5 नीग्रोस के साथ हॉट गंगबांग स्टोरी

मैं 10 मिनिट में नीग्रोस के रूम के बाहर पहुँच गयी थी. मैने डोरबेल बजाई और डोर ओपन होते ही एक काला हटता-कटता बंदा मेरे सामने खड़ा था.

मे: वो मैं पूजा.

नीग्रो: ई नो बेबी तुम कों हो. कम ( नीग्रो ने सारी बातें इंग्लीश में बोली थी. मैं आपको हिन्दी में वो सब बतौँगी).

मैं अंदर गयी तो देखा दो और उसी की तरह लंबे चौड़े नीग्रो बैठे थे सोफे पे. पर मेरी जान तब हलाक में आ गयी, जब मैने बेड पे दो और नीग्रो को देखा. मुझे लगा यहा 3 लोग थे. मैं दबे पावं पीछे होने लगी.

1स्ट्रीट नीग्रो: कहा जेया रही हो बेबी?

मे: मैने पेमेंट सिर्फ़ 3 लोगों का लिया है, और यहा 5 लोग है. मैं नही कर पौँगी. प्लीज़ सिर, मुझे जाने दीजिए.

1स्ट्रीट नीग्रो: देखो तुम पेमेंट की टेन्षन मत लो. हमने एक्सट्रा पे कर दिया है, और बोलॉगी तो और कर देंगे.

मे: नही मुझे फिर भी 5 मर्दों के साथ नही करना है.

1स्ट्रीट नीग्रो: देखो मिस पूजा, आपका मॅन हो या ना हो, अब आप यहा से नही जेया सकती.

और उसने डोर पे लॉक डाल के चाबी अपनी जेब में रख ली. मुझे लगा अब कुछ नही हो सकता था, और मैने शायद ग़लती कर दी थी. फिर मैने कहा-

मे: ओक, पर आप लोग 1-1 करके करोगे. एक साथ नही करूँगी मैं.

दूसरे आदमी ने हामी भरते हुए कहा: ओक बेबी.

1स्ट्रीट नीग्रो ने मुझे बेड पे बिताया, और मेरे पास आ कर बैठ गया. मैं कुछ सोच समझ पाती उससे पहले ही उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया. उसके लिप्स बहुत बड़े थे. मैं उसके सामने बहुत छ्होटी लग रही थी.

वो मुझे स्मूच करते जेया रहा था. अब मैने भी आँखें बंद की, और बॉडी ढीली छ्चोढ़ दी, और उसे किस करने लगी. उसने मुझे किस करते-करते ही लिटा दिया, और मेरे ब्लाउस में हाथ डालने लगा. ब्लाउस बहुत फिट थी, तो मैने उसे बोला-

मे: ओपन कर लो इसे.

वो हस्स दिया और मेरे ब्लाउस के हुक खोल दिए. मैं अपना ब्लाउस उतारने लगी. तब तक उसने पूरी सारी निकाल दी. अब मैं सिर्फ़ ब्रा और पनटी में थी.

नीग्रो: अब ठीक है बेबी?

मैने कोई रेस्पॉन्स नही दिया, और बस लेती रही. वो मेरे उपर आ कर मेरे होंठो को चूमने लगा. मैने उसके बालों में अपना हाथ डाला, और पूरी मस्ती में किस करने लगी. उसने मेरे बूब्स पे हाथ रखा, और मसालने लगा. मुझे बहुत अछा लग रहा था. तभी मुझे नीचे महसूस हुआ 2न्ड नीग्रो मुझे किस कर रहा था. नीचे मैं पूरी गरम और मस्त हो चुकी थी.

फिर जैसे ही पहले नीग्रो ने मेरे लिप्स छ्चोढे, मैं बोल पड़ी: प्लीज़ पनटी उतार के डीप किस करो.

मेरे मूह से ये सुनते ही पाँचो को ग्रीन सिग्नल मिल गया था. सब ने झट से अपने कपड़े रिमूव किए, और मेरे पास आ गये. 1 मेरे सिर के एक तरफ, दूसरा दूसरी, तीसरा मेरी छूट चाट रहा था, और बाकी दोनो मेरे बूब्स खींच रहे थे. 5 मिनिट में मेरी पूरी बॉडी पसीने में टार हो गयी.

मे: प्लीज़ आराम से करो.

1स्ट्रीट नीग्रो: तू बता दे कैसे मरवाना चाहती है. तेरा मॅन तो सबसे चूड़ने का है.

मे: हा मॅन तो है, पर ये सब तोड़ा प्यार से भी हो सकता है.

1स्ट्रीट नीग्रो: ओक तुम बताओ कैसे करना है तुम्हे?

मे: मैं चाहती हू तुम मुझे दो-दो के ग्रूप में छोड़ो.

1स्ट्रीट नीग्रो: अछा पर यहा हम 5 है. लास्ट वाला तो अकेला करेगा उसका.

मे: जो मेरे साथ लास्ट में करेगा, उसे मैं सेक्स के सारे सुख दूँगी. उसकी बीवी के साथ भी नही आया होगा उतना मज़ा दूँगी उसे.

1स्ट्रीट नीग्रो: ऐसी बात है तो बेबी मैं लास्ट में ही करूँगा. मैं तुझे आराम और प्यार से छोड़ना चाहता हू.

अब बेड पे दो नीग्रो थे, बाकी तीनो सोफे बैठ के दारू पी रहे थे. अब जो मेरे साथ थे, उनमे से एक अपना लंड मेरे मूह पे करके बोला ‘सक इट बेबी’ और मैने भी आँखें बंद की, और पूरा मूह खोल के उसके लंड का टोपा अपने मूह में ले लिया. बहुत ही गंदी बदबू आ रही थी. ऐसा लग रहा था उसने लंड काई सालों से नही धोया हो.

मेरा मॅन नही हो रहा था चूसने का. तभी दूसरे नीग्रो ने मेरी छूट में अपनी जीभ घुसा दी. मैं एग्ज़ाइट्मेंट में उस बदबू और टेस्ट को भूल गयी, और लंड चूसने लगी. नीग्रो ‘अया बेबी सो नाइस, टके इट डीप इन युवर थ्रोट बेबी’ ऐसा बोलते हुए मेरे बालों को पकड़ा, और लंड मेरे गले तक भर दिया. फिर उसने होल्ड कर लिया, और मैं झटपटाने लगी. मैने उसे ज़ोर से धक्का दे दिया.

मे: प्लीज़ आराम से करिए.

नीग्रो: तू मेरी बीवी नही है, रांड़ है. मैं ऐसे ही करूँगा.

और ये बोलते हुए मेरे दोनो हाथ पीछे कमर की और करते हुए बाँध दिए. मैं भी यही चाहती थी की कोई मुझे बाँध के आचे से मुझे छोड़े. मैं ताडपू, रू, चिल्लौ, पर बिना दया करे वो मुझे छोड़ता रहे. नीग्रो ने फिर मेरे मूह में लंड तूस दिया. उसका लंड इतना बड़ा था, की वो मेरे गले से सीधे अंदर तक जेया रहा था.

मेरे आँसू निकल पड़े, पर वो बेदर्डो की तरह मेरे मूह में दे रहा था. 15 मिनिट सक करवाने के बाद वो रुका, और 2न्ड नीग्रो को बोला-

नीग्रो: तू छूट चाट-ता रहेगा क्या? चल इसे तोड़ा पनिश करते है. इसने मुझे धक्का दिया था.

मैं दर्र गयी, की पता नही अब ये दोनो क्या करेंगे. पहला नीग्रो मेरे उपर आया, और मुझे बाहों में भर के घूम गया. अब मैं उसके उपर थी. उसने अपना लंड मेरी छूट पे सेट किया, और एक धक्का दिया. मेरी छूट गीली होने के कारण उसका लंड मेरी छूट की जड़ तक चला गया. मैं चीख पड़ी आअहह माआ.

तभी मेरी गांद गांद पे एक ज़ोरदार थप्पड़ पड़ा. मैं पूरी झन्ना गयी थी. मैं कुछ सोच पाती उससे पहले दूसरा और तीसरा थप्पड़ पड़ा. फिर मैं चिल्ला पड़ी-

मे: ये क्या कर रहे हो? प्लीज़ मुझे मारो मत. दर्द हो रहा है.

पर वो कहा सुनने वाले थे. उसने एक और थप्पड़ जड़ दिया. मैने दर्द सहने के लिए मेरे नीचे वाले नीग्रो के लिप्स को लॉक कर लिया, और चूमने लगी. तभी एक और थप्पड़ पड़ा. मुझे इतना तेज़ दर्द हुआ की मैने अपनी गांद उँची कर ली.

1स्ट्रीट नीग्रो: अगर तू यहा से हिली, तो इससे ज़्यादा पनिश करेंगे तुझे.

मैं चुप-छाप वापस लेट गयी. अब दूसरे नीग्रो ने मेरी गांद पे अपना लंड सेट किया.

मे: नही प्लीज़, आप आयिल उसे कर लीजिए. मैं दर्द सहन नही कर पौँगी.

पर वो कहा सुनने वाला था. उसने ऐसे ही अपना टोपा मेरी गांद में भर दिया. मैं कुछ नही कर सकती थी. मुझे दर्द हुआ क्यूंकी दो दीनो से मेरी गांद को तोड़ा भी आराम नही मिला था. मेरा चेहरा दर्द से लाल पद गया था. तभी मेरे नीचे वाले नीग्रो ने मेरी छूट में लंड डाल दिया, और पूरी गहराई तक उतार दिया. मुझे एक सुकून सा महसूस हुआ.

2न्ड नीग्रो: अब तेरी ठुकाई करे गे हम ठीक से छिनाल.

मे: देख ही लेते है कितना दूं है तुम्हारे लंड में.

मैने उसको कस्स के हग कर लिया, और बेरहम 2न्ड नीग्रो ने बिना दया किए पूरा ज़ोर लगाया, और लंड मेरी गांद में पूरा भर दिया.

मे: आअहह आअहह माआ नो.

उन दोनो ने संभालने का मौका ना देते हुए धक्के देने शुरू किए. दोनो एक टाइम पे लंड बाहर की और खींचते, और एक ही टाइम पे पूरा भर देते. उन दोनो के अंडे पाट-पाट मुझे नीचे पद रहे थे. मैं दर्द से चीख रही थी बहुत बुरी तरह. उन दोनो की स्पीड इतनी थी मानो कोई मशीन हो.

15 मिनिट हो चुके थे इस तरह. अब मेरा दर्द तोड़ा कम हो गया था. मैं एंजाय करने लगी थी. मेरा मॅन और तड़पने का था. मेरी आँखों के इशारे से 3र्ड नीग्रो को अपने पर अट्रॅक्ट किया. वो खुद को रोक नही पाया और मेरे मूह पे आ गया. मैने भी देर किए बिना उसका चूसना शुरू कर दिया.

सच बतौ फ्रेंड्स, ये जो पल मैं जी रही थी, ये किसी भी कीमती चीज़ से ज़्यादा अछा था. मेरे हर अंग से पसीना निकल रहा था. सेक्स का असली मज़ा गैर मर्दों के साथ ही आता है. ये मैं समझ गयी थी. जब कोई बिना दया करे बस छोड़ता रहे, इसी में सेक्स का असली मज़ा है.

मेरी नज़रों में हर औरत को ये सुख मिलना चाहिए. काई औरतें शरम लिहाज़ के कारण अपनी सेक्स की इक्चा को च्छूपति है. पर मैं सब औरतों से जो मेरी स्टोरी पढ़ रही है, उनसे कहूँगी लाइफ में एक बार ज़रूर गंगबांग ट्राइ करे. एनीवेस स्टोरी पे आते है.

अब लगभग 30 मिनिट हो गये थे. दोनो नीग्रो ने स्पीड बढ़ा ली. मैं उनसे बोलना चाहती थी की उनका माल अंदर ना डाले. पर कुछ बोल नही पा रही थी दर्द के कारण. अचानक दोनो मेरी छूट और गांद में झाड़ गये. 3र्ड नीग्रो ने भी मेरा मूह भर दिया. इतना गंदा स्पर्म मेरे मूह में था, की मुझे उल्टी जैसा होने लगा.

3र्ड नीग्रो: अगर एक भी बूँद गिरी नीचे, तो तुझसे मेरी गांद चत्वौनगा.

मैने स्पर्म पीना सही समझा. तीनो अलग हुए, मैं सीधे उठ के बातरूम गयी, और ब्रश किया. मेरी गांद और छूट बहुत बुरी तरह सूज गयी थी. पर अची बात ये थी, की मेरी छूट ने पानी नही छ्चोढा था.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में बतौँगी. पर आप लोग प्लीज़ स्टोरी पे कॉमेंट करिए, और मुझे मैल करिए. मैं आप सभी से बातें करूँगी.

यह कहानी भी पड़े  दोस्तो के बीच की चुदाई


error: Content is protected !!