अंजान आदमी की बीवी की चुदाई

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सब? मेरा नामे रोहित है. मैं एक कॉल बॉय हू. मेरे आगे 27 है. लंड का साइज़ 7 इंच है. राजस्थान का रहने वाला हू. मैने आज तक बहुत गर्ल्स, भाभियों, आंटीस को छोड़ा है. उनके लाइफ सेक्स की खुशी और रिलेशन्षिप का तड़का लगाया है. अब मैं अपनी स्टोरी पर आता हू.

ये पूरी स्टोरी रियल है. बुत नामे और प्लेस चेंज कर दिए है. मुझे एक क्लाइंट का मेसेज आया था. उसने अपना नामे रवि (नामे चेंज) बताया. उसकी आगे 35 थी. वो आहेमदबाद का रहने वाला था.

उसने मुझे बोला: मुझे आप से अपनी वाइफ को सॅटिस्फाइ करवाना है.

उसने बताया था की उसकी वाइफ सेक्स में खुश नही थी. रवि की वाइफ का नामे निधि था. उसकी आगे 32 थी, और उसका फिगर उसने 32-30-34 बताया. वो एक हाउसवाइफ थी.

उसने कहा: मेरी वाइफ सेक्स के लिए रेडी है. आपको उसे खुश करना है. बस हमारी प्राइवसी रहनी चाहिए. किसी को पता ना चले, और मेरी वाइफ को आप आचे से छोड़ना. उसे अची चुदाई चाहिए.

रवि और मेरे काफ़ी बातें हुई थी. मैने आपको शॉर्ट में बताया है. मैने उसे जाईपुर आने को बोला. उसने आने को हा बोला. 3 दिन बाद उसने होटेल बुक कर लिया.

जब वो होटेल में आ गये, तब रवि ने मुझे कॉल करके लोकेशन बता दी. मैं 1 अवर बाद होटेल रूम में आ गया. मैने रवि को हग किया, और सामने बेड पर उसकी वाइफ भी बैठी थी. मैने उसे देखा तो दोस्तों क्या ग़ज़ब का माल था.

निधि ने रेड सारी और रेड ब्लाउस पहन रखा था. उसने हाथो में मेहंदी और माथे पर बिंदी लगा रखी थी. होंठो पर रेड लिपस्टिक थी. बहुत ही ग़ज़ब की खूबसूरत थी. उसकी आगे मुझे 27 से 28 लगी. मैने निधि के देखते हुए बोला-

मैं: निधि जी हेलो, आप कैसे हो?

निधि: ठीक, और आप?

मैं: आपको देख लिया तो बहुत मस्त हो गया हू.

निधि अपनी नज़रे नीचे करके हासणे लगी. मैने भी उसे सेक्सी स्माइल देके आँख मार दी. वो शरमाने लगी. रवि ने मुझसे कहा-

रवि: रोहित भाई, अब मेरी वाइफ आज रात के लिए तुम्हारी है. इसे तुम मस्त एंजाय्मेंट दे दो.

मैं: हा बिल्कुल भाई.

रवि निधि को देख कर बोला-

रवि: बेबी, तुम रोहित के साथ एंजाय करना. पूरा पैसा वसूल करना. शरमाना मत.

निधि ने उसकी बातों का जवाब हस्स के दिया. फिर वो मुझे बोला-

रवि: रोहित, मैं साइड वाले रूम में जेया रहा हू. आप दोनो एंजाय करो.

मैं: ओक भाई, आप रेस्ट करो. और हम यहा मस्ती करते है.

फिर रवि चला गया. मैं और निधि अकेले थे रूम में. मैने रूम लॉक किया, और निधि के पास बेड पर आ गया. वो अपनी नज़र झुकाए हुए थी. मैने निधि का हाथ पकड़ा, और कहा-

मैं: बेबी आपको बहुत केर करने वाला पति मिला है. जो अपनी पत्नी की खुशी के लिए सब कुछ कर रहा है.

निधि: जी आप ठीक बोल रहे हो. वो मेरा हमेशा ख़याल रखते है.

मैने उसके गोरे हाथो को चूमते हुए कहा: मेरी जान, आज रात आपका ख़याल मुझे रखना है. आज आप मेरे पत्नी हो.

निधि का हाथ चूमा तो उसकी सिसकी निकल गयी और वो बोली-

निधि: श आह, रोहित जी. आपका ये टच मुझे आपकी तरफ आकर्षित कर रहा है. मेरी ही इक्चा थी मैं आपसे मिलू.

मैं: तो मेरी जान आओ मेरे पास, और मुझे प्यार करने दो.

निधि: हा रोहित जी, आज मैं आपकी हू. लेकिन सुनो जी. मैने सुना है आप बहुत हार्ड सेक्स करते हो. प्लीज़ मुझे आप प्यार से करना. क्यूंकी मुझे दर्द से दर्र लगता है.

मैं: ब्यूटिफुल निधि, आप क्या पहली बार सेक्स कर रही हो?

निधि: ऐसी बात नही है जी. आपका मैने वो देखा है. इन्होने दिखाया था. आपका टूल मेरे पति से बहुत बड़ा है.

निधि: मैं पति का ले लेती हू. लेकिन आपका लेने में जान निकल जाएगी. आप जो लॅडीस’ सेक्स करते हो वो तरीका मुझे पसंद आया.

फिर वो अपनी सेक्सी नज़रो से मुझे देखने लगी. मैं उसके होंठो के करीब गया. निधि की साँसे तेज़ चल रही थी. उसके गोरे फेस से बहुत ही मादक खुसबु आ रही थी. मैं अपना एक हाथ उसके बालों में ले जाते हुए उसका फेस अपने होंठो की तरफ करने लगा.

निधि ने भी अपने होंठ आँख बंद करके मेरे होंठो पर रख दिए. मैं अब निधि के लाल होंठो को किस करने लगा. बहुत मुलायम होंठ थे. हम बैठे-बैठे ही एक-दूसरे को किस करने लगे.

निधि अब गरम होने लगी. वो भी अपने हाथ मेरे गले में ले जाते हुए मुझसे चिपक कर किस्सिंग करने लगी. उसके हाथो में चूड़ियाँ थी, जो ख़ान-ख़ान की आवाज़ से मुझे गरम करने लगी. निधि और मैं एक-दूसरे के होंठो को सब कुछ भूल कर चूसने लगे. वो भी अब सिसकियाँ लेते हुए मेरे लिप्स को चूस रही थी.

निधि: उहह ष्ह उम्म्म.

मैने निधि के होंठ चूस्टे हुए उसे बेड पर लिटा दिया. वो मेरे नीचे थी. मैं उपर आ कर उसके बूब्स में चेस्ट दबाते हुए उसके होंठो और पुर गोरे मुलायम फेस का रस्स-पॅयन करने लगा. वो बस गरम-गरम सिसकियाँ आँखें बंद किए ले रही थी.

निधि: उहह आह चूसो मेरे होंठो को. रोहित जी, बहुत अछा प्यार कर रहे हो.

उससे भी अब रहा नही जेया रहा था. तो निधि भी मेरे फेस को अपनी गुलाबी जीभ से चाटने लगी. चाट-चाट के पूरा फेस गीला कर दिया. हमारी किस्सिंग और चुम्मा-छाती 20 मिनिट चली.

उसके बाद मैने अपनी शर्ट निकाल दी, और मैने उसका लाल ब्लाउस निकाल दिया. निधि मेरे सामने रेड ब्रा में थी, जो बहुत ही खूबसूरत थी. उसमे उसके टाइट बूब्स बाहर आने को मचल रहे थे. मैने उसके बूब्स में अपना मूह दबा दिया, और ब्रा के उपर से ही बूब्स को चाटने और दबाने लगा. निधि आँखें बंद करके सिसकियाँ लेते हुए बोली-

निधि: आह श रोहित जी. आप बहुत अछा मज़ा देते हो. आपने मेरे बदन में आग लगा दी है.

मैं: मेरे रानी. तुम्हे मज़ा आ रहा है ना?

निधि: हा मेरे राजा. आज मुझे खूब प्यार दो. मुझे ऐसे ही प्यार की बहुत ज़रूरत है.

मैं उसके सॉफ्ट बूब्स को दबाने लगा. और उसके गले, गाल, और होंठो पर किस करने लगा. इससे वो बेड पर सिसकियाँ लेते हुए मचलने लगती.

निधि: उम्म्म उहह आह रोहित जी.

मैने 10 मिनिट बाद निधि की ब्रा भी निकाल दी. अब वो मेरे सामने 32″ के गोरे बूब्स और ब्राउन निपल में थी. निधि के एक बूब को मैं मूह में भर के चूसने लगा. बहुत ही ज़्यादा मुलायम थे. मैं उसके दूसरे बूब को धीरे-धीरे दबाने लगा, और उसके निपल को मसालने लगा. इससे उसकी सिसकियाँ बढ़ गयी. वो गरम हुए जेया रही थी.

निधि: आह और दब्ाओ बूब्स. प्लीज़ रोहित जी, रुकना मत. चूसो और चूसो. बहुत मज़ा आ रहा है. उहह मा निपल दांतो से चबा रहे हो आप.

मैं उसके दोनो बूब्स पकड़ कर ज़ुबान से चाटने लगा. उसके बदन बिजली दौड़ने लगी. बूब्स चूसने के बाद मैने उसके हाथ उपर किए, और उसकी बगल को चाटने लगा. वाहा एक भी बाल नही था.

मुझे वो चाटने में बहुत मज़ा आ रहा था. वो सिसक रही थी. मेरे बालों में अपना हाथ फेरने लगी.

अब उसने मुझे अपने नीचे किया. मेरे उपर आ कर मेरी चेस्ट को चाटने लगी. उसके चाटने में बहुत ही कामुकता थी. गोरी गुलाबी ज़ुबान से मेरे निपल को चाटने और चूसने लगती. मैं उसके गोरी पीठ को सहलाने लगता. 20 मिनिट निधि ने मेरी चेस्ट और पेट को खूब छाता. मैने उससे कहा-

मैं: क्या बात है मेरे जान. आप तो बहुत आचे से चाट रही हो.

निधि: हा बेबी, आपको चाटने में मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है. आपका ये टूल मेरे पेट में चुभ रहा है.

मैं: मेरे रानी, अपनी सारी निकाल दो.

निधि: ये आपका काम है ना.

मैने झट से उसकी रेड सारी निकाल दी. वो अब पेटिकोट में थी. मैने उसका नाडा खोल दिया, और निधि ने पेटिकोट अपने पैरों से निकाल फेंका. अब वो रेड जाली-दार पनटी में थी, जो गीली थी.

निधि से अब रहा नही गया, और उसने मेरी जीन्स निकाल दी. मैं अब अपने ककचे में था. निधि ककचे के उपर से मेरे लंड को किस करने लगी और बोली-

निधि: साची में रोहित जी, आपका ये तो बहुत ही स्ट्रॉंग है. प्लीज़ आप मुझे आराम से प्यार करना.

मैं: हा बेबी, आपको जैसे अछा लगे वैसे करेंगे.

उसने मेरा कक्चा निकाल दिया. मेरा क्लीन शेव्ड 7 इंच का लंड उसके गोरे और कामुक होंठो के सामने था. मैं बेड पर लेता हुआ था, और निधि मेरे पैरों पर झुकी हुई थी. उसने गरम लंड को पकड़ लिया और बोली-

निधि: हे मेरे राजा जी. आपका लंड तो बहुत ही मज़ेदार है. मेरे रवि से बड़ा भी है.

मैं: तो मेरी जान, लेलो मूह में और बना लो अपना.

निधि: ज़रूर, मेरे प्यारे रोहित जी. आपका स्ट्रॉंग लंड लेने के लिए मैं कब से तड़प रही थी.

निधि लंड के टोपे को ज़ुबान से चाटने लगी. उसे भी अछा लगा और मुझे भी. आचे से लंड चाटने के बाद उसने मूह में भर लिया. वो आधा लंड ही मूह में ले पाई. मैने उसका मूह लंड में दबा दिया. तो लंड से मूह हटा के बोली-

निधि: आह रोहित जी. प्लीज़ ऐसा मत करो. आपका बहुत बड़ा है. मैं आराम से ले रही हू. मुझसे पूरा नही होगा.

ऐसा बोल कर वो लंड वापस से चूसने लगी. उसने 5 इंच लंड चूसा. मुझे भी उसके लाल होंठो का टच पसंद आ गया था. निधि उहह उम्म्म करके मूह में ले रही थी. उसने 15 मिनिट लंड को आचे से चूसा. उसके बाद उसने 10 मिनिट तक मेरी बॉल्स को भी चूसा. उसे बॉल्स चूसने में बहुत मज़ा आ रहा था. चूस्टे हुए वो बोली-

निधि: बेबी आपके टटटे बहुत सॉफ्ट और टेस्टी है. मेरे पति से ज़्यादा मज़ा आ रहा है.

उसने 5 मिनिट और लंड चूसा आचे से. अब मैने उसे बेड पर सीधा किया, और पनटी एक बार में उतार दी. मैने टांगे डोर की, और क्लीन शेव गुलाबी छूट मेरे सामने थी. ऐसा लग रहा था जैसे किसी कुँवारी लड़की की छूट थी. मैने अपनी ज़ुबान छूट पर रखी. तो उसके जिस्म में सिहरन दौड़ गयी.

निधि: आह उम्म्म रोहित जी. प्लीज़ इसे छातो ना. इसे प्यार दो अपना.

मैं उसकी छूट को चाटने लगा. निधि की छूट के दाने को चूसने लगा. वो बेड पर तड़पने लगी. उसने मेरा सिर छूट में दबा दिया. एक हाथ से बूब्स दबा रही थी. उसकी छूट और जिस्म गरम हो गये.

15 मीं छूट चाटने के बाद उसने मेरा मूह छूट में दबा कर, छूट का काम-रस्स मेरे मूह में छ्चोढ़ दिया. जिसे मैं आचे से चाट-चाट के पी गया.

मैने निधि की छूट 20 मीं तक छाती. जिससे वो बोली-

निधि: कसम से रोहित जी. आज आपके साथ बहुत मज़ा आ रहा है. ऐसे मेरे छूट किसी ने छाती है. योउ अरे सो ग्रेट.

मैं: बेबी आपकी छूट ही बहुत टेस्टी और सॉफ्ट है.

अब मैने उसकी टांगे पकड़ी, और लंड छूट के च्छेद पर रखा.

निधि की चुदाई अब नेक्स्ट पार्ट में होगी.

मेरे ये रियल स्टोरी कैसे लगी मुझे आप गम0288580@गमाल.कॉम पर मैल करके बताए.

आप में से किसी को रियल और सेक्यूर निधि की तरह सेक्स चाहिए. या फिर रिलेशन्षिप चाहिए, तो मुझे मैल करे. आप मुझसे गूगले छत कर सकते हो. आप अपनी बोरिंग लाइफ को मेरे साथ एंजाय करके हसीन और अची बना सकते हो. बिना दर्रे मुझे मेसेज करे. आप मेरे साथ सेक्यूर फील करोगे.

थॅंक्स ड्के.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त के साथ मिल कर उसकी मा चोदी


error: Content is protected !!