अनजान लड़की को पटा कर मस्त चुदाई की

एक बार की बात ह जब मई अपने एक दोस्त को कॉल कररहा था तब मेरा कॉल गलती से एक नंबर आगे पीछे हो जाने की वजह से मेरी कॉल एक सुमन नाम क लड़की क पास चला गया.

जब कॉल रिसीव हुआ तो मुझे पटा चला क मेरा कल किसी रॉंग नंबर में लग गया. मेरा कॉल जब रिसीव हुआ तो मुझे एक गर्ल की आवाज मिली जिसकी आवाज़ बोहत ही प्यारी थी तब वो लड़की मुझ से थोड़ा गुस्से में बात की क देख क्र नंबर दिल कीजिए.

मई व् उस की बात पर कोई रियेक्ट न करते हुए उसे कल करने क लिए गलती मणि और उसे प्रॉब्लम बताया क मई अपने दोस्त को कॉल करने गया था पर गलती से नंबर मिस्टेक की वजह से उसे कॉल लग गया.

मेरी बात सुन क्र वो नार्मल हुई और फिर मैंने फ़ोन काट दिया. २ घंटे क बाद उसी नंबर से मेरे पास कॉल आया जब मैंने कल रकव किया तो देखा वही लड़की मुझे कॉल की ह मई उससे कुछ बोलता उससे पहले वो सॉरी बोलने लगी और अपनी गुस्से में बात करने क लिए माफ़ी मांगने लगी.

फिर वो अपना नाम सुमन बताई और मुझे फ्रेंडशिप ऑफर की और मैंने हाँ क्र दिया वो ये बोली क मई उसे बोहत अच्छा लगा क्यू क वो मेरे नंबर को सेव क्र क मेरा डप देख चुकी थी. फिर उस क बाद हम लोगो की व्हाट्सअप में बात होने लगी.

वो अपना पिछ डप पर नहीं लगाती थी उस लिए मैंने उसे अपना पिछ देखने को कहा. पहले तो वो मन क्र दी लेकिन बाद में वो अपना २ फोटो मुझे सेंड क्र दी.

जब मैंने उसे पिछ में देखा तो मेरे होसे उड़ गए क्यू क उस की सकल उस की आवाज़ से व् ज्यादा खूबसूरत थी. इसी तरह कुछ दिनों तक हम ऐसे ही बात करते रहे और कुछ दिन क बाद मैंने उसे परपोज़ क्र दिया.

वो व् मुझे हाँ क्र दी और फिर हम लोग एक दूसरे से मिलने लगे. हम कवि पार्क या फिर मूवी देखने क बहाने मिल लेते थे. हम लोगो क बिच बोहत बार किश व् हुआ था पर मुझे तो सुमन को छोड़ना था.

सुमन की जवानी मुझे बार बार भटकती थी पर सुमन किश से ऊपर जाने नहीं देती थी.

एक मर्तबा हम ऐसे ही पार्क में बैठ क्र एक दूसरे को किश कररहे थे तब ही मेरा लुंड बिलकुल खड़ा हो गया था और मैंने हमेसा की तरह सुमन को बोलै क मुझे सेक्स करना ह. पर वो बोली क शादी क बाद सब क्र लेना. ये सुन क्र मई उसे चोद दिया और अलग हो गया.

वो समझी क मई उससे नाराज़ हो गया हु. इसलिए वो मुझे मानते हुए बोली क ठीक ह जो करना ह ऊपर से क्र लो पर अंदर मत डालना.

ये सुन क्र मई खुस हो गया और सोचा चलो अंदर नहीं डालने मिल रहा ह तो क्या हुआ किश से आगे बढ़ने का मौका तो मिला.

तब मैंने उसे बोलै क पार्क में रह क्र कुछ किये तो कोई देख लेगा क्यू न तुम मेरे घर चलो. वहां सुकून से प्यार करेंगे. ये सुन क्र सुमन बोली क पहले प्रॉमिस करो घर ले जा क्र तुम वो नहीं करो गए मई ने उसे हाँ बोल क्र दोनों पार्क से निकल क्र सीधे घर आगये.

घर आने क बाद मैंने दूर लॉक किया और सुमन को अपने बैडरूम में ले गया. फिर मई सुमन को पकड़ क्र किश करने लगा और सुमन व् हमेसा की तरह मेरा साथ देने लगी.

किश करते करते मई सुमन क बदन में अपना हाथ फेरने लगा और और फिर सुमन क बूब्स को दबाने लगा. सुमन की बूब्स दबाने में बोहत मज़ा आरहा था मुझे और सुमन को व् अच्छा लग रहा था.

ऐसा करते करते मई सुमन क. नैक पर किश करने लगा जिससे सुमन अब ग्राम होने लगी. और मेरा मकसद व् यही था क सुमन क अंदर सेक्स की आग जले. मेरे नैक पर किश करने से सुमन की मुँह से आहें निकल रही थी.

उस क बाद मैंने सुमन क बूब्स को कपडे क ऊपर से ही अपने मुँह से दबाने लगा. सुमन को मज़ा आरहा था. और अब वो खुद से अपनी पकड़ को ढीला क्र रही थी.

मई इसी का फायदा उठाते हुए सुमन की कुर्ते क अंदर हाथ दाल क्र उस की बूब्स और चेस्ट और हाथ फेरने लग गया. सुमन इस का कोई विरोद न करते हुए मुझे ऐसा करने दे रही थी जिससे मेरी हिम्मत और बढ़ रही थी.

फिर मई सुमन क ऊपर क कपडे को खोलने लगा. पर सुमन पहले मुझे रोकने लगी और मेरे हाथ को अपने कपडे से हटाने लगी.

पर सुमन क अंदर चुदाई का नासा चढ़ चूका था उस लिए एक दो बार रोकने क बाद मुझे कपडा खोलने दे दी मई व् देर न करते हुए सुमन क ऊपर क कपडे को खोल दिया और उसे बिस्तर पर लेता दिया सुमन मेरे सामने अब ब्रा में थी.

उस का गोरा जिस्म देख क्र मेरा हाल बुरा था और मई सुमन क चेस्ट पर टूट पड़ा सुमन क चेस्ट पर मई पागलो की तरह किश करने लगा इस कारन वो व् और ज्यादा मदहोस हो गयी इस कारन मई उस क ब्रा को व् खोल क्र उस से अलग क्र दिया और सुमन का गोरा बूब्स मेरे सामने था.

जिसे वो खुद से मुझे बोली क पि लो मेरे बूब्स को तुम इतना सुन्ना था क मई सुमन क निप्पल को अपने मुँह में ले क्र उसे चूसने लगा सुमन मेरे सर को पकड़ क्र होने बूब्स पर दबा रही थी. वो पुरे जैसे में थी.

और मई इस का फायदा उठाते हुए सुमन की सलवार का जवान खोलने लगा और देखते ही देखते मई सुमन को पूरा नंगा क्र दिया इसी बिच मैंने अपना टी-शर्ट व् खोल क्र अपने पंत का जीप खोल क्र अपना लुंड बाहेर निकल दिया.

सुमन की आँखों में मेरे लुंड को देख क्र चमक पैदा हो गयी पर वो थोड़ा शर्मा रही थी तब मैंने उस की हाथ को ले क्र अपने लुंड पर रख दिया. सुमन सरमाये हुए मेरे लुंड को पकड़ क्र उसे अपने हाथ में भर क्र उसे हिलने लगी.

आहिस्ते आहिस्ते उस की सरम अब भूक में बदलने लगी कुछ ही देर में सुमन उठ क्र मेरे पंत को खोलने लगी तब मैंने उसे कहा क पंत खोलोगी तो फिर मुझे रोक नहीं पाओगी.

उस पर सुमन ने मुझे जवाब दी तुम्हे ऐसा क्यू लग रहा ह क मई अब थे रोकूंगी. ये बात सुन क्र मई कन्फर्म हो गया क सुमन अब छोड़ने क लिए मुझे ग्रीन सिग्नल दे चुकी ह. फिर सुमन ने मेरे पंत को खोल दी.

तब मैंने उसे अपना लुंड चूसने को उसे कहा और सुमन जल्दी से मेरे लुंड पर किश करने लगी. किश करते करते कवि कवि वो मेरे लुंड पर दन्त से व् काट व् लेती थी उस क बाद उस ने मेरे लुंड को अपने मुँह में ले क्र चूसने लगी.

मई उसे बस लेट क्र देख रहा था और मज़ा ले रहा था. सुमन क लुंड चूसने क अंदाज से मई काफी माधोसे ही गया और मई खुद पर कण्ट्रोल चोद क्र अपने लुंड से पानी निकलने लगा. सुमन व् उसे िम्रित समझ क्र चूस रही थी.

मई कुछ देर में संत हो गया पर सुमन को अब छोड़ने का मन था तब वो बोली क विक्की अब मुझे तुम चोद क्र अपना बना लो पूरी तरह से क्यू क अब बर्दास्त नहीं हो रहा ह मुझे और मई तुम्हे अब मन नहीं करूंगी.

मुझे सुमन क अंदर चुदाई का ये तड़प देख क्र बोहत मज़ा आया और मैंने सुमन को बोलै तुम ने मुझे बोहत तड़पाया ह अब थोड़ा तुम व् तड़पो. ये बोल क्र मई सुमन को अपने बगल में खींच क्र लेता दिया और सुमन की पेट पर किश करने लगा.

सुमन बीएड क चादर को पकड़ के खींचने लगी तब मैंने एक तकया उस क कमर ज निचे दाल दिया सुमन को लगा क मई अब उस की छूट में अपना लुंड डालने वाला हु पर मई सुमन क दोनों पाओ को फैला क्र उस की छूट में अपना मुँह दाल क्र उस की छूट को चूसने लगा.

ऐसा करने से सुमन का जिस्म सीहोर उठा और वो मेरे सर को पकड़ क्र अपनी छूट उठा उठा क्र मुझे चुसवाने लगी. सुमन की छूट पहले से ही उस की पानी से भरा हुआ और मेरे चूसने से छूट से और व् पानी निकल रही थी जिसे चूसने में मुझे बोहत मज़ा आता था.

मेरा लुंड व् अब फिर से खड़ा हो गया था और मई अपने जबान से सुमन की छूट को चोद रहा था. और सुमन आअह्ह्ह आआह्ह्ह्हह्ह उउउउउफफ्फ्फ्फ़ क्र क उस का पूरा मज़ा ले रही थी इसी तरह वो एक बार मेरे मुझ में ही झाड़ गयी और हांफने लगी.

फिर मैं उठा और अपना लुंड उस की गीली छूट पर रख क्र रकड़ने लगा तो सुमन ने मेरे लुंड को पकड़ के खुद से ही अपनी छूट क मुँह पर सेट करने लगी. और मुझे बोली विक्की दाल दो जल्दी से मत तड़पाओ मुझे.

तब मैंने एक जोर का धक्का लगाया और मेरा लुंड का टोपा सुमन की छूट में घुस गया सुमन की छूट काफी टाइट थी और सुमन अब तक वर्जिन थी इस करण सुमन की चिंखहह निकल गयी और वो मममममममिययययय क्र क चिल्लाई.

अवि वो संत व् नहीं हुई थी क मई एक और धक्का लगाया जिससे लुंड आधा से ज्यादा उस की छूट में घुस गया वो रोने लगी और लुंड निकलने को बोलने लगी वो बोली क विक्की बोहत दर्द हो रहा ह प्ल्ज़ इसे निकालो जल्दी.

मैंने उसे संत होने को कहा और बोलै बीएस थोड़ा सा बर्दास्त क्र लो सब ठीक हो जायेगा ५ मिंट में ही.

पर वो रो रही रही और फिर मई एक और झटका क साथ अपना लुंड सुमन की छूट क जुद्द्द तक तेल दिया सुमन अब मेरे निचे छटपटाने लगी. वो एक डैम से तड़पने लगी.

तब मई उस क होंठ में होंठ दाल क्र उस को किश करने लगा और अपना लुंड सुमन की छूट में अंदर बाहेर करने लगा. सुमन अवि तक संत नहीं हुई थी उस की आँखों से आंसू निकल रहे थे.

पर सुमन का तड़पा क्र छोड़ने में मुझे बोहत मज़ा आरहा था. कुछ देर ऐसे ही लुंड अंदर बाहेर करने क बाद सुमन अब संत होने लगी और अब उसे मज़ा आने लगा.

अब सुमन मेरे शार्ट का साथ देने लगी उस की चींख अब आअह्ह्ह्हह आआह्ह्ह्हह में बदल गयी. वो मेरे कमर को पकड़ क्र अपनी छूट छुड़ाने लगी.

सुमन कमर उठा उठा क्र मेरा लुंड अपने छूट में ले रही थी छूट टाइट होने क कारन उस की छूट मेरे लुंड को जकड़ा हुआ था जिससे मुझे बोहत मज़ा आरहा था.

सुमन कवि मेरे लिप पर किश कररही थी तो कवि प्लंग की चादर को खींचने लगती. मई व् सुमन क चेस्ट पर किश और बाईट क्र रहा था.

पुरे रूम में आअह्ह्ह्हह आआह्ह्ह्हह की आवाज गूंज रही थी. करीब ३० मिंट क लगातार झटको वाली चुदाई क बाद सुमन कनपटी हुई झड़ने लगी. वो न तो रो रही थी न ही है रही थी बीएस ऐसा फील हो रहा था क. उसे बोहत मज़ा आरहा ह.

और उस क झड़ने क बाद मैंने अपना झटका देना सुरु क्र दिया मई जोर जोर से सुमन की छूट को पेलने लगा. और फिर मई सुमन क छूट में ही अपना पानी गिराने लगा.

उस क बाद हम दोनों थकने क कारन वैसे ही सो गए. मेरा लुंड सुमन की छूट में ही था और हम दोनों सो चुके थे.

इस क बाद व् हम लोगो ने उस दिन सेक्स किये जो मई आपको आप लोगो क फीडबैक क बाद बताऊँगा अपनी राइ मुझे इ-मेल पर जरूर बताइये गए ये रहा मेरा इ-मेल एड्रेस:::

[email protected]


तब तक क लिए बाई मई और व् स्टोरी आप सब तक पहुँचता रहूँगा.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त ने अपनी मा को मुझसे चुडवाया

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!