेक्स क्या होता है, कैसे करते है. मैने कहा नही. बुत यह क्यू पूछ रही हो?

उसने कहा के अगर तुम अपने भाई के साथ कुछ कुछ कर के देख लो. तो मैने कहा नही यार हे इस मी ब्रदर आंड मैने फोन रख दिया.

मुझे हॉबी सी हो गयी थी वीडियोस देखने की. मुझे ब्लोवजोब टाइप वीडियोस ज़्यादा पसंद आ रही थी. सोचती रहती के कैसा लगता होगा मूह मे डालने से. ये ही सोच कर कभी फिंगर टेस्ट कर के देखती तो कभी उसी शेप की वेगीतब्ले.

फिर एक दिन सुबह मेरा भाई नहा रहा था तो मैने उससे कहा के मैने टायर हो के कलाज जाना है, जल्दी बाहर आ. वो जान बुझ कर और ज़्यादा टाइम लगाने लगा.

मैने गाते ओपन कर दिया और कहा – मार खाएगा चल जल्दी से बाहर जेया.

आंड वो नांगु पंगु नहा रहा था तो उसकी नूनी देखी मैने. ठीक तक थी. जैसे वीडियो मे थी वैसे तो नही थी. मई रियल मे फर्स्ट टाइम देख रही थी.

तो नज़र ही नही हट रही थी. इतने मे वो बाहर गया आंड मे नहाते टाइम भी सोचती रही अपने सहेली की बात आंड जो सीन आज देखा. मैने कलाज जाते टाइम भी यही सोचा आंड फिर आइडिया आया मुझे.

मेरी मों को नींद दी मेड की आदत है उन्हे नींद नही आती उनके बिना. तो मों तो बाहर गयी हुई थी. मई कलाज से घर आते ही उनके रूम मे जेया कर वो नींद की टॅबलेट उठा ली आंड शाम का वेट किया.

उसके बाद अपने भाई को थोड़ी सी खाने मे और फिर ढूढ़ मे मिला के दे दी. मैने दाद के दूध मे भी मिक्स करदी क्यूकी हमे रूम लॉक करना अलो नही था. अगर दाद आ जाते तो पंगा हो जाता.

फिर मुझे तो एक्शितमेंट के मारे नींद नही आ रही थी. मैने सोचा था के ओन्ली चूस के देखुगी जैसे वीडियो मे करते है. फिर मैने अपने भाई को उठा के देखा वो उठा नही. नींद की गोली ने असर कर दिया था. फिर मैने ढेरे से उसके नीचे पार्ट पर हाथ लगाया.

मेरी दिल की धड़कन तेज़ थी और हाथ भी कांप रहे थे. मैने हिम्मत करने लोवर को नीचे किया और टच करके देखा और जैसे वीडियो मे मूह मे ले कर करते है वैसे करने का ट्राइ किया. 1-2 बार तो हुआ नही मुझसे फिर बार बार ट्राइ पे होने लगा.

एक तो उसका नुणु भी छोटा था. फिर थोड़ी देर बाद मैने उपर बैठ कर नीचे इनसर्ट करने की ट्राइ करी. बुत अंदर जेया ही नही रहा था. बार बार मूड जाता था. कोशिश कर कर के मे सू ही गयी. सुबह उठी तो माहूल नॉर्मल था.

फिर मैने सोचा आज दुबारा ट्राइ कर के देखुगी आंड मेरा ध्यान उसके नुणु की तरफ ही था. अचानक से मॅन का ख़याल पापा की और दोल गया. मैने सोच पापा का तो बड़ा होगा.

मम्मी की तो मोज है पूरी और मैने सोचा क्यू ना पापा पे ट्राइ करू नींद की गोली दे कर. दर भी था अगर जाग गये तो मार ही डालेंगे.

कलाज जाते और आते टाइम यही सोचती रही आंड आख़िर मे मैने थोड़ी सी ज़्यादा डॉस डाल दी दूध मे और रात को डरते डरते पापा के रूम मे गयी. दिल भूत ज़ोर से धक धक कर रहा था के अगर जाग गये तो.

मैने तोड़ा खड़का कर के उठाने की कोशिश की. बुत डॉस ज़्यादा की वजह से बेहोश टाइप से हो गये थे.

मैने उनके पाजामे पे हाथ रखा. हाथ कांप रहे थे, फिर हिम्मत करके कहा आज नही तो कभी नही. मैने पाजामा धीरे से नीचे कर दिया. फिर अंडरवेर धीरे से नीचे किया, कही जाग ना जाए.

उनका नुणु कला सा था बुत साइज़ ठीक था. मैने जब हाथ से हल्का हल्का टच किया तो उनमे मूव्मेंट हुई. मैने तो सोचा आज मई गयी बुत कुछ नही हुआ आंड वो सू रहे थे. आंड वो भी भी मेरा हाथ मे था आंड तोड़ा तोड़ा बड़ा हुआ हुआ था.

मैने बिना टाइम वेस्ट किया. एक क़िस्सी की उसपे आंड मूह मे दल लिया. 5 मीं बाद देख तो कोई मूव्मेंट नही था फिर मैने तोड़ा सा और मूह मे ले कर चूसा. मज़ा आ रहा था और कुछ टाइम बाद वाइट वाइट सा निकलने लगा और हुलचल सी भी हुई.

मई फटा फट पीछे हुई और दर भी गयी बुत वो उठे नही आंड उनका नुणु वाइट वाइट से पूरा लिबाद गया था. मैं वही तो टेस्ट करना चाहती थी आंड हल्के से हाथ मे ले के मूह मे ले लिया.

मैने यह 20-25 मिन्स तक चालू रखा आंड फिर वापिस से पाजामा सही करके रूम मे चली गयी. ज़्यादा लालच भी ठीक नही था. और नेक्स्ट दे भी सेम ही ऐसा किया. आज कॉन्फिडेन्स कुछ ज़्यादा था.

मैने धीरे से पाजामा नीचे करके वही मूह मे डाला आंड फिर सोचा आज कुछ और भी मस्ती करू. मैने अपनी पनटी उतरी और हल्के से रगड़ने लगी. जैसे मोविए मे करते है मैने इनसर्ट करने की कोशिश की बुत जेया ही नही रहा था.

उपेर से दर भी था के पापा उठ ना जाए और मुझे भी पाईं होने का दर था. मैने सोचा अभी वर्जिन ही रहती हू वापिस से मूह मे डाला आंड सोचा के नेक्स्ट दे कुछ ना कुछ तो करूगी.

नेक्स्ट दे दाद काफ़ी लाते उठे करीब 9:30 के करीब. मैने एक दिन गप्प डालना सही सुमझा ताकि शक़ ना हो जाए. और फिर नेक्स्ट नाइट सोचा के आज छोटे से ही ट्राइ करके देख लू.

तो भाई को डॉस दी रोज़ की तरह आंड आज वही टाइम पे मैने उसका नुणु टेस्ट करके जल्दी से उपर आ गयी. देखने मे उसका नुणु ज़्यादा बड़ा नही था बुत ठीक तक सा था. ज़्यादा छोटा भी नही था.

मैने उसे सेट किया 3-4 बारी मे तो घुसा ही नही. फिर अचानक से नुणु अंदर घुसा अंदर जाते ही मुझे पाईं हुआ.

मुझे तो लगा था के साइज़ छोटा है तो पाईं नही होता. बुत मुझे पता है मैने कैसे संभाला उस टाइम खुद को. उस टाइम मेरा तो पाद ही निकल गया.

फिर मई चुपके से उपेर से थी. और डाइरेक्ट वॉश रूम गयी और तोड़ा तोड़ा ब्लड आ रहा था. फिर मैने सोचा के उसके नुणु पे भी लगा होगा ब्लड. तो मैने लाइट ओं कर के किसी कपड़े से उसका भी सॉफ किया.

मैने सोचा के इसका अंदर गया तो मेरा पुउ निकल गया. दाद का अंदर चला जाता तो पॉटी ही निकल जाती. पता नही मम्मी कैसे झेल लेती है.

नेक्स्ट दे मई तो लाते उठी आंड इतना ही हुआ. तब अगले दिन मम्मी भी आ गयी थी तो दाद से यह कर नही पाई. बुत उस दिन मुझे इतना पता था के मम्मी आई है इतने दिन बाद तो कुछ तो ज़रूर होगा. तो मई आधी रात को गयी चुपके से और सीन देखा.

पापा ने मम्मी को लेटया हुआ था और उपर खुद चढ़े हुए थे. मैने वाहा से 3 घंटे तक वो सब देखा. काफ़ी कुछ सीखने को मिला वो देख कर.

फिर मे अपने रूम मे गयी और सू गयी. आंड सुबह मम्मी को देख कर सोच रही थी के कैसे उपेर बैठी हुई थी. और सारा दिन भोली सी बन कर रहती है.

स्टोरी यहा एंड नही हुई, स्टोरी तो अभी शुरू हुई है. मैने अपनी सहेली के साथ लेज़्बीयन किया आंड फिर पापा के साथ किया प्लान करके और उन्हे पता ही नही चला और मेरा काम भी हो गया.

यह कहानी भी पड़े  मेरे जीजू मेरी चूत के प्यासे

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!