आंटी की बेटी को चोदने की आज्ञा

हैल्लो दोस्तों, मैंने अपने पड़ोस में रहने वाली आंटी को पटाया और उसे खूब चोदता था। फिर एक दिन मैंने आंटी की लड़की संगीता को पकड़ लिया और सिर्फ़ ऊपर का मज़ा देकर कह दिया था कि कल जब में तुम्हारी मम्मी को चोदूंगा तो तब तुम अपनी आँखों से पहले देख लेना कि तुम्हारी मम्मी कैसे चुदवाती है? और उसको कितना मज़ा आता है? इस तरह से तुम कुछ सीख भी जाओगी और तुम्हारी शर्म भी दूर हो जाएगी।

अब वैसे मेरी हरकतों से वो पूरी तरह खुल गयी थी और चुदासी भी हो गयी थी, मगर आंटी के आने का वक़्त हो चुका था, इसलिए में उसको नहीं चोदना चाह रहा था और आंटी की इजाज़त के बगैर उसको चोदना भी नहीं चाहता था, क्योंकि मुझे ज़्यादा उम्र वाली औरतों को चोदने में मज़ा आता है, मगर संगीता इतनी खूबसूरत थी कि में उसे चोदने को उतावला हो गया था। खैर फिर दूसरे दिन जब में आंटी के घर गया तो वो पिंक नाइटी में खुले बालों के साथ कयामत ढा रही थी। अब मैंने दिल ही दिल में सोच लिया था कि आज इसको चोदते वक़्त इसकी लड़की के बारे में भी बात कर लूँगा और फिर में बाथरूम करने के बहाने से संगीता के रूम में गया और उसकी चूची दबाते हुए कहा कि देखो में तुम्हारी मम्मी को चोदने जा रहा हूँ, तुम लाईव ब्लू फिल्म देखने को तैयार रहना और वापस आंटी के रूम में आ गया और अपने कपड़े खोलकर नंगा हो गया था।

अब आंटी भी अपनी नाइटी उतारकर सिर्फ़ पेंटी और ब्रा में बैठी थी। फिर में भी पूरी तरह से नंगा होकर बिना किसी शर्म के उसके बगल में बैठ गया। फिर वो मेरे मुरझाए हुए लंड को अपने हाथ से सहलाने लगी और मेरा हाथ पकड़कर अपनी बड़ी-बड़ी बलदार जैसी चूचीयों पर रख दिया। फिर में आहिस्ता- आहिस्ता सहलाने लगा। फिर मैंने हल्के से खिड़की की तरफ देखा तो संगीता अंदर झाँक रही थी, तो तब मैंने उसे आँख मारी। फिर मैंने आंटी की बड़ी-बड़ी चूचीयाँ दबाते हुए कहा कि आंटी जी आपका संगीता के बारे में क्या ख्याल है? तो तब उन्होंने कहा कि क्या मतलब, में कुछ समझी नहीं?

यह कहानी भी पड़े  पड़ोस की कुंवारी लड़की चुदना चाहती थी

तब मैंने कहा कि अब वो भी 18 साल की हो गयी है और मुझे उसके इरादे अच्छे नहीं लगते, आप तो जानती ही है आजकल का माहौल कैसा है? कहीं ऐसा ना हो कि वो बाहर किसी लड़के से चक्कर चला ले। तब आंटी ने गुस्सा होते हुए कहा कि क्या मतलब है तुम्हारा? तुमने मेरी बच्ची को क्या समझ रखा है? अब तो मेरी गांड ही फट गयी थी। फिर मैंने सोचा कि क्या बहाना ले लिया बेकार का? अब कहीं ऐसा ना हो ये गांड पर ठोकर मारकर भगा दे और में लड़की चोदने के चक्कर में अम्मा से भी हाथ धो बैठूँ। फिर मैंने बात संभालते हुए कहा कि ऐसी बात नहीं है आंटी, में तो आपको बताना चाह रहा था कि आजकल का जमाना बड़ा खराब है। तब आंटी ने मुस्कराते हुए कहा कि मेरे चोदूं राजा में तो मज़ाक कर रही थी, मुझे क्या बता रहे हो जमाने के बारे में? अरे में तो खुद पता नहीं कितने लंड अपनी चूत में डलवा चुकी हूँ? मुझे पता है अब संगीता जवान हो गयी है, उसकी भी चूत में खलबली मचती होगी और यह हो भी सकता है कहीं उसका भी टांका भिड़ा हो, आजकल सब कुछ चलता है।

फिर उनकी बात सुनकर मेरी जान में जान आई और मैंने उसे एक जोरदार किस करते हुए कहा कि ऊऊहहूऊओ मेरी रंडी तूने तो डरा ही दिया, मेरी तो गांड ही फट गयी थी, अब में एक बात और कहना चाहता हूँ। तब उसने कहा कि में जानती हूँ कि अब तुम क्या कहना चाहते हो? इतने दिनों से तुम्हारे लंड के धक्के खा रही हूँ, अब तो में तुम्हारी रग-रग से वाक़िफ़ हो चुकी हूँ, तुम यही कहना चाह रहे होना कि अब संगीता जवान हो चुकी है, उसे एक लंड की जरूरत है और उसकी जरूरत तुम पूरी कर सकते हो, है ना? तो तब मैंने डरते-डरते कहा कि हाँ, में यही कहना चाह रहा था, लेकिन डर रहा था। तब उसने कहा कि असल में कई दिन से में भी यही बात तुमसे कहना चाह रही थी, लेकिन अच्छा हुआ तुमने ही कह दिया, में अपनी फूल सी संगीता को तुमसे चुदवाने को तैयार हूँ और मुझे ख़ुशी भी हुई कि तुमने ये शुभ काम मुझसे पूछकर करना चाहा, वरना तुम बहुत चुदक्कड़ भी तो हो, तुम जानते हो किसी भी औरत को कैसे काबू में किया जाता है? फिर बेचारी संगीता तो अभी बच्ची है।

यह कहानी भी पड़े  बीबी को चोदकर उनकी बुर फाड़ दी

अब उधर संगीता खिड़की से सब बातें सुन रही थी और उसके चेहरे पर मुस्कान फैलती जा रही थी। तो तब ही आंटी ने कहा कि अब बातें बहुत चोद ली, कुछ करोगे भी या नहीं? तो तब मैंने तुरंत ही उसको वहीं बेड पर लेटा दिया और उसकी चूची को अपने मुँह में भरकर चूसने लगा और अपना लंड उसकी चूत से सटाकर रगड़ने लगा था। फिर मैंने कहा कि आंटी आपकी झाँटे आजकल बहुत बड़ी हो गयी है, कब से नहीं बनाई? तो तब आंटी बोली कि बेटा आजकल वक़्त नहीं मिल पाता है, बनाऊँगी। तब में बोला कि आंटी आप तो जानती है कि मुझे चूत चूसना कितना पसंद है? लेकिन अब आपने झाँटे उगा रखी है। तो तब आंटी बोली कि बेटा बोला ना कल बना लूँगी, चलो अब तुम मेरी चूची छोड़कर अपना पसंदीदा काम करो, मेरी चूत को चाटो।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!